हॉट आंटी की न्यूड स्टोरी | ऐसी चुदाई न आपने देखी होगी ना सुनी

हॉट आंटी की न्यूड स्टोरी | ऐसी चुदाई न आपने देखी होगी ना सुनी

मेरे पहले सेक्स की हॉट आंटी की न्यूड स्टोरी। मैंने जवानी में कदम रखा लेकिन कोई चूत नहीं मिली। मेरा ध्यान अपनी सेक्सी पड़ोसन आंटी पर गया. मैंने उसे कैसे चोदा?

चूत और लंड के सभी खिलाड़ियों को मेरा सलाम। मेरे पास आप सभी के लिए एक कहानी है।

मैं चन्दन 21 साल का बिंदास लड़का हूं।
मेरे लंड को भरी-भरी अनुभवी औरतों की चूतें पसंद हैं।
ऐसी महिलाएं अपने अनुभव से लंड को खूब मजे देती हैं.

तो मैं आपको अपनी एक ऐसी ही देसी सेक्स स्टोरी बताने जा रहा हूं।
उम्मीद है कि आंटी न्यूड स्टोरी को पढ़कर आपका लंड और चूत भी उत्तेजित हो जाएंगे.

आज से 3 साल पहले मैं कॉलेज में था।
स्कूल पास करने के बाद अब मेरा दिमाग घूमने लगा…या यूँ कहें कि मेरा लंड चूत माँगने लगा.

इस उम्र में अक्सर ऐसा होता है, जो मेरे साथ भी हो रहा था।’
कॉलेज की मस्त जवान लड़कियों को देखकर मेरा लंड हर समय खड़ा हो जाता था.
लेकिन किसी लड़की, भाभी या बुआ को मनाने की हिम्मत नहीं होती थी.

मैं रोज हस्तमैथुन करता था और मेरे लंड का वीर्य ऐसे ही बहता रहता था.

मेरा ध्यान अपनी पड़ोसन की आंटी मुस्कान पर भी था।
मुझे लगा कि सिर्फ मुस्कान आंटी ही मेरे प्यासे लंड को अपनी चूत से पानी दे सकती हैं इसलिए मैं उनकी तरफ खास ध्यान देने लगा.

मुस्कान आंटी लगभग 35-37 साल की हैं, एक शांत, सुडौल शरीर वाली महिला हैं।
उसकी जवानी इतनी गर्म है कि यह अभी भी उसके दिलेर स्तन से बाहर निकलती है और उसके पूरे शरीर पर गुदगुदी करते हुए गांड खड़ी करती है।
उसके बड़े-बड़े बूब्स, गोरे चिकने हाथ, सुडौल चूतड़ मिनटों में किसी के भी लंड में पानी ला सकते हैं.

एक महिला के शरीर में एक पुरुष सबसे पहले उसके निप्पल को नोटिस करता है।
मुस्कान आंटी के दूध से भरे 36 इंच के बूब्स देखकर मेरा लंड भी सीधा खड़ा हो जाता था.
उसके स्तनों के नीचे उसका गोरा, चिकना पेट और मखमली कमर देखकर मेरे मन में उसे चोदने की तीव्र इच्छा जाग्रत हो जाती थी।

बच्चों के स्कूल जाने के बाद आंटी घर में अकेली रहती थीं और चाचा दुकान चले जाते थे।
अक्सर वह शाम को ही घर से निकलती थी।

अब मैं मुस्कान आंटी को अपने लंड के नीचे लाने की कोशिश करने लगा.
मैं आंटी के यहां धीरे-धीरे अपनी पैर बढ़ाने लगा।
आंटी धीरे-धीरे मेरी कामातुर निगाहों को पकड़ने लगीं लेकिन वो कुछ नहीं बोलीं।

सेक्सी आंटी को छेड़ने के अलावा आगे कुछ करने के लिए मेरी गांड भी फट रही थी.
मुझे समझ नहीं आ रहा था कि आंटी को अपने मन की बात कैसे कहूं.

एक दिन मैं आंटी के घर बैठा था और वो नहा कर बाहर निकली।

आंटी की गीली बॉडी देखकर मेरा लंड बुरी तरह टैन हो गया.
तभी उसकी नजर मेरे लंड के तंबू पर पड़ी लेकिन मैंने देखा तो उसने इग्नोर कर दिया.

कुछ देर बाद वह साड़ी बदलकर सज-धज कर आई और किचन में काम करने लगी।

अब मुझसे रहा नहीं गया और मैं भी किचन में चला गया। दोनों ओर से सन्नाटा पसर गया।
तभी आंटी बोलीं- मैं कब से देख रही हूं, तुम मुझे कुछ ज्यादा ही घूर रहे हो.

आंटी के इतना कहते ही मेरी गांड फट गयी; मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं आंटी को क्या जवाब दूं?

लेकिन जवाब तो देना ही था।

तभी मैंने हिम्मत जुटाकर कहा- हां आंटी।
आंटी- हां, मैं तुम्हारी हरकतों को देखकर समझ सकती हूं। लेकिन चन्दन यह अच्छी बात नहीं है। मैं तुमसे उम्र में बहुत बड़ी हूँ और शादीशुदा हूँ। मैंने अपने जीवन में कभी ऐसे काम नहीं किए हैं। मैं बहुत दिन से तुम्हें समझाना चाहती थी, पर आज मौका मिला है।

मैं- लेकिन आंटी मैं आपको पसंद करता हूं। इसमें मेरा क्या दोष?
आंटी- इसमें आपकी गलती नहीं है, लेकिन चन्दन, मेरे बच्चे हैं, मेरा एक परिवार है। मेरी एक गलती मेरी जिंदगी खराब कर देगी। इसलिए आप यहां रोज आना बंद कर दें। लोग देखते हैं और फिर बातें बनाते हैं।

मैं- आंटी लोगों का क्या! बातें बनाना लोगों का काम है। मैं आपसे दूर नहीं रह सकता आंटी। कृपया मुझे एक अवसर दें

आंटी- चन्दन, तुम्हें चांस देने का मतलब समझते हो?
मैं- हां आंटी।

आंटी- और मैं ये नहीं कर सकती. ऐसे कामों में बहुत बदनामी होती है।
मैं- आंटी आप जो भी सोचती हैं लेकिन मुझे आपसे प्यार करने की बहुत इच्छा है।

आंटी- अब क्या जवाब दूं यार! आप स्वयं ज्ञानी हैं। अभी आपकी उम्र इन सब बातों में शामिल होने की नहीं हुई है। पढ़ाई करने से इसमें फायदा ही फायदा है।
मैं- वह तो कर रहा हूं आंटी लेकिन अब मुझे आपकी जरूरत है.

यह सुनकर आंटी ने मेरी बातों का कोई जवाब नहीं दिया।

अब आंटी की खामोशी बता रही थी कि उनकी चूत भी लंड लेने की हड़बड़ाहट में है बस नखरे दिखा रही थी.

फिर वो किचन से बाहर जाने लगी।

मैं आंटी के पीछे बेडरूम में गया और हिम्मत करके आंटी को गले लगा लिया।
हटाते हुए कहने लगी- क्या कर रहे हो चन्दन…छोड़ दो…कोई देख लेगा।
तभी मैंने आंटी के बोब्स को जोर से दबाया और जल्दी से उन्हें बेड पर पटक दिया.

अब मैं उसके गुलाबी होठों पर गिर पड़ा और उसके होठों की लिपस्टिक को चूसने लगा।

आंटी मुझे भगाने का नाटक कर रही थी लेकिन मैं उस ढोंग को समझ रहा था। स्त्री कोई भी हो, वह आसानी से किसी पुरुष के सामने समर्पण नहीं करती।

एक अनुभवी महिला अपनी इच्छाओं को छुपाती है। आपको बस उन इच्छाओं को दूसरे व्यक्ति में लाने की कोशिश करनी है, और मैं वही कर रहा था।
तभी मैंने आंटी के पेटीकोट में हाथ डाला और मैं चूत को ढूंढने लगा.

आंटी मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बाहर निकालने की कोशिश करने लगीं.
इधर मेरा लंड आंटी की चूत नापने के लिए फड़फड़ा रहा था.

फिर मैंने साड़ी का पल्लू खींचा और ब्लाउज भी खोलने लगी।

आंटी- चन्दन, अभी रुक जाओ… आगे कुछ मत करो… प्लीज अकेला छोड़ दो।
मैं- नहीं, मैं नहीं रोक सकता आंटी, आज मैं आपको प्यार करता रहूंगा.
मैं जोर जोर से बूब्स को रगड़ने लगा, लेकिन वो मुझे आसानी से ब्लाउज खोलने नहीं दे रही थी.

तभी दरवाजे की घंटी बजी।
आंटी ने मुझे पीछे की ओर धकेलते हुए हटाया और साड़ी ठीक करते हुए गेट खोलने चली गईं।
देखा तो बच्चे स्कूल से लौट चुके थे।

मेरे लंड को जोर का झटका लगा, खड़े लंड पर चोट लग गई. मेरा लंड प्यासा ही रह गया.
मुझे बच्चों पर बहुत गुस्सा आ रहा था कि उनकी वजह से मेरी चोदने की इच्छा अधूरी रह गई।

अब आंटी किचन में बच्चों के लिए खाना बनाने लगीं।
मैं किचन के सामने सोफे पर बैठा था।
आंटी ऐसे बर्ताव कर रही थीं जैसे कि उन्हें बहुत बड़ा तूफान आने के बाद भी कुछ नहीं हुआ हो।

मेरा काला मोटा लंड आंटी की गांड को सहला रहा था.
बीच-बीच में आंटी भी मुझे देख रही थीं।
अब मुझे आंटी की आंखों में लंड की भूख साफ नजर आ रही थी.

खैर, फिर मुझे बिना चुदाई किए वापस लौटना पड़ा।

अब अगले दिन मैंने आंटी के घर जाने की कोशिश की लेकिन आंटी ने गेट नहीं खोला.
मेरी समझ में नहीं आया कि जो आंटी कल चुदाई के लिए तड़प रही थी, तो आज आंटी ने कैसे हाथ पीछे कर लिए!

इसी तरह दो-तीन दिन बीत गए, लेकिन आंटी ने मुझे अपने घर के अंदर आने का मौका ही नहीं दिया.
फिर एक दिन आंटी हमारे घर आईं और मुझे बुलाने लगीं, उन्होंने आकर कहा कि उनका सिलेंडर खत्म हो गया है, उन्हें नया सिलेंडर लेना है।

मैं बस मौके की तलाश में था। बिजली की रफ्तार से नया सिलेंडर लेकर आंटी के घर पहुंचा।

मैंने सिलेंडर लगा दिया।
आंटी ने मुझे धन्यवाद दिया।

मौका पाकर मैंने भी आंटी को चिढ़ाते हुए कहा- आंटी अगर आप कुछ देना चाहती हैं तो मुझे जो चाहिए दे दीजिए। अन्यथा, अपना धन्यवाद अपने तक ही रखें।

मेरी बात सुनकर आंटी चौंक गईं, जवाब नहीं दे पा रही थीं।

तभी मैंने आंटी के कंधे पर हाथ रख दिया.
उसने कहा- वो देना मेरे लिए बहुत मुश्किल है। मैंने बहुत सोचा,
मैं- आंटी आप चाहें तो कुछ भी मुश्किल नहीं है. बात आपकी है।

आंटी- आप ऐसी चीज क्यों मांग रहे हैं जो मैं नहीं दे सकती?
मैं- आप दे सकते हैं, बस आप देने को तैयार नहीं हैं। तेरी मर्जी रहने दे, बस आंटी से गुजारिश कर सकता हूं, और क्या करूं…
आंटी- यार तुम अच्छे लड़के हो लेकिन ये सब गलत है।

अब आंटी चुप हो गईं।

फिर बोली- तू मुझे मरवा डालेगा। मैंने आज तक तुम्हारे अंकल के अलावा किसी के बारे में सोचा तक नहीं। और तुम मुझसे यह सब करवाने पर तुले हुए हो। यार मुश्किल है। क्या किसी को कुछ पता है?

अगर आपको भी सेक्स समस्याएं है तो इन्हे पढ़े:

Ling par Colgate lagane se kya hota hai

Ling ko kaise kathor kare

Ling ko lamba karne ka oil name

age limit for penis growth

Penile Cancer 

मैं- किसी को कुछ पता नहीं चलेगा आंटी. घर की बात घर में ही रहेगी।
अब मुझे आंटी का जवाब समझ में आ गया था।

मैंने आंटी को पकड़ लिया और उनके रसीले गुलाबी होठों को चूसने लगा.
वह अभी भी अपना मुंह नहीं खोल रही थी।
मैं उसके बदन से कसकर लिपट गया और लंड को चूत की जगह पर धकेलने लगा.

आंटी का शरीर अब कांपने लगा। शायद उसने कभी किसी अजनबी से चुदाई नहीं की थी।

अब मैं जोर-जोर से आंटी के निप्पलों को दबाने लगा.
वो मेरा साथ नहीं दे रही थी लेकिन मुझे हटा भी नहीं रही थी.

अब मेरा एक हाथ आंटी की गांड पर पहुँच गया.
मैं दोनों हाथों से आंटी की नशीली गांड को मसलने लगा.

मुझे आंटी की गांड रगड़ने में बहुत मज़ा आ रहा था.

तभी मैंने पीछे से साड़ी और पेटीकोट उठा लिया और आंटी के चड्डी नीचे खिसका दी.
आउच! अब मैं आंटी की मस्त नंगी गांड को मसल रहा था.
मुझे अपने मोटे नितम्बों को रगड़ने में बहुत मज़ा आ रहा था।

मैं ऊपर से उसके होठों को चूस रहा था और नीचे से उसकी गांड को सहला रहा था.

अब आंटी भी मेरा साथ देने लगीं।

खैर, अब मैंने मौका देखा और उसे बिस्तर पर ले गया।

बिस्तर पटकते ही मैं उसके शरीर पर गिर पड़ा। अब मैंने फटाफट अपने कपड़े उतार फेंके और पूरी तरह नंगी हो गई।
आंटी मेरी काली, मोटी, लंबी भुजाओं को निहारने लगीं।

मैं धैर्य खो रहा था।

अब मैं जल्दी से आंटी के ऊपर चढ़ गया और फिर उनके रसीले होठों को अपने होठों में फंसा लिया.
कमरा कुत्ते की आवाज़ों से गूंज उठा … बहुत …।

मैंने उसका ब्लाउज और ब्रा दोनों उतार दिए।
आंटी की नंगी चूची देखकर मेरे अंदर काम का शैतान जाग गया, जिसके मुंह में अब खूब पानी आ रहा था.

मैंने टपकती हुई जीभ से आंटी के निप्पल को चाटा और फिर तुरंत चूची पर मुंह लगाकर पीने लगा.

मैं बच्चे की तरह आंटी की चूची से दूध निकालने की कोशिश करने लगा.

गाढ़ा गाढ़ा दूध पीने में बड़ा मजा आता था।
इतने दिनों से मैं इन चूचियों की एक झलक पाने को बेताब था। आज जब वे मुझे मिले तो मैं उन्हें कुचलने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा था।

लेकिन पकड़ बहुत मजबूत थी, तो आंटी दर्द से रोने लगीं- आह…आई…आराम से करो…दर्द बहुत हो रहा है.
मैंने आंटी के बूब्स को मसल मसल कर लाल कर दिया.
मैं धैर्य खो रहा था।

मेरा लंड अब आंटी की चूत की गहराई नापने के लिए छटपटा रहा था.

तभी मैं जल्दी से नीचे उतरा और आंटी की टांगें ऊपर करके पैंटी ऊपर खींच ली.

आंटी की चूत गुलाबी रंग की थी जिस पर हल्की झाइयां भी उभर आई थीं.

मैंने आंटी की टांगें फैला दीं और लंड को चूत के छेद में डालने लगा.
अब वो कायर सी लग रही थी – बहुत बड़ा लग रहा है… आराम से डालो यार!
मैं- हां आंटी। इसकी चिंता मत करो, मैं सब कुछ आराम से कर लूंगा।

अब मेरा लंड आंटी की चूत में जम चुका था.
मैंने आंटी के पैरों को कंधों पर रखा और फिर लंड को चूत में घुसेड़ दिया.

मेरे लंड के एक ही झटके में आंटी जख्मी हो गईं.
उनका सारा अनुभव फेल हो गया था।

वह दर्द से कराहने लगी- आईईई… ऊई मर गई। इसे बाहर निकालो… बहुत दर्द हो रहा है।
लंड को फाड़ कर आंटी की चूत अंदर सेट कर दी थी लेकिन पूछने पर मैंने लंड निकाल लिया.

आंटी ने राहत की सांस ली।
लेकिन ये राहत ज्यादा देर नहीं रही, मैंने फिर से लंड को चूत पर रख कर अंदर धकेल दिया.

मैंने अब आंटी को चोदना शुरू कर दिया।
आंटी फिर चिल्लाईं।
आंटी को धीरे-धीरे सहलाते हुए मैं चोदने लगा.

मुझे आंटी की हॉट चूत चाटने में बहुत मज़ा आ रहा था.
मेरा लंड पहली बार चूत का स्वाद चख रहा था.
लंड पीटने से आंटी के बूब्स जोर-जोर से उछल रहे थे.

मुझे आंटी का किरदार निभाने में बहुत मजा आ रहा था।
मैं सिसक-सिसक कर आंटी से कह रहा था- अहह मुस्कान… तुम बहुत प्यारी हो… मैं बहुत दिनों से तुम्हारा किरदार निभाने की सोच रहा था, आज मेरा सपना पूरा हो गया. आज मैं तुम्हें जमकर खिलाऊंगा।
आंटी- आह आई… आ आई आ आराम… से… तेरा मोटा लंड मेरी जान की राह है… हाय… ऊई मर गई।

बेडरूम में आंटी की दर्द भरी चीखें गूंज रही थीं।
मैं आंटी को झामझम बजा रहा था।

तभी आंटी की चीखें थम गईं और कुछ ही देर में आंटी की चूत में मोटा सफेद पदार्थ भर गया.

मेरा लंड झज्जम आंटी के सरोवर में उछल रहा था.
लंड की धक्के से आंटी की चूत से पानी निकलने लगा.
मैं उसकी टांगों को हवा में लहरा रहा था और उसकी चूत में जोर से लंड घुसा रहा था।

सामने आंटी और अंकल की तस्वीर थी जिसमें आंटी अंकल के साथ मुस्कुरा रही थी और यहाँ मैं अंकल के सामने उनकी लाडली को चोद रहा था।

तभी जोरदार पिटाई से आंटी फिर से पानी-पानी हो गईं।
अब आंटी का बदन पसीने से लथपथ हो चुका था।

तभी मैं आंटी के पैर जोड़कर उनके सिर की तरफ ले गया.
मैंने आंटी के पैर पकड़ लिए।
अब मैं कुछ देर के लिए खड़ा हुआ और चूत को खेलने लगा।

आंटी फिर दर्द से कराहने लगीं- आह आह… आह… आह… सिसस्स आह… आईईई ओह मम्मी।
मैं भी सिसकते हुए- ओह मुस्कान…कसम…आह! बहुत मज़ा आ रहा है!
मैं गांड हिला-हिलाकर आंटी का बहुत बुरा हाल कर रहा था.

मेरा लंड आंटी की चूत पर बहुत अच्छे से लग रहा था.
आंटी- आह आह…आह…आह…आह…चन्दन…तुम तो बहुत दमदार खिलाड़ी निकले…ऐसा तो मैंने सोचा भी नहीं था.

इसी बीच जोरदार पिटाई से एक बार फिर आंटी का पानी निकल आया।
वह फिर पसीने से तरबतर हो गई।

आंटी- यार चन्दन बस्स… मेरे पैर दुखने लगे हैं। अब दूसरे तरीके से चोदो।
मैं- आंटी बुस…थोड़ी देर रुकिए।
आंटी को बड़ी मुश्किल से राहत मिली।
जोर से पीटने से आंटी की चूत का बहुत बुरा हाल हो गया था.
आंटी की चूत कचूमर हो गई थी.

अब मैंने जल्दी से पेटीकोट और साड़ी के बटन भी खोल दिए। अब हॉट आंटी नंगी हो चुकी थी।

मैंने उसे घोड़ी बनने के लिए कहा।
वो नखरे करने लगी और बोली- अरे यार… ऐसे ही चोदो!
मैं- नहीं, आंटी को घोड़ी बनना पड़ेगा।

बहुत कहने पर वह घोड़ी बन गई।
मैंने जल्दी से लंड को चूत के छेद में सैट किया और फिर कमर को पकड़कर जबरदस्ती लंड को चूत के अंदर धकेल दिया.
वो मेरे लंड के गुस्से में फिर से काटने लगी.

कुछ देर धीरे धीरे चोदने के बाद मैं आंटी की चूत में जोर जोर से झटके मारने लगा.
वह दर्द से कराहने लगी- IEEEE… आह आह… आह आह… ऊओह… धीरे… धीरे… प्लीज!

तभी तेजी से हिलने से आंटी का पानी निकल आया।
चूत का पानी उसकी टांगों से होते हुए बिस्तर पर गिरने लगा.

आंटी- अभी रोको चन्दन… मैं बहुत थक गई हूं।
मैं- मुस्कान, अभी और खेल लूं यार… अब से तुम कितने थक गए हो!
आंटी- मैं खेलने से मना नहीं कर रही हूं. जितना चाहो खेलो, लेकिन थोड़ा आराम करो।

सच में मेरे लंड ने आंटी को बहुत बुरी तरह जख्मी कर दिया था.
मेरे लंड ने आंटी के बदन के हिस्से को हिला दिया था जिससे आंटी की चूत फूल गई थी.
अब मैंने आंटी की चूत से लंड निकाला और आंटी को छोड़ दिया.

आपको मेरी हॉट आंटी की न्यूड स्टोरी कैसी लगी मुझे ईमेल करके बताएं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga