मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोद के किराए के पैसे वसूल किए | कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 2

मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोद के किराए के पैसे वसूल किए | कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 2

कुंवारी बेटी की चुदाई  की कहानी में पड़े किस तरीके से मैंने मकान मालिक की कुंवारी बेटी की चुत की चुदाई की और चुत का पानी निकाल दिया। शहनाज की चुत एकदम कुंवारी अंश हुई थी उसने आज तक कभी सेक्स नहीं किया था।

नमस्कार दोस्तों मैं मोहित मकान मालकिन की कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी का अगला भाग प्रस्तुत करने जा रहा हूं। धन्यवाद रितु जी आपने मुझे अपनी कहानियां प्रस्तुत करने का मौका दिया उम्मीद करता हूं कि सभी वर्ल्ड फैंटेसी के रीडर्स को मेरी कहानियां पसंद आ रही होगी 

(बहुत-बहुत धन्यवाद पाठकों आपने इस कहानी के पहले भाग को इतना प्यार दिखाया और उसे वेबसाइट के टॉप 10 कहानियों में लाकर रख दिया दिल से धन्यवाद)

आपने कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी के पहले भाग में यह पढ़ा था कि मैंने मकान मालकिन की बड़ी बेटी सेना का हाथ पकड़ लिया था और उसके बूब्स दबा दिए थे पर लाइट आ जाने की वजह से मैं उसकी चुत में उंगली नहीं कर पाया अब आगे।

अब मैं शहनाज की चुत चाटने का मजा लेना चाहता था और उसका चुत का पानी निकालना चाहता था शुरुआत में तो मैंने उसकी चुत को इमेजिन करके मुठ मार कर काम चला लिया था पर मेरा लंड इतना फन फन आ रहा था कि 10 बारी और मुट्ठ मार लो तो भी जाकर मेरा लंड की आप ठंडी ना हो पाए लेकिन दोस्तों आप इमेजिन कर सकते हैं कि शहनाज इतनी सेक्सी थी उसके बड़े गोल चुत पतली कमर मोटी गांड बस आदमी का तो लंड खड़ा करवा दे। 

बिल्कुल ऐसा ही मेरे साथ हो रहा था मैं बार-बार शहनाज की मोटी गांड को इमेजिन करके मुठ मार मार कर थक गया था मैं शहनाज की चुत मारने के लिए बहुत उतावला हो रहा था शहनाज बार-बार अपने घर के आंगन में आकर मुझे अपनी चूचू की क्लीवेज लाइन दिखाकर तड़पा रही थी लेकिन वह शर्मा भी रही थी

क्योंकि उसने आज से पहले कभी ऐसा एहसास नहीं किया कि कोई आदमी या लड़का उसकी चुत के पीछे इतना दीवाना हो मेरे मन के अंदर का शैतान उसकी चुत के छोटे छेद को बड़ा करने के लिए उतावला हो रहा था

शहनाज़ इतनी गोरी थी कि उसके पिंक निप्पल थे और उसकी पिंक चुत थी 

दोस्तों पिंक चुत के दर्शन होना एक बहुत सौभाग्य की बात है हम जैसे लड़कों के लिए जिनको काली क्या किसी भी तरीके की चुत नहीं मिलती।

दोस्तों शहनाज की गुलाबी चुत चोदने का एहसास ही अलग होगा जब मेरा लंड उसकी चुत में जाएगा और Ahh Ahh करेगी तो मेरा 5.5 इंच का लैंड 7 इंच का होने लगेगा और मैं अपने चरमसुख पर आकर उसकी चुत में अपना माल छोड़ दूंगा काश मुझे शहनाज की चुत मारने को मिल जाए ऐसा मैं अपने सपने में सोच रहा था पर असलियत कुछ और ही थी

दोस्तों अगर आपको ऐसा लग रहा है कि मैंने आपके खड़े लंड पर धोखा दे दिया तो आप निश्चिंत रहे आगे जाकर मैंने शहनाज को इतनी बुरी तरीके से चोदा कि आपका लंड दो बार माल जानने के बाद भी तीसरी के लिए तैयार होगा यदि आप लड़की है

तो आप उंगली से संतुष्टि नहीं मिलेगी आपको चुत में किसी जवान लंड लेने की आग मन में जाग जाएगी लड़के मुट्ठ मार मार कर अपने लंड को सुलझा लेंगे और लड़कियां चुत में उंगली डाल दो और वाइब्रेशन कर करके अपनी चुत को इतना समझा लेंगे कि उनकी कछिया भी उनकी चुत पर ढंग से फिट नहीं हो पाएंगे और लड़कों का तो लंड ही कच्चे में नहीं रुकेगा कच्चे से बाहर दौड़ दौड़ कर उनका रे मारेगा और कच्चे को माल से भर देगा कई लोगों का तो कच्छे में ही झड़ गया होगा तो आप सोच सकते हैं कि यह किस तरह की अंतर्वासना वाइल्ड सेक्स से भरी कहानी है

फिर उस घटना के बारे में सोचने लगा.
ऐसी वासना में लिप्त होने के बाद भी कोई खुद को कैसे रोक सकता है?
लेकिन मैं भूल गया था कि वह एक लड़की है और हर लड़की में वासना रोकने की अद्भुत शक्ति होती है।

खैर… जो हुआ सो हुआ.
लेकिन अब जब मैं सोने की कोशिश करने लगा तो मुझे नींद नहीं आ रही थी.

कभी इधर की याद आती है तो कभी उधर की.
मैं बस उस वक्त बार-बार करवट बदलकर यही सोच रहा था कि क्या हुआ और आगे कैसे होगा.

रात के करीब 2 बजे थे.

उसी समय मेरे कमरे का दरवाज़ा खटखटाने की आवाज़ आई।
मैं अचंभित रह गया लेकिन कूदकर दरवाज़ा खोल दिया।

सामने शहनाज खड़ी थी.
जैसे ही मैंने दरवाजा खोला, शहनाज मेरे ऊपर कूद पड़ी और चिपक गयी.
उसने फिर से अपने होंठ मेरे होंठों से मिला दिए.

इस बार मैं शहनाज को छोड़ने के मूड में नहीं था.
मैंने उसे दोनों हाथों से कस कर पकड़ लिया.

मैंने धीरे-धीरे अपने हाथ से उसकी पीठ को सहलाते हुए उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसकी पीठ को सहलाने लगा।
मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाई और पूरी उतार दी.

अब केवल उसकी आधी खुली हुई ब्रा, जो उसके स्तनों पर कसी हुई थी, लटक रही थी।
मैंने पहले ही पीछे से उसका हुक खोल दिया था.

धीरे-धीरे सहलाने से उसके स्तन ब्रा की कैद से आज़ाद हो गये।
अब शहनाज पूरी मेरे सामने नंगी थी. कमरे में लगे लाल रंग के जीरो बल्ब की रोशनी में वो और भी सेक्सी लग रही थी.

मैं एक हाथ से उसके एक मम्मे को सहलाने लगा और अपने होंठ शहनाज़ के दूसरे मम्मे के निप्पल पर रख दिये।
मैं किसी छोटे बच्चे की तरह उसके निप्पल को चूसने लगा.

अब मैं किसी प्यासे पंछी की तरह उसके मम्मों से खेल रहा था; कभी दाएं स्तन पर तो कभी बाएं स्तन पर.
मेरे होंठ अपना काम अच्छे से कर रहे थे.

अब मैं अपना एक हाथ पीछे से उसकी पैंटी के अंदर ले गया और उसकी गांड को जोर-जोर से मसलने लगा।

बिना देर किये उसके हाथ को सहलाते हुए आगे लाया और उसकी चूत की फांकों पर हाथ फिराने लगा।

उसकी चूत के दोनों होंठों को अलग करके उसकी भगनासा को हल्के हाथ से मसलने लगा।
उसकी आह निकलने वाली थी लेकिन मेरे होंठों ने उसके होंठों को बंद कर रखा था.

मैंने यह क्रिया कुछ देर तक जारी रखी.
इसका नतीजा ये हुआ कि शहनाज़ की उत्तेजना और भी उफान मारने लगी.

उसकी चिकनी चूत को रगड़ने से ऐसा लग रहा था मानो उसने अभी-अभी झांटें साफ़ की हों।
शाहनाज़ किसी परी की तरह पूरे जोश में थीं.

मैंने मौका देख कर उसे उल्टा कर दिया और उसकी नेकर और पैंटी एक साथ नीचे कर दी.

आह क्या गांड थी उसकी… मखमल जैसी मुलायम।

मैंने खुद को नीचे बैठाया और अपने होंठों को उस जवान इंडियन लड़की की चूत पर ले जाकर कुत्ते की तरह अपनी जीभ को आगे बढ़ाया और उसकी चूत को चाटने लगा.

इस समय उसका मुंह खाली था इसलिए वो मेरे बाल पकड़ कर मेरा सिर अपनी चूत पर दबा रही थी और आहें भरते हुए मुझे अपनी टांगों में भींच रही थी.

करीबन 5 मिनट तक मैं उसकी चुत चटाई करता रहा.

फिर तभी शहनाज़ ने मेरा सर पकड़ लिया और मुझे ऊपर की तरफ खींच लिया.
वो मेरे होंठों को चूमने लगी और अपनी चूत का स्वाद लेने लगी.

उसके बाद मैंने शहनाज़ को दीवार के पास खड़ा कर दिया और अपना एक हाथ उसके Big Boobs पर रख दिया और मसलने लगा.

मैं अपना दूसरा हाथ उसकी चूत की लाइन में ले गया.
मैं उसकी चूत की लाइन में अपनी एक उंगली से रगड़ने और सहलाने लगा.

कुछ ही देर बाद मैंने अपना काला लंड निकाला और पीछे से Tight Chut के छेद पर रगड़ने लगा।
जब मुझे लगा कि शाहनाज़ पूरी तरह से उत्तेजित हो गई है और वह लंड लेने के लिए तैयार है, तो मैं खुद को रोक नहीं सका और अपना 5.5 इंच का काला लंड डालने ही वाला था।

फिर उसने मुझे दोबारा धक्का देकर रोक दिया.

वो अलग हो गयी और बोली – अब हम ये नहीं कर सकते!

मैं थोड़ी देर तक आश्चर्य से उसकी ओर देखता रहा, फिर पूछा- क्यों? क्या हुआ?

उसने कहा- मेरा एक बॉयफ्रेंड है और मैं उसे धोखा नहीं दे सकती.

मैंने उसे समझाया- कोई बात नहीं, ये बात हम दोनों तक ही रहेगी. किसी को कुछ पता नहीं चलेगा.

उन्होंने कहा- मैं वर्जिन हूं. मैंने अभी तक सेक्स नहीं किया है और ये बात उसे भी पता है. अगर हमने कुछ किया तो उसे पता चल जाएगा. वह भी मेरे लिए अभी कुंवारा है. हमने एक-दूसरे से शादी के बाद

पहली बार सेक्स करने का वादा किया है और मैं यह वादा नहीं तोड़ सकती । माफ कीजिये।

काश मुझे शहनाज अपनी चुत को मारने देती तो हम बहुत खुलकर सेक्स करते पर ऐसा हो नहीं पाया।

काश मुझे शहनाज अपनी चुत मारने देती तो वह हम बहुत खुल के सेक्स करते मैं शहनाज की वर्जिनिटी तोड़ने वाला पहला आदमी होता।

पर मेरी ऐसी अच्छी किस्मत कहां?

मैं एक गोरी जवान लड़की की चुत की सील तोड़ने से थोड़ा सा पीछे रह गया और मैं आज उसकी याद में मुट्ठी मार रहा हूं.

मैं अपनी किस्मत पर हंस रहा था कि निवाला मुंह को तो आया पर खाना सका था अर्थ मैं शनाश की चुत पर लंड तो रख चुका था पर उसकी चुत में लंड नहीं डाल पाया।

मैं यह सोचकर भी बहुत हंसता हूं दुखी होता हूं कि मेरे साथ ही होना था यह।

( खड़े लंड पर धोखा।)

दोस्तों आज की कहानी बस यहीं तक उम्मीद है आपको यह कहानी पसंद आई होगी आगे की कहानी अगले भाग में कहानी में रोमांच बनाए रखने के लिए हम लोग पाठ बनाते हैं

कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी के अगले में पड़े शहनाज की चुत तो ना मिल सकी।

लेकिन उसकी छोटी बहन शहनाज की चुत को चोद के मैंने अपने लंड की आग को ठंडा किया।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga