सर्दी की उस रात में दो लड़को ने मेरी गांड के साथ खिलवाड़ किया – भरी ठण्ड में मेरी गांड चुदाई

सर्दी की उस रात में दो लड़को ने मेरी गांड के साथ खिलवाड़ किया – भरी ठण्ड में मेरी गांड चुदाई

एक बार एक पार्टी से लौटने में देर हो गई। घर जाने का कोई साधन नहीं था। मैं पैदल जा रहा था। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। बीच रास्ते में बारिश होने लगी और फिर…!

नमस्कार दोस्तों, मैं प्रकाश एक बार फिर से आप सभी का इंतरवासा में स्वागत करता हूं। मैं आप लोगों के लिए एक नई कहानी लेकर आया हूं। उम्मीद है आप लोगों को मेरी कहानी जरूर पसंद आएगी।

कहानी पर आगे बढ़ने से पहले मैं अपने बारे में बता दूं। मैं 18 साल का गोरा और सज्जन लड़का हूँ। बात उस दिन की है जब मैं 25 दिसंबर को क्रिसमस नाइट पार्टी से लौट रहा था। मैं बहुत थका हुआ था और उस सर्द रात में पैदल घर जा रहा था।

रात के 1 बज रहे थे। मुझे कोई बस वगैरह नहीं मिल रही थी तो मैंने पैदल ही घर जाने का फैसला किया। यह फैसला मेरे लिए बहुत दिलचस्प निकला। कहानी पढ़ने के बाद आपको अंदाजा हो जाएगा।

मैंने भी पार्टी में ड्रिंक की थी तो थोड़ा नशा भी था। रात का अंधेरा था, इसलिए मैं पूरी तरह सतर्क चल रहा था। मेरा घर 8 किलोमीटर की दूरी पर था। सर्द रात में शराब का नशा मौसम को बेहद सुहावना बना रहा था।

हवा में भी काफी ठंडक महसूस हो रही थी। कुछ दूर ही गए थे कि हवा ने जोर पकड़ लिया। मैंने आसमान की तरफ देखा तो चांद बादलों से घिरा हुआ नजर आ रहा था। शायद बरसात का मौसम था। मैंने सोचा था कि बारिश नहीं होगी, लेकिन दो मिनट बाद बूंदे गिरने लगीं।

मैं तेजी से चलने लगा, लेकिन मेरे कदमों के साथ-साथ बारिश की बूंदें भी तेज होती चली गईं और जल्द ही तेज बारिश होने लगी। मैं दो मिनट में पूरी तरह भीग गया था। मैंने सोचा कि मैं इस तरह बीमार पड़ जाऊंगा।

ठंड से बचने के लिए मैंने कहीं रुकने की सोची क्योंकि इतनी तेज बारिश में बाहर रहना संभव नहीं था। पास ही एक वीरान सिनेमा हाल था। मैं बिना कुछ सोचे समझे अंदर घुस गया।

वह सिनेमा हॉल पिछले चार-पांच साल से बंद पड़ा था। वहां कोई नहीं आता था। इसलिए मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था। लेकिन उस समय बारिश से बचने के लिए इससे अच्छी जगह कोई नहीं मिल सकती थी। मैं अंदर गया।

अंदर गया तो सब सुनसान पड़ा था। खिड़कियों के शीशे टूट गए। जिससे अंदर ठंडी हवा आ रही थी। कुर्सियां भी तोड़ दी गईं। फिर मैंने एक कुर्सी सीधी की और उसे सरकते हुए उस पर थोड़ा सा साफ करके बैठ गया।

मैं भीग रहा था इसलिए मुझे ठंड लग रही थी। मैंने जेब में हाथ डाला तो सिगरेट और लाइटर को छुआ। मुझे लगा कि मैं सिगरेट पीता हूं। कम से कम सर्दी से थोड़ी राहत तो मिलेगी। फिर मैंने सोचा कि वैसे भी इस थिएटर में कोई नहीं आता।

यह सोचकर मैंने कुर्सी का झाग निकाला और आग लगाकर अपने आप को सेंकने लगा। ठंड से कुछ राहत मिली थी लेकिन ठंडी हवा अभी भी अंदर आ रही थी और बारिश भी रुकने का नाम नहीं ले रही थी।

कुछ देर बाद मुझे कुछ हलचल सुनाई दी। मुझे लगा कि कोई और भी आ रहा है। मुझे घबराहट होने लगी कि कोई चोर हो सकता है। डर लगने लगा कि कहीं चोर हो गए तो मेरा पर्स, पैसे और फोन आदि छीन लेंगे।

मैं वहीं चुपचाप दुबक कर बैठ गया। वे दो लड़के थे। दोनों दरवाजे पर खड़े होकर मुझे देख रहे थे। जलती आग देखकर वह आगे बढ़ा। मैंने अपनी सिगरेट एक तरफ फेंक दी। जब वह आग की रोशनी में मेरे पास आया तो मुझे पता चला कि वह चोर नहीं लग रहा था।

फिर मैं भी खड़ा हो गया। उन्हें देखकर लग रहा था कि दोनों भी नशे में थे। एक की उम्र 21-23 और दूसरे की 23-25 के आसपास रही होगी। दोनों लगभग एक जैसी हाइट के लग रहे थे। दोनों की हाइट करीब 5.8 फीट रही होगी।

मेरा ध्यान उसकी देह की ओर गया तो मैं उसे देखता ही रह गया। दोनों कितने कमाल के लग रहे थे। उन्हें देखकर कोई भी उन्हें अपना दिल दे देता था।

मुझे देखकर उसने पूछा- तुम कौन हो और यहाँ क्या कर रहे हो?
मैंने बताया- मेरा नाम प्रकाश है और मैं बारिश के कारण यहां रुक गया था। मैं पास की एक क्रिसमस पार्टी से आ रहा था जब बीच रास्ते में बारिश होने लगी। इसलिए यहां रुक गए।

उसने कहा- हम भी वहीं से आ रहे हैं। हमें रास्ते में कोई बस भी नहीं मिली, इसलिए यहां रोशनी देखकर हम इस बिल्डिंग में शरण लेने आए। क्या हम दोनों यहाँ भी रह सकते हैं?

मैंने हंसते हुए कहा- मैंने इस जगह रजिस्ट्री नहीं कराई है, जैसे आप लोग यहां शरण के लिए आए हैं, वैसे ही मैं भी यहां आया था।
मेरी बात पर दोनों भी मुस्करा दिए।

ध्यान से देखने पर पता चला कि उनके शरीर भी बारिश में पूरी तरह भीग चुके थे। हम आपस में बातें करने लगे।
उनमें से एक ने अपना नाम साहिल और दूसरे ने अजय बताया

साहिल ने कहा- तुमने यह आग कैसे लगाई?
मैंने कहा- कुर्सी का झाग निकालकर लाइटर से जलाया।
यह सुनकर वह पीछे की ओर गया और एक कुर्सी से झाग निकाल कर ले आया। उसने झाग लाकर धधकती आग पर रख दिया। इससे आग विकराल रूप लेने लगी।

तभी अजय थोड़ा साइड हो गया। उसने पैंट की जिप खोली और एक तरफ पेशाब करने लगा। अँधेरे में उसका लंड साफ दिखाई नहीं दे रहा था. मैंने बहुत कोशिश की लेकिन लंड का साइज नहीं देख पाया. लेकिन जहां वह पेशाब कर रहा था, वहां काफी झाग बन गया था। मैं थोड़ा उत्तेजित हो गया।

पेशाब करके वह पास की कुर्सी पर आकर बैठ गया। फिर अचानक उसने अपनी कमीज के बटन खोलने शुरू कर दिए और देखते ही देखते उसे उतार दिया। उसने कमीज को पूरी तरह से उतार दिया और उसे आग के पास सुखाने लगा। उसकी बॉडी देखकर मेरे मुंह में पानी आने लगा।

अजय का बदन बिल्कुल हट्टा-कट्टा लग रहा था। उसके निप्पल बिल्कुल गुलाबी थे। छाती पर काले बाल थे। उन्होंने अपने बगल के बाल कटवा लिए थे। उसे देखकर मेरा मन उसके अंडरआर्म्स को चाटने लगा।

इतने में साहिल ने भी अपनी कमीज उतार कर अजय की ओर बढ़ा दी और कहा- लो यार, मेरी कमीज भी सुखा लो, नहीं तो मैं बीमार हो जाऊंगा। जब मैंने साहिल की बॉडी देखी तो उसकी बॉडी भी काफी सॉलिड थी लेकिन उसकी छाती पर बाल नहीं थे. उनके बाइसेप्स काफी मजबूत नजर आ रहे थे.

साहिल के अंडरआर्म्स काले बालों से भरे हुए थे। मुझे वे दोनों पसंद आए। मैं उन दोनों को अपना पति बनाने के लिए पूरी तरह तैयार थी।

बारिश भी हो रही थी, माहौल भी गर्म हो गया था। इस बीच अजय ने अपनी पैंट भी उतार दी। उसने कहा कि उसे ठंड लग रही है। बारिश में उसकी पैंट भी भीग गई। वह भी आग के सामने अपनी पैंट सुखाने लगा।

नीचे से अजय ने केवल कच्छा पहना हुआ था। इसी बीच साहिल ने अजय की तरफ इशारा किया।
उसने कहा- यार, तुम कितनी बेशर्मी कर रहे हो। वह किसी के सामने पूरे कपड़े उतार कर बैठा है। जाने क्या सोच रहा होगा ये बेचारा हमारे बारे में।

साहिल की बातों का अजय ने कोई जवाब नहीं दिया।
इसी बीच मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं भी लड़का हूं। इसमें सोचने की क्या बात है। वैसे भी कपड़े गीले रहेंगे तो बीमार होने का डर ज्यादा रहेगा। अगर आपकी पैंट भी गीली है तो उसे भी सुखा लें नहीं तो आपको सर्दी लग जाएगी। मुझे तुम दोनों से कोई दिक्कत नहीं है।

यह सुनकर साहिल ने भी अपनी पैंट उतार दी। अब दोनों मेरे सामने अंडरवियर में खड़े होकर पैंट सुखा रहे थे। उसके गीले अंडरवियर में उसका आधा खड़ा लिंग भी अलग से चमक रहा था। उनके साइज का भी अंदाजा लगाया जा रहा था कि दोनों का लंड एक ही साइज का होगा. लेकिन साहिल का लंड कुछ ज्यादा ही मोटा लग रहा था.

साहिल ने कहा- अरे प्रकाश, तुम भी अपनी शर्ट और पैंट सुखा लो। हमने आपके बारे में सोचा ही नहीं।
मैंने नीचे से अंडरवियर नहीं पहना हुआ था। इसलिए मैंने बात टालने की कोशिश की और मना कर दिया और कहा कि मैं ऐसे ही ठीक हूं।
लेकिन साहिल ने कहा-अरे यार ठंड तो लगेगी. इसे सुखाओ।

मैंने कहा- यार मैंने नीचे से कुछ नहीं पहना है।
साहिल बोला- तो क्या हुआ, हम भी तो लड़के हैं। हमारे पास भी वही है जो आपके पास है। इसमें शर्माने की क्या बात है?
साहिल के जिद करने पर मैंने अपनी शर्ट और पैंट उतार कर सूखने के लिए दे दी।

अब मैं उन दोनों के सामने बिल्कुल नंगी थी। वे दोनों मेरे कोमल शरीर को देख रहे थे। मेरे गुलाबी निप्पल और गोल गांड को देखकर दोनों का लंड फड़कने लगा.

तभी तेज बिजली चमकी और मैं डर के मारे नीचे गिरने लगा। लेकिन अजय नीचे बैठा हुआ था। मैं उसकी गोद में गिर गया और उसने मुझे जमीन पर गिरने से बचा लिया। इसी बीच तेज हवा चलने लगी, जो भीतर तूफान की तरह चलने लगी। उसने अंदर जल रही आग को बुझा दिया और हॉल के अंदर पूरी तरह से अंधेरा हो गया।

मुझे ठंड लग रही थी। मैं अजय की गोद में बैठा था।
उसने कहा- तुम मेरी गोद में बैठे रहो। कहीं अँधेरे में गिर पड़ोगे और चोटिल हो जाओगे। वैसे भी साथ रहेंगे तो सर्दी कम पड़ेगी। ( Pune Escorts )
मैं भी यही चाहता था।

मैं अजय की गोद में बैठा उसकी गोद में था। मैं नीचे से अजय के लंड को अपनी गांड पर भी महसूस कर सकता था. उनका लंड आधा खड़ा था. धीरे धीरे उसका लंड पूरा बदन का हो गया. यह मेरे शरीर से चिपके रहने जैसा था।

उसके हाथ अब मेरे बालों को सहला रहे थे। कभी वह मेरे बालों को सहला रहा था तो कभी मेरी गर्दन पर। मुझे भी मज़ा आ रहा था। मैंने अपना सिर उसके कंधे पर रख दिया। उसने मेरे सिर को अपने हाथ से पकड़ कर अपने सामने ला दिया और मेरे होठों को चूमने लगा।

मैं भी उसके होठों को चूमने लगा। हमें बहुत मज़ा आ रहा था, उसने अपने हाथ मेरी गर्दन से हटा दिए और मेरी नर्म गोल गांड को दबाने लगा. उसने अपनी चड्डी उतार दी और मेरा हाथ अपने लंड पर रख दिया.

एक युवक का मर्दाना लंड मेरे हाथ में था. ऊपर से हम स्मूच कर रहे थे। वह मेरी गांड रगड़ रहा था। मैं उनके लंड को आगे-पीछे कर रहा था. कहीं से हल्की सी रोशनी आई तो साहिल ने हमें यह सब करते देख लिया।

साहिल ने उठकर अपने अंतर्वस्त्र उतारे। पीछे से आकर वो भी मुझे किस करने लगा। मुझे किस करते हुए वो अपना लंड हिला रहे थे.

हमने अपनी पोज़ीशन बदली और मैं अजय के लंड को डॉगी स्टाइल में चूसने लगा. साहिल पीछे से मेरी गांड से खेल रहा था. वह मेरी गांड को अपने दांतों से काटता और कभी मेरी गांड के छेद को अपनी जीभ से चाटता जिससे मैं आह भर देता…।

मैं पूरे मन से अजय के लंड को ऐसे चूस रहा था जैसे मैंने कभी किसी जवान लड़के का लंड देखा ही नहीं. हम तीनों के मुंह से आह.. आह.. की आवाजें आ रही थीं। अब मेरी गांड को चोदने की बारी आने वाली थी।

उनसे रहा नहीं गया तो दोनों उठ खड़े हुए। उन दोनों ने पास में एक अच्छी सी कुर्सी देखी, एक अच्छी सी कुर्सी देखकर मुझे डॉगी स्टाइल में बैठा दिया। अजय, जिसका लंड बहुत बड़ा था, मेरे पीछे आ गया.

साहिल ने रॉड जैसे लंड से, जिसका लंड भी बहुत लम्बा था, कुर्सी के ऊपर से मेरा मुँह बनाया और वेश्या की चूत समझ कर मेरे मुँह को रगड़ने लगा.

इतने में उस कमीने अजय ने पीछे से खूब थूका और थूक के अंदर उंगली डालकर मेरी गांड में अपनी उंगली आगे-पीछे घुमाई.

पहले एक ऊँगली, फिर दो और फिर तीन उँगलियाँ मेरी गांड में घुसा कर उसने मेरी नर्म गांड बना दी। तीन अंगुलियों में से गुजरते हुए थोड़ा दर्द हो रहा था और साहिल मुंह में लंड ठूंस रहा था. कुतिया का बेटा साहिल भी रुकने का नाम नहीं ले रहा था।

उसके घूंसे मेरे मुंह पर इतनी तेजी से लग रहे थे कि ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने बिजली से चलाया हो। इतनी तेजी से उसने मेरे मुंह को कुतिया की चूत बना दिया था। उसके लंड को चूसते-चूसते मेरे होंठ लाल हो गए थे.

अब साहिल कुछ देर रुका और अजय की तरफ़ गया और जाकर उनके लंड को चूसने लगा. अभी अजय मेरी गांड पर उंगली कर रहा था। वह मेरी गांड के छेद को थोड़ा और खोलने की कोशिश कर रहा था ताकि जब मेरी गांड चुदाई हो तो मुझे कोई परेशानी न हो।

साहिल ने अजय के लंड को चूस कर लार से भर लिया था. उसने साहिल के मुँह से अपना लंड निकाल लिया. जब अजय ने साहिल का थूक से सना हुआ लंड मेरी गांड में डाला तो मैं पूरी तरह से संतुष्ट हो गया.

इसके बाद साहिल फिर सामने आया और मेरे मुंह को चोदने लगा. उसका लंड इतना बड़ा था कि अगर वो मेरे गले में जाकर अंदर धकेल देता तो मैं मर जाती. कुछ समय तक ऐसा ही चलता रहा।

तभी अचानक मेरी आँखों के सामने अंधेरा छा गया और मेरी गांड में अजीब सी जलन होने लगी और मैं कुतिया की तरह तड़प रही थी। अजय ने अपना पूरा हाथ मेरी गांड में डाल दिया था. जिससे गांड से खून बहने लगा।

वह अब मेरी गांड को अपनी मजबूत कलाइयों और हाथों से चोद रहा था। मैं मरने वाला था। जब वह अपना हाथ मेरी गांड के अंदर घुमाता और मेरी गांड के अंदर की चमड़ी को गूंथता, तो ऐसा लगता था कि गांड के टुकड़े-टुकड़े हो जाएंगे।

सहना मुश्किल हो रहा था लेकिन मजा भी आ रहा था। हम नशे में हो रहे थे। जब अजय ने अपना हाथ निकाल कर अपना लंड डाला तो उसे कुछ आराम मिला. तब दोनों बहुत उत्साहित हो गए। अजय मेरी लहूलुहान गांड चाट रहा था और साहिल मेरा मुँह चाट रहा था।

अजय की साँसें तेज़ हो गईं और वह हाँफते हुए बोला- मेरा रस निकलने वाला है। ( Pune Escort )
मैंने कहा- आह…गंदगी में ही निकाल दो।

कुछ पलों के बाद मेरी गांड गर्म लावा के जेट की तरह महसूस होने लगी, जो मुझे बहुत राहत दे रही थी। अजय मेरी कमर के बल लेट कर मुझे कुत्ते की तरह काटने लगा और अपना लंड पूरा अंदर घुसाते हुए वीर्य निकालता रहा.

यहां तक कि जब उनका वीर्य पूरी तरह से निकल चुका था, तब भी वह अपना लंड मेरी वीर्य से भरी गांड में आगे-पीछे घुमाते रहे. पर अभी साहिल के लंड से पानी नहीं निकला था. अब साहिल मेरे पीछे आ गया और अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया और अज़ेम के वीर्य से भिगोया और मेरी गांड चाटने लगा।

इतने में अजय मेरे सामने आ गया। मैंने उसका बचा हुआ वीर्य साफ किया और साहिल प्यासे कुत्ते की तरह मेरी गांड चाटने लगा. अजय ने मेरा लंड चूसना शुरू किया तो मेरे होश उड़ गए, अब मैं सातवें आसमान पर उड़ रहा था.

पीछे गांड चुदाई हो रही थी और इसी के साथ साहिल के लंड की मलाई निकल आई. मेरी गांड दो युवकों के वीर्य से पूरी तरह संतुष्ट थी। अजय मेरे लंड को चूस रहा था और मेरे मुँह से आह… आह… की आवाज़ें निकल रही थीं जो थिएटर की दीवारों से टकरा रही थीं.

अब उन दोनों ने मुझे उठाया और स्टूल की तरह जमीन पर बिठा दिया। मैंने साहिल के लंड को चूस-चूस कर साफ किया और उसके वीर्य को अमृत समझकर चाट लिया. अब अजय ज़मीन पर लेट गया और साहिल मेरा लंड चूसने लगा.

अजय ने कहा- अपनी गांड मेरे मुंह पर लगा दो।
मैंने भी यही किया। वीर्य की जो बूंदे मेरी गांड में थी वो अजय के चेहरे पर गिरने लगी और वो उसे चाटने लगा. इधर मेरे प्यारे नुन्नू ने भी अपना माल साहिल के मुँह में छोड़ दिया और अजय ने मेरी गांड का सारा वीर्य चाट कर साफ कर दिया.

कुछ देर हम ऐसे ही पड़े रहे और फिर सबने अपने-अपने कपड़े पहन लिए। समय देखा तो सुबह के करीब 4 बज रहे थे। बारिश भी अब कम हो गई थी। शायद ये सब होनी को भी मंजूर था.

हमने मोबाइल नंबरों का आदान-प्रदान किया और अजय ने प्यारी सी मुस्कान के साथ कहा- कभी ग्रुप सेक्स करने का मन होतो याद रखना हमें। मैंने खुशी से कहा- हां बिल्कुल।

मैंने साहिल और अजय दोनों को लिप किस किया और एक दूसरे को गले लगाया और घर के लिए निकल गया।
तो दोस्तों ये थी मेरी गांड चुदाई की प्यारी कहानी। मुझे बताएं कि आपको भरी ठण्ड में मेरी गांड चुदाई करने की यह घटना कैसी लगी।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga