भाभी के साथ सेक्स की कहानी – मेरे क्लाइंट की बीवी अपने पति के लंड से असन्तुस्ट थी

भाभी के साथ सेक्स की कहानी – मेरे क्लाइंट की बीवी अपने पति के लंड से असन्तुस्ट थी

दोस्तों, मेरा नाम विशाल है और मैं आप सभी का आपकी पसंदीदा हिंदी सेक्स स्टोरी वेबसाइट में स्वागत करता हूं। हॉट भाभी के साथ सेक्स की कहानी में पढ़िए कि मैं एक घर में काम करने जाता था. घर की मालकिन मुझे देखती थी पर कुछ नहीं कहती थी। तो चीजें कैसे हुईं?

आज मैं आप लोगों के साथ अंतरवासन सेक्स स्टोरी साइट पर अपनी एक देसी सेक्स स्टोरी शेयर करने जा रहा हूं जिसमें मैं देसी भारतीय भाभी की चुदाई के बारे में बताऊंगा।
बात आज से एक साल पहले की है।

कहानी शुरू करने से पहले आप जान लें कि मैं उदयपुर में रहता हूँ। मैं आपको बता नहीं पाऊंगा कि मैं क्या काम करता हूं। मैं व्यक्तिगत जानकारी प्रदान नहीं करने के लिए क्षमा चाहता हूँ।

यह कहानी मेरे और मेरे एक क्लाइंट की है। वह 40 साल की महिला हैं।
अनुभवी महिलाओं के साथ सेक्स करना ज्यादा सुरक्षित और ज्यादा मजेदार होता है।

तो आप लोगों को ज्यादा बोर न करते हुए मैं हॉट भाभी के साथ सेक्स की कहानी पर आता हूं.
उनके पति का बड़ा कारोबार था, जिसके सिलसिले में वे अक्सर घर से दूर रहते थे.

तो दोस्तों, उसके घर जाने के तीन-चार दिन ही हुए थे कि वो मेरी तरफ आकर्षित होने लगी।
चूंकि वह मेरा मुवक्किल था, इसलिए मैं इस तरह की हरकत करने से बहुत हिचक रहा था क्योंकि मैं वहां काम के लिए जाता था।

अगर मैं वहां कुछ गलत करता तो शायद मेरा काम छूट जाता, इसलिए मैं चुपचाप अपने काम में लगा रहता।
मैं सिर्फ उनकी बॉडी लैंग्वेज पर नजर रखता था लेकिन अपनी हद में ही रहता था।

पिछले दो दिनों से मैं देख रहा था कि वो दूर से ही छुप-छुप कर मुझे देखती रहती थी।
वो न तो मेरे सामने आकर कोई इशारा कर रही थी और न ही कुछ कहने की पहल कर रही थी.

शायद वह सोच रही थी कि मैं आगे बढ़कर उससे बात करूं।
लेकिन मैं भी अपनी हद में रहना चाहता था।

इसी तरह धीरे-धीरे दिन बीत रहे थे।

अब वह शायद सोच रही थी कि अगर काम खत्म हो गया तो मुझसे मिलना संभव नहीं होगा।
इधर मैं भी सोच रहा था कि भाभी आगे बढ़कर पहल करें, क्योंकि मुझे भी डर था कि अगर मैंने पहल की तो कहीं वह नाराज न हो जाए या गलत समझ जाए।

फिर वह दिन भी आया जब उन्होंने स्वयं आगे बढ़कर पहल की।

उस दिन काम के बाद मैं उनके घर से निकल रहा था।
शाम को मजदूर छुट्टी लेकर अपने-अपने घर चले गए और उनके पति भी चार-पांच दिन के लिए शहर से बाहर चले गए।

मैं जाने लगा तो कहने लगी- विशाल… रुको, चाय पीकर जाओ;
मैंने कहा- ठीक है,

करीब 10 मिनट बाद वह चाय बनाकर ले आई।

फिर चाय पीते हुए हमारे बीच बातों का सिलसिला शुरू हो गया।
वह मुझसे मेरी निजी जिंदगी के बारे में कुछ सवाल पूछने लगीं।
मैंने उनके निजी जीवन के बारे में भी कुछ पूछा।

फिर धीरे-धीरे अपनी पर्सनल लाइफ के बारे में बताते-बताते वो थोड़ी उदास रहने लगीं।

उसने कहा- यह आपको बताने लायक नहीं है।
मैंने कहा- लेकिन क्या आप मुझे थोड़ा बता सकते हैं? क्या आप जानते हैं कि क्या मैं आपकी मदद कर सकता हूं?

उसने कहा- हम पति-पत्नी में वह प्यार नहीं है जो अब होना चाहिए। मेरी खुशी अब अधूरी है। मेरे पास घर में कोई कमी नहीं है लेकिन मेरे शरीर की जरूरतें ठीक से पूरी नहीं हो पा रही हैं। शायद आप समझ रहे हैं कि मैं क्या कह रहा हूँ?

मैंने मन ही मन कहा कि मैं पहले दिन से ही समझ गया था, बस आपके मुंह से कहवाना चाहता था।

लेकिन मैंने थोड़ा विनम्र होते हुए कहा- हां, हां भाभी। अपने किसी मित्र से मिलें और उससे अपने दिल की बात साझा करें, ताकि आपका मन हल्का हो सके।
उसने कहा- विशाल, थैंक यू, तुमने मेरे बारे में इतना सोचा। अब जब मामला शांत हो गया है तो मैं आपको थोड़ा खुलकर बता दूं।

फिर आगे जोड़ते हुए उन्होंने कहा- विशाल… हमारी सेक्स लाइफ उतनी मजेदार नहीं है, जितनी होनी चाहिए। मेरे पति सेक्स के मामले में बहुत कमजोर हैं और अगर वह घर पर भी रहते हैं तो हमें कुछ खास नहीं होता है।

मैंने उससे कहा- भाभी, आप थोड़ी और खुल कर बोलिए कि समस्या क्या है और मैं इसमें आपकी क्या मदद कर सकता हूं?
उसने कहा- विशाल तुम ड्रिंक लेते हो?

मैंने उनसे कहा- मैं इसे रोज नहीं लेता लेकिन कभी-कभार लेने में कोई आपत्ति नहीं है।
फिर उसने कहा- कौन सा ब्रांड लेते हो?

मैंने उससे कहा – या तो बीयर या रम।
मैंने उससे कहा- ठीक है।

कुछ देर बाद वो वोडका ले आई और मेरे लिए बीयर का ऑर्डर दिया।
मैंने कहा-इतना कुछ सहने की जरूरत नहीं थी भाभी, बीयर न होती तो आप मना कर देतीं।

वो बोलीं- नहीं विशाल, पहली बार मेरा दिमाग हल्का हुआ है. मैं अपने दिल की हर बात आपसे शेयर करना चाहता हूं। दो-चार पेग लेने के बाद खुल कर तुमसे सब कुछ शेयर कर पाऊंगा। मुझे एक अच्छा दोस्त भी मिलेगा।

मैंने कहा- ठीक है, तुम मुझे अपना अच्छा दोस्त मानते हो।
फिर वह खूंटे बनाने लगी।
धीरे-धीरे वह एक-एक पेग पी रही थी।

उसकी निगाहें अब बार-बार मेरी पैंट पर जा रही थीं। शायद उसके भीतर कामवासना की आग पनपने लगी थी।
जब उससे रहा नहीं गया तो उसने कहा- विशाल, तुम इतनी दूर क्यों बैठे हो? आओ और मेरे पास बैठो।

मैं भी जाकर उनके पास बैठ गया।

जैसे-जैसे वह शराब के नशे में चूर हो रही थी, वैसे-वैसे वह मेरे करीब आ रही थी।
उसने खुलकर सारी बात बता दी कि उसे अपने पति के लंड से संतुष्टि नहीं मिलती.

दूसरी तरफ उसके करीब आने और सेक्स की बातें करने से मैं भी गर्म होने लगा। मेरा लंड खड़ा हो गया था.

मैं भी उससे जुड़ रहा था। मेरी सेक्स इच्छा भी पूरी तरह से जाग्रत हो गई थी।

फिर मैंने भाभी को उठाया और कहा- भाभी चलो बेडरूम में चलते हैं, वहीं बैठकर साथ में पीएंगे।
उसने कहा- ठीक है।

फिर हम बेडरूम में गए।

बेडरूम में जाकर हम दोनों साथ में बैठकर पीने लगे।

मैंने उसे गोद में उठाया और बिस्तर पर ले जाने लगा।
भाभी ने अपनी बाहें मेरे गले में डाल दीं।

जैसे ही मैं उसे ले कर बिस्तर पर लेटने लगा, उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और हमारे होठों को मिलने में देर नहीं लगी।

मैं उसके ऊपर लेट कर उसके होठों को चूसने लगा. हम दोनों एक दूसरे को गले लगाने लगे।
देखते ही देखते हमारे कपड़े उतरने लगे। मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसे केवल ब्रा और पैंटी में ही छोड़ दिया।

मैं खुद अंडरवियर में था।
अब मेरा लंड उसकी पैंटी पर रगड़ रहा था.

मैं उसकी ब्रा पर उसके बूब्स दबाने लगा; वो लगातार मेरे होठों को चूसने में लगी हुई थी।

मैं उसके शरीर को पूरा सहला रहा था। हम दोनों का जिस्म तपती भट्टी की तरह तपने लगा।

भाभी कह रही थीं- विशाल…आह…यार…तुम कितनी सेक्सी और हॉट हो. जिस दिन से मैंने तुम्हें पहली बार देखा था, मैंने सोचा था कि मैं तुम्हारे साथ सेक्स जरूर करूंगा।
मैंने कहा- भाभी, आपको तो बोलना चाहिए था न? मैं भी आपको पसंद करता था लेकिन मैं आगे जाकर पहल नहीं कर पा रहा था। सच में यार… भाभी तुम बहुत सेक्सी और हॉट हो.

अब वो काफी गर्म हो चुकी थी और धीरे-धीरे मदहोश हो रही थी।

फिर उसने कहा- यार अब जल्दी से सेक्स शुरू कर दो, नहीं तो मुझसे अब और बर्दाश्त नहीं होगा.

मैंने उसके शरीर से ब्रा और पैंटी दोनों अलग कर दी और खुद भी अपना अंडरवियर उतार कर उसके पूरे बदन को चूमने लगा.
वो भी मेरे पूरे बदन को चूम रही थी।

नंगी भाभी का गोरा बदन देखकर मैं कामवासना की आग में जलने लगा।
मैं उसके बूब्स को पकड़ कर चूसने लगा.
उसने सिसकते हुए कहा आह… विकी… ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह… आह… चूसो यार… और चूसो… आह… पियो।

मैं देसी सेक्सी भाभी के मोटे-मोटे बूब्स को बड़े चाव से चूस रहा था.
थनों के निप्पल एकाएक मोटे-मोटे हो गए थे, जिन्हें दाँतों से हल्का हल्का काटने में इतना मज़ा आता था कि बस मन करता था कि उन्हें काट कर खा लूँ।

जब भी मैं अपनी भाभी के निप्पल काटता तो वो मेरे लंड को पकड़ कर खींच लेती.

अब मेरा एक हाथ भाभी की चूत पर चला गया और उनकी चूत को पेंटी के ऊपर से मसलने लगा.

कुछ देर रगड़ने के बाद वो इतनी गर्म हो गई कि उसने मुझे बिस्तर पर पटक दिया और मेरी अंडरवियर खींच कर मुझे नंगा कर दिया.

उसने तुरंत मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी.
मैं स्वर्ग में खो गया हूँ।
वो मजे से मेरे लंड को चूसती रही और मेरी सिसकियां निकलने लगीं.

मैं इतनी जल्दी गिरना नहीं चाहता था और मैंने भाभी को जगाया।

उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत को उघाड़ दिया; मैं जीभ से चूत चाटने लगा.
मेरी जीभ पर हाथ लगते ही भाभी फुफकारने लगीं-आह विशाल…आह…स्स…ओह…आआआ…आआह…आह…आआ…उई आआ…चाट…अंदर आह…विशाल…आह चूस ले!

कुछ देर मैंने अपनी भाभी की चूत को अपनी जीभ से चाटा और फिर उनकी टांगों को फैला दिया.
मैंने अपना लंड भाभी की चूत पर लगा दिया।

थोड़ा अंदर डाला तो ऐसा लगा जैसे भाभी की चूत के अंदर कोई गर्म लावा बह रहा हो.
वो बोली- आह… अभी रुको मत… जाने दो… पूरा जोर लगाओ।

ये सुनकर मैंने भी पूरा लंड उसकी चूत के अंदर घुसा दिया.

अब वो बहुत बीमार रहने लगी थी और मेरे होठों को चूसते हुए नीचे से अपनी गांड को सहलाने लगी.
मैंने भी धीरे-धीरे स्पीड बढ़ा दी और भाभी की चूत में लंड को उछालने लगा.

जितनी तेजी से मैं ऊपर से कर रहा था, उतनी ही तेजी से उसे नीचे से धक्का दिया जा रहा था।

करीब 10 मिनट तक भाभी को चोदने के बाद वो अकड़ने लगी और उसकी चूत ने मेरे लंड को अपने रस से भिगो दिया.

भाभी की चूत का रस बह निकला।
अब लंड से पंच-पच की आवाज आने लगी.

भाभी की चूत में पानी रह गया था तो अब मैं तेजी से उनकी चूत को चाटने लगा.

कुछ धक्का-मुक्की के बाद मेरा सामान भी निकलने वाला था।
मैंने तेजी से चोदते हुए भाभी की चूत में सामग्री गिरा दी.
उसके बाद हम दोनों कुछ देर के लिए हांफने लगे।

उसके बाद हम उठे और दोनों वॉशरूम में जाकर साफ हो गए।
फिर हमने खाया और एक बार फिर पीने का मौसम शुरू हो गया।

एक बार फिर मन हुआ भाभी की चूत चाट लूँ.
मैंने कहा- भाभी, मैं आपके साथ एक बार और ऐसा करना चाहता हूं। उसके बाद ही मैं अपने घर जाऊंगा।
उसने कहा- आज रात मेरे यहां ठहरो। वैसे भी घर में कोई नहीं है।

मैं भी रुकना चाहता था, इसलिए रुक गया।

फिर हम दोनों ने खूब मस्ती की और चूसने-पीने के बाद फिर से गर्म हो गए। ( Delhi Escorts )
इसके बाद चुदाई का एक और दौर चला।

इस तरह मैंने उस रात भाभी के साथ चार बार सम्भोग का आनंद लिया।
सुबह 6 बजे उठकर मैं फ्रेश होकर अपने घर चला गया।

उसी दिन से भाभी के साथ सेक्स का सिलसिला शुरू हो गया।

तब से जब भी भाभी का मन करता है और उनके पति शहर से बाहर होते हैं, तो हम वहीं खाना-पीना और सेक्स करते हैं।

आप लोगों को हॉट भाभी के साथ सेक्स की कहानी कैसी लगी, मुझे कमेंट और मेल करके जरूर बताएं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga