भाभी के लीये बना जिगोलो और उनकी चुत की प्यास ठंडा किया।

भाभी के लीये बना जिगोलो और उनकी चुत की प्यास ठंडा किया।

हेलो दोस्तो मैं Ritu ji एक बार फिर लाई हूं आपके लिए एक नई और सच्ची सेक्स की कहानी लेके। मेरा नाम रितु है, और मैं एमएनसी में जॉब करता हूं चंडीगढ़ में। मैं कही पे भी ट्रेवल कर सकता हूं।

दोस्तो कहानी की सुरुआत भाभी के लीये बना जिगोलो है प्रीति भाभी। उनका फिगर तो एक दम जान लेवा था। उनके बड़े बड़े बूब्स 36डी साइज के थे, और पाटली कमर और बहार निकली हुई गांद देख कर किसी का भी खड़ा हो जाए।

तो मेरी कहानी पे मुझे काफ़ी मेल आए, और उनमे से एक में प्रीति भाभी की भी मेल थी। मैंने उनको धन्यवाद बोले के लिए मेल का जवाब किया। फिर उनका मैसेज आया की बात नहीं करोगे। उसके बाद हमने धीरे-धीरे बात शुरू कर दी।

उन्होने ने मुझे बताया, के उनके पति दुबई में जॉब करते थे, और साल में दो-तीन बार ही आते थे। वो याहा एक बड़ी कंपनी में जॉब करती थी, और बीच हमारी फोटो एक्सचेंज हो गई थी।

दिन गुज़रे, और हमारी बातें होतीं। पहले तो मुझे लगा वो ऐसे ही टाइम पास कर रही थी। फिर एक दिन उन्होन ने मुझे बोला की मैं उनको कही लॉन्ग ड्राइव पे ले जाउ किसी दिन। पर मैं चंडीगढ़ रहता हूं, और वो रहती थी जयपुर में।

फिर मैंने उसके अनुसार अपना जयपुर जाने का प्लान बनाया फ्राइडे रात को। क्यों मुझे था अगर जाउ तो दो दिन खर्च कर सकू वहा पर। फिर मैं उसके बताए दिन और पता पर जयपुर सुभा पांच गया, और मैंने देखा मेरी तारफ एक बड़ी काली ऑडी अप्रोच कर रही थी।

तबी उसमे से प्रीति सिंघल बहार निकली। मैं उसे देखता ही रह गया। उसे देख कर मेरा मुह खुला ही रह गया। उसे रेड कलर का वन पीस लगाना हुआ था। फिर वो मेरे पास आई। उसे मुझे हिलाया, और बोली-

प्रीति : कहा खो गए? कभी लड़की नहीं देखी क्या?

फिर मैंने उसे बोला: लड़की तो बहुत देखी है, जिगोलो पर इतनी सुंदर नहीं देखी।

उसके बाद उसे मुझे अपनी कार में बिठाया, और हम अजमेर हाईवे की तरफ चल पाए। रास्ते में हम बहुत बातें कर रहे थे, और मैं बीच-बीच में उसे चुनने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रहा था। हम बात करते-करते काफ़ी आ गए थे।

फिर उसे गाड़ी एक बड़े से रिसॉर्ट में जा कर रोक दी। मैने उसे पूचा-

मुख्य: याहा क्या है?

उसे बोला: याही तो असली मजा है।

और ये बोल कर उसे मुझे आंख मार दी। मैं उसकी बात समझ गया उसको चुदाई करनी थी।

फ़िर हम अँदर पहले। उसे पहले ही रूम बुक किया हुआ था, और हमने चेक-इन किया रूम में। फिर रूम के अंदर जाते ही वो मेरे से लिपट गई।

मैं भी मौका नहीं खोना चाहता था। मैंने भी उसे जोर से पक्का लिया था अपनी बाहों में, और उसके स्तन मेरी चाट से गरीब दब रहे थे।

फिर मैंने उसे तारफ देखा तो उसकी आंखें बंद थी। मैंने धीरे से अपने होने उसके होने के पास लेकर गया, और अपने होने उसके होने पर रख दिए।

जैसे ही मैंने उसे चुना शूरु किया, उसे मुझे और जोर से पकाया लिया। फिर वो भी मेरा साथ देने लगी। अब हम पागलों की तरह एक-दूसरे को चूम रहे 15-20 मिनट तक। इस बीच मेरा हाथ उसकी बड़ी और कोमल गांद पे जा चुका था।

फिर जैसे ही हमने किस बंद की, मैं उसे बगीचा और गाल सब जग चुनूंगा। इसे और भी हॉर्नी हो गई, और उसे अपना हाथ आगे बढ़ा कर मेरे लंड पे रख दिया।

फिर मैंने एक हाथ से उसके एक टुकड़ा को ऊपर उठा, और मैंने देखा की उसे लाल रंग की नेट वाली पैंटी पेहनी हुई थी।

उसकी पैंटी पूरी तरह गीली हो चुकी थी। जैसे ही मैं उसकी गार्डन और शोल्डर चूस रहा था, वो मौन करना शुरू हो गई।

प्रीति : आह दर्द हो रहा है मत करो रक जाओ मैं मर जाऊ गई रुको प्ल्ज़्ज़्ज़्ज़ रुको रुको रक भी जाओ पानी भी निकल दिया है अपने चुत को सुजा दिया है

उसके बाद उसे मेरी जींस का बटन खोला, और मेरा खड़ा लोहा बाहर निकला। वो मेरे लोड को देख कर शॉक्ड थी, और फिर वो बोली-

प्रीति: मैं इतना बड़ा नहीं ले पाउंगी, क्योंकि मेरे पति का बहुत छोटा है।

उसे समझने के लिए: कुछ नहीं होगा, धीरे-धीरे करेंगे।

फिर मैंने अपनी टी-शर्ट भी उतर दी। अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था, और वो सिरफ ब्रा पैंटी में। मेरे सामने अब एक सेक्स देवी थी। फिर मैंने उसके बूब्स को ब्रा के ऊपर से दबाना शुरू किया, और उसे बहुत मजा आ रहा था।

मैंने पीछे हाथ दाल कर उसकी ब्रा की हुक खोल दी, और हुक खुलते ही वो मेरे देखे से लग गई एक-दम। फिर मैंने उसे बिस्तर पे लिटाया, और पागलों की तरह उसके स्तन चुनोने लग गया। वो आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ ऊउ कर रही थी।

उसके बाद मैं नीचे गया। मैंने उसकी नाभि को अच्छे से और तक जीब दाल कर चुना, चाटा, और फिर मैंने उसे चुत पर पैंटी के ऊपर से किस करा। उसके पानी का स्वाद मुझे आ रहा था। पैंटी बहुत गीली थी उसकी, और फिर मैंने धीरे से उसकी पैंटी निकली।

उसके बाद मैंने उसकी चुत में अपना मुह घुसा दिया। वो बहुत ज़ोर से रोने लगी आह्ह्ह्ह्ह करके. फ़िर 15-20 मिनट चुत चाटने के बाद उसे एक दम से अपना सारा पानी मेरे पे छोड़ दिया। भुत ही अलग और मजार पानी था उसका।

उसके बाद वो मेरे ऊपर आई, और उसे बोला-

प्रीति : अब मेरी बारी।

और उसे मेरा अंडरवियर उतरा, और मेरा लोडा चुनोने लग गई। ये मेरी जिंदगी की सबसे अच्छी ब्लोजोब थी, जो वो मुझे दे रही थी। मैं आंखें बंद करके मजा ले रहा था। उसके 15-20 मिनट चुनने के बाद, मैंने अपना सारा पानी उसके मुह में छोड़ दिया।

उसे एक भी ड्रॉप बर्बाद नहीं की, और सारा का सारा पानी गतक गई। उसके बाद भी उसे लोडा चूसना चालू रखा। 5 मिनट बाद मेरा लोडा फिर से तयार हो गया। अब मैंने उसे नीचे लाया, और मेरा लंड उसकी चुत पे सेट किया।

फिर उसे बोला: प्लीज धीरे डालना।

मैं अपना लंड उसकी चुत कर रहा था, और वो मुझे रिक्वेस्ट कर रही थी, की प्लीज दाल दो। फिर मैंने धीरे से अपना सुपाड़ा उसके अंदर डाला, जिसे उसे गाल निकल गई।

प्रीति : उई मां मर गई

फिर मैं एक मिनट रुका, और मैंने धीरे-धीरे अपना पूरा लोदा उसके अंदर दाल दिया। वो आह् कर रही थी. पहले तो उसे दर्द हो रहा था। फिर कुछ समय बाद उसकी चुत में मेरा लंड पूरा एडजस्ट हो गया।

अब वो भूलभुलैया से चुद रही थी। 15 मिनट चोदने के बाद मैंने उसे डॉगी स्टाइल में छोटा, और फिर रिवर्स काउ गर्ल पोजीशन में छोटा। लगतार हमें 30-35 मिनट चोदने के बाद, हम दो एक साथ झड़ गए।

हमने जब टाइम देखा, तो घड़ी पर 3 बज चुके थे। फिर हमने लंच किया। लंच के बाद हमने एक और राउंड किया, और वो शाम को मुझे रिसॉर्ट में छोड़ कर चली गई। जाते हुए वो बोली-

प्रीति सिंघल : मैं कल सुभा आउंगी, क्योंकि मैं अपने माता-पिता के साथ रहती हूं।

मैं भी थाका हुआ था, तो मैं सो गया। सुभा 7 बजे मेरे कमरे की दरवाजे की घंटी बाजी, और मैंने देखा रेखा मेरे सामने थी। अंदर आते ही वो भुखी शेरनी की तरह मेरे पे टूट पड़ी।

हमने दो राउंड सुभा किया, फिर साथ में नहीं, और फिर हम होटल से चेक आउट करके निकले गए। रास्ते में उसे मुझे लिफाफा दिया, और मुझे बोला-

प्रीति सिंघल: थैंक्स मुझे संतुष्ट करने के लिए। मैं बहुत खुश हूं तुमसे।

फिर उसे मुझे मेरी जगा पे ड्रॉप किया, और चली गई।

उसके बाद उसे अपनी एक-दो सहेलियों से भी मिलवाया मुझे। और वो मैं अगली कहानी में बताऊंगा।

अगर मेरी कहानी पसंद आई हो, मेल करे मुझे खुश करने के लिए। मेरी ईमेल आईडी है:

और किसी भी भाभी, मौसी, या लड़की को सेवा चाहिए हो, जरूर याद करे को खुश करने के लिए। प्राइवेसी एक दम मेंटेन रहेंगी। मुझे बड़ी उमर की औरते बहुत पसंद है।

मैं आप सब का धन्यवाद करता हूं, मेरी कहानी पढ़ने के लिए। आशा करता हूं, की आपको कहानी पसंद आई होगी।