खेत में काम करने आई आंटी की चुदाई की

खेत में काम करने आई आंटी की चुदाई की

दोस्तो, मेरा नाम अमन है। मैं 26 साल का हूँ आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मैंने “खेत में काम करने आई आंटी की चुदाई की

मैं मुंबई से हूं और पिछले कुछ सालों से दिल्ली में रह रहा हूं। । यह मेरी पहली कहानी है जो मेरे गाँव की आंटी की है और बिल्कुल सच्ची है।

अगर लिखने में कोई गलती हो जाये तो कृपया मुझे माफ कर दीजिये. बात जुलाई महीने की है, मैं कुछ दिनों के लिए अपने गाँव गया हुआ था।

उस समय धान की फसल की बुआई का समय चल रहा था। हमारे पास भी काफी ज़मीन है जिसके एक चौथाई हिस्से पर हम दूसरों से खेती करवाते हैं. (आंटी की चुदाई की)

हमारे खेतों में धान भी उग रहा था, इसलिए मैं भी खेत में था. हमारे खेत की हिस्सेदार एक आंटी थीं. आंटी की उम्र करीब 35-36 और फिगर 34-34-36 है.

हल्का गेहुंआ रंग, बेहद कसा हुआ और गदराया हुआ शरीर था. गांड मोटी थी और चूची ब्लाउज से बाहर आने को बेताब हो रही थी.

उनको देख कर मेरे लंड में आग लग गयी. मैं उसके पास खड़ा होकर उससे बात कर रहा था और मेरा लंड पैंट के अंदर से ही उबाल मारकर बाहर निकलने को बेकाबू होने लगा.

शायद उसकी नज़र मेरी पैंट पर पड़ी. उसका पति हलवाई के काम से अधिकतर बाहर ही रहता था. फिर वो धान लगाने लगी और मैं अपना लंड रगड़ते हुए पानी के कुएं पर आ गया और सो गया.

कुछ देर बाद वो भी वहां खाना खाने आ गई और मुझे उठाकर खाने के लिए कहा. मैं भी खाना खाने बैठ गया. तो उसने मुझसे पूछा- तुम्हारा दोस्त कैसी है?

मैंने कहा- कोई नहीं है. आंटी बोलीं- झूठ मत बोलो! मैंने कहा- कसम से कोई नहीं है आंटी. उन्होंने मजाक करते हुए कहा- तो क्या आप अभी तक सिंगल हैं?

तो मैंने भी मजाक में कह दिया- आप हो ना मेरी दोस्त! वो मुस्कुराई और बोली- मेरा क्या करोगे? अब तो मेरी उम्र हो गई अब तुम्हें मजा नहीं आयेगा मुझमें।

यह सुनकर मेरा लंड फिर से जोश में आ गया और मुझे खुशी हुई कि शायद आज मुझे पहली बार आंटी को चोदने का मौका मिलेगा और मैंने पैंट के ऊपर से ही अपने हाथ से लंड को पकड़ लिया।

ऐसा करते हुए उसने मुझे देख लिया और मुस्कुरा कर चली गयी. फिर शाम को घर जाने का समय हो गया और लेबर 5 बजे ही अपने घर चली गयी.

और खेत पर केवल मैं और मेरी आंटी ही बचे थे। मैंने ट्यूबवेल बंद कर दिया और घर जाने की तैयारी करने लगा. उसके बाद सारा सामान कमरे के अंदर रख कर कमरा बंद कर दिया और हम दोनों घर के लिए निकल गये.

हमारा घर खेत से करीब 1 किलोमीटर दूर है और पैदल का ही रास्ता है. उस समय गन्ने और मक्के की फसलें भी उगी हुई थीं, सड़क के दोनों ओर कुछ भी दिखाई नहीं देता था।

आंटी आगे चल रही थीं और मैं आंटी की मोटी गांड को देखते हुए उनके पीछे चल रहा था. मेरे अंदर वासना की आग जल रही थी तो मैंने आंटी को पीछे से पकड़ लिया.

वह एकदम से डर गई और जोर से चिल्लाई. मेरी हालत ख़राब हो गई. वो थोड़ा गुस्से में बोली- क्या कर रहे हो? कोई देख लेगा तो क्या कहेगा? (आंटी की चुदाई की)

मैं थोड़ा खुश हुआ कि आंटी चुदना तो चाहती हैं लेकिन डरती हैं। मैंने कहा- यहाँ कोई नहीं है आंटी, हमें कोई नहीं देखेगा!

और मैं उन्हें फिर से पकड़ कर मक्के के खेत में घुस गया और उनकी दोनों चुचियों को पीछे से पकड़ कर दबाने लगा.

मैंने आंटी की गर्दन को चूमना शुरू कर दिया ‘पुच्च पुच्च उम्म्म्म’. थोड़ी देर मना करने के बाद वो गर्म होने लगी, फिर धीरे-धीरे सिसकारियाँ लेने लगी- आह्ह उफ़ ईईई आह्ह!

और बोली- मैं तो तुम्हें बिल्कुल सीधा समझ रही थी. तुम बहुत बदमाश हो. मैंने कहा- तुम्हें देख कर तो कोई भी हरामी हो सकता है.

सुबह से ही तुम्हारे बड़े मम्मे और गांड ने मेरे लंड में आग लगा दी है. तो वो बोली- मेरी भी चूत में आग लगी हुई है. पानी-पानी हो रही है, बहुत दिनों से चुदी नहीं है.

आज तुम्हारे लौड़े से इसकी आग बुझेगी! और वो सीधी होकर मुझसे लिपट गयी. फिर मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया ‘उम्म्म पुच्च पुच्च उम्म्म्म…’ मुझे उसके होंठ चूसने में बहुत मज़ा आ रहा था! ‘उम्म्म पुच्च पुच्च’

तभी आंटी बोलीं- देर हो रही है. अब जल्दी से मेरी चूत की आग बुझाओ. वो एक कपड़ा बिछाकर लेट गईं और खुद ही अपनी साड़ी और पेटीकोट ऊपर उठा लिया.

मैंने भी देर न करते हुए अपना लंड पैंट से बाहर निकाल लिया, जिसे देख कर आंटी खुश हो गईं और झट से उसे अपनी चूत में डालने के लिए कहने लगीं.

मैंने उसे अपना लंड चूसने को कहा तो उसने मना कर दिया और बोली- मैंने कभी इसे मुँह में नहीं लिया है.

उसके बाद मैंने उसके ब्लाउज के हुक खोल दिये. उसके दोनों स्तन ब्लाउज से बाहर आ गये। उसने ब्रा और पैंटी नहीं पहनी थी. (आंटी की चुदाई की)

मैंने उसके दोनों चूचों को दबाना और चूसना शुरू कर दिया और वो जोर-जोर से सिसकारियां लेने लगी- आह्ह्ह उफ्फ आइइई ईईईई आह्ह्ह करके मेरा नाम लेने लगी।

Visit Us:-

आशिका आंटी पूरी गर्म हो चुकी थी और चुदने के लिए तड़प रही थी. वो मेरे लंड को हाथ में लेकर मसलने लगी और बोली- अब इसे मेरी चूत में डालो!

फिर मैंने आंटी के दोनों पैरों को फैलाया और अपना लंड उनकी चूत पर रख दिया और रगड़ने लगा.

वो आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ करके सिसकियाँ लेने लगी और मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत में डालने लगी.

फिर मैंने लंड को चूत के मुँह पर रखा और एक जोरदार धक्का लगा दिया. मेरा लंड आंटी की चूत में पूरा घुस गया.

वो आह्ह्ह्ह करके हल्की सी चिल्लाई और आंटी ने मुझे कस कर पकड़ लिया. आंटी की चूत बहुत गरम हो गयी थी.

मुझे भी बहुत मजा आया और मैं फिर से धक्के लगाने लगा. चूत से फच फच फच की आवाज आने लगी!

और आंटी खुश होकर चुदने लगी. उसके मुँह से ‘आहह उफ़ आईईई ईईई आहह चोदो और ज़ोर से चोदो’ की आवाज़ आ रही थी। मैं भी धक्के पे धक्के मारे जा रहा था.

मैं पहली बार किसी औरत को चोद रहा था.. तो अलग ही मजा आ रहा था। वो भी बिना कंडोम के! आंटी मेरे हर धक्के पर आअहह उफ़्फ़ आईईईई करके कराह उठती थी

और पूरे जोश में नीचे से अपनी गांड उठा-उठाकर मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी। 20 मिनट की जोरदार चुदाई में आंटी दूसरी बार झड़ने वाली थीं और मेरे लंड का पानी भी निकलने वाला था.

तो मैंने तेज धक्कों के साथ सारा पानी आंटी की चूत में डाल दिया और उनके ऊपर लेट गया. कुछ देर बाद हमने अपने कपड़े ठीक किये और घर चले गये। (आंटी की चुदाई की)

उसके बाद मैंने अब तक आंटी को सात बार चोदा है. और अपना लंड भी चुसवाया और आंटी की चूत चाटने का भी मजा लिया.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga