अम्मी और नौकरानी को चोदा और थ्रीसम सेक्स का मजा लिया

अम्मी और नौकरानी को चोदा और थ्रीसम सेक्स का मजा लिया

दोस्तो, मेरा नाम अमन है. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी “अम्मी और नौकरानी को चोदा और थ्रीसम सेक्स का मजा लिया”

मैं भी अपनी कहानी आप लोगों के साथ साझा करना चाहता हूं. उससे पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं. मेरी उम्र 23 साल है और मैं बैंगलोर से हूँ।

मेरे परिवार में मेरी माँ आशिका और मेरे पिता सलमान हैं. मेरी एक छोटी बहन भी है जो 19 साल की है. उसका नाम कृतिका है.

मेरे पिता की दर्जी की दुकान है. वे महिला दर्जी हैं. अब्बू की उम्र करीब 45 साल है और अम्मी की उम्र 35 के करीब है.

मेरी मां भी मेरे अब्बू की दुकान के काम में उनकी मदद करती हैं. मैं एक कंपनी में कार्यरत हूं। मेरी बहन अभी 12वीं में पढ़ रही है.

अम्मी और अब्बू दोनों दुकान पर रहते हैं इसलिए हमने घर पर काम करने के लिए एक नौकरानी रख ली है. नौकरानी का नाम शहनाज़ है.

हमारा परिवार सामान्य है, लेकिन कई बार सामान्य परिवार में असामान्य चीजें भी घटित हो जाती हैं।

एक दिन मेरी माँ सुबह उठी और कहने लगी कि उसके कंधे में दर्द है. वह शनिवार था. बहन को स्कूल जाना था और पापा को दुकान जाना था.

उस दिन मेरी छुट्टी थी इसलिए मैं घर पर ही रुकने वाला था. सुबह करीब 10 बजे हमारी नौकरानी आई। उनकी उम्र 30 के करीब है.

जब वह झाड़ू-बर्तन आदि का काम कर चुकी तो अम्मी ने उससे कहा कि मेरी कमर में दर्द है, जाने से पहले मेरी पीठ की मालिश कर देना.

मैं ऊपर अपने कमरे में चला गया. थोड़ी देर बाद मैं चार्जर लेने ड्राइंग रूम में आया. नीचे का कमरा खाली था. वहां कोई चार्जर भी नहीं था. मुझे लगा कि शायद इसे दूसरे कमरे में रखा गया होगा. मैं दूसरे कमरे में चला गया.

अभी मैं कमरे के अंदर पूरी तरह से घुसा भी नहीं था कि अम्मी के मुँह से ये शब्द सुनाई दिए- शहनाज़… जरा मेरी चुचियों पर भी हाथ मारो, ये बहुत सख्त हो रहे हैं.

जैसे ही अम्मी की ये बातें मेरे कानों में पड़ीं तो मैं वहीं रुक गया. फिर मैंने कमरे के अंदर झाँक कर देखा तो शहनाज़ घुटनों के बल बैठी थी.

मेरी माँ बैठी हुई थी और उसकी पीठ नंगी थी. शहनाज़ उसकी गर्दन की मालिश कर रही थी.

अम्मी का चेहरा दूसरी तरफ था. उन दोनों को मेरे आने की भनक तक नहीं लगी, नहीं तो उन्हें पता चल जाता कि कोई उन्हें देख रहा है.

तभी मैंने देखा कि नौकरानी ने अपने हाथों में तेल लिया और अम्मी की चुचियों की मालिश करने लगी.

साइड से मुझे माँ के निपल्स साफ़ दिख रहे थे. वो ऊपर से बिल्कुल नंगी थी. उसके चूचे बहुत मोटे थे. साइड से भी लगभग आधे दिख रहे थे.

फिर शहनाज़ ने उसके निप्पल को अपनी उंगलियों के बीच में लेकर मसल दिया. अचानक अम्मी के मुँह से सिसकारी निकल गयी. वो बोली- शहनाज़, धीरे धीरे करना.

शहनाज़ ने कहा- बाजी (बहन) मैं तुम्हें ऐसे देखकर उत्तेजित हो जाती हूं. फिर दोनों हंसने लगी. उनको इस तरह मस्ती करते देख मेरी भी हालत खराब होने लगी.

इससे पहले मैंने आंटियों और कई औरतों को भी चोदा था लेकिन अम्मी के बारे में कभी इस तरह से नहीं सोचा था.

कुछ देर तक चूचे मसलवाने के बाद अम्मी ने शहनाज़ से कहा- चलो, अब तुम जाओ. मुझे आगे का प्रोग्राम भी करना है. शहनाज़ ने तेल एक तरफ रख दिया और बाहर आने के लिए उठने लगी. मैं भी दबे पांव वहां से लौट आया.

शहनाज़ के जाने के बाद मैं फिर नीचे आ गया. लेकिन तभी मैंने देखा कि अम्मी ने दरवाज़ा बंद कर दिया है. मुझे कुछ भी अंदाज़ा नहीं था कि अम्मी अंदर क्या कर रही हैं.

मैंने एक कुर्सी उठाई और दरवाजे के पास रख दी। मैं उस पर चढ़ गया और अन्दर झाँकने लगा. मैंने देखा कि अम्मी बिल्कुल नंगी थीं।

वह अलमारी में कुछ ढूंढ रही थी. अम्मी की नंगी गांड मुझे साफ़ साफ़ दिख रही थी. अम्मी की गांड इतनी भारी थी, मैंने कभी ध्यान ही नहीं दिया था.

फिर उसने अलमारी से कुछ निकाला. फिर वो अलमारी बंद करके पलटी तो मैं हैरान रह गया. उसके हाथ में लंड के आकार की लकड़ी से बनी कोई चीज थी.

वो बिल्कुल लंड की तरह गोल था. यह दिखने में बेलन के हैंडल जैसा था लेकिन लंबाई में 7-8 इंच था।

उसके बाद अम्मी ने कंडोम निकाला और बेलन की तरह लंड पर चढ़ा दिया. उस नकली लंड पर कंडोम लगा कर अम्मी लेट गईं.

वो उस बेलन को अपने दाने पर रगड़ने लगी. ये सब देख कर मेरा मन ख़राब होने लगा. मैं हैरान था कि अम्मी इस उम्र में भी जवान हैं और मजे लेना चाहती हैं.

वो लंड को जोर-जोर से अपनी चूत पर रगड़ते हुए अपने हाथों से अपने चूचों को भी मसल रही थी. उसके मुँह से आअहह… आअहह की मस्त आवाजें निकल रही थीं.

दो मिनट बाद वो उठी और उस नकली लंड को बेड की ग्रिल पर कपड़े से बांध दिया. फिर वो खुद घोड़ी बन गई और डॉगी स्टाइल में झुककर लकड़ी का लंड अपनी चूत में लेने लगी.

अम्मी उस नकली लंड से चुद रही थीं और उनके मुँह से आह्ह ऊह्ह… आह्ह… ओह्ह की कामुक आवाजें निकल रही थीं। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ. ये सब देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो गया.

फिर वो जल्दी जल्दी उस लंड को अपनी चूत में लेने लगी और दो मिनट के बाद वो झड़ने लगी. उसे ऐसी हालत में देख कर मेरे लंड का भी बुरा हाल हो गया था. उधर अम्मी बिस्तर पर निढाल हो गई थीं.

कुछ देर तक वो ऐसे ही लेटी रही और फिर उठकर अपनी चूत साफ करने लगी. उसने अपनी पैंटी से अपनी चूत साफ़ की. फिर उसने बिना पैंटी पहने अपनी सलवार पहन ली. उन्होंने बिना ब्रा के सूट पहना था.

फिर वो बाहर आने लगी. मैं जल्दी से गेट से निकल कर ऊपर चला गया. फिर दो मिनट बाद बिल्कुल सामान्य हो गये. जब मैं नीचे आ रहा था तो मैंने देखा कि अम्मी के हाथ में उनकी ब्रा और पैंटी थी.

मैंने जानबूझ कर बात छेड़ते हुए कहा- मालिश करने वाली चली गयी क्या? क्या आपने बहुत देर कर दी? मैं नीचे आया तो दरवाजा भी बंद था. अम्मा बोलीं- हां, मैं थोड़ा आराम कर रही थी.

मेरी नज़र अम्मी की चूंचियों पर थी। पतले सूट में उसके चूचे साफ़ दिख रहे थे। उसके निपल्स भी टाइट लग रहे थे. वो बोली- क्या हुआ, कोई काम था क्या?

मैंने कहा- मेरी पीठ में भी दर्द था, मैंने सोचा कि शहनाज़ से अपनी पीठ की मालिश करवा लूँगा। अम्मी बोलीं- अरे वो मर्दों से नहीं करतीं. अगर तुम मसाज करवाना चाहो तो मैं कर लूंगी.

मैंने कहा- नहीं मां, आप क्यों परेशान हो रही हो. सही होगा वो कहने लगी- अरे नहीं, ऐसा नहीं होता. चलो, मैं कर दूँगा. अंदर आ जाइए

अंदर जाकर मैंने अपनी टी-शर्ट उतार दी. अब मैं अम्मी के सामने थोड़ा खुलने लगी थी. दोस्तों मेरी लम्बाई 5.10 फिट है. मैं व्यायाम भी करता हूं.

अम्मी अपना पिछला हाथ मेरी कमर पर घुमा कर मजा ले रही थीं. फिर वो हाथ फेरते हुए आगे की तरफ भी लाने लगी और बोली- आपने तो एकदम सेहत बना रखी है.

आपके शरीर के हर हिस्से की मालिश जरूरी है। जब तुम्हारी शादी हो जायेगी तो तुम बेगम को बहुत खुश रख पाओगे।

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

इतना कह कर अम्मी ने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया. वो मेरी कमर पर तेल लगाने लगी. कमर पर तेल लगाने के बाद वो बोली- अपना पजामा भी उतार दो। मैं पैरों की मसाज भी करता हूं.

मैंने अपना पजामा भी उतार दिया. अब मैं उनके कहे अनुसार चल रहा था. अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था. मैंने एक बार भी नहीं किया. मैं अपनी पीठ के बल लेटा हुआ था. नीचे से मेरा लंड भी खड़ा हो गया था.

फिर अम्मी ने मुझे सीधा लेटने को कहा. जब मैं सीधा हुआ तो मेरा 6 इंच का लंड अंडरवियर में साफ़ दिख रहा था। मेरे लंड ने मेरे अंडरवियर में तंबू बना लिया. अम्मी अब मेरी छाती की मालिश कर रही थीं. वो मेरे लंड को देख रही थी.

वो लंड की तरफ इशारा करते हुए बोली- ये क्या है? मैंने कहा- अम्मी, ये तो आपके मुलायम हाथों के स्पर्श से ही खड़ा हो गया है. वो भी बेशर्मी से बोली- तो फिर इसे बिठाओ, फिर कह देना कि ये अम्मी के हाथ में हैं.

मैंने कहा- लेकिन अम्मी, वो तो सिर्फ औरतों को ही समझता है. उसे अम्मी और बेगम में फर्क करना नहीं आता. माँ भी अभी ठंडी नहीं हुई थी. वो बस मेरे पहल करने का इंतज़ार कर रही थी.

फिर मैंने अपने अंडरवियर में हाथ डाला और लंड बाहर निकाल लिया. माँ बोली- हाय! ये क्या कर रहे हो? मैंने कहा- अम्मी, इसकी भी थोड़ी मालिश कर दो. वह बोली- कुछ तो शर्म करो मियां. मैं तुम्हारी माँ हूं

मैंने कहा- अम्मी हो हो, तभी तो मैं आपसे मसाज करने को कह रहा हूं. मैंने अम्मी का हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया.

अम्मी ने भी मेरा लंड हाथ में भर लिया और सहलाने लगीं. अम्मी ने फिर से अपने हाथ में थोड़ा सा तेल लगाया और मेरे लंड की मालिश करने लगीं.

अम्मी के हाथ में लंड देकर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. अम्मी बिस्तर के पास खड़ी थीं. मैंने अपना हाथ उसकी सलवार पर नाड़े के पास रखा और उसका नाड़ा खोलने लगा। वह कुछ नहीं बोली।

मैंने एक झटके से उसकी सलवार खोल दी. उसकी सलवार सरक कर नीचे गिर गयी. इससे पहले कि अम्मी कुछ कहतीं, मैं उठ कर अम्मी के पीछे गया और उन्हें बिस्तर पर लिटा दिया.

अपने हाथ में थूक लगा कर उसकी चूत पर लगाया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

पहले तो वो छूटने की कोशिश कर रही थी लेकिन मुझे पता था कि अम्मी गर्म हैं और वो मेरा लंड भी ले लेंगी. मैं तेजी से अपना लंड अम्मी की चूत पर रगड़ रहा था. दो मिनट बाद अम्मी ने विरोध करना बंद कर दिया.

मैं जान गयी की अम्मी मजे ले रही है। अब मैं मस्ती में अपना लंड अम्मी की चूत पर रगड़ने लगा. अगले दो मिनट के बाद अम्मी खुद ही अपनी गांड हिलाकर अपनी चूत को मेरे लंड के ऊपर रगड़ने लगीं.

अम्मी की चूत गीली हो रही थी. मैंने अम्मी की गांड पकड़ ली और उनकी चूत में लंड डालने लगा. अम्मी बोलीं- आह्ह … डाल दे बेटा. मैंने एक झटका मारा और लंड अम्मी की चूत में घुसा दिया.

लंड अन्दर जाते ही अम्मी के मुँह से निकल गया- आह्ह … याल्ला, तूने मेरी बात सुन ली. लौड़ा का इंतजाम घर पर ही हो गया था.

कितने दिनों तक मैं तड़पती रही. आह्ह… अमन तुम पहले क्यों नहीं आये बेटा! अब चोद अपनी माँ की चूत, आह्ह चोद बेटा… चोद मुझे.

मैंने कहा- हां मेरी मां, अगर मुझे पता होता कि मेरी मां लकड़ी के लंड वाला कंडोम इस्तेमाल करती तो मैं पहले ही तेरी चूत को मजा दे देता. मुझे आज ही पता चला कि मेरी माँ अपनी चूत की आग लकड़ी के लंड से शांत करती है.

वो बोली- आह्ह … हरामी, तूने सब देख लिया. उसी वक्त वो अंदर आकर मुझे चोदेगा, तेरे पापा अब मुझे नहीं चोद पाते हैं, तू अब मेरी चूत को लंड का मजा दे दे. भाड़ में जाओ बेटा!

मैं अम्मी के कंधों को पकड़ कर उनकी चुत में लंड पेलने लगा. अम्मी आह्ह… याह… मैं… ओह्ह… मजा आ रहा है… चोद… आह्ह और चोद… की मस्ती भरी आवाजें निकालने लगीं।

मैं अपने लंड के धक्कों की स्पीड बढ़ाते हुए तेजी से अम्मी की चूत को चोदने लगा. मैं उसके कंधों को अपनी ओर खींच कर उसकी चूत में जोर जोर से धक्के लगाने लगा.

अम्मी की चूत पांच-सात मिनट में ही झड़ गयी. वो बोलीं- आह्ह मेरे बच्चे, याल्ला तुझे खुश रखे. आह्ह … मजा आ गया अमन बेटा.

इस बीच मैं भी झड़ने के करीब पहुंच गया था. मैंने लंड बाहर निकाला और मैं लंड की मुठ मारने लगा. मैंने लंड को हाथ में पकड़ कर एक-दो बार हिलाते हुए अपना लंड अम्मी की गांड के छेद पर टिका दिया.

मेरे लंड के छेद से वीर्य निकल कर अम्मी की गांड के छेद पर गिरने लगा. मैंने अम्मी की गांड के छेद को अपने माल से पूरी तरह नहला दिया.

फिर मैंने अपना माल उनकी गांड के छेद पर लगाया और फिर अपनी उंगली अम्मी की गांड में डाल दी. गांड में उंगली जाते ही अम्मी एकदम से उछल पड़ीं. मैंने अपनी उंगली पूरी घुसा दी.

वो बोली- रुक साले, थोड़ी देर रुक, गांड भी मार ले, लेकिन संयम से मारना. दो मिनट बाद मैंने लंड अम्मी के मुँह में दे दिया.

अम्मी के मुँह में लंड देने के बाद जल्दी ही मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. फिर मैंने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया.

मैंने अम्मी को बिस्तर पर झुकाया और अपनी उंगली पर तेल लगा कर अम्मी की गांड को अन्दर तक चिकना कर दिया.

उसके बाद मैंने अम्मी की गांड में लंड पेल दिया. अम्मी की चीख निकल गयी. मैंने उसके चूचों को पकड़ कर दबा दिया.

जब वह थोड़ी रिलेक्स हुईं तो मैंने अम्मी की बुर चोदना शुरू कर दिया। दस मिनट की चुदाई में अम्मी एक बार फिर झड़ चुकी थीं.

तभी दरवाजे पर घंटी बजी. अम्मी ने एक नाइटी उठाई और उसे पहन कर दरवाज़ा खोलने चली गईं.

एक मिनट बाद शहनाज़ भी अम्मी के साथ कमरे में आ रही थी. दोनों मुस्कुराते हुए अन्दर आ रही थे. मैं बिस्तर पर नंगा लेटा हुआ था और मेरा लंड पूरा खड़ा था.

एक बार तो मैं अपना लंड छुपाने लगा लेकिन अम्मी ने कहा- कुछ मत छुपाओ, मैंने शहनाज़ को बता दिया है.

मुझे समझते देर नहीं लगी कि अम्मी हमारी नौकरानी को भी मेरे लंड से चोदना चाहती हैं.

शहनाज़ तुरंत बिस्तर पर आ गई और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. नौकरानी मस्ती में मेरा लंड कुल्फी की तरह चूसने लगी और अम्मी अपने कपड़े उतार कर नंगी होने लगीं.

उसे पूरी नंगी करने के बाद अम्मी और मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया. अम्मी अपनी चूंचियों से खेलने लगीं और मैं उनकी चूत को लंड से रगड़ने लगा. वो एकदम से बहुत गरम हो गयी.

फिर अम्मी बोलीं- अमन बेटा, लोहा गरम है, मार दे. मैंने एक झटका मारा और लंड कामवाली की चूत में उतार दिया. मैं तेजी के साथ उसकी चूत को चोदने लगा.

जैसे ही मैंने उसकी चूत में लंड डाला तो पता चल गया कि वो बहुत चुदासी है. इसलिए वो मेरी माँ के निपल्स से खेल रही थी. मैं शहनाज़ की चूत को तेजी से पेलने लगा.

अम्मी ने अपनी चूत उसके मुँह में रख दी. नौकरानी अम्मी की चूत चाट रही थी. अब हम दोनों आह… आह… करके चिल्ला रहे थे।

दस मिनट की चुदाई में शहनाज़ की चूत ने पानी छोड़ दिया. फिर मैंने भी अपना पानी उसकी चूत में निकाल दिया.

कुछ देर तक हम तीनों एक दूसरे के शरीर से खेलते रहे. उस दिन हम तीनों ने थ्रीसम सेक्स का मजा लिया.

उस दिन के बाद से अम्मी और शहनाज़ अक्सर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगीं. मुझे घर में ही दो दो चूतें मिल गयी थी.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga