कॉलेज सेक्सी गर्ल कहानी – जाने कैसे मेरी गोरी चूत काले लंड के जाल में फंस गयी

कॉलेज सेक्सी गर्ल कहानी – जाने कैसे मेरी गोरी चूत काले लंड के जाल में फंस गयी

आज आप पढ़ेंगे कॉलेज सेक्सी गर्ल कहानी में  कि जब मैं जवान हुई तो मेरी हवस जाग उठी। मैंने बॉयफ्रेंड बनाया और उसे किस करने लगी। उसने मेरी सील कैसे तोड़ी?

दोस्तों, मेरा नाम आशिका है। मैं पुणे का रहने वाली हूँ। मेरी उम्र 19 साल है।

मेरे बूब्स का साइज 32 इंच है. कमर 28 और गांड 34 इंच की है।

अगर मैं लड़कों की भाषा में बोलूं तो मैं पूरी तरह से गड़बड़ हूं। 

कैसे हैं आप सब… मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मज़ा आ रहा होगा।

आज मैं आपको अपनी पहली चुदाई के बारे में बताने जा रही हूँ कि कैसे मेरे बॉयफ्रेंड ने मेरे सीलबंद छेद को फाड़ कर चूत में बदल दिया।

ये बात तब की है जब मैं 19 साल का था, 12वीं कक्षा में था और मेरी जवानी जोरों पर थी।

मैं शर्ट और स्कर्ट पहनकर स्कूल जाता था। दरअसल यह हमारी वर्दी थी। मैं टाइट शर्ट और घुटनों तक आने वाली स्कर्ट पहनती थी।

टाइट शर्ट से मेरे स्तनों की गोलाई साफ नजर आ रही थी, जिसे देखकर सभी लड़के पैंट में दबे हुए लंड को सहलाते थे.

उन सभी लड़कों में एक लड़का सुमित भी था जो मेरा बॉयफ्रेंड था।
वह दिखने में होशियार था, एक अमीर परिवार से ताल्लुक रखता था।

11वीं के पहले हफ्ते में ही मेरी उससे दोस्ती हो गई थी।
धीरे-धीरे हमारी दोस्ती प्यार में बदल गई।

अब जब भी मौका मिलता हम दोनों साथ में वक्त बिताते थे।
कभी-कभी हम दोनों एक दूसरे को लिप किस कर लेते थे। कभी कभी वो मेरे निप्पल भी दबाते थे और मैं उनके लंड को सहलाती थी.

बात इससे आगे कभी नहीं बढ़ी।
ऐसा नहीं था कि हम दोनों सेक्स नहीं करना चाहते थे।
एकमात्र समस्या जगह थी।

वह मुझसे कहते थे कि आशिका रानी को बस एक मौका मिलता है, मैं तुम्हारी चूत की चटनी बनाऊंगा।
मैं, कॉलेज की सेक्सी लड़की, भी उसके लंड को मसल कर कहती थी- हाँ, मुझे भी इस केले की चटनी खाने की बड़ी इच्छा है.

वो हमेशा मेरी चूत पर उंगली करने की कोशिश करता रहता था.

एक दिन उन्होंने मुझसे कहा- चलो फिल्म देखने चलते हैं।
मैंने कहा- वो कैसे?
उसने कहा- चलो स्कूल से बंक मार कर चलते हैं।

मैंने कहा- कहीं फंस गए तो?
उसने कहा- मत फंसो… कुछ ऐसा सोचो।
मैंने कहा- चलो सोचते हैं।

मैंने अपनी सहपाठी सुहु से बात की कि मुझे तुम्हारा हिजाब चाहिए।
वह समझ गई कि मुझे अपने प्रेमी के साथ कहीं बाहर जाना है।

वह हँसी और बोली-कल लाऊँगी।
मैंने कहा- ठीक है, तुम मुझे स्कूल के बाहर ही दे दो।

उससे बात करने के बाद मैंने सुमित को सारी बात बताई।
उसने यह भी मान लिया कि अगले दिन वह स्कूल से कुछ दूरी पर मेरा इंतजार करेगा।

अगले दिन मैंने रज़िया से उसका हिजाब लिया और उसे स्कूल की चारदीवारी के पास उगी कुछ घनी झाड़ियों में पहन लिया और अपना स्कूल बैग वहीं छिपा दिया।

फिर मैं उस जगह की ओर बढ़ा जहां मेरा प्रेमी मेरा इंतजार कर रही था।
कुछ दूर आगे वह अपनी बाइक मेरे करीब ले आया और उसने मुझसे कहा- आशिका…जल्दी बाइक पर बैठो।

मैं खुश हो गयी और उसके साथ बाइक पर सवार हो गयी।
अब हम दोनों एक फिल्म देखने गए जो मॉर्निंग शो में चलती थी और उस समय हॉल में बहुत कम लोग देखने आते थे।

मैंने अंदर जाकर देखा कि हॉल में कुछ ही जोड़े थे जो हम दोनों की तरह अपनी कंपनी का आनंद लेने आए थे।
हॉल में आकर मन में जो घबराहट थी वह समाप्त हो गई।

मैं सुमित के पास बैठ गयी।
मैंने सिनेमा हॉल में सुमित का लंड चूसा और उसने सामने वाली सीट पर बैठकर मेरी चूत को चाटा.

उस दिन के बाद से हम दोनों के बीच की तल्खी और भी बढ़ गई थी.
अब हम दोनों को बस एक मौका और एकांत जगह चाहिए थी।

कुछ महीनों के बाद उन्हें वह अवसर मिला।
उस वक्त मेरी करीबी दोस्त निधि की बहन की शादी होने वाली थी।

उस शादी में सभी सहपाठियों को आमंत्रित किया गयी था।
निधि ने मेरी मां को पहले ही मना लिया था कि मैं शादी से पहले उनके घर रहूं और शादी के बाद ही घर लौटूं।
उनकी बात सुनकर मेरे माता-पिता ने भी हां कर दी।

शादी वाले दिन सुमित सुबह 10 बजे निधि के घर आया था।
निधि ने उसे सबसे मिलवाया और आराम करने के लिए कमरे में जाने को कहा।

मैं सुमित को कमरे में ले गयी।
कमरे में घुसते ही सुमित ने मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया और मेरे होठों को चूसने लगा.

मैंने अपने बॉयफ्रेंड से सगाई भी कर ली है।
दो मिनट बाद उसने मुझे छोड़ दिया।

मैंने कहा- थोडा सब्र करो यार, कोई देख ले तो गजब हो जाए.
उसने मेरे एक निप्पल को पकड़ा और जोर से दबाया।

फिर मैं वहां से भाग निकला।

शाम को जब मैं तैयार हो रही थी तो सुमित कमरे में आया और दरवाजा बंद कर लिया।
वो मेरे पीछे आया और मेरी पीठ को सहलाने लगा और मेरी गर्दन को चूमने लगा.

मुझे बेहोशी आने लगी।
धीरे धीरे मेरे बदन को सहलाते हुए उसने अपने दोनों हाथ मेरे निप्पलों पर ला दिए और कपड़ों के ऊपर से जोर जोर से दबाने लगा.

अपने निप्पलों को इस तरह दबाने से मुझे भी गर्मी होने लगी और मैं उसकी तरफ मुड़ गयी.
मैं उसके होठों को चूसने लगा।
वो मेरे रसीले होठों को भी खाने लगा।

देखते ही देखते हमारी जुबानें आपस में उलझ गईं और हम दोनों नशे में धुत्त होने लगे।
मैं उस समय नशे में था।

वह कब मेरे शरीर को अपने हाथों से सहलाने लगा, पता ही नहीं चला।

धीरे-धीरे हम दोनों नंगे हो गए और सुमित मेरे नंगे बूब्स को रगड़-रगड़ कर पीने लगा.
मैं भी उनके लंड को सहला रही था.

फिर उसने मुझे बैठने के लिए कहा और मैंने किया।
उसने अपना काला लंड मेरे मुँह में दे दिया और चूसने को कहा.
मैं भी बिना कुछ कहे सुमित का लंड चूसने लगा.

5 मिनट तक अपना लंड चूसने के बाद उसने मुझे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया और मेरी गांड को पैर फैलाकर बिस्तर के नीचे बैठाकर चाटने लगा।
उसने अपनी उंगलियों से मेरे बोर को फैलाया और अपनी जीभ मेरे बोर में डाल दी और अपनी जीभ की नोक से चोदने लगा।

यह ऐसा था जैसे मैं स्वर्ग की यात्रा पर निकल पड़ा हूं।
मेरे छेद से रस बह रही था। जिसका मजा लेते हुए सुमित चाट रहे थे।
वह बार-बार मेरे बूर के दाने को अपने दोनों होठों से दबाकर खींच लेता और चूस-चूस कर छोड़ देता।

मुझे बहुत बेचैनी हो रही थी।
मुझे लग रही था कि अब वो जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में घुसा दे और मुझे चोद दे.

कुछ देर छेद को चाटने के बाद उसने टेबल पर पड़ी क्रीम उठाई और मेरे छेद पर लगाने लगा।
उसने अपने लंड पर कुछ क्रीम भी लगाई.

उसके बाद उसने मेरी दोनों टांगों को फैलाकर अपने कंधे पर रख लिया और अपने लंड को मेरे छेद में रगड़ने लगा.
मैं भी उसकी गांड को नीचे से उठाकर उसका लंड खाने की कोशिश करने लगा.

मेरी चिकनी चूत में चिकना लंड मुझे बहुत अच्छा एहसास दे रही था.
उसने मेरे होठों को अपने होठों से दबा लिया और चूसने लगा। मैं उसके चुम्बन में मग्न होने लगा।

अचानक उसने एक जोर का धक्का दिया और अपने लंड को मेरे छेद में धकेल दिया।

अभी उनके लंड का थोड़ा सा हिस्सा बिल के अंदर गयी ही था कि मुझे तेज दर्द होने लगा.
लेकिन मेरे मुंह से चीख नहीं निकल सकी क्योंकि सुमित ने मेरे होठों को अपने होठों से बंद कर रखा था.

कुछ देर तक वो मेरे निप्पलों को सहलाता रही और मेरे होठों को चूसता रही जिससे मुझे अच्छा लगने लगा।

अभी मैं थोड़ा निश्चिंत था कि सुमित ने एक और जोरदार धक्का दे दिया।

इस बार मुझे बहुत दर्द हुआ, लेकिन इस बार जब मैंने इसे रोका तो यह नहीं रुका।
इस दौरान उन्होंने एक और धक्का दिया।

इस धक्का से उसका पूरा लंड मेरे छेद में घुस गयी और मेरा छेद फट गयी.

छेद से काफी खून भी निकल रही था, लेकिन इसकी परवाह किए बिना वह मेरे निप्पलों को सहलाते हुए मेरे होठों को चूस रही था, साथ ही अपने लंड को धीरे-धीरे आगे-पीछे कर रही था.
कुछ देर तक वो ऐसा करता रही और धीरे-धीरे मुझे भी ये अच्छा लगने लगा।
मैं भी उसका साथ देने लगा।

मेरा सपोर्ट पाकर वो और भी उत्तेजित हो गयी और मुझे तेजी से चोदने लगा.
मेरी चुदाई की आवाज पूरे कमरे में गूंज रही थी।

कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद वो बिस्तर पर लेट गयी और मुझे अपना लंड चूसने को कहा.
मैं लंड को सहलाते हुए चूसने लगा.

कुछ देर लंड चूसने के बाद मैं अपना छेद ठीक करके उनके लंड पर बैठ गयी.
मैंने भी मीठे दर्द का आनंद लिया और अपनी गांड को ऊपर-नीचे करने लगा और लंड पर कूदने लगा।

मेरे निप्पल ऊपर नीचे उछल रहे थे और सुमित ख़ुशी से मेरे निप्पल को मसल रही था।
जिसने मुझे और भी आनंदित किया; मैं पूरे जोश में लंड पर उछल रही थी.

कुछ देर ऐसे ही मैं बिस्तर पर लेट गयी और सुमित ने फिर अपना लंड मेरे मुँह के सामने रख दिया. मैं लंड चूसने लगा
क्यों नहीं ।

कुछ देर लंड चूसने के बाद उसने मुझे कुतिया बनने को कहा और मैं कुतिया की तरह अपनी गांड हिलाने लगी.

यह देख सुमित ने मेरी गांड पर जोर का थप्पड़ मारा और कहा- वाह मेरी आशिका डार्लिंग, क्या मस्त गांड है तुम्हारी… रुको… तुम्हारे खराब होने के बाद इसका भी नंबर आएगा।
यह कहकर उसने मेरी गांड को चूम लिया।

फिर उसने अपना हाथ मेरे मुँह पर रखा और अपना लंड मेरी गांड पर टिका दिया और एक ही झटके में उसने पूरा लंड मेरी गांड के अंदर धकेल दिया.
लंड अंदर चला गयी और वो मुझे जोर जोर से चोदने लगा.

मैं, कॉलेज की सेक्सी लड़की, लंड पर लेटी रही और आह आह करती रही।
करीब 20 मिनट तक सेक्स करने के बाद उसने अपना सारा सामान मेरी बूर में छोड़ दिया।

इस दौरान मैं गिर गयी था।
फिर वह मुझसे अलग हो गयी और बिस्तर पर लेट गयी।

थोड़ी देर बाद हम दोनों तैयार होकर फंक्शन में चले गए और वहां कुछ देर रहने के बाद हम दोनों एक होटल में चले गए।
जहां उस रात उसने मुझे दो बार चोदा।

उस रात के बाद जब भी मौका मिलता हम दोनों पूरा फायदा उठाते थे।

दोस्तों, मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी पहली सेक्स स्टोरी पसंद आएगी।
इस कॉलेज सेक्सी गर्ल XXX कहानी पर अपने विचार कमेंट में लिखें।

अगली सेक्स कहानी में मैं लिखूंगा कि कैसे सुमित ने पहली बार मेरी गांड पर लात मारी।
[email protected]

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga