भाभी की करी चुदाई और भुजाई उनकी चुदने की हवस। Hindi Sex Story

भाभी की करी चुदाई और भुजाई उनकी चुदने की हवस। Hindi Sex Story

हेलो दोस्तों आज मै कहानी बताने जा रहा हूँ उसका नाम है भाभी की करी चुदाई और भुजाई उनकी चुदने की हवस तो चलिए शुरू करते है।

मेरे प्यारे दोस्तों, मेरा नाम रोहन है, मेरी उम्र 26 साल है। मेरा लंड बहुत मस्त है, इसकी तारीफ मैं नहीं बल्कि इसकी शिकार हो चुकी लड़किया और भाभियां करती हैं। यह मेरी और भाभी के सेक्स करने की कहानी है।

आइए आपको कहानी विस्तार से बताते हैं। मेरा स्कूल खत्म हो गया था, अब मुझे कॉलेज जाना था। इस कारण मुझे दूर नगर में भेज दिया गया। मेरे पड़ोस की मौसी की बहू और बेटा वहीं रहते थे। पापा ने अपना पता वगैरह देकर मुझे भेज दिया।

मैं वहां जाकर उसके घर गया और उसका दरवाजा खटखटाया तो भाभी ने दरवाजा खोला। मैं भाभी को देखता ही रह गया। उफ्फ्फ क्या नशीला बदन था वो। खुले काले लंबे बाल, गोरा गाल, लाल होंठ, बड़े चूचे… सपाट पेट, चौड़ी गांड। मैं नशे में था।

तभी भाभी ने मीठी आवाज में कहा-अरे रोहन…आप आ गए। मम्मी जी का फोन आया कि रोहन आ रहा है।

मैं- हां भाभी आ गई।

भाभी- अंदर आओ।

इतना कह कर भाभी ने मुड़ कर जाने लगी तो उनकी हिलती हुई गांड बड़ी मस्त लग रही थी। जब उनके दोनों चूतड़ हिल रहे थे तो ऐसा लग रहा था जैसे वे आपस में बात कर रहे हों। उनके दोनों चूतड़ों के बीचों-बीच छुपी मस्ती से भरी गांड का छेद होना कैसा होगा… मैं बस इसी कल्पना के बारे में सोचता रहा। मैं उनके सुन्दर शरीर के बारे में सोचता हुआ जाकर सोफे पर बैठ गया।(भाभी की करी चुदाई)

भाभी मेरे लिए पानी लाईं। फिर भाभी बैठी और मुझसे बातें करने लगीं। भाभी ने बताया कि भैया दस दिन ऑफिस के काम से टूर पर गए हुए हैं, मैं घर पर अकेली हूं। ये सुनते ही मैं भाभी को चोदने के बारे में सोचने लगा.

इससे पहले कि मैं आगे बढ़ूं भाभी के बारे में आप सभी को बता दूं कि भाभी का फिगर 34-30-36 है और उनकी उम्र 30 साल है। भाभी इतनी सेक्सी लगती है कि जो भी मर्द उसे एक बार देख लेगा, बस उसी पल से भाभी को अपने बिस्तर पर चोदने की सोचने लगेगा।

क्योकि पापा का फोन आया था कि मुझे भाभी के घर रहना है तो भाभी ने मुझे अपना कमरा दिखा दिया। मैंने अपना सामान कमरे में रखा और भाभी से बातें करता रहा।

रात को भाभी ने खाना लगा दिया तो मैं टेबल पर बैठा था। इस समय भाभी ने नीले रंग की नाइटी पहन रखी थी, जिससे उनका गोरा बदन चमक रहा था। नाइटी जरा सी कसी हुई थी। तो तो ऐसा लग रहा था जैसे भाभी के बड़े-बड़े चूचे अब फूट जाएंगे 

नाइटी में चूचो के निप्पल के ऊपर की जगह में एक तारे जैसी चमकदार नग सा लगा था, जो उन्हें पूरा दिखाते हुए भी उनके निप्पल को ढँक रही थी। इस गहरे गले वाली नाइटी में भाभी झुककर मुझे खाना दे रही थी। जिससे मैं उनके ऊपर से ही नहीं बल्कि अंदर से भी देख सकता था। मैं उसके इशारो से समझ रहा था कि भाभी आज मूझसे चुदना चाहती है।

मैंने और भाभी ने खाना खाया और कमरे में आ गए। मैं कुछ देर भाभी के कमरे में ही रहा।

उसी समय भाभी ने कहा- अब तुम सो जाओ… मैं नहा लेती हूं।

मैंने सोचा, भाभी, यह नहाने का कौन सा समय है?

भाभी ने कहा- मैं रात को नहा-धोकर ही सोती हूं। यह कहकर भाभी ने अपने दोनों हाथ ऊपर उठाकर चुचे हिला दिए।

मैं उनकी इस अदा पर हैरान हो गया था । मुझे हैरान देख भाभी मुस्कुराई और नहाने चली गई। मैं अपने कमरे में आ गया, लेकिन मुझे नींद नहीं आई। भाभी के चूचे बार-बार आँखों में आ रहे थे।

कुछ देर बाद मैं भाभी के पास आया तो भाभी बिस्तर पर लेटी हुई थी।

मैंने कहा- भाभी, मुझे नींद नहीं आ रही है… क्या मैं आपके साथ सो सकता हूं?

भाभी ने कहा हाँ।

Read More Stories:

अगले ही पल, मैं भाभी के पास लेट गया और बिना कुछ सोचे-समझे उन्हें गले लगा लिया। मैं उम्मीद कर रहा था कि भाभी कुछ विरोध करेंगी। लेकिन भाभी ने मुझे गोद में ले लिया।

सबसे पहले मैंने भाभी के चूचे को अपने मुँह में रख कर उन्हें चूसने लगा। उफ्फ… चूचे कितने नर्म थे।

भाभी पहले तो ना कहने लगीं- क्या कर रहे हो रोहन…छोड़ भी दो उफ्फ्फ बदमाश!

मैं भाभी की बात नहीं सुन रहा था और भाभी के स्तनों में पूरी तरह लिपटा हुआ था। उनके निप्पलों को लगातार चूसने के बाद, भाभी ने मुझे रोकना बंद कर दिया और मुझे अपनी उबलती जवानी में डुबकी लगाने दिया।

काफी देर बाद मैंने भाभी के चूचो को छोड़ा। इसके तुरंत बाद मैंने उसकी नाइटी उतार कर फेंक दी और खुद भी नंगा हो गया। भाभी भी मेरे लंड को देखकर पूरी तरह से हैरान हो गईं। उसकी ठरक बढ़ गई और वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी।

मैंने कहा- भाभी, सब्र करो, आज ही तुम मेरा लंड लेने वाली हो।

भाभी ने कहा – यह देखकर मुझे सब्र नहीं होता, पहले एक बार मेरी प्यास बुझा दो, फिर बाद में बाकी का कर लेंगे।

मैंने उसकी बात मानकर उसकी टांगें फैला दीं और दोनों टांगों के बीच में अपना लंड टिका दिया। भाभी ने लंड को चूत के फांकों में फँसाया और गांड उठा कर टोपा फँसा दिया। इधर टोपा अटका उधर मैंने झटका मार दिया।

उधर भाभी की माँ चुद गयी…मुंह से दर्द भरी आह निकली ‘उम्ह…आह…अरे…अरे…’भाभी की आँखें फैल गईं।

मैं बिना किसी परवाह करे पूरा लंड भाभी की रसीली चूत में डालने लगा. लंड को पूरा डालने के बाद मैं एक पल के लिए रुका और उसके चूचो को पकड़ कर जोर जोर से दबाने लगा. एक मिनट में ही भाभी की चूत ठीक हो गई और मेरे लंड के मज़े लेने लगी।(भाभी की करी चुदाई)

मैं काफी देर तक भाभी को चोदता रहा। उसकी गांड को सहलाते हुए, उसके चूचो को चूसते और काटते हुए चुदाई की स्पीड बढ़ाने लगा।

भाभी भी मेरे मोटे लंड को चूम कर जन्नत का मज़ा ले रही थी। भाभी ने मुझे अपनी चूचियों से चिपका लिया और मेरे बालों को सहलाते हुए लंड के वार का मजा लेने लगी। सच में भाभी की चुदाई में मुझे बहुत मजा आ रहा था।

कुछ ही देर में भाभी की तेज साँस निकलने लगी और वो झाड़ गयी। उनके गिरने के कुछ क्षण बाद मैंने भी अपने लंड का पूरा वीर्य भाभी की चूत में भर दिया। झड़ने के आनंद से हम दोनों की आंखें बंद हो गई थीं।

एक मिनट बाद हम दोनों भाभी और मै सेक्सी बातें करने लगे। भाभी की नंगी गांड मुझे बहुत प्यारी लग रही थी। मैं बार-बार भाभी की गांड पर हाथ फेर रहा था और उंगली भी कर रहा था। भाभी उंगली के स्पर्श से अपनी गांड को ऊपर उठा रही थी।

कुछ देर बाद सेक्स का एक और दौर चला फिर हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर नंगे ही सो गए।

सुबह उठा तो भाभी से लिपटा हुआ था। मैं उसके निप्पलों को चूसने लगा और एक बार फिर से अपना खड़ा हुआ लंड भाभी की चूत में धकेल दिया। कामवासना की आग फिर से अपने रंग बिखेरने लगी। मैंने भाभी की चूत को चोदा और फिर से सो गया।

बहुत देर बाद उठा तो भाभी रसोई में जा चुकी थी। मैं उठा और किचन में चला गया। भाभी को पीछे से पकड़ लिया और मस्ती करने लगे।

भाभी बोलीं- तुम्हारा मन अभी भी नहीं भरा क्या ?

मैं- नहीं भाभी… जब सेक्सी भाभी हो… तो किस देवर का दिल कैसे भरेगा।

भाभी- तुम बहुत बदमाश हो।

तभी दरवाजे पर दस्तक हुई। मैं भाग कर कमरे में गया और अपना लोअर पहनने लगा। उधर, भाभी ने दौड़कर दरवाजा खोला और उन्हें अंदर बुलाया।

मैं वापस आया तो देखा कि भाभी की दो सहेलियां अपने 4 बच्चों के साथ ड्राइंग रूम में बैठे हुए थे। सब आपस में बातें करने लगे। उनकी बातचीत से पता चला कि तीनों को बाजार जाना है।

भाभी ने मुझे उन लड़कों को शाम तक घर पर रखने को कहा और वो चली गई।

यहाँ मैं अपनी भाभी को चोदने के लिए आग बबूला हो रहा था। शायद भाभी की भी मेरी जैसी ही ख्वाहिश थी। इसलिए वह अपनी सहेलियों से बिछड़ कर घंटे भर में ही बाजार से घर लौट आई।

उसने अपनी सहेलियों के बच्चों को बाहर के कमरे में बिठाया और कमरे में चली गई। भाभी ने अपने कमरे में जाकर ड्रेस चेंज की। अब भाभी फिर नाईट ड्रेस में आ गई थी। मैंने अपनी भाभी को पकड़ लिया और अलग ले जाकर किस करने लगा।

उधर भाभी की सहेलियों के बच्चे पुकारने लगे- आंटी कहाँ हो?

इतने में भाभी भाग कर उसके पास चली गई। मैंने अपनी भाभी को इशारा किया कि अब नहीं रहा जा रहा, बस जल्दी से चुदाई करवा लो।

दूसरी ओर वे चारों बच्चे मेरे जीवन के लिए संकट बन रखे थे। भाभी ने उन सभी बच्चों से लुकाछिपी खेलने को कहा।

मैंने कहा- बच्चे ही क्यों, हम सब लुकाछिपी खेलते हैं।

मेरी बात सुनकर सब तैयार हो गए। मैं भी साथ खेलने लगा।

फिर कोई एक अपनी बारी देने जाता तो सब छिप जाते। दो बार खेलना हो गया। तीसरी बार में भाभी के साथ कमरे में छुप गया। भाभी इस समय मेरे सामने खड़ी थी। मैंने पीछे से उसकी नाइटी उठाई और

उसकी पैंटी नीचे कर दी और लंड को उसकी चूत में डाल दिया। भाभी बड़ी मुश्किल से अपनी आवाज दबा पाईं। मैं भाभी को पकड़ कर चोदने लगा। भाभी मुझे मना कर रही थी और वो मुझसे पीछा छुड़ाने की कोशिश कर रही थी।

तभी मेरी पकड़ ढीली हुई और भाभी उठकर दौड़ने लगीं। मैंने उसे फिर से पकड़ लिया और उसे एक कोने में ले गया और पीछे से अपना खड़ा हुआ लंड उसकी चूत में घुसा दिया।

मैंने अपनी भाभी के बूब्स दबाते हुए चुदाई का भरपूर मज़ा उठाया। चुदाई पूरी करने के बाद मैंने उनकी नाइटी से लंड को पोंछा और लोअर को ऊपर कर दिया। मैं उन्हें छोड़ना नहीं चाहता था। लेकिन भाभी भागने वाली थी।

तभी कुछ ही देर में हमारे सारे बच्चे एक साथ इस कमरे के बाहर खड़े हो गए और शोर मचाने लगे।

भाभी- रोहन, रहने दो, सब आ गए।(भाभी की करी चुदाई)

यह कहकर वह अपनी गांड मटका कर चलते हुए दरवाजा खोलने चली गई। मैं बिस्तर पर आ गया था और वहाँ से मैं अपनी भाभी की हिलती हुई गांड को देख रहा था।

भाभी ने दरवाजा खोला और अपने दोस्तों के बच्चों से बातें करने लगीं।

एक बच्चा बोला – आंटी आप मिल गयीं।.. कितनी देर में दरवाजा खोला… वो भैया कहां हैं?

तभी मैं पीछे से आया और अपनी भाभी की गांड को अपने दांतों से काट लिया। भाभी चिल्लाईं और मुझे धक्का देकर दूर करने लगीं।

भाभी- जाओ अपने भैया को कहीं और ढूंढो वो यहाँ नहीं हैं।

इतना कहकर भाभी ने दरवाजा बंद कर लिया। मैंने पास आकर भाभी को गोद में उठा लिया और ले जाकर बिस्तर पर पटक दिया। फिर मैंने उसकी चूत खोल दी और उसे चोदने लगा।

मैंने भाभी के चूचो को फिर से गले से लगा लिया और उनके मोटे-मोटे चूचो को मुंह में लेकर चूसने लगा। कुछ देर बाद दरवाजा फिर बजने लगा, लेकिन इस बार मैं नहीं रुका।

मैं भाभी को जोर से चोद रहा था।

कुछ ही देर में लंड की पिचकारी निकल गई और मैंने जबरदस्ती भाभी के निप्पल को अपने मुंह में भर लिया और कस कर चूसने लगा मुझे बहुत मज़ा आया।

भाभी के निप्पल पर दांतों के निशान थे। मैं अपनी भाभी से अलग नहीं होना चाहता था, पर होना पड़ा क्योंकि बच्चे परेशान करने लगे थे।

भाभी ने दरवाजा खोला। उसने नाइटी पहन ली और बच्चों के साथ बाहर बैठ गई और उनसे बातें करने लगी। इधर मैं भी कपड़े पहनकर बाहर आया और बैठ गया।

शाम होने वाली थी, बच्चे घर जाने वाले थे। मेरा दिमाग भाभी की गांड में अटका हुआ था। जब भी मौका मिलता मैं अपनी भाभी की चूचियां और गांड दबा लेता था।

तभी उसके दोस्त आए और बच्चों को ले गए। हम देवर-भाभी फिर से एक हो गए हैं।

जब तक भैया टूर से वापस नहीं आया, हम दोनों ने चुदाई का पूरा मजा लिया। मैंने भाभी की गांड भी मारी थी। मैं अगली बार उनकी कहानी लिखूंगा। मेरे दिन चुदाई करके बीतने लगे थे।

इसी बीच मुझे पता चला कि भाभी ने अपनी सहेली के भांजे को भी किस कर लिया है। यह सुनकर मुझे बड़ी जलन हुई कि इतनी सेक्सी सुंदर भाभी को किसी और ने चूस लिया है।(भाभी की करी चुदाई)

यह कहानी मैं आपको बाद में बताऊंगा। मैंने अपनी भाभी से एक दिन चुदाई करते हुए इस बारे में पूछा था और भाभी ने भी मुझे खुशी के साथ बताया था कि कैसे उनकी सहेली के भांजे ने चुदाई की थी।

फिर मैंने भाभी की सहेली को भी चोदा। तुम अपना प्यार देते रहो, हम ऐसी चुदाई की कहानी लिखते रहेंगे। यदि आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Wildfantasy.in” पर पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

You cannot copy content of this page