शादी में मिले अनजान लड़के ने चोदा और गांड भी मारी

शादी में मिले अनजान लड़के ने चोदा और गांड भी मारी

हेलो दोस्तों, मैं कृतिका में दिल्ली की रहने वाली हूँ आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे मुझे “शादी में मिले अनजान लड़के ने चोदा और गांड भी मारी”

मेरी उम्र 22 साल है। ये कहानी तीन साल पहले की है, जब मैं 19 साल की थी. मैं तुम्हे अपने बारे में बता दूँ। मेरी हाइट 5 फीट 2 इंच है और मेरा फिगर 34-30-36 है. मैं बहुत मस्त माल हूँ. (अनजान लड़के ने चोदा)

मर्दों की नजरें भूखे कुत्तों की तरह मेरी चुचियों और गांड पर टिकी रहती हैं. मुझे भी उसकी ऐसी हवस भरी नजरें देख कर बहुत अच्छा लगता है. मैं भी ज्यादा से ज्यादा खुले कपड़े पहनकर पुरुषों को लुभाने की कोशिश करती हूं।

अब तो मुझे चुदवाने में बहुत मज़ा आता है। लेकिन ये सेक्स कहानी तब की है जब मैं वर्जिन थी और ना तो मेरी चूत में उंगली जाती थी और ना ही मैंने किसी का लंड देखा था.

बात उस समय की है जब मैं अपने पापा के दोस्त के घर शादी में जा रही थी। हम सब पापा के दोस्त के गांव गये. वो पापा के बहुत अच्छे दोस्त थे इसलिए हमें पूरे परिवार के साथ जाना पड़ा.

मेरे परिवार में मेरी माँ और पापा हैं, मेरा भाई नौकरी करता है इसलिए वो ज्यादातर बाहर ही रहता है। मैं और मेरे माता-पिता शादी में गए।

शाम को हम तीनों वहां पहुंच गये. वहां पहुंचने के बाद मां ने कहा कि बेटा हमें आने में देर हो गई है, अभी आराम करने का समय नहीं है, तुम जल्दी से तैयार हो जाओ.

मैं जल्दी से शादी की तैयारी में लग गई. मैंने शादी के लिए स्लीवलेस लेस टॉप और लेगिंग पहनी हुई थी। इस ड्रेस में मेरे स्तन बहुत अच्छे लग रहे थे. हमेशा की तरह मर्दों की वासना भरी निगाहें मेरी चुचियों और मेरी गांड को घूर रही थीं.

शादी का कार्यक्रम शुरू हो चुका था. मैं बारात में लड़कों का डांस देखने लगी. बहुत मजा आ रहा था. मैंने कुछ लड़कियों के साथ डांस भी किया.

कुछ देर शादी का आनंद लेने के बाद मैं छत पर चली गई. वहां मैंने देखा कि घर के पिछले हिस्से में अंधेरा था. मैं दीवार के पास गई तो नीचे देखा कि एक लड़का सुसु कर रहा था.

अँधेरे की वजह से उसने फोन की लाइट जला रखी थी, जिससे मुझे उसका लंड दिख रहा था. सूसू करने के बाद वो अपने लंड को आगे-पीछे करने लगा.

तभी न जाने कैसे ऊपर से लकड़ी का एक छोटा सा टुकड़ा नीचे गिर गया। उसने ऊपर देखा तो मैं दीवार से पीछे हट गई.

फिर मैं नीचे जाने लगी तो नीचे सीढ़ियों के पास एक लड़का खड़ा था. वह मुझे देख रहा था. मुझे लगा ये वही है जिसका लंड मैंने अभी देखा था. मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया. मैं अपनी मां के पास आई.

शादी का कार्यक्रम लगभग ख़त्म होने वाला था. थकान के कारण मुझे नींद आने लगी. कुछ देर इधर-उधर घूमने के बाद मुझे नींद आने लगी तो मैंने मां से कहा कि मैं सोना चाहती हूं. (अनजान लड़के ने चोदा)

तो माँ मुझे एक कमरे में ले गईं जहाँ बहुत सारे बिस्तर थे। मम्मी ने मुझे दीवार के पास वाले बिस्तर पर सोने को कहा. मैं दीवार से थोड़ा हटकर सोई थी.

फरवरी का महीना था इसलिए सभी लोग रजाई ओढ़कर सो रहे थे। कुछ बिस्तर खाली थे. मम्मी लाइट बंद करके चली गईं और मैं सो गई.

रात को जब मेरी नींद खुली तो मुझे लगा कि कोई मेरे पीछे सो रहा है और मेरी जांघ को छू रहा है. मैं डर गई और डर के मारे हिली नहीं, वैसे ही सोती रही.

कुछ देर बाद वो मेरे नितम्बों को दबाने लगा, तब भी मैंने कुछ नहीं किया, बस सोती रही। थोड़ी देर बाद उसने अपना हाथ मेरी टाँगों के बीच घुमाना शुरू कर दिया।

मुझे उसका स्पर्श बहुत अच्छा लग रहा था और डर भी लग रहा था. अचानक उसका हाथ मेरी चूत की तरफ आने लगा. मेरी दोनों टाँगें आपस में चिपकी हुई थीं

इसलिए उसका हाथ मेरी चूत तक नहीं पहुँच पा रहा था। उसने कुछ कोशिश की तो मैंने अपना एक पैर आगे कर दिया. इससे वह समझ गया कि मैं जाग रही हूं.

वो मेरी चूत को लैगी के ऊपर से ही मसलने लगा. फिर उसने पीछे से मेरी लैगी में हाथ डाल दिया. मैं उत्तेजित हो गई, उसने मेरी गांड दबा दी और फिर मेरी चूत मसलने लगा.

अब तक उसकी हरकतों से मेरी चूत गीली हो चुकी थी. कभी वो मेरे दाने को रगड़ता तो कभी मेरी गांड के छेद पर अपनी उंगली फिराता.

फिर अचानक उसने मेरी लैगी को नीचे खींच दिया और मेरे घुटनों तक ले आया. मैं भी सीधा लेट गई. वो मेरी चूत को ऊपर से ही मसलने लगा. फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया.

उसका लंड 6 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा था. वो मेरा हाथ पकड़ कर लंड पर आगे-पीछे करने लगा. मुझे उसका लंड मसलने में बहुत मजा आ रहा था. उसके लंड से थोड़ा पानी आना शुरू हो गया था

जिससे उसके लंड की चमड़ी बड़े आराम से आगे-पीछे हो रही थी. मैं उसका लंड देखना चाहती थी लेकिन अंधेरा था और झिझक के कारण मैं लंड नहीं देख पाई.

कुछ देर बाद उसने अपना हाथ हटा लिया, मैं उसका लंड मसलती रही। वो मेरी चूत को मसलता रहा. कुछ देर बाद वो नीचे खिसक गया और मुझे अपनी तरफ घुमा लिया. (अनजान लड़के ने चोदा)

उसने मेरी टांगों से मेरी लैगी और पैंटी खींच कर मुझे नीचे से नंगी कर दिया. मुझे नंगा करने के बाद उसने मेरी टाँगें फैला दीं और आगे से मेरी चूत चाटने लगा।

मुझे उससे चूत चटवाने में बहुत मजा आ रहा था. कभी वो मेरी चूत को अपने दांतों से काटता तो कभी अपनी जीभ अन्दर डाल देता.

मैं अब तक बहुत गरम हो चुकी थी. मेरे पैर अपने आप हवा में खुल गये. वो मेरी चूत को बहुत बुरी तरह से चाट रहा था. मैं अचानक से अपने शरीर को अकड़ा कर झड़ गई। वो मेरी चूत से निकला नमकीन पानी पी गया.

अब वो उठ गया और मेरे सिर को अपने लंड की तरफ दबाने लगा. मैं समझ गई कि वह क्या चाहता है. मैं भी उसके लंड की तरफ झुक गयी.

मैंने अपने हाथ से उसके लंड की चमड़ी को ढक लिया.. और लंड के अगले हिस्से को मुँह में ले लिया और लंड को चूसने लगी. लंड कुछ नमकीन लग रहा था.

मैं उसके लंड को जोर जोर से चूस रही थी, तभी उसने मुझे रोक दिया और ऊपर की ओर खींच लिया. अब वो मुझसे सामने से चिपक गया. उसका लंड मेरी चूत में लग रहा था.

फिर उसने मेरा टॉप उतार दिया और मेरे मम्मे चूसे. मैं उसके लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ रही थी. तभी उसका लंड मेरी चूत के छेद के सामने आ गया.

मैंने लंड को छेद से लगाया ही था कि उसने दबाव दे दिया. उसके लंड का टोपा मेरी चूत की फांकों को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया. मुझे बहुत दर्द हुआ, मैं अचानक पलट गयी और उसका लंड बाहर आ गया.

उसने फुसफुसा कर पूछा- क्या तुमने पहले कभी किया है? मैंने धीरे से कहा- नहीं किया. उसने कहा- ठीक है.

मैं फिर से उसके लंड को अपनी चूत पर रगड़ने लगी. मुझे लंड से चूत का दाना रगड़ने में बहुत मजा आ रहा था. फिर उसने अपना लंड पकड़ा और मेरी चूत पर थूक लगाया और लंड को सैट कर दिया.

वो लंड को चुत के अन्दर डालने की कोशिश करने लगा. मैं पहले ही डर गयी थी कि दर्द होगा. इस वजह से मैं ऊपर चली गई और उसका लंड फिर से फिसल गया.

मैंने उससे कहा- अन्दर मत डालना, ऊपर से ही मजा लेना. उसने कहा- ठीक है. फिर कुछ देर तक लंड को चूत पर रगड़ने के बाद उसने मुझे उल्टा कर दिया और मेरी पीठ से चिपक गया. (अनजान लड़के ने चोदा)

अब वो अपना लंड पकड़ कर मेरी गांड पर रगड़ने लगा. मुझे उसके लंड से बहुत मजा आ रहा था. उसने मुझे अपने हाथ से गांड खोलने को कहा. मैंने अपनी गांड खोली तो वो अपने लंड का सुपारा मेरे छेद पर रगड़ने लगा.

Visit Us:-

मुझे बहुत मजा आ रहा था. फिर उसने मेरी गांड के छेद पर थूक लगाया और वापस मलने लगा. मैंने सोचा कि ये सिर्फ लंड रगड़ेगा. मैंने गांड आराम से ढीली कर दी, पूरी खोल दी और उसके लंड का मजा ले रही थी.

फिर उसने अपनी उंगली से थोड़ी सी क्रीम मेरी गांड में लगा दी. मैंने पूछा- ये क्या लगा रहा है? उसने कहा- कुछ नहीं, ज्यादा मजा आएगा.

कुछ देर तक लंड रगड़ने के बाद उसने मुझसे अपना एक पैर आगे करने को कहा. मैंने अपना पैर आगे किया तो उसका लंड मेरी गांड के छेद पर फन मारने लगा. उसकी लगाई हुई क्रीम से मुझे बहुत सनसनी हो रही थी.

मैंने अपनी गांड बिल्कुल ढीली छोड़ रखी थी, मुझे नहीं पता था कि आगे क्या होने वाला है. मुझे तो बस गांड में खुजली हो रही थी.

मैं अपनी गांड खोल कर उसके लंड के सुपारे का मजा ले रही थी. तभी अचानक उसने अपने लंड को जोर से दबाया और उसके लंड का टोपा मेरी गांड में चला गया.

अब इससे पहले कि मैं चीखती या चिल्लाती, उसने अपना एक हाथ मेरे मुँह पर रख दिया और एक हाथ से मुझे पकड़ लिया. मुझे असहनीय दर्द हो रहा था. लेकिन उसका लंड मेरी गांड में काफी अंदर तक चला गया था.

वो धीरे धीरे अपनी कमर हिलाता रहा और मुझे चूमता रहा. कुछ पल बाद जब मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ तो उसने मुझे छोड़ दिया और मेरे एक दूध को मसलने लगा. इससे मुझे मजा आने लगा और मैंने अपनी गांड ढीली छोड़ दी.

उसी समय उसने एक तेज झटका मारा. उसका लंड और अन्दर चला गया. मुझे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन उसके हाथ मेरी चुचियों को मजा दे रहे थे. मैं दर्द और सुख दोनों के मिश्रित आनंद में डूबी हुई चुपचाप लेटी रही।

थोड़ी देर बाद वह धीरे-धीरे चलने लगा उसका लंड मेरी गांड में डंडे की तरह लगने लगा था, जिससे मेरी खुजली मिट रही थी.

अब मुझे भी मजा आ रहा था. मैं भी अपनी गांड हिला कर उसका साथ दे रही थी. थोड़ी देर बाद उसने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी.

इस वक्त मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने पहली बार अपनी गांड में लंड लिया था. अचानक उसने मेरी गांड को जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया.

फिर उसने एक और झटका मारा और अपना पूरा लंड गांड के अन्दर पेल दिया और झड़ने लगा.

उसके रस की फुहार मुझे अपने अंदर महसूस हो रही थी. फिर वो रुक गया, उसका लंड ढीला होकर बाहर आ गया.

अब उसने मुझे सीधा किया और मेरी चूत चाटने लगा. मैं एक बार फिर झड़ गयी. अब उसने अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ा और मेरी गांड एक बार और मारी.

सुबह जब मैं उठी तो देखा कि वो जा चुका था. कुछ देर बाद वो लड़का, जिसे मैंने सूसू करते हुए देखा था, वो मुझे देख कर मुस्कुरा रहा था. मुझे पता चला कि ये वही था जिसने रात में मेरी गांड मारी थी। (अनजान लड़के ने चोदा)

उसने इशारा किया कि अब चूत चुदाई की बारी है. मैं हंसी और नजरें झुका लीं. दोस्तो, यह थी मेरी पहली गांड चुदाई की कहानी, आशा करती हूँ आप सभी को पसंद आयी होगी।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga