कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी भाग-2

कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी भाग-2

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

इस कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा होगा –

कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी भाग-1 ,

कि मैं आशिका को सेक्स के लिए होटल में ले गया था और उसके सारे कपड़े उतार दिए थे।

अब आगे..

दोस्तों, लड़कियों के बड़े चूतड़ मेरी सबसे बड़ी कमजोरी रहे हैं।

मैं लड़कियों के रूप-रंग को लेकर उतना चिंतित नहीं हूं जितना कि उनके नितंबों और स्तनों के आकार को लेकर हूं। क्योंकि सेक्स का मजा तो इन्हीं से आना है।

दूसरी बात यह है कि अगर लड़की के नितंब बड़े हों तो सेक्स के दौरान लंड के पिचकारी मारने पर जो आवाज आती है वह काबिले तारीफ है।

उस समय यह समझ आ जाता है कि लड़की भी लंड को अधिक देर तक झेलने में सक्षम होगी। नहीं तो पतली लड़की की हड्डियाँ हमें चुभने लगेंगी।

तो दोस्तो, इस समय मैं अपनी कॉलेज की दोस्त आशिका के साथ होटल के कमरे में पूरी मस्ती कर रहा था, उसके नितम्बों को दबा रहा था और काट रहा था। आशिका भी मजे से दे रही थी।

फिर मैंने आशिका के कान में कहा- बेबी, क्या तुम्हें आइसक्रीम खानी है?

उसने अचानक मेरी तरफ देखा।

मैंने हाथ से लंड की तरफ इशारा किया। आशिका ने अपना सिर हिलाया और कहा कि उसने यह सब कभी नहीं किया है।

मैंने उसे समझाया कि सेक्स का असली मजा लेने से पहले उसे ये भी ट्राई करना चाहिए।

मैंने उसे जाँघों से पकड़ कर बिस्तर पर घुमाया और अपना मुँह उसकी जाँघों के बीच रख दिया। जैसे ही मेरी जीभ उसकी चूत पर लगी, उसके मुँह से

‘ई…स्स्स…’ की आवाज निकल गई। फिर वह ऐसे चुप हो गयी जैसे उसके गले में दम घुट गया हो।

फिर जब मैं उसकी चूत चाटने लगा तो उसका हाथ भी मेरे लंड पर चलने लगा। जो ठीक उसके चेहरे के सामने था।

पहले तो वो धीरे-धीरे अपना हाथ चलाने लगी, लेकिन थोड़ी देर बाद मैंने उसके होंठों को अपने लंड पर महसूस किया।

जब तक मैं ये पल देख पाता, मेरा पूरा लंड उसके मुँह के अंदर जा चुका था।

अब हम दोनों एक दूसरे को अधिकतम मजा देने में लगे हुए थे।

हालाँकि मेरा मोटा लंड उसके मुँह में बड़ी मुश्किल से जा पा रहा था, क्योंकि शायद उसे लंड चूसने का कोई अनुभव नहीं था।

फिर भी वह पूरी कोशिश कर रही थी।

लंड चुसवाते समय जब मैंने अपना सिर घुमाया तो देखा कि उसकी लिपस्टिक मेरे लंड पर चिपकी हुई थी।

अब मेरा लंड भी झटके मारने लगा था और कभी भी झड़ सकता था। उसकी चूत भी खूब पानी छोड़ने लगी, जिसे मैं पूरा मुँह में लेने में लगा हुआ था।

उत्तेजना में मैं उसकी चूत को अपने होठों से सहलाने लगा। फिर वह पूरी तरह स्खलित हो गयी।

मैंने उसका सारा रस अपने मुँह में ले लिया, जबकि वह अभी भी मेरा लंड चूस रही थी और एक हाथ से मेरी अंडकोष भी सहला रही थी। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

मैं उसके इस व्यवहार को सहन नहीं कर सका और मैं भी झड़ने वाला था इसलिए मैंने अपना लंड बाहर निकालने की कोशिश की,

लेकिन उसके होठों की पकड़ इतनी मजबूत थी कि मैं लंड बाहर नहीं निकाल सका और सारा वीर्य उसके मुँह के अंदर ही निकल गया।

इस समय आशिका आँखें बंद करके किसी तरह मेरा पानी निगलने की कोशिश कर रही थी और उसकी साँसें भी तेज़ चल रही थीं।

मैंने धीरे-धीरे फिर से उसके स्तनों को सहलाना शुरू किया तो उसने मुस्कुराते हुए अपनी आँखें खोलीं और आँखों से मुझे धन्यवाद कहा।

वो धीरे से बोली- आज पहली बार मैंने वीर्य का स्वाद चखा है और वो भी तुम्हारा!

मैं खुश हुआ।

उसने यह भी बताया- मेरा पति मेरी चूत मुँह में नहीं लेता।

अब हम दोनों बातें भी कर रहे थे और एक दूसरे के शरीर को भी छू रहे थे।

दोस्तों आशिका ने बताया कि उसे खुलकर फोरप्ले करना पसंद है जबकि उसके पति को यह बिल्कुल भी पसंद नहीं है और वह सेक्स में कोई एक्सपेरिमेंट भी नहीं करता है।

जब मैंने उससे उसकी सुहागरात के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उस रात भी मेरे पति आए थे और अपने और मेरे कपड़े उतार कर अपना खड़ा लंड उसमें डाल दिया था।

मुझे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन उसके पति को इसका एहसास तक नहीं हुआ।

फिर मैंने उससे मजाक करते हुए कहा- आशिका, तुमने अपने पति को कुंवारी चूत दी थी, जबकि उसने तुम्हें इतना मजा भी नहीं दिया था।

लेकिन आज मैं तुम्हें पूरा मजा दे रहा हूं तो तुम मुझे क्या खास दोगे?

इस पर उन्होंने कहा- मेरे पास अलग से देने के लिए कुछ नहीं है। अब आप ही बताओ मैं क्या दूं?

इस पर हंसते हुए मैंने धीरे से अपना हाथ उसके नितंबों के बीच डाला और उसकी गांड पर फिराया और कहा- ये दे।

फिर वो झटके से बोली- छी: वहाँ भी कोई ऐसा करता है क्या?

मैंने उससे कहा- लड़की के दोनों छेद लंड डालने के लिए ही बने होते हैं। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

उन्होंने पूछा- आप ऐसा कैसे कह सकते हैं??

अब मैंने उसे समझाया कि लड़कियों के नितम्ब इतने बड़े होते हैं कि उनसे दोनों तरफ से खेला जा सके।

इस पर वो डरते हुए बोली- साहिल, जो चाहो कर लो। लेकिन कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए क्योंकि मुझे घर भी वापस जाना है।

मैंने उसे पूरा आश्वासन दिया- मैं दर्द कम करने की कोशिश करूंगा। यदि आपको सही नहीं लगता तो ऐसा नहीं करेंगे।

इस पर उसका डर कुछ कम हुआ और वह भी गांड मरवाने के लिए तैयार हो गयी।

सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करें :

जैसे दोस्तों… मैं आपको पहले ही बता चुका हूँ कि लड़कियों के बड़े-बड़े नितम्ब हमेशा से मेरी कमजोरी रहे हैं।

आज आशिका जैसी गृहिणी, जिसकी गांड 36 इंच लंबी थी, मुझसे चुदवाने के लिए तैयार थी। तो मुझे खुद अपनी किस्मत पर गर्व था।

मैंने आशिका से कहा- आज हम शादी का दिन मनाने जा रहे हैं, जिसे तुम जिंदगी भर याद रखोगी।

हालाँकि उसके मन में अभी भी कुछ डर बाकी था, लेकिन उसे मुझ पर पूरा भरोसा भी था।

अब मैंने आशिका को अपने ऊपर लेटा लिया और उसके होंठों को चूमने लगा और साथ ही मेरे दोनों होंठों को चूमने लगा 

और उसके भारी नितम्बों को सहला रहा था। साथ ही मेरी एक उंगली भी उसकी गांड पर दस्तक दे रही थी।

मैंने उससे धीरे से पूछा- कोई क्रीम वगैरह है क्या?

उन्होंने कहा कि हां, उन्होंने अपने पर्स में सनस्क्रीन जरूर रखी होगी।

मैंने वह क्रीम निकाली और थोड़ी सी अपनी एक उंगली पर ले ली और उसकी गांड में अन्दर-बाहर करने लगा।

हालाँकि शुरू में उसे थोड़ा दर्द हुआ, लेकिन कुछ देर बाद उसे मजा आने लगा और वो खुद ही अपनी गांड हिलाने लगी।

अब मैं उसे गर्म करने के लिए उसके एक चुचे को मुँह में लेकर चूसने लगा और उसके चुचे को काटने भी लगा।

उसके मुँह से ‘आह उह आह.. मम्मी..’ जैसी आवाजें निकलने लगीं।

उसका एक हाथ मेरे लंड को सहला रहा था, जिससे मेरा लंड भी पूरा सख्त हो गया था।

मैंने आशिका से धीरे से कान में पूछा क्या तुम अपनी गांड मरवाने के लिए तैयार हो?

उसने मेरी आंखों में देखा और हां में जवाब दिया।

अब मैंने उसे पकड़ कर बेड के किनारे कुतिया की पोजीशन में खड़ा कर दिया। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

मैं खुद बिस्तर के नीचे खड़ा हो गया और अपना लंड उसके नितंबों के बीच और उसकी गांड के बीच रगड़ने लगा।

अब तो मेरी डार्लिंग आशिका भी अपने नितम्ब हिला-हिला कर मुझे चोदने का निमंत्रण देने लगी।

दोस्तों, आज मेरे सामने एक बड़ी गांड वाली एकदम गोरी औरत थी जो चुदने के लिए तैयार थी। मुझे भी अपनी किस्मत पर गर्व था।

मैंने अपने दोनों हाथों से आशिका की गांड के गोलों को कस कर पकड़ लिया और अपने कूल्हों को उसकी गांड पर धकेलने लगा।

मेरा आधा लंड उसकी गांड में गच्च से घुस गया और आशिका के मुँह से एक तेज़ चीख निकली, जिसे उसने तकिये पर अपना मुँह बंद करके दबा लिया।

उसकी घुटी हुई चीखें अभी भी मेरे कानों तक पहुंच रही थीं लेकिन मैंने अपना लंड वैसे ही फंसा रखा और उसके गोरे नितंबों को सहलाने लगा।

फिर मैंने अपने दोनों हाथ आगे ले जाकर उसके स्तनों को मसलना शुरू कर दिया और उसके निपल्स को अपनी उंगलियों से मरोड़ना भी शुरू कर दिया।

इससे उन्हें कुछ राहत मिली। फिर वह अपना बायां हाथ अपने नितंबों पर ले गई और लंड को छूकर देखा कि कितना अंदर गया है।

फिर उसने मुझसे धीरे से कहा- साहिल, प्लीज़ अब और मत डालना, बस इसे आगे-पीछे करना।

अब मैंने उसके गोल स्तन पकड़ लिये और अपने लंड को आगे-पीछे करने लगा। हालाँकि उसकी गांड बहुत टाइट थी,

फिर भी मेरे लंड से निकली चिकनाई के कारण लंड धीरे-धीरे आसानी से अन्दर-बाहर होने लगा।

उसके मुँह से अभी भी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह मम्मी… मैं मर गई…’ जैसी कराहें निकल रही थीं।

दोस्तो, उसकी गांड की गर्मी से मेरा लंड अभी भी पिघल सकता था, इसलिए मैंने अपना काम खत्म होने से पहले अपना पूरा लंड उसकी गांड में डालने का फैसला किया।

इसलिए मैंने धीरे से उसके दोनों कूल्हों को अपने हाथों से कसकर पकड़ लिया और उसकी गांड में एक जोरदार धक्का दे दिया, जिससे मेरा पूरा लंड उसकी गांड में समा गया। वहीं आशिका भी गांड के दर्द से रोने लगी।

लेकिन उन्होंने दर्द सह लिया और अपना चेहरा तकिये में छिपा लिया।

अब मेरे लिए आगे का रास्ता बिल्कुल साफ था। तो मैंने धीरे-धीरे अपना लंड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।

मेरी आशिका अब कराह रही थी और ‘आह मम्मी.. ओह गॉड.. ओह साहिल..’ जैसी बातें कर रही थी।

दोस्तों अब आशिका की बड़ी गांड को देखकर मेरे लिए सब्र करना बहुत मुश्किल हो गया था और मेरा लंड भी रॉड की तरह उसकी गांड में फिट होने लगा था। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

जब मैं उसकी गांड में जोर-जोर से धक्के लगाने लगा तो आशिका की तेज सिसकारियां निकलने लगीं ‘आह.. ओह साहिल.. आह मम्मी.. आउच मम्मी.. आह्ह.. साहिल .. आह्ह कम ऑन साहिल..’ निकलने लगी।

मैं भी आशिका की गोरी गांड पर अपनी हथेली से जोरदार चांटे मारने लगा, जिससे उसकी गांड पूरी लाल हो गई।

मैंने उसके नितंबों को कस कर पकड़ लिया और जोर जोर से धक्के मारने लगा, जिससे होटल के बिस्तर से भी सेक्सी आवाजें आने लगीं।

इसके बाद मेरे लिए आशिका की गर्म गांड में रहना मुश्किल हो गया। तो मैं जोर जोर से आशिका की गांड चोदने लगा।

कुछ मिनट बाद मैंने आशिका से कहा- मैं झड़ने वाला हूँ।

वो बोली- मेरी गांड में ही निकालो … मैं ये पल महसूस करना चाहती हूँ।

मैंने ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारे और अपने लंड का सारा रस उसकी गांड में डाल दिया।

जैसे ही मैं थक गया, आशिका भी थक कर बिस्तर पर गिर गई और अपनी साँसें नियंत्रित कर रही थी।

मैं भी उसकी पीठ पर पेट के बल लेट गया और अपने हाथों से उसके नितम्बों को सहलाने लगा।

कुछ देर बाद मैंने देखा कि आशिका गहरी नींद में सो गई थी। आज पहली बार उसके चेहरे पर चुदाई की संतुष्टि साफ दिख रही थी।

मैंने धीरे से उसे सीधा सुलाने की कोशिश की तो वो किसी मासूम बच्चे की तरह मुझसे और चिपक कर सोने लगी।

मुझे उसकी मासूमियत पर तरस आया और मैंने उसे कसकर गले लगा लिया और सुला दिया।

मेरा एक हाथ अभी भी उसकी पीठ और गांड पर धीरे-धीरे घूम रहा था, लेकिन मेरी आशिका अभी भी दुनिया से बेखबर होकर आराम से सो रही थी।

तो दोस्तो, यह थी मेरी कॉलेज फ्रेंड आशिका की पहली गांड चुदाई की कहानी।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Wildfantasy.in” पर पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga