कमसिन जवान चाची को पटाकर चूत चुदाई का मजा लिया

कमसिन जवान चाची को पटाकर चूत चुदाई का मजा लिया

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कमसिन जवान चाची को पटाकर घर पर ही चूत चुदाई का मजा लिया Aunty Sex Story”। यह कहानी रमन की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

जब मैं चाची के घर गया तो देसी चाची का नंगा बदन देखा तो चाची आँगन में बैठ कर नहा रही थी। चाची का नंगा बदन गीला था. जिसे देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया.

मैं रमन Delhi से … चूत और लंड के सभी प्लेयर को मेरा नमस्कार.

मैं 21 साल का जवान लड़का हूँ. मेरा हथियार 7 इंच लम्बा है जो किसी भी चूत की गहराई तक जाकर उसका पानी निकाल सकता है.

अब मैं कॉलेज में हूं और कॉलेज में मैंने लंड की प्यास बुझाने की कोशिश की लेकिन मेरे लंड को चूत नहीं मिल पाई.
मेरा लंड चूत में घुसने के लिए बुरी तरह से तड़प रहा था.

मैं लंड का पानी निकाल कर काम चला रहा था.

इसलिए मैं दिवाली से पहले अपने गांव आ गया. (चूत चुदाई का मजा)

गांव में दिवाली की तैयारियां चल रही थीं, सभी घरों में साफ-सफाई का काम चल रहा था.

मेरी सबसे छोटी चाची हमारे घर के पास ही रहती हैं।
मेरी छोटी चाची गोरी चिकनी बिंदास माल लेकिन मैंने चाची को चोदने के बारे में कभी नहीं सोचा था।

मेरा उसके घर ऐसे ही आना-जाना था.
चाची अपने काम में व्यस्त थी.
कभी कभी मुझे स्तनों का नजारा देखने को मिलता था लेकिन मैं सिर्फ नजारा देखता ही रह जाता था, आगे कुछ करने की मेरी हिम्मत ही नहीं होती थी।

एक दिन दोपहर को मैं ऐसे ही चाची के घर गया.
जैसे ही मैंने गेट खोला तो चाची का नज़ारा देख कर मैं एकदम से रुक गया और मेरा लंड बुरी तरह तन गया.

उस समय देसी चाची अपना ब्लाउज उतार कर नहा रही थी. चाची ऊपर से पूरी नंगी थीं, उनके Big Boobs लटक रहे थे। चाची का पूरा बदन गीला था.

चाची के नंगे बदन के इस नजारे ने मेरे लंड में आग लगा दी.

तभी चाची की नज़र मुझ पर पड़ी और वो मुझे अपने पास देख कर चौंक गईं.
मुझे देख कर चाची के चेहरे का रंग उड़ गया, उन्होंने अपने मम्मे ढक लिये।
फिर चाची ने बड़ी मुश्किल से खुद को संभाला.

चाची : तुम कब आये?
मैं- अभी आया. गेट खुला था तो मैं सीधा अन्दर आ गया.
चाची : हाँ में गेट अंदर से बंद करना भूल गयी थी. (चूत चुदाई का मजा)

तभी मेरे दिमाग में हलचल मच गई और मैंने सोचा कि अगर देसी चाची के और भी नज़ारे देखने हैं तो बेशर्मी से यहीं बैठ जाओ! कम से कम देखने को मिलेगा.

तभी मैंने चाची से कहा- चाची, आप नहा लो, मैं यहीं बैठता हूँ. मैं घर पर भी बोर हो रहा हूं.

मैं बेशर्मी से बरामदे में बैठ गया और चाची कुछ नहीं बोल सकीं.

अब चाची को मजबूर होकर अपना मुँह गेट की तरफ करना पड़ा और अपनी पीठ मेरी तरफ कर ली.
चाची नहाने लगीं.

मैं चाची की नंगी पीठ को देख कर अपने लंड की मालिश करने लगा.
मुझे चाची को नहाते हुए देखने में बहुत मजा आ रहा था. चाची के बदन पर पानी की बूंदें टपक रही थीं.

कुछ देर बाद चाची नहा चुकी थीं.

देसी चाची का नंगा बदन देख कर मेरे लंड की हालत ख़राब हो रही थी.

अब चाची को अपने कपड़े बदलने थे.
चाची ने ऊपर पेटीकोट पहना और गीला पेटीकोट खोल दिया।

अब चाची ने ब्रा पहनने के बाद ब्लाउज पहना, फिर चाची ने साड़ी पहनी।

चाची ने कपड़े धोये और अपनी पैंटी और ब्रा मेरे सामने ही तार पर सुखा दीं.
मेरा मन तो कर रहा था कि ये ब्रा और पैंटी मैं खुद ही ले लूं, लेकिन फिलहाल हिम्मत नहीं थी.

फिर चाची अंदर गईं और पैंटी पहनकर बाहर आईं. (चूत चुदाई का मजा)
चाची मुझसे नजरें नहीं मिला रही थीं.

वो इधर उधर काम करने लगी लेकिन मेरी नज़र अब चाची पर ही टिकी थी.
मेरा लंड बुरी तरह खड़ा हो गया था.

चाची और मैं दोनों चुप थे.

अब मेरे लिए अपने लंड पर काबू पाना मुश्किल हो रहा था.
तभी मेरे लंड से वीर्य निकल गया और मैं ढीला पड़ गया.

चाची एकदम चुप थीं.

फिर मैंने बात संभाली और चाची से बात करने लगा- चाची, अगर आपको बुरा लगा हो तो माफ़ करना!
चाची- अरे ऐसा नहीं है रमन! तुम एक अच्छे लड़के हो, मैं अच्छी तरह जानती हूं।

मैं- लेकिन फिर भी चाची… (चूत चुदाई का मजा)
चाची- अरे यार कुछ नहीं, बस आगे से गेट खटखटा कर आना.
मैं- ठीक है चाची.

फिर चाची ने हमारे लिए चाय बनाई और मैं चाय पीकर घर आ गया.

घर आने के बाद रात को चाची के नंगे बदन का नजारा मेरे सामने आने लगा.
मैं बार-बार चाची की Chut Chudai के बारे में सोच रहा था लेकिन मेरा दिल नहीं मान रहा था।

चाची के बदन का नजारा मेरे लंड को चैन नहीं लेने दे रहा था.

तभी मैंने मन बना लिया कि अब चाची को चोदना ही है.

मेरी Shehnaaz चाची करीब 32 साल की हैं. चाची का सेक्सी बदन बहुत ही कातिलाना, मजेदार है.
चाची बहुत गोरी और चिकनी हैं, उनका बदन जवानी से भरा हुआ है। उसके शरीर की हर बूंद में रस भरा हुआ है.

वो ऊपर से नीचे तक फूल की तरह भरी हुई है. चाची के बड़े बड़े मम्मे करीब 34″ के हैं. उनके मम्मे बहुत चिकने हैं. चाची के मम्मे देख कर मैं चाची पर मर रहा था. अगर किसी ने चाची के मम्मों का नजारा देख लिया होता तो वहीं उन्हें चोद देता.

चाची की कमर लगभग 30″ से कम नहीं है.
उनकी कमर पर काफी चर्बी है.

चाची की सेक्सी गांड करीब 36″ की है उनकी Moti Gand कई बार मेरे लंड में आग लगा चुकी है.
चाची के मस्त चूतड़ बहुत ज्यादा मज़ेदार हैं।

रात भर चाची के सेक्सी बदन को देख कर मेरी हालत खराब होती रही.

मैं अगले दिन फिर चाची के पास गया.
चाची अभी भी घर में अकेली थीं. बच्चे स्कूल गये थे.

अब मुझे किसी भी तरह से चाची को पटाना था.

चाची काम कर रही थी. मैं चाची के सेक्सी बदन को सहला रहा था. चाची को देख कर मेरा लंड पजामे में तूफ़ान मचा रहा था.

फिर मैंने सोचा कि ऐसे बैठे रहने से काम नहीं चलेगा … अगर चाची की Tight Chut लेनी है तो चाची को पटाना ही पड़ेगा.
अब मैं किसी न किसी बहाने से चाची के सेक्सी बदन को छूने लगा.

धीरे-धीरे चाची को मेरे इरादे भाँपने लगे।
चाची को छूने से मेरी हिम्मत बढ़ती जा रही थी. (चूत चुदाई का मजा)

दो-तीन दिन ऐसे ही बीत गये.

एक दिन मैं चाची के घर पर था. चाची सफ़ाई कर रही थी.

फिर चाची ने मुझे मदद के लिए अन्दर बुलाया.
चाची को पलंग उठाना पड़ा.

मैं पलंग उठाकर चाची की मदद करने लगा.

तभी चाची की साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया और मुझे चाची के चूचे दिखाई देने लगे.
अब मेरा लंड और भी खड़ा हो गया.

तभी चाची की नज़र मेरे खड़े लंड पर पड़ी लेकिन चाची कुछ नहीं कर पाईं.
चाची पलंग को पकड़ कर बाहर निकाल रही थी. (चूत चुदाई का मजा)

कुछ देर बाद चाची ने पल्लू ठीक किया.

चाची ने मेरा खड़ा लंड देख लिया था. अब चाची की आंखें थोड़ी गुस्से वाली लग रही थीं.

मैं बाहर बैठ गया और चाची कमरे में झाड़ू लगाने लगीं.
मेरा लंड बहुत गरम हो रहा था. अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था.

उधर चाची भी मेरे लंड को देख कर असमंजस में दिख रही थीं लेकिन कुछ बोल नहीं रही थीं.

अब मैं कमरे में गया और चाची के पीछे खड़ा हो गया, तभी चाची झाड़ू लगाते समय पीछे हो गईं और चाची की गांड मेरे लंड से टकरा गई. मेरे लंड के प्रहार से चाची चौंक गईं.

इधर चाची की गांड के करंट से मेरा लंड और भी खतरनाक हो गया.
चाची : रमन तुम बाहर बैठो यार,
मैं- ठीक है चाची. (चूत चुदाई का मजा)

मैं दूसरे कमरे में चला गया और वहां अपना लंड हिलाने लगा.

तभी मेरी नजर चाची की पैंटी पर पड़ी और मैं अपने लंड को हिलाते हुए चाची की पैंटी को सूंघने लगा.
आह! क्या अद्भुत गंध है!

मैं चाची की पैंटी की खुशबू से पागल होने लगा, सोचने लगा कि जब चाची की पैंटी की खुशबू इतनी अच्छी है तो चाची की चूत की खुशबू कितनी लाजवाब होगी!

तभी मैंने चाची की पैंटी को अपने लंड पर रगड़ा और लंड का माल चाची की पैंटी में भर दिया.
बड़ी मुश्किल से मेरा लंड शांत हुआ.

जैसे ही मैं पीछे मुड़ा तो गेट पर चाची हाथ में झाड़ू लेकर खड़ी थीं. (चूत चुदाई का मजा)
चाची को देख कर मैं घबरा गया और मैंने तुरंत लंड को पजामे के अन्दर डाल लिया.

मैं- चाची, सॉरी यार.. मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाया।
चाची : रमन, देखो मैं तुम्हारी हालत समझती हूँ। इस उम्र में ऐसा होता है. लेकिन अच्छा होगा अगर आप कहीं बाहर आपका जुगाड़ कर सके.

मैं: चाची, मैं ये नहीं कर सकता.
चाची- जितनी हिम्मत तुम यहां दिखा रहे हो उतनी हिम्मत कहीं और दिखाओ, सब हो जाएगा.

मैं: चाची, मुझमें बाहर जाने की हिम्मत नहीं है. बदनामी का डर है. मैं इतना बड़ा हो गया हूं फिर भी मैंने आज तक कुछ नहीं किया.
चाची- तो यार, कुछ पाने के लिए हिम्मत तो रखनी ही पड़ती है ना?

मैं: चाची, मैं नहीं हिम्मत जुटा पा रहा हूँ!
चाची- क्या? (चूत चुदाई का मजा)

मैं बहुत डर गया था; मेरी तो डर से गांड फट रही थी लेकिन अब मुझे हिम्मत दिखाने का मौका मिल गया था- चाची, बुरा मत मानना. मुझे आपकी चीज़ चाहिए.
मेरी बात सुनते ही चाची शर्मिंदा हो गईं.

वो थोड़ी देर रुकी और फिर बोली- आप जो कह रहे हैं, ऐसा नहीं हो सकता. बेहतर होगा कि तुम वही करो जो मैंने तुमसे कहा था!
मैं- चाची मैं नहीं कर पाऊंगा. बस मुझे एक मौका दीजिए.

चाची- पागल हो गया है क्या? मैं तुम्हारी चाची हूं तुम्हें सही सलाह दे रही हूं, तुम मान ही नहीं रहे हो और मुझ पर डोरे डाल रहे हो।

मैं- तो क्या हुआ चाची? तुम खूबसूरत, जवान और बहुत सेक्सी हो. और जहाँ तक रिश्ते की बात है तो तुम मेरी चाची लगती हो और मैं तुम्हारी चूत ले सकता हूँ।
चाची- थोड़ा कम बोलो!

मैं- इसमें कम बोलने वाली क्या बात है? तुम सेक्सी, जवान, शानदार माल हो. अब विश्वास नहीं तो मत मानो.

मेरी बात सुनकर चाची चुप हो गईं, उन्होंने मेरी बात का कोई जवाब नहीं दिया.

मैं- बताओ चाची? क्या तुम नहीं हो?

चाची- चुप रह यार, मैं तो तुझे सही सलाह दे रही थी और तू पता नहीं क्या…

इतना कह कर चाची काम करने लगीं.

अब मैं चाची के पीछे पीछे टच करने लगा.
फिर थोड़ी देर के बाद मैं घर आ गया.

रात को मुझे चाची को चोदने के सपने आने लगे.
मैं चाची को चोदने की चाहत में पूरी रात अपना लंड पकड़े रहा.

किसी तरह सुबह हुई और बच्चों के स्कूल चले जाने के बाद मैं चाची के पास पहुँच गया।

चाची वही सफ़ाई का काम कर रही थी.
मैं: चाची यार, मुझ पर एक रहम करो!
चाची- नहीं, मैं कोई एहसान नहीं करूंगी. और यार हमारे रिश्ते के बारे में भी थोड़ा सोचो? (चूत चुदाई का मजा)

मैं: चाची, मैंने सब सोच लिया है. यदि आप तैयार हैं, तो सब कुछ संभव है।
चाची- मैं कभी तैयार नहीं होऊंगी. अब तुम चुपचाप बैठो, मुझे नहाना है.

मैंने सोचा कि अच्छा है, आज फिर चाची का खूबसूरत नजारा देखने को मिलेगा.

चाची कमरे से कपड़े निकाल लाई और चाची ने साड़ी खोल दी।
अब चाची अपने शरीर को मसलने लगी और फिर चाची ने अपना चेहरा आगे करके अपना ब्लाउज और ब्रा खोल दी.

जब चाची नहाने लगीं तो मैंने चालाकी से चाची का ब्लाउज, पैंटी और पेटीकोट उठा लिया.

जैसे ही चाची ने स्नान किया तो उनके कपड़े गायब थे।
चाची तुरंत समझ गईं- रमन, मुझे मेरे कपड़े दे दो।

मैं: मेरे पास आपके कपड़े ही नहीं हैं.
चाची: मुझे पता है तुम्हारे पास सब कुछ है, प्लीज मुझे कपड़े दे दो।

फिर मैंने चाची को अपने जाल में फंसाने की सोची- चाची, मैं आपको कपड़े तो दे दूंगा लेकिन मेरी एक शर्त है.
चाची : कैसी शर्त?
मैं: मैं तुम्हें कपड़े पहनाऊंगा.
चाची- नहीं, मुझे शर्त मंजूर नहीं है, तुम मेरे कपड़े दे दो।

मैं: मैं ऐसे कपड़े नहीं दूँगा.
चाची- अरे यार प्लीज़… देर क्यों कर रहे हो, मुझे और भी काम है।
में : दे तो रहा हूँ, लेकिन आप मान ही नहीं रही हो चाची.
चाची- अरे यार…

गीले कपड़े पहने चाची ऐसे ही बैठी रहीं. वो मुझसे बार-बार कपड़े मांग रही थी लेकिन मैं चाची को कपड़े देने के मूड में नहीं था। आज मुझे किसी भी तरह से चाची को नंगी करना ही था.

फिर बड़ी मुश्किल से चाची मानीं- अच्छा, ठीक है. लेकिन तुम मुझे बिल्कुल भी नहीं छुओगे.
मैं: हां, मैं आपसे सहमत हूं.
चाची : अंदर आओ.

अब चाची गीले पेटीकोट में अपने स्तन ढकते हुए कमरे में आईं।

चाची चुपचाप खड़ी रही फिर मैंने चाची के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और चाची का गीला पेटीकोट नीचे गिर गया।
जैसे ही मैंने चाची की पैंटी देखी, मेरे मुँह में पानी आ गया और मेरा लंड बुरी तरह खड़ा हो गया।

अब मैं चाची की पैंटी खोलने लगा तो चाची ने मेरा हाथ पकड़ लिया.
चाची: ज्यादा स्मार्ट नहीं, पहले पेटीकोट पहना.
मैं: अरे चाची, मुझे काम करने दो!
चाची- नहीं, जैसा मैंने कहा था वैसा करो! (चूत चुदाई का मजा)

अब मैं ज्यादा जिद नहीं कर सकता था.
चाची जो भी दिखा रही थी वो बहुत अच्छा था.

मैंने चाची को दूसरा पेटीकोट पहनाया और पेटीकोट का नाड़ा बाँध दिया।
अब मैं चाची की पैंटी खोलना चाहता था लेकिन चाची ने साफ मना कर दिया.
चाची ने अपनी गांड मेरी तरफ कर दी और मुझे पीछे से ब्रा पहनने को कहा.

अब मैंने ब्रा को चाची के बड़े बड़े मम्मों पर रख दिया और ब्रा को सेट करते हुए चाची के मम्मों को दबा दिया.
चाची फिर से नखरे दिखाने लगीं.

फिर मैं चाची को ब्लाउज पहनाने लगा.

इधर मेरे लंड की हालत ख़राब हो रही थी. मेरा लंड बार-बार चाची की गांड में घुसने की कोशिश कर रहा था.
चाची को मेरा लंड चुभ रहा था लेकिन चाची सब कुछ जानते हुए भी अनजान बनने का नाटक कर रही थीं।

मैं धीरे धीरे चाची को ब्लाउज पहना रहा था.
फिर मेरा दिमाग दौड़ने लगा, ‘रमन, चाची को चोदने का यही सही मौका है,’

फिर क्या…मौका मेरे पास आ गया था।
अब तो बस हिम्मत दिखानी थी.

फिर मैं चाची के बड़े बड़े मम्मों को मसलने लगा.
आह! क्या कमाल के स्तन थे चाची के… मजा आ गया दोस्तो!

चाची : रमन, तुम क्या कर रहे हो?
मैं: सोरी चाची, अब मुझसे रुका नहीं जाता.
चाची- मैंने तुम्हें पहले ही बताया था.

मैंने चाची की बात का कोई जवाब नहीं दिया और अब मैं चाची के मम्मों को जोर-जोर से दबाने लगा।
चाची बार-बार मुझे दूर करने की कोशिश करने लगीं.

लेकिन अब माहौल गरम हो गया था.
मुझे चाची के मम्मे मसलने में बहुत मजा आ रहा था.
जिन्दगी में पहली बार मैं स्तन दबा रहा था।

चाची: रमन यार, प्लीज़ ऐसा मत करो! (चूत चुदाई का मजा)
मैं: चाची बस एक बार करने दो, आपको कोई नुकसान नहीं होगा.

फिर मैंने चाची का एक हाथ पीछे खींचा और अपना गरम लंड उनके हाथ में दे दिया.
चाची ने फिर से अपना हाथ हटाने की कोशिश की लेकिन मैंने फिर से अपना लंड चाची के हाथ में दे दिया.
इधर मैं चाची के चूचों को जोर-जोर से दबा रहा था.

धीरे धीरे चाची गर्म हो रही थी.
चाची- ऊह आह…ओह ओह आह आह!

मैं चाची के चूचों को कस कर दबाने लगा.
चाची- ओह आईईईई ओह रमन दबाओ मत.

मैं- ओह चाची… आपके स्तन बहुत अच्छे हैं, आज मुझे मत रोको।
मुझे चाची के मम्मे दबाने में बहुत मजा आ रहा था.

इधर मेरा लंड चाची की गांड को फाड़ने की कोशिश कर रहा था.

तभी मैंने चाची के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया.
चाची का पेटीकोट खुलने ही वाला था कि चाची ने पेटीकोट पकड़ लिया।

मैंने चाची के हाथ से पेटीकोट छुड़ाने की कोशिश की लेकिन चाची ने पेटीकोट पकड़ लिया।

तभी मैंने चाची को उठाया और बिस्तर पर पटक दिया.

आपको मेरी चूत चुदाई का मजा कहानी कैसी लगी? मुझे ईमेल करके जरूर बताएं.

कहानी का अगला भाग: चाची की चूत चुदाई भाग 2

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga