पार्क में मिले अंकल की गांड का गुड़गांव बनाया – गे XXX स्टोरी

पार्क में मिले अंकल की गांड का गुड़गांव बनाया – गे XXX स्टोरी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “पार्क में मिले अंकल की गांड का गुड़गांव बनाया – गे XXX स्टोरी”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

हेलो दोस्तो, कैसे हैं आप सब… आशा करता हूँ आप बिल्कुल ठीक होंगे।

तो दोस्तो, मैं आपको अपने बारे में थोड़ा बता दूं। मेरा नाम अवनीश है और मैं पुणे से हूं। मेरी उम्र 26 साल है, रंग गोरा, शरीर सामान्य है।

मेरे लिंग का साइज़ 7 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा है. मुझे देखकर कोई भी अंकल मुझसे अपनी गांड मरवाने के लिए तैयार हो जाता है. (गे XXX स्टोरी)

यह कहानी सच्ची घटना पर आधारित है. कृपया पूरी कहानी पढ़ें, यह बहुत दिलचस्प है।

अभी 15 दिन पहले की बात है, शाम के समय मैं घूमते-घूमते एक पार्क में जाकर बैठ गया। उस दिन मैं थोड़ा चिंतित था, पार्क में बहुत सारे बच्चे खेल रहे थे और बहुत से लोग घूमने आये थे, जिनमें औरतें और बूढ़े भी थे।

मैं कुर्सी पर बैठा बच्चों का खेल देख रहा था। धीरे-धीरे अँधेरा होने लगा। सारे बच्चे और सब लोग जाने लगे. मैं फिर भी वहीं बैठा रहा.

मैंने देखा कि एक बहुत ही हैंडसम अंकल, जिनकी उम्र करीब 50-52 साल होगी, पार्क में टहल रहे थे. शायद वह हर शाम पार्क में टहलने आता है.

अब पार्क में हम दोनों ही थे. वो बार-बार मेरी तरफ देख रहा था और चल रहा था. उसकी खूबसूरती मुझे इतनी पसंद आ रही थी कि मैं बता नहीं सकता. मैं चाहता था कि अगर आज वे मुझे मिल जाएं तो मुझे स्वर्ग जैसा अनुभव होगा।

कुछ देर चलने के बाद वह मेरे पास आकर बैठ गया। मेरे दिल की धड़कनें बढ़ गईं। (गे XXX स्टोरी)

आइए मैं आपको उनके बारे में थोड़ा बताता हूं। अंकल की हाइट करीब 6 फीट रही होगी. अंकल का रंग बहुत गोरा था, मोटा शरीर था, बड़ी-बड़ी काली मूंछें थीं, उनका चेहरा एकदम फूला हुआ और चमकदार था और वो बहुत प्यारे लग रहे थे.

अंकल थोड़ा मेरी तरफ बढ़े, शायद उन्हें मैं पसंद आ रहा था. मेरा मन कर रहा था कि जल्दी से अंकल को चूम लूं, लेकिन अभी वो वक्त नहीं आया था. अचानक अंकल बोले- बेटा, कोई दिक्कत है क्या? तुम उदास लग रहे हो.

मैंने झिझकते हुए कहा- नहीं नहीं अंकल, कोई दिक्कत नहीं है, मैं तो बस यहाँ घूमने आया था तो सोचा थोड़ा आराम कर लूँ।
अंकल बोले- ठीक है बेटा, तुम परेशान दिख रहे थे इसलिए पूछ लिया. मैं हँसा। (गे XXX स्टोरी)

तभी अंकल बोले- बेटा, तुम क्या करते हो?
मैंने कहा- अंकल, मैं अभी सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा हूँ।

फिर अंकल ने अपनी बात जारी रखी और बोले- आजकल लड़के बचपन से ही बिगड़ जाते हैं और गलत कामों में पड़ जाते हैं.
मैंने कहा- हां अंकल, आप बिल्कुल सही कह रहे हैं.

तब अंकल ने कहा- बेटा, मैं भी बचपन में बहुत बिगड़ गया था.
मैंने कहा- ओह… अंकल कैसे?

तो अंकल बोले- बेटा, यह बहुत लंबी कहानी है.. अगर मैं तुम्हें सुनाने बैठूंगा तो बहुत समय लग जाएगा और तुम्हारे पास उतना समय नहीं होगा। तुम्हें पढ़ना भी हैं, बाद में बताऊंगा.

मैंने कहा- नहीं अंकल, अभी मेरे एग्जाम खत्म हुए हैं, अब मैं बिल्कुल फ्री हूं. कृपया अपनी कहानी बताएं!

अंकल बोलने लगे- अरे बेटा, अभी रहने दो, फिर कभी देखेंगे. (गे XXX स्टोरी)
मैंने जिद करते हुए कहा- प्लीज़ अंकल, मैं आज ही सुनना चाहता हूँ, प्लीज़ मुझे बताओ।

तो अंकल मान गये और बोले- चलो सुनो.. और अगर बुरा लगे तो माफ कर देना।
मैंने कहा- अंकल, मुझे कुछ बुरा नहीं लगेगा… आप बहुत प्यारे हैं.

इस पर अंकल थोड़ा मुस्कुराए और बोले- ठीक है, चलो सुनो.
यहीं से शुरू होती है अंकल की कहानी.

अंकल कहने लगे कि जब मैं 18 साल का था. जब मेरे 12वीं के पेपर ख़त्म हुए तो मैं गर्मियों में अपने मामा के घर घूमने गया।

मेरे मामा के 3 बच्चे थे, जिनमें से 2 बच्चे अपनी मम्मी के साथ अपने नाना के घर गये हुए थे और एक, जो सबसे बड़ा था, वो मामा के साथ घर पर अकेला था। उस समय उनकी उम्र किशोरावस्था के आसपास रही होगी। उसका नाम सौरभ था.

मैं पूरी गर्मी अपने अंकल के घर पर रहने वाला था। इधर मैं अंकल की कहानी बड़े ध्यान से सुन रहा था. (गे XXX स्टोरी)

अंकल ने कहा- फिर एक दिन हम दोनों उसके खेत पर घूमने गए और शाम को जब लौटे तो बहुत थके हुए थे. मामा ने कहा कि तुम दोनों खाना खाकर सो जाना.

Contact Us for Services

हम दोनों ने खाना खाया और मैं सौरभ के साथ सो गया. मामा भी उसी साइड वाले बेड पर सो रहे थे, जो हमारे बेड से सटा हुआ था. रात को करीब एक बजे मैंने धीमी रोशनी में देखा कि मामा अपना लंड हिला रहे थे.

उसका लंड बहुत लम्बा और मोटा था. मैं पतली चादर में से देख रहा था. ये सब देख कर मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने सोचा कि क्यों न मैं अपने मामा के साथ मिलकर एक दूसरे का हस्तमैथुन करूँ। (गे XXX स्टोरी)

मैं उठकर बैठ गया तो मामा अचानक मुझे देखकर चौंक गए और बोले- क्या हुआ? मैंने कहा- मामा, मैंने सब देख लिया है और मैं भी ये करना चाहता हूं. मामा ने मुझे चुप रहने का इशारा किया और दूसरे कमरे में ले गये.

मैं अंकल की कहानी बड़े चाव से सुन रहा था और अब मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था.

अंकल बोले- फिर मामा ने मुझे नंगा कर दिया और मुझे चूमने लगे. मुझे बहुत मजा आ रहा था. फिर मामा ने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और मेरे मुँह को चोदने लगे.

फिर कुछ देर तक मेरा मुँह चोदने के बाद उसने मुझे उल्टा कर दिया और अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रख दिया. मैंने मना किया लेकिन मामा नहीं माने और मुझे एक जोरदार धक्का दे दिया. उसका लंड आधा मेरी गांड में घुस गया.

मैं दर्द से कांप उठा और मामा से कहने लगा कि मुझे छोड़ दो, लेकिन मामा तो चोदू थे, इसलिए उन्होंने मेरा मुँह बंद कर दिया और एक जोरदार धक्के के साथ अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया.

वे जोर-जोर से आगे-पीछे होने लगे। कुछ देर बाद मुझे भी बहुत मजा आने लगा और मैं अपनी गांड हिला-हिला कर मजा लेने लगा.

अंकल ने मेरी तरफ देखा और बोले- तब से मैं बड़ा गांडू हो गया हूं और अब मुझे तुम्हारे जैसे जवान लड़के पसंद हैं. मैंने 30 साल से अपनी गांड किसी से नहीं मरवाई है। मैं बहुत प्यासा हूँ और आज शायद तुम मेरी प्यास बुझा दोगे.

यहाँ अंकल की कहानी ख़त्म हुई और अब अंकल और मेरी कहानी शुरू होती है। जैसे ही मैंने अंकल से गांड मरवाने की बात सुनी, मैंने उन्हें एक जोरदार चुम्बन दिया और उनकी बांहों में गिर गया.

अंकल ने मुझे पकड़ कर चूमा और बोले- आई लव यू बेटा, तुम बहुत प्यारे हो.
वह कहने लगा- चलो घर चल कर मौज करेंगे, मैं पास में ही अकेला रहता हूँ। मेरे बच्चे और पत्नी गांव में रहते हैं.

हम दोनों उसके घर आये. घर पहुँच कर अंकल ने मेरे लिए चाय बनाई. हमने चाय पी।
अब अंकल बोले- चलो, हम दोनों मजे करते हैं. (गे XXX स्टोरी)

फिर अंकल मुझे अपने बिस्तर पर ले गये और एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिये और अपने भी सारे कपड़े उतार दिये. उसका बलिष्ठ शरीर देख कर मैं उसे देखता ही रह गया.

उसके शरीर पर एक भी बाल नहीं था और उसका शरीर बहुत सुंदर था. जिसे देखना मुझे स्वर्ग का आनंद दे रहा था. उसके बड़े बड़े स्तन किसी औरत से कम नहीं लग रहे थे.

फिर उसने मुझे बेड पर लेटने को कहा और खुद भी लेट गया. अंकल ने मुझे कस कर अपने सीने से लगा लिया. मुझे उसके सीने से चिपक कर बहुत मजा आ रहा था. वो मुझे खूब चूम रहा था और मैं भी उसे चूमे जा रहा था

फिर धीरे-धीरे वह अपना मुँह मेरे लिंग के पास लाया और मेरे खड़े लिंग को धीरे-धीरे चूसने लगा। अब मैं सातवें आसमान पर था और मुझे बहुत मजा आ रहा था.

काफी देर तक लंड चूसने के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूं तो मैंने अंकल को अलग किया और उनका दूध पीने लगा.

ओह… क्या कमाल के स्तन थे उसके, बिल्कुल औरतों के जैसे। वो भी बड़े जोश से मुझे अपना दूध पिला रहे थे और तरह-तरह की आवाजें निकाल रहे थे- आह… ऊह्ह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरे दूध चूसो… मेरे पतिदेव… आज अपनी बीवी को पूरी तरह से खुश कर दो… मैं कब से पाने के लिए तरस रहा हूँ.

फिर मैं थोड़ा सामान्य हुआ तो अंकल ने फिर से मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगे।
वाह… क्या मजा था यार!

अब मैं उसकी गांड को चोदना चाहता था। मैंने अंकल से कहा- अब मैं आपकी गांड चोदना चाहता हूं. अंकल घोड़ी स्टाइल में बन गये.

मैंने अपने लिंग का सुपारा उसकी गांड के छेद पर रखा और एक धक्का मारा. मेरा थोड़ा सा ही लंड अंदर गया था और अंकल को बहुत दर्द हुआ. उसने कहा- धीरे धीरे करो, दर्द हो रहा है.

मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया. फिर अंकल एक कटोरी में तिल का तेल ले आये, जो बहुत चिकना होता है. अंकल ने मेरे लंड पर बहुत सारा तेल लगाया और अपनी गांड पर भी बहुत सारा तेल लगाया. (गे XXX स्टोरी)

अंकल फिर से अपनी गांड खोल कर पोजीशन में आ गये.

अब मैंने सुपारा उसकी गांड पर रखा और एक धीरे से धक्का दिया और मेरा करीब 2 इंच लंड अन्दर चला गया. अब शायद अंकल को तेल लगाने से दर्द नहीं हो रहा था.

अंकल ने अपनी गांड पीछे की ओर दबायी तो मेरा आधा लंड उनकी गांड में घुस गया. फिर मैंने एक जोरदार धक्का मारा तो अब मेरा लंड अंकल की गांड में घुस चुका था.

अंकल चिल्लाया – …   मारो…. आज मेरी गांड मारो… आज इसे फाड़ दो … … आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह … ऊह … यह मजेदार है … मुझे आज मत छोड़ो … मेरी गांड को फाड़ दो!

अंकल भी अपनी गांड हिला कर मजा ले रहे थे. 20 मिनट तक अंकल की गांड चोदने के बाद मैं झड़ गया और अपना सारा वीर्य अंकल की गांड में छोड़ दिया.

इसके बाद अंकल और मैं फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चले गये और मैं अपने घर चला गया. इसके बाद हमने कई बार सेक्स का मजा लिया. आज भी अंकल मुझसे चुदवाने आते हैं. अब अंकल मेरे दीवाने हो गये.

मुझे 45 से ऊपर के अंकल बहुत पसंद हैं. अगर कोई 45 प्लस का अंकल मेरे मोटे और लंबे लंड से चुदता है तो मुझे स्वर्ग का आनंद मिलता है.

दोस्तो, यह थी मेरी गे XXX स्टोरी की सच्ची घटना। आपको यह कैसी लगी कृपया कमेंट करके जरूर बताएं। आप मुझे मेरी ईमेल आईडी पर मैसेज करके संपर्क कर सकते हैं… मैं सभी को जवाब देता हूं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasy की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga