जिम ट्रेनर और उसके दोस्त ने मेरी गांड मारी – गे सेक्स इन जिम

जिम ट्रेनर और उसके दोस्त ने मेरी गांड मारी – गे सेक्स इन जिम

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “जिम ट्रेनर और उसके दोस्त ने मेरी गांड मारी – गे सेक्स इन जिम”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

यह बात तब की है जब मैं सिर्फ उन्नीस साल का था, कॉलेज के प्रथम वर्ष में पढ़ रहा था। उस समय, मैं एक गोरे रंग का लड़का था… मैं कुछ हद तक लड़की जैसा दिखता था, इसलिए मैं एक आदमी की तरह दिखने के लिए जिम जाता था!

उस रात मुझे देर हो गई थी, सभी लोग जिम से जा चुके थे, अब केवल तीन लोग बचे थे- मैं, जिम ट्रेनर शाहरुख और उसका दोस्त अंजुम।

मैं एक कॉलेज प्रतियोगिता के लिए तैराकी का अभ्यास कर रहा था, और वे पूल के बगल में बात कर रहे थे।

अंजुम और शाहरुख काम की तलाश में मुज़फ़्फ़रनगर से आए थे। शाहरुख को जिम में नौकरी मिल गई और अंजुम को सिनेमा हॉल में नौकरी मिल गई। जिम ज्वाइन करने के कुछ ही दिनों में मेरी उन दोनों से बहुत अच्छी दोस्ती हो गई।

बातें करते-करते वे दोनों उठकर अन्दर चले गये। मुझे लगा कि जिम बंद हो रहा है तो मैं भी पूल से निकल कर नहाने चला गया. (गे सेक्स इन जिम)

जैसे ही मैं शॉवर रूम में दाखिल हुआ, किसी ने पीछे से मेरी कमर पकड़ ली, मैंने मुड़कर देखा तो वह अंजुम था।

मैं डर गया- अंजुम! कोई देख लेगा यार!
“मेरी जान कौन देखेगा? शाहरुख ने चाबी दी और घर चले गए। अब हम दोनों अकेले हैं।”

“किन्तु…”
“कोई किन्तु-परंतु नहीं, आज यह गांड मेरी है!”

ये कहते हुए उसने एक ही झटके में मेरा अंडरवियर उतार दिया. मैंने मुड़कर देखा तो वह पहले से ही नंगा था। उसका मोटा लंड मुझे सलामी दे रहा था. मुझे पता चला कि आज मेरे पिछवाड़े का उद्घाटन होगा.

अंजुम काफी देर से मुझे घूर रहा था, उसके अंदर का काला शैतान मेरे गोरे चिकने बदन से बाहर आ चुका था। वह बॉडी-बिल्डिंग का शौकीन था और उसका शरीर बहुत अच्छा था इसलिए मैंने सोचा, क्यों न थोड़ी मौज-मस्ती की जाए।

पिछले हफ़्ते जब हम अकेले थे तो मैंने उसका लंड चूस कर मजा दिया था; तभी से वो मेरा दीवाना हो गया था. और आज उसने मुझे पकड़ लिया.

मैं तैरने से पहले चिकनाई के लिए अपने शरीर पर तेल लगाता था। आज यह एक और काम में आ गया।

मैंने अपने हाथ में ढेर सारा तेल निकाला और अंजुम के लंड पर मलने लगा. वह उत्तेजित हो गया, उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाजें निकालने लगा। उसका गरम लंड लोहे जैसा सख्त हो गया. मुझे लगा कि अभी झड़ जायेगा.

फिर उसने मुझे चूमा.
साला इतने ध्यान से किस करता था, मजा आ जाता था. जब वो मेरे नितंबों से खेलने लगा तो मेरे लंड में भी हलचल होने लगी.

मुझे अच्छी तरह से चूमने के बाद अंजुम ने कहा- चल बहुत मजा आया.. अब कुतिया बन जा।

मैंने उसकी तरफ देखा और तुरंत फर्श पर कुतिया बन गया. अंजुम ने मेरी गांड पर भी तेल लगाया और फिर अपने लंड का टोपा मेरे छेद पर रख दिया. “कितनी कसी हुई गांड है तुम्हारी. आज चोदने में मज़ा आएगा।” (गे सेक्स इन जिम)

एक ही झटके में उसने अपना आधा लंड मेरी बेचारी गांड में डाल दिया; मुझे थोड़ा दर्द हुआ तो मैं हल्का सा चीख उठा- उम्म्ह… अहह… हय…

“चिल्ला मेरी रंडी, यहाँ कोई सुनने वाला नहीं है. आज तो सारा लंड तेरी गांड में ही जायेगा।” ये कह कर उसने मुझे चोदना शुरू कर दिया.

मुझे मजा आया तो मैं भी अपनी गांड हिलाने लगा और धीरे-धीरे उसने अपना पूरा सात इंच का लंड मेरे अन्दर डाल दिया.
मजा आ रहा था गांड चुदाई में… पहले पूरा लंड बाहर निकालता और फिर एक साथ अंदर डाल देता।

ऐसा लगा जैसे मैं स्वर्ग में पहुँच गया हूँ- और जोर से चोदो मुझे, यह गांड आज तुम्हारी है। “वो बोला इतनी कसी हुई गाण्ड वाली लड़की मैंने आज तक नहीं चोदी। “मुझे ऐसा लग रहा है जैसे मैं स्वर्ग में हूं।” (गे सेक्स इन जिम)

“मेरी गांड कुंवारी है, कसी हुई होगी। उंह्ह्ह… आआह्ह्ह ह्ह्ह…” “
“और जोर से हरामी, और जोर से…  वो बोला अब आज के बाद दो दिन तक चल नहीं पाओगे… हाहाहा… उन्ह… उन्ह… उन्ह…”

वासना से पागल होकर वो मुझे दस मिनट तक चोदता रहा; उसने मेरी गांड का फालूदा बनाया. वो एक हाथ से मेरा लंड भी हिलाता रहा.

अचानक उसने अपनी चोदने की रफ़्तार बढ़ा दी और एक ही झटके में अपना पूरा लम्बा लंड मेरी गोरी गांड में घुसा दिया, फिर ‘आआअह्हह्हह…’ की आवाज के साथ उसने अपना मुट्ठ मेरी गांड में छोड़ दिया।

ऐसा लगा जैसे किसी ने गांड पर गुनगुना तेल डाल दिया हो. इतना अच्छा लगा कि मेरी मुठ भी निकल गयी.

मैं फर्श पर औंधे मुँह लेट गया और अंजुम मेरे ऊपर गिर गया। दो मिनट तक हम वहीं पड़े रहे. फिर उसने अपना लंड मेरी गांड से निकाला और कहा- चल, अब एक अच्छी रंडी की तरह मेरा लंड चाट कर साफ कर दे.

उसका लंड मैंने चमका दिया तो वो गुनगुनाता हुआ चला गया.
मैं बड़ी मुश्किल से खड़ा हो पा रहा था… उस दरिंदे ने मेरी गांड सचमुच सूज दी थी।

खैर, जब मैं नहाकर और कपड़े पहनकर ऑफिस आया तो कुछ देखकर चौंक गया।

अंजुम के साथ शाहरुख भी था. दोनों सीसीटीवी में कुछ देखकर हंस रहे थे.
मुझे देख कर शाहरुख बोला- बहुत प्यासी रंडी है तू? क्या तुम्हें कैमरे पर चुदाई करवाते समय शर्म नहीं आती?

फिर मैंने सीसीटीवी वीडियो देखा तो पता चला कि अंजुम टीवी पर एचडी क्वालिटी में मुझे चोद रहा था. पहले उसने मेरा अंडरवियर उतारा, फिर मुझे चूमा, फिर मुझे लिटा कर चोदा और फिर अपना लंड साफ करवाया. मैं एक चुदासी कुतिया की तरह चुदवा रहा था और आख़िर में मैंने एक प्यासी रंडी की तरह उसका लंड चाट कर साफ़ कर दिया।

शाहरुख मुस्कुराए- मेरा आइडिया था कि आज शॉवर में कैमरा लगा दूं. मैंने सोचा कि यह चुदाई की अच्छी ब्लू फिल्म बनाएगी.

अंजुम हँसा और बोला- सही सोचा, अब से ये हमारी रंडी है, जब और जहाँ हम चाहेंगे, ये हमारा लंड चूसेगा और हमसे चुदवायेगा। नहीं तो कोई देख लेगा ये ब्लू फिल्म और… (गे सेक्स इन जिम)

“नहीं! आप जो कहेंगे मैं वही करूंगा. कृपया यह वीडियो किसी को न दिखाएं।” मैंने विनती की.

दोनों हंसने लगे.
शाहरुख ने कहा- अब ये आपके हाथ में है. अच्छा, तुमने बहुत कसरत की है। थक गया होगा। आपको जिम के बाद हमेशा प्रोटीन शेक पीना चाहिए, है ना?

ये कहते हुए उसने अपना शॉर्ट्स उतार दिया. सामने आठ इंच मोटा लंड निकला; शाहरुख बोला- ले रंडी… अब चाट मेरा लौड़ा! मैं शाहरुख की बात से सहमत हो गया, ये सब करते हुए मुझे भी अच्छा लग रहा था.

आख़िर शाहरुख ने मेरी गांड भी अपने मोटे लंड से चोदी. इस बार मुझे पहले से ज्यादा दर्द हुआ और दर्द के साथ-साथ मजा भी ज्यादा आया. मजा तो गांड मरवाने के दर्द में ही है.

घर आकर मुझे लगा कि अगर मैं इन दोनों को गांड देता रहूँगा तो हो सकता है कि ये मेरा वीडियो किसी को न दिखाएं और ये बात छुपी रह जाए. (गे सेक्स इन जिम)

मुझे क्या पता था कि अगले ही हफ्ते मैं कुछ और मर्दों की वासना शांत कर दूंगा! लेकिन वह कहानी बाद में लिखूंगा। आपको मेरी गे सेक्स इन जिम कहानी कैसी लगी?

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasy की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga