हॉस्टल में गे पोर्न वीडियो देखकर दोस्त से गांड मरवाई: गे XXX

हॉस्टल में गे पोर्न वीडियो देखकर दोस्त से गांड मरवाई: गे XXX

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “हॉस्टल में गे पोर्न वीडियो देखकर दोस्त से गांड मरवाई: गे XXX”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

यह कहानी मेरे और मेरे दोस्त के बीच बने यौन संबंध के बारे में है. मेरा नाम विवेक हे। मेरी लम्बाई पांच फुट पांच इंच है और मेरे लिंग का आकार छह इंच है. मैं इस वक्त 23 साल का हूं.

ये घटना तब की है जब मैं कॉलेज में दाखिला लिया था. मैंने दिल्ली के एक कॉलेज में एडमिशन ले लिया था.. इसलिए मैं हॉस्टल में रहता था।

इन दिनों मैंने अभी-अभी कॉलेज जाना शुरू किया था और बाकी लोगों की तरह मेरे मन में भी किसी लड़की को पटाने और मजे करने की चाहत थी।

लेकिन कॉलेज का माहौल देखकर मेरी कभी किसी लड़की को पटाने की हिम्मत नहीं हुई. कॉलेज में खूबसूरत और सेक्सी लड़कियों को देख कर ही मेरा काम चल जाता था. (गे XXX)

ऐसे ही एक साल बीत गया. मैंने तो उम्मीद ही छोड़ दी थी कि अब कुछ नहीं होगा.

दोस्तो, मैं बताना भूल गया कि मैं बायसेक्सुअल हूँ। मुझे भी कुछ लड़के पसंद हैं. मेरे हॉस्टल में मेरा एक दोस्त भी रहता था जो मुझसे उम्र में बड़ा था. उसका नाम अनिल था. वो दिखने में बहुत अच्छा था और कद में मुझसे बड़ा था.

हम दोनों दोस्त तो थे, लेकिन सिर्फ दोस्त ही थे, हम एक दूसरे के बारे में ऐसा कुछ भी नहीं सोचते थे.

ऐसे ही दिन बीत रहे थे. मेरे एग्जाम भी ख़त्म हो गए थे. तब भी मैं हॉस्टल में ही रह रहा था. अनिल भी वहीं रहता था. हम दोनों अपने कमरे में बैठे हुए थे. छुट्टियाँ होने के कारण सभी लड़के घर चले गये थे। हॉस्टल में कुछ ही लोग बचे थे.

इस समय मेरे कमरे में हम दोनों के अलावा कोई नहीं था. शाम का वक्त था। हम दोनों बातें कर रहे थे कि कॉलेज कैसा चल रहा है और जिंदगी कैसी है.

मैं- यार, मैं बहुत बोर हो गया हूं … अब कॉलेज में मजा नहीं रहा.
अनिल- क्यों… लगता है तुमने अभी तक कॉलेज में कोई सेटिंग नहीं की है.

मैं- हां यार तुम ठीक कह रहे हो … मेरे पास कोई जुगाड़ ही नहीं है.
अनिल- तुम्हें कॉलेज में कोई पसंद नहीं है?

मैं- पसंद आती तो है.. पर बताने की हिम्मत नहीं होती।
अनिल- मुझे लगता है तुम अच्छे हो.. फिर भी?
मैं- मुझे नहीं पता यार, मुझमें हिम्मत नहीं है, बताओ क्या तुम्हारे पास कोई है?
अनिल- नहीं… अभी कोई नहीं है. (गे XXX)

ऐसे ही गपशप का दौर चल रहा था. फिर अचानक वह गे सेक्स के बारे में बात करने लगा. मैं भी उसकी बात से थोड़ा चौंक गया कि इसे क्या हो गया है … आज ये ऐसी बात क्यों कर रहा है. फिर मैंने सोचा कि कोई नहीं है.. तभी तो ऐसी बात कर रहा होगा। मैं भी उसकी बातों का जवाब देने लगा.

अनिल- विवेक, क्या तुमने कभी गे सेक्स देखा है?
में : हाँ, मैंने देखा है.. क्यों?
अनिल- मैं तो बस पूछ रहा था.. वो लोग क्या करते होंगे?
मैं- क्या करेंगे, गांड चोदेंगे… और क्या?

अनिल- यार मुझे भी देखना है… तुम्हारे पास है, मुझे भी दिखाओ.
मैं: ठीक है… मैं तुम्हें दिखाता हूँ।

मैंने सोचा कि वह सिर्फ जिज्ञासु था और इसीलिए देखना चाहता था।

मैंने उसे एक वीडियो दिखाया. गांड चुदाई देख कर हम दोनों के लंड खड़े हो गये. वीडियो काफी हॉट था. कुछ ही देर में हम दोनों के लंड खड़े होने लगे.

वीडियो ख़त्म होने के बाद हम दोनों गांड चुदाई के बारे में बात करने लगे. सबसे पहले उसने किसी लड़की की गांड चोदने की बात कही. मैं उसकी बात सुनता रहा. फिर धीरे-धीरे उसने किसी गांड चोदने वाले के बारे में बात करना शुरू कर दिया।

उसकी बातें सुन कर मैं उत्तेजित होने लगा और उसकी गांड चोदने के बारे में खुल कर बात करने का मन करने लगा.

मैं- आज मैं तुम्हें एक बात बताऊंगा.. किसी को बताना मत।
अनिल- ठीक है… बताओ.
मैं- क्या आपको ये वीडियो पसंद आया?

अनिल- हाँ, मुझे अच्छा लगा… क्यों?
मैं- देखो.. मैं भी ये करना चाहता हूँ.. लेकिन मुझे कोई लड़का नहीं मिल रहा है। मैं बस यह करना चाहता हूं कि यह कैसा लगता है। (गे XXX)

अनिल कुछ देर चुप रहा, फिर बोला।

अनिल- ठीक है.. तो इसमें बुराई क्या है.. मुझे भी वीडियो पसंद आया।

यह उनका पहला संकेत था कि वह भी इसे आज़माना चाहते थे. चूंकि हम दोनों ने पहले कभी सेक्स नहीं किया था तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि हम सेक्स करने के लिए कितने उत्सुक हैं.

मैंने उसकी बात से सहमति जताते हुए पूछा- अनिल, क्या हम दोनों कर सकते हैं?
मेरी बात पर अनिल ने तुरंत कहा- हां, हां, ठीक है.. क्यों नहीं.

हमने कमरे का दरवाज़ा बंद किया और पास में आकर बैठ गये. हममें से किसी को भी पता नहीं था कि शुरुआत कैसे करें।

मैं उसे चूमने लगा. वो भी मेरा साथ दे रहा था. हमने काफी देर तक किस किया.
फिर अनिल बोला- यार एक काम करो.. फिर से वीडियो लगाओ.. जैसा वो करेंगे, हम भी वैसा ही करेंगे।

मुझे लगा कि यह एक अच्छा विचार है… मैंने वीडियो शुरू किया और दोनों देखने लगे। जैसा वीडियो में चल रहा था, हम दोनों भी वैसा ही कर रहे थे. (गे XXX)

हम दोनों एक-दूसरे को चूम रहे थे और चूमते-चूमते एक-दूसरे के लंड को पैंट के ऊपर से सहला रहे थे। यह हम दोनों के लिए पहली बार था हम दोनों वासना की गर्मी सहन नहीं कर सके और चूमते-चूमते ही पैंट के अंदर ही स्खलित हो गए। हुआ ये कि हम दोनों की पैंट खराब हो गयी.

हम दोनों ने अपनी पैंट उतार दी और नंगे हो गये. हम दोनों के लिंग मुरझा गए थे, इसलिए मैंने सोचा कि चलो 69 की पोजीशन में आ जाते हैं और एक-दूसरे के लिंगों को उत्तेजित करते हैं।

अब हम दोनों एक दूसरे का लंड चूसने लगे. थोड़ी ही देर में हमारे लंड खड़े हो गये.

आह दोस्तो… क्या मस्त अहसास था… जब कोई पहली बार आपका लिंग मुँह में ले रहा हो। अनिल और मैं लंड चूसने में पूरी तरह खो गये थे. हमने एक दूसरे का सिर पकड़ा और एक दूसरे का मुँह चोदने लगे.

फिर उसने मेरा लंड अपने मुँह से बाहर निकाला और मुझसे पूछा कि सबसे पहले सेक्स कौन करेगा?
मैंने कहा पहले आप करो.

इतना सुनते ही उसने बिना देर किए मुझे बिस्तर पर पटक दिया और मेरी गांड के छेद पर थूक कर अपना लंड उस पर रख दिया. मैं भी अपनी गांड फैला कर उसका लंड लेने की कोशिश करने लगा. वो अपना लंड मेरी कुँवारी गांड में घुसाने की कोशिश करने लगा.

ये मेरा पहला मौका था जब कोई मेरी बुर में अपना लंड डाल रहा था. तमाम कोशिशों के बावजूद वह पहली बार अंदर नहीं गया. (गे XXX)

फिर उसने और थूक लगाया और थोड़ा जोर लगाया तो उसका लंड 2 इंच अन्दर चला गया. सबसे पहली बात तो सुपारा मोटा होता है. जैसे ही उसके लिंग के सुपारे ने गांड के फूल को फाड़ा, मुझे लगा जैसे मैं मरने वाला हूं।

दोस्तो, मुझे ऐसा लग रहा था मानो किसी ने पिछवाड़े में आग का गोला रख दिया हो। मैं आपको उसके लिंग का साइज़ बताना भूल गयी. उसका लिंग मेरे लिंग से आधा इंच छोटा था और शायद मोटाई में भी मेरे लिंग से पतला था।

मैंने उससे थोड़ा रुकने को कहा क्योंकि मुझे बहुत दर्द हो रहा था. जब मैं थोड़ा सामान्य हुआ तो मैंने अपनी गांड हिलाते हुए उससे कहा- हां, अब डालो.

इस बार उसने गांड के छेद पर थूक टपकाया, जिसने लंड के लिए चिकनाई का काम किया. साथ ही उसने एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी गांड में घुसा दिया.

जैसे ही लंड अंदर तक घुसा, मेरी चीख निकल गई उम्म्ह… अहह… हय… याह… और मेरे आंसू भी निकल आए. मैं अधमरी कुतिया की तरह वहीं पपड़ा कराहता रहा. मुझे बहुत दर्द हो रहा था.

कुछ देर बाद उसने अपना लंड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया और मेरी गांड को ही चूत समझ कर चोदने लगा.
थोड़ी देर के बाद मुझे भी मजा आने लगा.

मुझे डॉगी स्टाइल में चोदने के बाद उसने आगे से मेरी टांगें भी उठा कर मुझे चोदा.

कुछ देर बाद उसका लंड छूट गया और उसने अपनी मलाई मेरी गांड में गिरा दी.

कुछ देर आराम करने के बाद उसने मेरा लंड चूसा और अपनी गांड खोल कर अपने चूतड़ हिलाने लगा. मैंने उसकी गांड को भी लड़की की चूत समझ कर चोदा. मैंने भी उसके अन्दर अपना वीर्य छोड़ दिया. (गे XXX)

गांड चुदाई के बाद हम दोनों ने मुस्कुरा कर एक दूसरे को गांड खुलने की बधाई दी और एक दूसरे को गले लगा कर चूमा.

उस पूरी रात हम दोनों ने गांड में दर्द के कारण दवा खाई और गहरी नींद में सोये। सुबह उठ कर हमने फिर एक दूसरे को चोदा.

आज भी हम दोनों दोस्त हैं और जब भी मौका मिलता है एक दूसरे को चोदते हैं। अब हम दोनों नौकरी के कारण अलग हो गए हैं, लेकिन छुट्टियों में हम दोनों कहीं न कहीं जाते हैं और गांड चुदाई का मजा लेते हैं.

हम दोनों बायसेक्सुअल हैं. एक बार हम दोनों ने एक लड़की को साथ में चोदा, वो कहानी मैं बाद में लिखूंगा.
आपको ये गे XXX कहानी कैसी लगी मुझे कमेंट करके जरूर बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasy की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga