पत्नी और साली को घोड़ी बनाकर चोदा | जीजा साली सेक्स स्टोरी भाग-1

पत्नी और साली को घोड़ी बनाकर चोदा | जीजा साली सेक्स स्टोरी भाग-1

आज की रितु जी की कहानी शहनाज़ की जुबानी धन्यवाद रितु जी आपने मुझे यह अबसर दिया हेलो दोस्तों मैं शहनाज़ दिल्ली से उम्मीद है आपको मेरी यह कहानी बहुत पसंद आएगी यह उसल घटना  है

जीजा साली सेक्स स्टोरी में पड़े किस तरह से सौतेली बहन ने अपनी छोटी बहन की चुत अपने पति के हवाले की और दोनों घोड़ी बनकर साथ में चुदी कैसे जीजा ने अपनी पत्नी और साली को दुबई ले जाकर खूब चोदा और दोनों की चुत को चोद चोद के चुत का गुलदस्ता बना दिया।

दोस्तो, आपने मेरी पिछली कहानी:-हॉट कॉलेज गर्ल सेक्स स्टोरी

को बहुत पसंद किया, आप सभी का बहुत – बहुत धन्यवाद।

जैसा कि मैंने पहले भी कहा था कि मेरी कहानियाँ कोरी कल्पना नहीं बल्कि मेरे किसी न किसी पाठक की जीवन यात्रा का एक पड़ाव हैं।

इसलिए इन कहानियों के किरदार आपको अपने पड़ोस में होने का एहसास कराएंगे

आज की जीजा साली सेक्स स्टोरी शहनाज की है.
शहनाज़ और आशिका दो चचेरी बहनें हैं। एक ही घर में पढ़ीं और बड़ी हुईं और बहनों से ज्यादा दोस्त की तरह थीं।

आशिका पढ़ाई-लिखाई में बहुत तेज़ है, जबकि शेहनाज अल्हड़, बिंदास, खूबसूरत और चंचल है।

आशिका जो भी हासिल करने का मन बना लेती है, उसे हासिल करके ही रहती है और शहनाज़ जो भी ठान लेती है, उसे ऐसा बेंचमार्क बना लेती है कि वह उसकी ओर खिंची चली आती है।

दोनों बहनें एक-दूसरे से बहुत प्यार करती थीं, एक-दूसरे पर जान छिड़कती थीं।

आशिका शहनाज़ को पढ़ाई में अव्वल लाने के लिए बहुत कोशिश करती है।
लेकिन शेहनाज तो हवा का तेज़ झोंका थी… ऐसा झोंका जिसमें सब उड़ जायेंगे!
भले ही वह प्रेमी हो.

कुल मिलाकर आशिका की संगति में तो शहनाज़ अच्छे अंकों से पास होती रही, लेकिन शहनाज़ की संगति ने आशिका को बहुत शरारती बना दिया।
लेकिन आशिका सिर्फ शहनाज़ के साथ खुली करती थीं!

दोनों मस्ती कर रहे हैं.
चाहे बेड हो या शॉवर, वहां शरारतों की शुरुआत तो शहनाज ही करती थीं, लेकिन फिर आशिका भी उनका खूब साथ देती थीं।

उनकी शरारतें इतनी बढ़ गई थीं कि एक बार उन्होंने अपने दोस्तों के साथ गोवा ट्रिप के दौरान थाई मसाज का लुत्फ उठाया था।
सिर्फ सेक्स के अलावा उन दोनों ने जवानी का सारा मजा लूट लिया था.

इसी बीच आशिका की शादी एक सरकारी अधिकारी राहुल से तय हो गई.
राहुल एक सरकारी कंपनी में अधिकारी थे. मोटी तनख्वाह और कोई पारिवारिक जिम्मेदारी नहीं.
वह दिल्ली में अकेले रहते थे, उनके परिवार के लोग मुंबई में ही थे।

इस बार जब मोहित का दुबई जाने का प्रोग्राम बना तो शहनाज आशिका को भी अपने साथ ले गईं.

आशिका ने बहुत मना किया कि वह मुझे दाल-चावल में मूसलचंद बनाकर क्यों ले जा रही है।
लेकिन शहनाज़ जिद पर अड़ गई, उसने कहा- मैं एक हफ्ते तक मोहित के साथ नहीं बल्कि तुम्हारे साथ रहूंगी।

खैर, दुबई के होटल में शहनाज़ की जिद के बावजूद आशिका ने अलग कमरा ले लिया।
इस बार मोहित के पास काम कम था.. तो पहले तीन दिन तो तीनों घूमे-फिरे और मौज-मस्ती की।

आशिका और मोहित के बीच भी कोई पर्दा नहीं था, मोहित उसे पूरी घरवाली की तरह चूमता था, कहता था कि वो आधी घरवाली है।
इस पर शहनाज खूब हंसती हैं और मोहित को और भड़काती हैं.

आशिका अकेले में शिकायत करती थी- तुम्हारा पति मेरे मम्मों को दबाता है, उसका बस चले तो अन्दर हाथ डाल दे.
यह सुनकर शहनाज कहती हैं- एक बार सवाल मिलेगा तो अनुभव भी मिलेगा. बाद में कोई दिक्कत नहीं होगी. पहले महीने में ही मोहित ने मेरे मम्मों को दबा-दबा कर लाल कर दिया था.

रात को शहनाज़ मोहित के साथ सोती थी, कभी-कभी चुदाई करवाने के बाद आशिका के पास आ जाती थी और उससे लिपट जाती थी।

आशिका कहती है- अभी करवा कर आ रही है, संतुष्ट नहीं हो क्या?
शहनाज़ उन्हें चिढ़ाती हैं- आज रात तीनों मिलकर करेंगे.
आशिका उसे डांटती है।

हालाँकि उसकी चुदाई का अहसास पाकर अब आशिका की चूत भी पानी छोड़ देती है.

आख़िरकार शहनाज़ ने आशिका को मना लिया कि आज रात आशिका उसके साथ सोएगी और सोने का नाटक करेगी और उसकी लाइव चुदाई देखेगी।
आशिका बोली- अगर मोहित मेरे ऊपर चढ़ गया तो?
इस पर शहनाज बोली- नहीं, तुम्हारी पहली चुदाई तो राहुल ही करेगा, उसके बाद फिर कभी साथ में चुदाई करेंगे.

अब मोहित ने भले ही आशिका के साथ सेक्स नहीं किया हो, लेकिन अब उन तीनों को कहीं भी चूमने और छूने से परहेज नहीं था.

उन दोनों का शरीर सुगठित और गोरा रंग था।

आशिका ने हंसते हुए शहनाज़ से कहा कि शहनाज़ कही तेरी नज़र राहुल पर तो नहीं है, मैं राहुल को तुम्हें नहीं देने वाली हूँ!
शहनाज़ भी हंसते हुए बोलीं- चलो शर्त लगा लो, देखना तुम राहुल को मेरे पास लाओगी।

बात हंसी की थी, आई गयी हो गयी।

रात को शहनाज़ ने मोहित से कहा- आज आशिका भी यहीं सोयेगी. बेचारी अकेली बोर होती है. बस अपने आप पर नियंत्रण रखना.

आज सेक्स नहीं करेंगे, जो करना है कर लो मजे करो.


मोहित भुनभुनाया पर बात ये तय हुई कि हद नहीं टूटेगी पर कोई किसी बात का बुरा नहीं मानेगा.

रात को बाहर डिनर करके 11 बजे करीब तीनों होटल पहुंचे.
आशिका अपने रूम में ही चली गयी तो शेहनाज ने चेंज करके एक फ्रॉक डाली और गयी आशिका को बुलाने.
वो उसे जिद करके अपने साथ ले आई।

आशिका ने बहुत मना किया की मोहित का मूड खराब रहेगा पर शेहनाज नहीं मानी, बोली- एक दिन नहीं करेंगे तो क्या हो जाएगा.

जब तू सो जायेगी तब कर लेंगे. फिर कल तो जा ही रहे हैं वापिस.


जब आशिका ने नाइट सूट पहनना चाहा तो शहनाज़ ने उसे ज़बरदस्ती एक फ्रॉक पहनाई और साथ ले आई!

उन्हें इस ड्रेस में देखकर मोहित ने सीटी बजाई और आगे बढ़कर आशिका को गले लगा लिया.

मोहित बोला- यार, क्यों न राहुल के लिए दूसरी लड़की ढूंढ लें और तुम मुझ से ही शादी कर लो.

आशिका बोली- हाँ यार, मन तो मेरा भी तुम्हारे पास है, पर क्या करूँ बेचारी शहनाज़ का ख्याल आता है। या तो राहुल को भेज दो?
तीनों हंस पड़े.

मोहित ने हार्ड बीयर की तीन कैन खोलीं।
यदि इनमें अल्कोहल की मात्रा बहुत अधिक हो तो व्यक्ति नशे में आ जाता है।

तीनों बिस्तर पर बैठ कर मजाक करने लगे.

जब मोहित बार-बार आशिका की जाँघों पर हाथ फेरता तो आशिका हँसती और उसे झिड़क देती- अब तो पूरा परिवार है तुम्हारा तो आधे परिवार की नियत क्यों खराब कर रहे हो?
तो मोहित बोला- आज मैं उसे आधा बनाऊंगा और तुम्हें पूरा।

आशिका ने अपनी लंबी जीभ निकालकर उसे चिढ़ाया।

गपशप में रात का एक बज गया.
बियर का सुरूर भी छा गया था.

आशिका बोली- मुझे नींद आ रही है!
इतना कह कर वो बिस्तर के दूसरी तरफ घूम कर लेट गयी.

शहनाज़ ने रोशनी कम कर दी और मोहित की बाहों में आ गई।
मोहित उसके होठों को चूमने लगा।

दोनों एक दूसरे से चिपक गये.

शेहनाज को आशिका का ख्याल था तो उसने मोहित से कहा- अब बस, अब सो जाओ. वर्ना आशिका भी नहीं सो पाएगी.


आशिका को नींद नहीं आई थी, उसने कहा- नहीं, पहले तुम निपट लो, मैं इसीलिए मना कर रही थी कि तुम लोग डिस्टर्ब हो जाओगे.

शहनाज हंसते हुए आशिका से चिपक गई- नाराज मत हो, आज मैं तुम्हारे साथ ही सोऊंगी. मोहित अपने हाथ से काम करेगा.

आशिका के होठों से टकरा गईं शहनाज.
आशिका ने कसम खाई तो शहनाज़ ने उसे डांटा- आज हम वैसे ही सोएंगे जैसे अपने कमरे में सोते थे, मोहित सिर्फ देखेगा।

तो आशिका ने उसे धक्का दिया- चल हरामी, तू तो पैदाइशी बेशर्म है.

अब शहनाज़ आशिका की पीठ से चिपक कर लेट गयी.
शहनाज़ ने अपनी गोरी चिकनी टाँगें आशिका की टाँगों के ऊपर रख दीं और ऊपर-नीचे होने लगीं।

आशिका गालियां देने लगी तो शहनाज ने अपने हाथों से आशिका के मम्मे पकड़ लिए.

अब कमरे में अँधेरा था.

आशिका ने भी हथियार डाल दिये.
शहनाज़ उसे चूमती चाटती रही और कभी अपने हाथों से आशिका की चुचियों को सहलाती तो कभी उसकी फ्रॉक ऊपर करके उसकी चूत में ऊँगली करती.

उसकी हरकतें महसूस करके मोहित गर्म हो गया, उसने अपना हाथ अपने अंडरवियर के अंदर डाल दिया और लंड को सहलाने लगा।

थोड़ी देर बाद आशिका ने फुसफुसा कर शहनाज़ से कहा, “बहुत हो गया, अब उसे सोने दो।”
आशिका को नशा होने लगा था, वो सोने की कोशिश करने लगी.

थोड़ी देर बाद आशिका की आंख खुली और उसे महसूस हुआ कि मोहित का हाथ उसके और शहनाज़ के बीच है।

उसने अपने दिमाग पर जोर डाला तो उसे एहसास हुआ कि मोहित शेहनाज के मम्मे मसल रहा है और शायद शेहनाज के हाथ में उसका लंड है.
मोहित ने शहनाज़ के कान को चूमा तो शहनाज़ ने अपना सिर घुमाकर उसे चूम लिया और फुसफुसा कर बोली- आज ज्यादा बदमाशी नहीं, चुपचाप सो जाओ।

लेकिन मोहित नहीं माने और शहनाज से चिपके रहे.

जब आशिका को फच फच की आवाज सुनाई दी तो उसने ध्यान से अपने कान लगाए और तिरछी नजरों से देखा तो उसे एहसास हुआ कि शहनाज ने अपनी एक टांग उठाकर मोहित की टांग पर रख दी है और मोहित ने अपनी उंगली शहनाज की चूत में डाल दी है.
मालिश से चूत अपने आप आवाज कर रही थी.

शहनाज भी मोहित का साथ देते हुए उन्हें किस कर रही थीं.

मोहित फुसफुसाया- डार्लिंग, एक बार आशिका के स्तनों को छू लो।
आशिका सिहर उठी.

शहनाज ने कहा- नहीं, उससे दूर रहो. अगले महीने उसकी शादी है. तुम्हें यकीन नहीं है, मम्मी इसे मसल मसल कर गर्म करो और फिर इसके ऊपर चढ़ जाओ.

ये सब सुन कर आशिका की चूत ने भी पानी छोड़ दिया.
उसका मन कर रहा था कि मोहित का हाथ पकड़ कर अपनी चूत में डाल लूं कि तुम भी अपनी हसरतें पूरी कर लो राजा.

लेकिन आशिका ने खुद पर काबू रखा कि क्या वह राहुल का भरोसा सिर्फ राहुल को ही देगी.

शहनाज फिर से आशिका से लिपटकर लेट गईं.

थोड़ी देर बाद मोहित का हाथ उसके स्तनों को मसलने लगा।

शेहनाज भी मोहित का साथ देते हुए उसे चूम रही थी.

शेहनाज बोली- तुम मानोगे या नहीं.
मोहित फुसफुसा कर बोला- केवल एक बार आशिका के निप्पल छुवा दे, फिर सो जाऊंगा, कसम से!

शेहनाज ने एक आह भरी और धीरे से अपना हाथ आशिका के ऊपर रखते हुए उसके मम्मों पर रख दिया.

अब शहनाज़ ने धीरे से आशिका की फ्रॉक का ऊपर का बटन खोला और आशिका के मम्मे पकड़ लिये।
आशिका कसमसा कर बोली- क्या कर रहे हो?
शहनाज बोलीं- पहली बार कुछ कर रही हूं, चुपचाप सो जाओ!

थोड़ी देर के बाद शेहनाज हिली और अपना हाथ हटाया और अब आशिका के मम्मों पर एक मरदाना हाथ था.
आशिका हैरान थी.
वह समझ गई कि यह मोहित का हाथ है.

अब शहनाज़ ने धीरे से आशिका की फ्रॉक का ऊपर का बटन खोला और आशिका के मम्मे पकड़ लिये।
आशिका कसमसा कर बोली- क्या कर रहे हो?
शहनाज बोलीं- पहली बार कुछ कर रही हूं, चुपचाप सो जाओ!

वह कुछ सोच पाती, इतने में मोहित ने उसके चुच्चो को सहलाते हुए सीधे उसके पिंक निपालो को गोल गोल सहलाना शुरू कर दिया था।

आशिका के निप्पल कड़क हो चले थे.
उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि वह करे तो करे क्या.

मोहित बारी बारी से उसके दोनों मम्मे सहला रहा था.

शेहनाज बीच से हट गयी थी और मोहित उससे चिपटा हुआ था.

आशिका का हाथ पीछे हुआ तो उसका हाथ मोहित के ताने हुए लंड से टकरा गया.
उसे करंट सा लगा. कोई मरदाना लंड पहली बार वह छू रही थी तो घबराहट और शर्म के बावजूद भी आशिका ने मोहित के लंड को अपने हाथों में जकड़ लिया.

अब मोहित ने उसके कान के पीछे चूमा और उसका चेहरा घुमाकर उसके होंठों को चूम लिया।
शायद मोहित उसकी चूत में उंगली करना चाहता था क्योंकि जब उसने आशिका की फ्रॉक उठाने की कोशिश की तो शहनाज उठकर बैठ गई और मोहित से बोली- अब तुम्हारा काम हो गया, या तो चुपचाप सो जाओ या हम दूसरे कमरे में जा रहे हैं।

मोहित शुभरात्रि कहते हुए लेट गया।

अब तीनों सोने की कोशिश करने लगे.

प्रिय पाठको, आपको जीजा साली सेक्स स्टोरी का आनंद आ रहा होगा. मुझे टिप्पणियों में बताएं।
[email protected]

जीजा साली सेक्स स्टोरी का अगला भाग: जीजा साली सेक्स स्टोरी भाग-2

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga