लड़की को पोर्न दिखाकर डाला चुदाई का जाल: गर्ल XXX स्टोरी भाग 1

लड़की को पोर्न दिखाकर डाला चुदाई का जाल: गर्ल XXX स्टोरी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “लड़की को पोर्न दिखाकर डाला चुदाई का जाल: गर्ल XXX स्टोरी भाग 1”। यह कहानी भावेश की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

गर्ल XXX स्टोरी में पढ़ें कि मेरी पड़ोसी लड़की ने खुद मासूम बनकर मुझे अपने माता-पिता की चुदाई के बारे में बताया. फिर उसने सेक्स की बातें करके मुझे उकसाया.

दोस्तो, मैं भावेश हूँ… अपने कमरे में बैठा हुआ बी.ए की पढ़ाई कर रहा था।

इतने में मेरी पड़ोसन नंदिनी रोती हुई आ गयी.
वह भी बी.ए में पढ़ रही थी.

मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ?
लेकिन वह बिना कुछ कहे रो रही थी.

वैसे वह एक बहुत ही साधारण लड़की है. वह मेरे पड़ोस में रहती है और मेरी उससे अच्छी बनती है।
वह दिखने में भी सामान्य है. उसके स्तन अभी भी बहुत छोटे हैं. वह पतली है लेकिन बहुत प्यारी बातें करती है.

हम दोनों बचपन से एक साथ खेलकर बड़े हुए हैं। मैं तो एकदम सांड जैसा आदमी बन गया हूँ, मेरे सामने तो वो बच्ची जैसी लगती है। हमारे बीच खूब बात होती थी लेकिन सेक्स की कोई बात नहीं होती थी. (गर्ल XXX)

यह गर्ल XXX स्टोरी इसी नंदिनी की Chut Chudai के बारे में है.

जब वो मेरे कमरे में आई तो मैं घर में अकेला था.
मेरे मम्मी पापा दो दिन के लिए गांव गये थे.

उसकी अनुपस्थिति में मेरा खाना-पीना सब Nandini की ज़िम्मेदारी थी।
मेरे लिए उनके घर में उनसे मिलने पर कोई रोक नहीं थी.

नंदिनी लगातार सिसकियाँ ले रही थी.

बहुत पूछने के बाद उसने हिम्मत जुटाई और बताया कि जब वह घर आई तो उसके पापा उसकी मम्मी के ऊपर लेटे हुए थे और आगे-पीछे हिल रहे थे और मम्मी भी नीचे से उसके पापा को धक्का दे रही थी।

यह सुनकर मैं हंस पड़ा और बोला- ये तो नॉर्मल बात है. बड़े लोग ऐसा करते हैं. इसे ही चुदाई कहते हैं.

वो बोली- मुझे पता है लेकिन ये रात का काम है.
मैं फिर हंसा और बोला- ये तो इंसान के मूड पर निर्भर करता है.

वो बोली- ये गंदा काम है ना.. ये तो रात को ही करना चाहिए!
मैंने कहा- तुम्हें कुछ नहीं पता. तुम तो बस मूर्ख हो.

वो गुस्सा हो गयी और बोली- मुझे सब पता है. मैंने कई बार माँ और पापा को रात में नंगे सेक्स करते हुए देखा है।
मैंने कहा- अरे पगली, जब तुम्हें पता है कि वो सेक्स करते हैं.. तो ये क्यों नहीं जानती कि सेक्स करने का कोई निश्चित समय नहीं होता। जब भी मूड हो तब किया जा सकता है।

वो मेरी बात ध्यान से सुन रही थी.

अब मुझे भी उसकी ये बातें अच्छी लग रही थीं तो मैंने उससे पूछा- तुम्हें पता भी है कि सेक्स में क्या होता है?
वो बोली- हां, देखा तो है, लेकिन कभी किया नहीं.

मैंने भी हिम्मत करके उससे कहा- तुम देखना चाहती हो सेक्स कैसे करते हैं?
उसने भी बिना सोचे हां कह दिया. मेरा हृदय मंद मंद मुस्काने लगा।

मैंने उसे अपने पास बिठाया और कहा- कभी-कभी पहली बार दर्द होता है, लेकिन मजा बहुत आता है।
मैंने उसे खून के बारे में नहीं बताया था।

वह भी एक बार हां कहने के बाद पीछे नहीं हटना चाहती थीं.
मैंने मोबाइल में एक ब्लू फिल्म लगा दी और उसे दिखाने लगा.

उस ब्लू फिल्म में एक पतली लड़की एक काले आदमी का मोटा काला लंड चूस रही थी.
फिर उसने उस हब्शी का लंड अपनी छोटी सी Tight Chut में अंदर तक ले लिया.

उन दोनों को सेक्स करते देख कर मेरे लंड में आग लग गयी.

और शायद नंदिनी भी कामुक थी.
उसने मेरी तरफ देखा और बोली- क्या ये सब सच में होता है या ये एनीमेशन है?
मैंने कहा- एनिमेशन फिल्में अलग होती हैं. एनीमेशन में तो हाथी का लंड तो चींटी की गांड में भी घुसाया जा सकता है.

मेरी बात पर वो हंस पड़ी और मेरी जांघ पर हाथ मारते हुए बोली- पहले चींटी को ठीक से दिखे, तभी इसकी गांड दिखेगी. फिर उसकी गांड में हाथी का लंड! तुम सच में बहुत मज़ाकिया हो. मैंने कहा- तुमने ही तो मजाक शुरू किया था बेबी! वो बोली- मेरा नाम नंदिनी है. (गर्ल XXX)

मैंने कहा- हां, मुझे पता है. फिर भी प्यार से तुम्हें बेबी बोला.
वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराई और बोली- प्यार से?

मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा- वो सब छोड़ो, ये बताओ क्या तुम्हें ये सब करना है जो तुमने अभी देखा है?
वो एक बार मेरी आंखों में देखने लगी और अचानक बोली- हां, मैं ये करना चाहती हूं.

मैंने कहा- बाद में कुछ मत कहना.
वो बोली- अगर मुझे बाद में कुछ कहना होगा तो कहूंगी … तुम मुझे रोकने वाले कौन होते हो?

मैंने सोचा कि वह एक अजीब लड़की है.
फिर मैंने सोचा कि यह मेरी बचपन की दोस्त है और जब तक इसकी चुदाई नहीं होगी तब तक इसका शरीर नहीं भरेगा.

वो बोली- क्या सोच रहे हो?
मैंने कहा- मैं सोच रहा हूं कि तुम्हे जलेबी शीरा पिलाया जाए.

वो हैरान होकर बोली- क्या मतलब है तुम्हारा?
मैंने कहा- वो सब छोड़ो.. पहले तुम ये बताओ कि तुम्हारे पास अभी भी कुछ समय है या तुम जल्दी घर जाना चाहती हो?

वो बोली- अरे यार, वही तो हुआ.. मैं कोचिंग से वापस आई। जबकि मुझे दो घंटे बाद घर आना था. उसी चक्कर में मम्मी पापा ये सब करने में लगे हुए थे.

मैंने हंस कर कहा- ठीक है, आज मैं तुम्हें दिखाऊंगा कि चींटी की गांड में हाथी का लंड कैसे डाला जाता है.
वो फिर असमंजस की स्थिति में आ गयी और मेरी तरफ देखने लगी.

मैंने कहा- आप बैठो, मैं अभी आया.
मैं उठा और पेशाब करके और अपना लंड धोकर वापस बाथरूम में आ गया।
तो वो थोड़ा डर गयी. (गर्ल XXX)

मैं उसके पास बैठ गया और उसे अपनी ओर खींच लिया, मैं उसके Big Boobs दबाने लगा।
वह मना करना चाहती थी, लेकिन मना नहीं कर पा रही थी.

फिर मैंने उसकी कुर्ती ऊपर उठाई और उसकी चूत पर हाथ रखा तो वो हिल गई.
वो मना करने लगी और ये सब करना बंद कर दिया.

मैंने सोचा कि अगर मैंने इसे थोड़ी सी भी ढील दी तो यह भाग जाएगी। इसलिए उसने तुरंत सलवार का नाड़ा खोला और पैंटी समेत उसे भी उतार दिया. जब मैंने पहली बार सुनहरे बालों वाली कुँवारी चूत देखी तो मेरे मुँह में पानी आ गया।

जैसे ही मैं उसे चूमने के लिए झुका, मेरे मुँह की लार उसकी चूत पर टपक पड़ी.
मैं उसे पौंछने ही वाला था कि मेरी उंगली उसकी चूत में थोड़ी सी घुस गयी.

वो भी अपनी चूत पर मेरी उंगली का स्पर्श महसूस करके सिहर उठी.
मैंने उसे उठाया और सीधा लिटा दिया. उसकी दोनों टाँगें फैलाईं और अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया।

वो अपने दोनों हाथों से बेडशीट को पकड़कर बस कराहती रही और मैं उसकी जवान कुंवारी चूत का मजा लेता रहा.
कुछ ही देर में उसने अपनी दोनों टांगें मेरी गर्दन में फंसा लीं, कमर उठा उठा कर मेरे मुँह में चूत देने लगी.

मैं समझ गया कि लड़की अब चरमोत्कर्ष के कगार पर है।
मैंने उसकी चूत को पूरा भर दिया और अपनी जीभ अंदर तक घुसा कर उसकी चूत की दीवारों को खुजलाना शुरू कर दिया.
इससे नंदिनी अपने आप को रोक नहीं पाई और जोर जोर से झड़ने लगी.

मैंने उसकी जवान कुंवारी चूत का पवित्र रस पीकर खुद को तृप्त कर लिया.

लगातार चाटने से नंदिनी की चूत एक बार फिर गर्म हो गयी.
एसी चालू होने के बावजूद हम दोनों को पसीना आ रहा था.

उसकी थकी और अलसाई हुई आँखें मुझसे मिलीं लेकिन उसने कुछ नहीं कहा। मैं अब भी उसकी आँखों में भूख देख सकता था।

अब मैंने भी अपनी हाफ पैंट नीचे खींच कर अपना लंड बाहर निकाला और उसकी आंखों के सामने लहरा दिया.
बड़ा लंड देख कर वो डर गयी, लेकिन फिर मैं उसके ऊपर लेट गया और उसे चूमने लगा.

वो घबरा गयी और बोली- मैं समझ गयी हूँ.
मैंने कहा- क्या समझ गई बेबी? (गर्ल XXX)

उसने मेरी आँखों में देखा और बोली- हाथी का लंड क्या होता है?
मैं हंसा और अपना लंड उसकी चूत की दरार में सटा दिया.

फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया.
वो लंड की गर्मी से पहले ही कराह उठी और फिर अपनी Moti Gand उठाने लगी.

मैंने अपने लंड को उसकी चूत की फांकों में ऊपर से नीचे की ओर घुमाया और उसकी चूत के छेद पर सैट करके एक जोरदार झटका मारा. मेरा लंड सीधा उसकी चूत में घुस गया.

चूत वासना से रस छोड़ चुकी थी और मेरे थूक से चिकनी हो गयी थी इसलिए एक ही झटके में मेरा लंड आधे से ज्यादा अन्दर चला गया था.

मुझे ऐसा लगा जैसे किसी दीवार में कील ठोक दी हो.
लंड अचानक अकड़ गया और मुझे अत्यधिक दर्द होने लगा.

उधर उसकी माँ की चुदाई हो चुकी थी, उसकी आँखों की पुतलियाँ फ़ैल गयी थीं और ऐसा लग रहा था मानो उसकी आवाज़ ही ख़त्म हो गयी हो। वह बेजान पड़ी हुई थी.

इधर मैंने पहली बार इतनी टाइट चूत में अपना लंड डाला था और मेरे अंदर वासना की लहर दौड़ गई थी.

मुझमें बिल्कुल भी सब्र नहीं था, मैं अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा।
मुँह से थोड़ा थूक निकाल कर हाथ में लिया और लंड को चूत में डाल दिया.

कुछ प्रयासों से मेरे लंड ने तुरंत गति पकड़ ली।
मैं नंदिनी पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहा था.

कुछ ही धक्कों के बाद नंदिनी होश में आयी और चिल्लाने लगी.
मैंने उसका मुँह बंद कर दिया और धक्का दे दिया.

करीब पन्द्रह मिनट के बाद अचानक मेरे शरीर में झटका लगा और मेरा सारा गर्म तरल पदार्थ उसकी चूत में निकल गया।
साथ ही मेरा शरीर भी उस पर गिर गया.

वो बेचारी मेरे वजन के नीचे दब गयी लेकिन एक भी चू की आवाज बाहर नहीं आ सकी.

हम दोनों पांच मिनट तक ऐसे ही चुप रहे.
फिर जब मैं उसके ऊपर से हटा तो वो पूरी तरह थक चुकी थी.

मैंने उसे पीने के लिए पानी दिया.
उसे कुछ होश आया और वह मुस्कुराने लगी.
मैंने कहा- क्या हुआ?
वो बोली- अब बोला ना बेबी?

मैंने उसके गाल सहलाये और उससे कहा- हां बेबी, बताओ ना.. क्या हुआ?
वह बोली- मैं समझ गयी चींटी और हाथी का खेल! (गर्ल XXX)

मैंने हंस कर उसे चूम लिया और उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और हम दोनों प्यार करने लगे.

वो मेरे कान में बोली- मजा आया, अगली बार और अच्छे से करेंगे, धीरे-धीरे और प्यार से.
ये कह कर वो मुस्कुरा दी. (गर्ल XXX)

मैंने कहा- अगली बार का इंतज़ार क्यों?
वो बोली- क्योंकि अभी चींटी दर्द में है.

मैंने कहा- पहली बार तो ऐसा होता है.
वह: लेकिन तुमने मुझे नहीं बताया कि यह फट जाती है!

मैंने कहा- मैं बहुत अनुभवी आदमी थोड़ी हूँ, जो सब कुछ जानता हूँ?
वो बोली- तुमने सब नेट से सीखा था ना?

मैंने कहा- तुमने भी नेट पर देखा होगा?
वो मुस्कुराई और बोली- इसीलिए तो मैंने तुम्हें मम्मी-पापा की कहानी सुनाई.

मैं समझ गया कि साली मुझसे चुदवाने आई थी और लड़की ने पोर्न के बारे में बात करके मुझसे अपना भोसड़ा बनवाने  के लिए चुद गई. अब वो उठी और अपने कपड़े पहन लिये.

मैंने उससे रात को मेरे पास आने को कहा, तो उसने मुझे चूमा और चली गयी.

तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी पहली चुदाई की कहानी?

अगले भाग में उसकी रात की धमाकेदार चुदाई की कहानी लिखूंगा.
आप मेल करके कमेंट जरूर बताये कि आपको यह गर्ल XXX स्टोरी कैसी लगी?

कहानी का अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे।

कहानी का अगला भाग: गर्ल XXX स्टोरी

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga