भैया के दोस्त के साथ रात बिताकर गांड मरवाई: गे सेक्स विथ ब्रो

भैया के दोस्त के साथ रात बिताकर गांड मरवाई: गे सेक्स विथ ब्रो

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “भैया के दोस्त केसाथ रात बिताकर गांड मरवाई: गे सेक्स विथ ब्रो”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

नमस्ते, मैं तरुण कानपुर शहर का रहने वाला हूं। आपने मेरी पिछली कहानी: टीचर के साथ गे सेक्स तो पढ़ी ही होगी’
अब मैं आपको अपनी दूसरी सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ।

चूंकि अब मैंने वह स्कूल छोड़ दिया था, इसलिए कोच सर से मेरी मुलाकात अब ज्यादा नहीं होती थी. लेकिन अब मुझे लंड का स्वाद लग चुका था. मुझे गांड मरवाये काफी समय हो गया था और अब मैं अन्दर से असहज महसूस करने लगा था.

मैंने अपनी प्यास बुझाने के लिए इधर-उधर लोगों की तलाश की, लेकिन कोई भी नहीं मिला। अब मुझे उंगली करने में भी मजा नहीं आ रहा था. कोच सर ने मुझे पूरी तरह से रंडी बना दिया था.

मेरा भाई मुझसे 4 साल बड़ा है. और उन्हें खेल और जिम का बहुत शौक है. वह बिल्कुल बॉडी बिल्डर की तरह हैं. वैसे ही उनके दोस्त हैं साहिल भैया. (गे सेक्स विथ ब्रो)

साहिल भैया को मैं बचपन से भैया कहकर बुलाता आ रहा हूं। साहिल अक्सर रात्रि विश्राम के लिए मेरे घर आया करता था। वो, भाई और मैं खूब मस्ती करते थे. उसकी एक गर्लफ्रेंड भी थी. जिस वजह से साहिल भैया को देखकर मैंने कभी नहीं सोचा था कि उन्हें लड़कों में दिलचस्पी होगी.

एक दिन भाई और उसके कुछ दोस्त रात को रुकने के लिए घर आये, उनका प्लान छत पर एक साथ सोने का था, लेकिन तभी रात में तेज़ बारिश होने लगी.. तो सब लोग नीचे आ गये।

मेरे घर में दो मंजिल हैं. नीचे दो कमरे हैं, जिनमें से एक में मम्मी-पापा सोते थे.. और एक में जहाँ दादी सोती थीं.. ऊपर की मंजिल पर 3 कमरे हैं। भाई के दोस्त 5 लोग थे तो दो-दो करके सभी सोने लगे।

चार दो कमरों में घुस गये और एक बच गया तो भाई ने साहिल भैया को मेरे कमरे में भेज दिया। मैंने तुरंत हां कह दी और उसे अपने कमरे में बुला लिया.

सोने से पहले हम दोनों ने काफी देर तक बातें की और फिर सोने लगे. रात के 1 या 2 बजे होंगे, तभी नींद में मेरा एक हाथ साहिल भैया की कमर पर चला गया और मैं उनसे चिपक कर सोने लगा.

तभी मुझे अपने हाथों पर कुछ हलचल महसूस हुई और फिर मैंने देखा कि साहिल भैया धीरे-धीरे मेरे हाथों को अपने बॉक्सर के करीब ले जाने लगे। मैंने कुछ नहीं किया, बस बहुत डर लग रहा था. (गे सेक्स विथ ब्रो)

धीरे-धीरे साहिल भैया ने मेरा हाथ अपने लंड पर रख दिया और धीरे-धीरे मेरे हाथ से अपने लंड की मालिश करने लगे।

मुझे मज़ा आ रहा था। मेरे हाथ के स्पर्श से उसका लंड एकदम खड़ा हो गया और मुझे अपने हाथ में 8 इंच का बहुत मोटा लंड महसूस होने लगा.

मेरा लंड भी खड़ा और सख्त हो गया, जिसे शायद साहिल भैया ने महसूस कर लिया। फिर उसने मेरा हाथ अपने बॉक्सर के अंदर डाल दिया. मैं अभी भी कोई हरकत नहीं कर रहा था, केवल मेरा लंड हरकत में था।

जैसे ही मेरा हाथ अंदर गया, मुझे उसके बालों के बीच उसका मोटा, लंबा और गर्म लंड महसूस होने लगा।
अब मैं खुद पर काबू नहीं रख सका और खुद ही उसकी मालिश करने लगा.

साहिल भैया समझ गए कि मैं जग रहा हूँ, उन्होंने मेरे कान में धीरे से कहा- लंड मुँह में लेगा?
मैंने तुरंत हां कह दिया. (गे सेक्स विथ ब्रो)

मैं नीचे की ओर बढ़ा और उसका बॉक्सर खोलकर उसका लंड बाहर निकाल लिया। उसका लंड इतना लंबा, मोटा और गर्म था कि मैं खुद को रोक नहीं पाया. मैंने झट से उसके लंड को चूमा और अपने मुँह में डाल लिया।

उसका लंड इतना मोटा था कि मेरे मुँह में पूरा नहीं समा रहा था. उसके लंड और चड्डी की खुशबू मुझे और भी मदहोश कर रही थी. मैं भी रंडी की तरह उसके लंड को कस कर चूसने लगा.

कुछ देर बाद साहिल भैया अपने पूरे मूड में आ गये और टेबल लैंप चालू कर दिया। इसके बाद उन्होंने अपनी टी-शर्ट उतार दी. हाय, उसकी जिम बॉडी, चौड़ी छाती, हाथों के बाइसेप्स, चिकना शरीर… ये सब देख कर मेरी गांड में खुजली होने लगी.

मैंने भी अपना लंड बाहर निकाला और उसकी तरफ देखा. उसने झट से मेरा मुँह पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूसने लगा. उधर वो अपने हाथों से मेरी गांड को मसलने लगा.

मुझे बहुत मजा आ रहा था जब वो मेरे एक निपल को चूसने लगा. मुझे और भी मजा आने लगा. मैंने उसकी मर्दाना छाती के निपल्स भी चूसे और फिर हमने बॉडी प्ले शुरू कर दिया. हम दोनों को बहुत मजा आ रहा था.

फिर उसने मेरा सिर कस कर पकड़ लिया और मेरा चेहरा अपने लंड पर रगड़ने लगा. मैंने अपना मुँह खोला और तुरंत उसका लंड अपने मुँह में ले लिया। (गे सेक्स विथ ब्रो)

अब खुलेआम लंड चुसाई का खेल चल रहा था. उसकी कराहें निकलने लगीं- ह्म्म्म.. ह्म्म्म..

मुझे भी मजा आने लगा, मैं और भी मजे से रंडी बनने लगा. वो नशे में मेरा सिर पकड़ लेता और अपना लंड हिलाते हुए जबरदस्ती मेरे मुँह को चोद देता.

इस समय उसका पूरा 8 इंच का लंड मेरे मुँह में जा रहा था. भाई के दोस्त का लंड मेरे गले तक पहुंच रहा था और मेरी लंड चूसने की इच्छा पूरी कर रहा था. मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर उसने मुझे पलट दिया और लिटा दिया. फिर वो अपनी जीभ से मेरी गांड चोदने लगा. जैसे ही उसकी गर्म और गीली जीभ मेरी गांड के छेद पर लगी, मैं एकदम मदहोश हो गया.

इस तरह वो कई मिनट तक मेरी गांड को अपनी उंगलियों और जीभ से चोदता रहा.

फिर वह धीरे -धीरे मेरे कान के पास आया और उसे चूसा और कहा – तरुण, मुझे आपकी गांड चोदनी है?
ऐसा लग रहा था मानो मैं ख़ुशी से पागल हो गया हूँ। मुझे यही चाहिए था। मैंने कहा- मैं तुम्हारी प्यास बुझा दूंगा भाई, प्लीज मेरी गांड जोर से चोदो. (गे सेक्स विथ ब्रो)

उसने अपने लंड पर थूक लगाया और मेरी गांड के छेद पर रख दिया. मेरी गांड का छेद पहले से ही गीला था इसलिए धीरे धीरे लंड अन्दर जाने लगा. उसने जोर से धक्का मारा और उसके बड़े लंड का सुपारा मेरी गांड में घुस गया.

कई दिनों के बाद मेरी गांड में मोटा लंड जाने से मेरी तो जान ही निकल गई. मुझे ऐसा लग रहा था मानो मेरी गांड में कोई गरम लोहे की रॉड डाल दी गयी हो.

मैं चीखने ही वाला था, तभी भाई ने मेरी आवाज़ को दबाते हुए अपना लंड जोर-जोर से मारना शुरू कर दिया।

इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहता या उसे रोक पाता, उसने एक और धक्का मारा और उसका पूरा काला लंड मेरी गांड में घुस गया. इसी समय साहिल भैया का हाथ मेरे मुँह से हट गया और मैं जोर से चिल्ला उठा। उसने तुरंत मेरा मुँह फिर से अपने हाथ से बंद कर दिया और अपना अंडरवियर मेरे मुँह में डाल दिया। (गे सेक्स विथ ब्रो)

उसके अंडरवियर की खुशबू मुझे फिर से मदहोश करने लगी. अब वो भूखे जानवर की तरह मेरे ऊपर लेटा हुआ था. उसने मेरे दोनों हाथ मेरी पीठ के पीछे पकड़ लिए और जोर जोर से अपना लंड मेरी गांड में धकेलने लगा. मुझे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन मजा भी उतना ही आ रहा था. हालाँकि मेरी आवाजें भी गायब हो गई थीं.

मेरी गांड चोदते चोदते वो मेरे कान के पास आये और कान की लौ चूसने लगे.
भाई बोला- मजा आ रहा है, आज तो तुझे ऐसा चोदूंगा कि तू कुछ दिन तक ठीक से चल भी नहीं पायेगा भोसड़ीके.

मैं डर गया और उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन उसका भारी मर्दाना शरीर मुझ पर हावी हो रहा था। मैं उन्हें हिला भी नहीं सका. वो मुझे जोर जोर से चोदता रहा.

अब मुझसे दर्द सहन नहीं हो रहा था. कुछ देर बाद मेरी गांड ढीली हो गई और मुझे मजा आने लगा.. दर्द कम हो गया। अब मैं भी अपनी गांड उछाल-उछाल कर उसके सख्त लंड का मजा लेने लगा.

वो समझ गया कि मुझे मजा आ रहा है. फिर उसने मेरे हाथ छोड़ दिए और मुझे घोड़ी बना कर खूब चोदा. इसके बाद भाई के दोस्त ने और भी कई पोजीशन में मेरी गांड चोदी. मेरी गांड का छेद अब सूज कर लाल हो गया था।

लेकिन न मेरा मन मान रहा था न उनका. करीब एक घंटे के बाद वो मेरी गांड में ही स्खलित हो गया. उसके गाढ़े, गर्म वीर्य की पिचकारियाँ मैं अपनी गांड में साफ़ महसूस कर सकता था। (गे सेक्स विथ ब्रो)

अब उसने अपना लंड मेरी गांड से निकाला और मेरे मुँह में डाल दिया. मैं अपने लंड को हिलाते हुए उसके लंड पर लगे वीर्य को चाट कर साफ करने लगा.

कुछ ही देर में मैं भी स्खलित हो गया. फिर उसने मुझे चूमा और मुस्कुराया और मेरे बगल में सो गया. मैं भी पसीने से भीगी उसकी चौड़ी छाती से लिपट कर सोने लगा. (गे सेक्स विथ ब्रो)

कुछ देर बाद मुझे फिर से उसका लंड सख्त होता हुआ महसूस हुआ और जब मैंने उसकी तरफ देखा तो वह धीरे से मुस्कुराया।

फिर क्या हुआ… वो जालिम बेरहम फिर से जोर जोर से मेरी गांड चोदने लगा. फिर आधे घंटे के बाद वो मेरे मुँह में झड़ गया और मैंने उसका सारा गाढ़ा, गर्म रस गटक लिया.. और लंड को चाटकर साफ़ कर दिया।
हम दोनों पसीने से भीग गये थे और थक भी गये थे. ऐसे ही हम एक दूसरे से लिपट कर सो गये.

अब तो साहिल भैया मुझे अक्सर चोदते हैं। अब वो मेरा बॉयफ्रेंड बन गया है.

यह थी मेरी गांड चुदाई की दूसरी सेक्स कहानी.. अभी और भी आने वाली हैं..

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasy की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga