शरीफ लड़कों ने मकान मालिक की बेटी के साथ करी चुदाई |

शरीफ लड़कों ने मकान मालिक की बेटी के साथ करी चुदाई |

जुलाई से कॉलेज शुरू हुआ, हमारे सेक्शन में कोई भी हॉट लड़की नहीं थी, 60 में सिर्फ 5 लड़कियां और 55 लड़के थे, जबकि दूसरे सेक्शन में 10-12 लड़कियां थीं जिनमें से 4-5 बहुत ही सुंदर थीं। सुंदर वैसे भी जब दोस्त मेरे साथ होते हैं तो मैं लड़कियों को ज्यादा तवज्जो नहीं देता था, इस वजह से मैंने जिंदगी में कई मौके छोड़े, जिसका मुझे आज भी अफसोस है। इसलिए 2 साल बाद मैंने कॉलेज के पास एक कमरा लेने की सोची, क्योंकि Udaipur से आने-जाने में 2-3 घंटे बर्बाद हो जाते थे। इसलिए कॉलेज के पास एक सरकारी कॉलोनी में क्वार्टर में एक कमरे की व्यवस्था की गई। उनके पास 3 कमरे थे और परिवार में 5 लोग थे। मकान मालिक की 2 बेटियां और 1 लड़का था, एक बेटी लगभग 30 साल की थी और दूसरी मेरी उम्र यानी 21-22 साल की थी, बड़ी का शरीर बहुत ही सेक्सी, गोरा भरा शरीर, बड़े गोल गोरे स्तन, फिगर लगभग 38 – 32-40 और मकान मालिक की बेटी  Poonam की नॉर्मल बॉडी 32-28-34 के आसपास थी ।

अक्सर मैं नए लोगों से बात करने में थोड़ा टाइम निकाल लेता हूं इसलिए रूम देखते वक्त कुछ नहीं बोला क्योंकि साथ आए रिश्तेदार बात करते थे और ना ही मुझे रूम का किराया पता था उन्होंने भी कहा कि लड़का सीधा देख रहा है। अगर हां तो कमरा फाइनल कर लिया गया है। कमरे का प्रवेश मार्ग एक ही था, यानी मेरा और मकान मालिक का कमरा एक दूसरे के बगल में था और केवल एक ही शौचालय और बाथरूम था।

उसने यह नहीं बताया कि पिता शराबी था। कुछ दिनों तक सब कुछ सामान्य रहा, मैं सुबह 10 बजे कॉलेज चला जाता था और फिर दिन में कमरे में आकर चावल-दाल बनाकर, कुछ काम होता तो बाहर चला जाता था, नहीं तो मैं कमरे में आराम करते थे। तब तक मैं दाल-चावल बनाना सीख चुकी थी और मैं रोटी थोड़ा बेलती थी लेकिन आटा गूंथना नहीं आता था क्योंकि हिसाब के हिसाब से उसमें पानी डालना होता था इसलिए घर वालों ने बड़ी बेटी से बात की मकान मालिक से फोन पर मदद करने को कहा था और उसने भी हां कह दिया कि तुम टेंशन मत लो, हम तुम्हें सिखा देंगे।

एक दो बार वह बहन मेरे कमरे में आटा गूंथना सिखाने आई और पानी डालने का तरीका बताया, जब भी आती तो कभी दुपट्टा नहीं पहनती थी और डीप नेक सूट से उसके बड़े-बड़े गोरे बूब्स साफ दिखाई दे रहे थे. लेकिन मुझे डर था कि देखते देखते कहीं देख न लूं, इसलिए कुछ दिन बाद मैंने कहा कि अब मैं अपने आप से आटा गूंथ लूंगा, नहीं तो मोटे चूजों को देखकर मेरा सिर खराब हो जाता था, इसलिए कई दिनों तक मैं मुक्का मारता रहा खुद। शांत हो जाते थे। छोटी से बात बहुत कम होती थी क्योंकि मुझे आज भी हमउम्र की लड़कियों से थोड़ी झिझक होती है। कुछ दिनों बाद पता चला कि घर का माहौल ठीक नहीं है क्योंकि पापा बहुत शराब पीते थे और लड़कियों पर बहुत बंदिशें रखते थे, उन्हें घर से बाहर नहीं निकलने देते थे और वहाँ पड़ोस में कोई लड़का नहीं, केवल कुछ छोटे बच्चे।

कुछ दिनों बाद छोटी की हरकतों पर ध्यान गया कि अब वह अपना असली रूप दिखा रही है, वह उतनी सीधी-सादी नहीं है, जितनी वह दिखा रही थी, खासकर उसे मुझसे और अपनी बहन की बातों से जलन होने लगती थी, जब भी हम बात करते थे, वह बीच में आ जाती और बात करना शुरू कर देती। 3-4 महीने बीत गए, मैं बड़ी वाली पर ज्यादा ध्यान देता था क्योंकि मेरे आने-जाने में वो बड़े प्यार से नमस्ते करती थी और हालचाल पूछती थी, इस वजह से मैं उसे और भी ज्यादा चाहने लगा था उसके बात करने का तरीका। उसकी गोरी और मोटी गांड और स्तन देखकर उसका लंड सीधा खड़ा हो जाता था, लेकिन कुछ बोलने की हिम्मत नहीं कर पाता था, जबकि छोटे को घर में ही अपना शिकार मिल गया था. उसकी नजर मुझ पर थी। पहले तो उन्हें लगा कि अगर मैं उन्हें जरा सी लाइन दे दूं तो वह खुद ही मेरे सामने चक्कर लगाने लगेंगी। ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूं क्योंकि एक-दो बार मेरे बगल में फोन पर बात करते हुए छत पर चली जाती थी, ओ आई हेट यू कहती, कभी छोटे बच्चे को। या फिर कुत्ते को मेरे कमरे में भेज देती थी और फिर किसी बहाने से आ जाती थी।

उसने खुद भी निकाला था क्योंकि मुझसे ज्यादा आग की चपेट में वह आया था। एक दिन उसने मुझे अपने फोन पर कॉल करने के लिए कहा, मैंने एक नई रिंगटोन स्थापित की है, तो उसने नंबर दिया और मैंने फिर से फोन किया और कहा कि ठीक है। उस समय मोबाइल रिचार्ज बहुत महंगा था, कॉल के लिए अलग, मैसेज के लिए अलग, नेट के लिए अलग, नेट की जरूरत होने पर ही मैं कॉल के लिए रिचार्ज करता था और मैसेज के लिए नहीं करता था क्योंकि कोई नहीं था। उसी रात करीब 10:30-11 बजे छोटे वाले ने कुछ चुटकुले भेजे, मैंने नंबर सेव नहीं किया क्योंकि मुझे नहीं पता था कि यह उसका नंबर बदलने का बहाना था, लेकिन नंबर देखकर मुझे आइडिया आया। यह शायद उसी का है लेकिन कन्फर्म नहीं था क्योंकि कुछ दोस्त नया सिम लेने के बाद फ्री मैसेज भी करते थे। अगले 1-2 दिन तक उनके पास चुटकुलों वाले 2-4 मैसेज आते रहे, लेकिन मैंने उन्हें पूछने के लिए न तो कॉल किया और न ही मैसेज किया। तीसरे दिन जब मैं कॉलेज से लौटकर खाना बना रही थी तो छोटे ने मुझसे पूछा कि मुझे मजाक कैसे आता है? मैंने कहा क्या यह आपका नंबर है? तो वो थोड़ा गुस्सा हो गई और बोली तुमने नंबर सेव क्यों नहीं किया? उसके अल्पभाषी बोलने से मुझे भी थोड़ा गुस्सा आया और गलती से मेरे मुंह से निकल गया कि मैं तुम्हें गलती से मैसेज कर दूंगा।

इतना सुनते ही बोली, कौन है तुझे मैसेज करने वाला, और चली गई। उसके जाते ही मुझे एहसास हुआ कि मैंने कुछ गलत तरीके से कहा था, जो अक्सर मेरे साथ होता है, कुछ के बदले कुछ निकल जाता है, फिर मुझे बाद में इसका एहसास होता है। शाम को छत पर टहलते हुए वह मिली तो मैंने उसे समझाया कि मेरे कहने का मतलब यह नहीं था, मेरे कहने का मतलब था कि मैं मैसेज का वाउचर नहीं डालता क्योंकि यह जरूरी नहीं है। तब तक उनके मूड में भी सुधार आ गया था। कुछ दिनों बाद हमारे एक्जाम थे और एक प्रोजेक्ट बनाना था, जिसके चलते हमें रात को 9-10 बजे तक कॉलेज में रुकना पड़ता था, तो वो मुझे कई बार फोन करती थी और मोमो बर्गर लाने को कहती थी। तो मेरे दोस्तों को पता चला कि हम बात करते थे और बात को आगे बढ़ाने के लिए मुझे उकसाने लगे, नहीं तो हमें नंबर दो, हम आपको सेट करवा देंगे, नहीं तो हम अपनी करेंगे, मैंने मना कर दिया क्योंकि पकड़े जाने का डर है आस-पास। कुछ दिन बाद मैंने भी मैसेज रिचार्ज किया और रात को जब सब सोने चले गए तो हम चैट करने लगे, कुछ दिनों बाद एक रात अपना मूड बनाते हुए आज क्रॉस या क्रॉस, हां या ना, ऐसे ही चैटिंग करके . मुझे नींद भी नहीं आ रही थी और दिमाग भी इधर-उधर लगा हुआ था तो सोचा आज ही पूछ लूं कि फ्यूचर प्लान क्या है।

कुछ देर इस तरह बात करने के बाद मैंने उससे कहा कि एक बात बताओगे? यह संदेश भेजने के बाद भी मेरी हालत खराब हो रही थी, तो उसने जवाब दिया कि उसे बताओ, मैंने उसे ‘आई लव यू’ कहकर संदेश भेजा, मैंने अपने जीवन में पहली बार किसी को ‘आई लव यू’ कहा और मुझ पर विश्वास करो मेरी हालत खराब हो रही थी। और दिल जोरों से धड़क रहा था। करीब दस मिनट तक उसकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया, फिर मेरी हालत खराब होने लगी कि कहीं वह अपने घर वालों को न बता दे, फिर मैंने सॉरी मैसेज किया कि मैं मजाक कर रहा था और देखना चाहता था कि आप क्या कहेंगे, फिर वह नाटक करने लगी कि मैंने आपको कभी इस तरह से नहीं देखा, न ही कभी आपके बारे में सोचा, फिर मैं हँसा और मैंने फिर से सॉरी लिखकर भेज दिया कि मैं मजाक कर रहा था, बस कुछ और। नहीं। तो कुछ देर उसने लिखित में यह और वह संदेश भेजा और कहा कि आज के बाद तुम मुझसे बात नहीं करना, फिर मैंने भी कहा कि ठीक है, मैं ऐसा नहीं करूंगा, यह कहकर कि मैं इतने नाटक बर्दाश्त नहीं कर सकता, मैंने नंबर मिटा दिया।

अगले दिन से उठना, नहाना, खाना बना कर कॉलेज जाना और रात को मूवी देखने के बाद बिस्तर पर जाना अपनी सामान्य दिनचर्या का पालन करता रहा। अगर मैं कभी मोटी बहन से रूबरू हो जाता तो हमेशा अपने आप को हेलो कहती, कैसे हो भाई और मैं भी उसे अच्छा सा जवाब मुस्करा कर देती थी, लेकिन छोटी न मुझसे बात करती थी और न ही मैं बात करता था। और आते-जाते उसे इग्नोर कर देता था, अब तक उसकी हरकतों से मैं काफी वाकिफ हो चुका था, इसलिए मैंने खुद को उससे दूर कर लिया था। करीब एक हफ्ते तक ऐसा ही चलता रहा, फिर एक दिन रात के करीब ग्यारह बजे मुझे लगा कि शायद किसी ने मेरे कमरे का दरवाजा खटखटाया है, क्योंकि मैं कंप्यूटर पर फिल्म देख रहा था, तो मैं ठीक से सुनाई नहीं दे रहा है, इसलिए मैं उठा और दरवाजा खोला। मैंने उसे खोला और वहां कोई नहीं था, मैं वापस कमरे में आया और फिल्म देखने लगा, दस मिनट बाद मुझे फिर से दस्तक सुनाई दी, इस बार मुझे यकीन था कि किसी ने दरवाजा खटखटाया है, मैंने फिर से दरवाजा खोला और देखा किसी को भी नहीं।

लेकिन दरवाजे के नीचे एक गोल कागज रखा था, मैंने कागज उठाया और कमरे में आ गया, कागज खोलकर देखा तो उसमें लिखा था कि, क्या हम सामान्य रूप से बात नहीं कर सकते? फिर मैंने मैसेज करने के लिए उसी कागज़ पर अपना नंबर लिख कर बाहर रख दिया, वो सोई नहीं थी और थोड़ी देर बाद मेरे फ़ोन पर मैसेज आया कि मुझे बताओ, तो मैंने कहा कि पहले इस कागज़ को जला दो और डॉन’ दोबारा ऐसी बेवकूफी न करना, अगर यह कागज किसी और के हाथ लग जाता तो दोनों पर असर पड़ता। फिर कुछ दिन मैंने उतनी ही बात की जितनी वो करती थी, तीन-चार दिन बाद उसने मुझे मैसेज में पूछा कि तुम बहुत अच्छी लग रही हो और लड़कियों को प्रपोज कर रही हो तो मैंने उससे कहा कि ये मेरा पहली बार किसी के साथ है। मुझे कहना था कि मैं तुमसे प्यार करता हूँ और दूसरी बात मैं तुम्हारी प्रतिक्रिया देखना चाहता था क्योंकि मुझे पता है कि तुम एक रिश्ते में हो, तो उसने कहा नहीं, मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है, जिसने तुम्हें ऐसा बताया, फिर मैंने उसे याद दिलाया कि एक दिन छत पर तुम मेरे पीछे से फोन पर ओय हेट यू ओय हेट यू दोहरा रहे थे तो वो कहने लगी कि नहीं, वो मेरा दोस्त है जो मुझे पसंद करता है तो मैंने उससे कहा ओए हेट यू। जा रहा था


पर मैंने इस बात पर अमल किया, मैंने ऑय लव यू को सिर्फ रेडियल रिएक्शन चेक करने के लिए कहा था कि बाकी कुछ नहीं और उसकी पहचान करने लगा, मुझे उसकी पहचान में बहुत मजा आता था। फिर ये बात मैं उस दिमाग में डाल के सो गया क्यूंकि उसे ये बात हजम नहीं होती थी, उसे लगता था कि मैं तो बहुत सुंदर हूं और सब मेरे पीछे पड़े हैं, और ये कह रहा है के ये मजाक करता रहा न के के सीरियसली। एक दो दिन तक वह यही बात संलग्न लग रही है सच में तुम पदक नहीं कर रहे थे और बस चेक कर रहे थे, मैं समझा के जो मैं चाह रहा था वही हो रहा है। उसे इस बात से इतनी निराशा हो गई थी कि उसकी नींद उड़ गई थी, तीसरे दिन मैं कॉलेज से लेट आया और लगभग एक घंटे बाद सीधा सीधा वो मैसेज करने लगा मुझे नींद में था तो उसने मिस कॉल कर के मुझे दुनिया दे दी , मैंने मैसेज कर के पुछा के क्यों कॉल कर रहा हो सोगो और मुझे भी सोना दो, तो उसकी बात सुन के मैं हसने लग गया क्योंकि अब वो मुझे ओय लव यू कह रही थी, पर मैं उसे नखरे देख चूका था तो मैंने कहा के मैं जानता हूं के तुम मुझसे बदला लेने के लिए ये नाटक कर रही हो, तो वो कहने लग के नहीं सच में मैं आपको पसंद करती हूं, तो फिर जब मैं तुमको उस रात कहा तब कर क्यों मना किया, तो कहने लगी के नहीं मैं डर गया था और समझ में नहीं आ रहा था के क्या कहूँ। लेकिन मैंने कहा कि मुझे तुम पर भरोसा नहीं है तो तुमको पहले साबित करना होगा, उसने कहा कैसे करू साबित करता है।

अब मेरा डर कम हो चूका था क्यूंकि इस बार पहल उसने की थी तो मैंने कहा के मुझे किश चाहिए पहले तब मानूंगा वरना नहीं. कुछ देर तक तो वो फिर वही नाटक करने लगी के नहीं ऐसा नहीं होता ये वो पर मैं अपनी बात पे अडा रहा. आखिर में वो राज़ी हो गयी. अगले दिन जब मैं कॉलेज से आकर खाना बना रहा था और सब सो रहे थे क्यूंकि गर्मी के दिन थे तो उसका मैसेज आया के मैं आ रही हूँ पर मैं बिजी था तो मैसेज नहीं पड पाया. इतने में वो मेरे किचन के दरवाजे पे आकर मुझे हवश वाली नज़रों से देखने लगी मैंने कहा क्या हुआ ? तो बोली के मैसेज नहीं पढ़ा क्या ? मैंने फ़ोन उठाया और मैसेज पढ़ा तो कुछ देर के लिए मेरे हाथपैर ठंडे पड़ गए, पर वो आज पूरे जोश में थी और तैयार भी मैंने कहा के बगल में अंकल आंटी और दूसरे कमरे में दीदी सो रखी है कोई जाग गया तो दोनों की गांड टूटेगी, वो कुछ नहीं बोली और मेरे और करीब आ गयी मैं एक्क्साइटेड और घबराया दोनों एक साथ था फिर मैंने थोड़ा हिंममत जुटाई और उसके हूँठों को चूमने लगा, लाइफ में पहला किश था और मैं इतना खो गया था के सब डर भूल गया था करीब दो मिनट बाद उसने मुझे हल्का धक्का दे कर अलग किया वरना मैं तो खो गया था और लगातार उसको किश करे जा रहा था, जब उसने मुझे अलग किया तो मुझे हल्का चक्कर जैसा लगा, इतना मजा आता है किश करने में पहली बार पता चला, उसके बाद से जब भी हमको मौका मिलता वो मेरे कमरे में भाग के आती और हम किश करते, मैं उसको बिना ब्रा और पेंटी के आने को कहता तो वो कहती के तुम्हारे लिए मैं आज आधी नंगी हो कर आयी हूँ, उसकी बातें और हरकते मुझे और उत्तेजित करती थी, कभी कभी उसके गले और लिप्स पे निसान पड जाते तो वो चुन्नी या कीड़े ने काटा कर के बहाना बनाती. 

कुछ महीने ऐसे ही गुजरे तो इस दौरान उसने मुझसे पुछा के मैंने कभी सेक्स किया है तो मैंने ना कहा फिर उसने पुछा के कभी हस्तमैथुन किया है, मैंने हाँ कहा और पुछा के तुमने किया है तो उसने भी हाँ कहा. फिर मैंने उसको सेक्स करने के लिए पुछा तो उसने कहा के मन तो है लेकिन घर से बाहर जाने की दिक्कत है और रूम की भी होटल में जाने में हम दोनो ही असहज़ थे मैंने भी अपने दोस्तों को इस बारे में तब तक कुछ नहीं बताया था। तो हमने प्लान किया के मैं आसपास एरिया के रूम ले लूंगा। अगले महीने मैंने बहाना मारा के अपने रिश्तेदार के यहाँ शिफ्ट हो रहा हूँ. नए मकान मालिक से बात पहले ही कर ली के कॉलेज के दोस्त भी आएंगे तो बाद में दिक्कत न हो. कुछ दिन के बाद Poonam ने आने को कहा ताकि घर में किसी को सक ना हो.

एक हफ्ते बाद उसने घर में एक्स्ट्रा क्लास का बहाना मारा और मुझे मिलने को आई, आधे रास्ते में मैं उसे लेने गया क्योंकि उसको रास्ता पता नहीं था नए रूम का। उसने एक कोट डाला हुआ था और जींस पहनी हुई थी ठंड का मौसम शुरू हो गया था और कोहरे की वजह से और ठंड लगती थी, हम रूम पे आए और आते ही किस करने लग गए, तब मैने एक बात नोटिस की जो मजा छुप छुप के रोमांस करने में है वो मजा अलग ही होता है। किस करते हुए वो गरम हो गई और अपनी योनि वाली जगह से धक्के मारने लग गई। मैं बताना भूल गया के जब भी हम किस करते थे तो वो ऐसा करती थी, इससे कभी कभी मेरे लंड पे थोड़ा दर्द हो जाता था। खैर फिर मैने एक पतली कंबल ली और हम दोनो गद्दे पे बैठ गए जो की नीचे बिछाया हुआ था। मैने उसको अपनी गोद में बैठने को कहा मुझे हमेशा से मन था गोद में बैठा के किस करने का, उसने अपना कोट उतारा और मैने अपनी स्वेटर और टीशर्ट, मैं ऊपर से पूरा नंगा था लेकिन वो अभी अपनी टीशर्ट उतरने को मना कर रही थी नखरे करे बिना तो कोई काम नहीं करती थी वो, मैने भी उसको फोर्स नही किया और ऐसे ही चिपक के एक दूसरे को किस करने लगे, अब मैं उसकी गर्दन और बूब्स पे किस और उसके बदन को टटोलना चाह रहा था जिसके बीच में उसकी टीशर्ट बार बार आ रही थी, कुछ देर बाद उसने खुद टीशर्ट खुद उतार दी जिसका मैं इंतजार कर रहा था थोड़ी देर में मैंने उसकी ब्रा भी उतरवा दी।

उसका बदन एक दम गोरा चिकना सफेद था, बूब्स छोटे थे जो अच्छे से पकड़ में नहीं आ रहे थे, तो मैंने उनकी अपने होंठों से चूसने लगा और थोड़ा थोड़ा दांत से काटने लगा जिसका उसने मना किया क्योंकि इससे उसको दर्द हो रहा था।हम दोनो एक दूसरे को ऊपर से नंगे बदन से एक दूसरे से चिपक हुए पांच से दस मिनट हो गए थे, अब मैने उसको जींस खोलने को कहा तो वो फिर नखरे करने लगी के नही ये वो, तो मैंने फिर इंतज़ार करने का मन बना लिया, हम दोनो गरम हो चुके थे और मेरा भी पानी निकल रहा था जिसका मुझे एहसास हो रहा था, ऊपर से उसके झटके मारने से मेरे लिंग में थोड़ा ज्यादा दर्द हो रहा था ऊपर से जींस भी टाइट थी, तो मैंने उसको कहा के मैं जींस उतार रहा हूं क्योंकि मुझे नीचे अनकंफर्टेबल और हल्का दर्द हो रहा है, मेरे जींस निकलने से अब उसका हाथ आसानी से मेरे लिंग को छू पा रहा था जिससे और गरम गरम सांसे फेंकने लगी, और थोड़ी देर में खुद अपनी जींस उतार दी पर पेंटी नही उतारी, मैं समझ गया के ये पहले मेरे कपड़े खोलने का इंतजार कर रही थी। अब हम दोनो सिर्फ अंडरवियर में थे और वो मेरी गोद में मेरा लिंग कच्छे के अंदर से ही उसकी योनि को छू रहा था जिसके एहसास से उसका बहुत पानी निकलने लगा ये मुझे तब पता चला जब मैंने उसकी पैंटी के अंदर हाथ डाला, तब मैंने पाया के अब ये पूरी तरह तैयार है, मैने कहा के मेरा लंड से काफी पानी निकल रहा है जिसकी वजह से नीचे काफी गीला हो रहा है तो मैं अपना अंडरवियर खोल रहा हूं, तो वो भी बोली के हां मैं भी खोल देती हूं मेरा भी पानी निकल रहा है। लेकिन उसने पहले लाइट बंद कर दी, और मना करने लगी लाइट खोलने को, मैने भी ज्यादा नहीं बोला।

खिड़की दरवाजे बंद थे पर दिन होने के वजह से कमरे में हल्की रोशनी थी उसका बदन हल्की रोशनी में चमक रहा था, अब हम दोनो पूरे नंगे थे वो लाइट बंद करते ही कंबल के अंदर लेट गई और मैं उसके पीछे से जा के अपना लंड उसकी गांड से छूने लगा और उसके बूब्स और चूत पे हाथ फेरने लगा और उसकी गर्दन और पीठ पे किस करने लगा जिससे हम दोनो और उत्तेजित होने लगे, जो जो मैने Wildfantasy और सेक्सी मूवी में देखा था आज मैं वो सब प्रैक्टिकल कर रहा था, कुछ देर  तक ऐसे ही करने के बाद उसने कहा के अंदर मत डालना मैं समझ गया ये क्या कहना चाहती है पर अभी भी नाटक करना ही है इसको, तो मैंने उसको थोड़ा और जोर से पकड़ के अपनी और खींचा और किस करना शुरू किया, फिर उसका एक पैर उठाया और अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा, वो बहुत ज्यादा गीली हो चुकी थी उसका पानी उसकी झांघों तक आ चुका था जैसे ही मेरे लंड को उसकी चूत का छेद मिला मैने एक हल्का सा धक्का मारा, गीला होने की वजह से मेरे लंड का अगला हिस्सा उसकी चूत में एक दम घुस गया, उसकी हल्की सी हिचकी जैसी निकली और सांस रुक गई, और मुझे अच्छे से याद है जब पहली बार वो एहसास जैसे आपका लंड किसी गीली गरम गीले चिपचिपे छेद में घुस गया हो, उसने अपने हाथ से मुझे अपना लंड पूरा अंदर डालने से रोक दिया वरना उस वक़्त सायद ही कोई खुद को रोक पाए पर कहीं उसकी चीख ना निकल जाए तो मैं रुक गया। अब मैंने उसको सीधा लेटाया और मिशनरी पोजीशन में आ गया, में पहले से नेट पे रिसर्च कर चुका था के ये पोजीशन अच्छी होती है फर्स्ट टाइम के लिए। कंडोम के लिए उसने पहले ही माना किया था के बिना कंडोम के करेंगे उसमे ज्यादा मजा आता है लेकिन तुम अंदर मत निकालना, तो हम उसी प्लान के हिसाब से चल रहा थे। 

अब मैंने उसको टांगे फैलाने को कहा और उसकी दोनो टांगो के बीच आ गया और धीरे धीरे उसकी चूत पे रगड़ने लगा, इस करने ही हम दोनो बहुत उत्तेजित हो रहे थे तो मैं उसके ऊपर लेट गया और उसको किस करने लगा। अब किस करते करते मैने अपना लंड उसकी चूत में डालना सुरु किया, और लंड मानो फिसलता हुआ उसकी चूत में घुस गया और हम दोनो की सांसे फिर से रुक गई। मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेट गया और कभी उसको कभी उसके बूब्स को किस करने लगा, पर लंड पूरा बाहर नहीं निकाला। अब मैं धीरे धीरे झटके मारने लगा और वो और पानी छोड़ने लगी जिस वजह से कमरे में एक पच पच की आवाज आने लगी, मैने टिश्यू पेपर से साफ करने को कहा तो वो मना करने लगी की गीले में आसानी से अंदर बाहर हो जाता है और उसने बिलकुल भी साफ नहीं करने दिया। मैं ऐसे ही झटके मारने लगा और थोड़ी देर में जब मुझे लगा के निकलने वाला हूं तो बाहर निकल दिया और टिश्यू पेपर से पोंछ लिया। अब मैंने उसको चूत के बाहर का पानी जो पैरों पे आ गया था उसको साफ करने को मना लिया और उसकी झांगो को साफ करते करते उसकी चूत का पानी भी थोड़ा साफ कर दिया, थोड़ी देर में हम दोनो फिर से दुबारा चुदाई को तैयार हो गए थे, मैने उसको घोड़ी बनने को कहा पर वो मना करने लगी तो हम फिर मिशनरी पोजीशन में आ गएऔर मैने एक तकिया उसकी गांड के नीचे रख दिया। इस बार जैसे ही मेरा सूखा लंड उसकी चूत में घुसा मुझे अब ज्यादा मजा आया क्योंकि अब मैं उसकी चूत की दीवारों को ज्यादा अच्छे से महसूस कर पा रहा था।

और उसको भी उस रगड़ से करेंट जैसा लगने लगा, थोड़ा धक्के मारने के बाद मैने उसकी दोनो टांगों को अपने कंधों पे रख दिया और उसकी झांघों को पक्कड़ लिया, ऐसा करने से चुदाई करने में और मजा आने लगा और धक्के मारने की स्पीड भी बढ़ गयी। चुदाई से ज्यादा मुझे उसकी मादक आवाजे उत्तेजित करने लगी और उसने अपने मुंह पे हाथ रख दिया पर उसकी हाफने की आवाज अब भी मुझे आ रही थी, मैं थोड़ा रुका और कंप्यूटर पे गाने चला दिए ताकि बाहर आवाज ना जाए। एक ही पोजीशन में होने की वजह से मेरे घुटने और उसके पैर भी थक रहे थे और घोड़ी बनने को वो तैयार नहीं थी, तो मैंने उसकी एक टांग उठा के अपने कंधों पे रखी और दूसरी के ऊपर अपनी टांग और कैंची जैसी पोजीशन में आ गए, मैं और जोर जोर से झटके मारने लगा जिससे हम दोनो को बहुत मजा आने लगा एक हाथ से मैं उसके बूब्स मसल रहा था और दूसरे से उसका पैर को जांघों से जिसको मैं बीच में जोर से मसल भी रहा था उसका चिकना कोमल बदन को नोचने का मन हो रहा था और मन कर रहा था के ऐसे ही दिन भर चुदाई करते रहे और लंड को बाहर ही न निकालू, कभी मैं उसकी झांगे मसलता कभी उसकी गांड को दबाता कभी दूसरे हाथ से उसके बूब्स और बदन पे हाथ फेरता। फिर थोड़ी देर मे पैर बदल के चुदाई करने लगे वो फिर से बहुत गीली हो गई थी और झड़ने वाली थी ये देख के मैं भी गरम हो गया और और तेज़ से चुदाई करने लगा और कुछ देर में दोनो झड़ गए पर मैने अपना पानी अंदर नहीं निकाला और बाहर उसके पेट पे गिरा दिया। हम दोनो के शरीर से पसीना निकलने लग गया था और कमरे में भी गर्मी हो गई थी। इस दिन हमने सुबह 11 बजे से दिन के 4 बजे तक करीब छह बार सेक्स किया।

पांचवी और छटी बार तो हालत खराब हो गई थी । पर मैं आज पूरी तस्सली करना चाहता था। जब लाइट खुली और टिश्यू पेपर पे मैने खून के हल्के हल्के दाग देखे तो मुझे लगा के शायद ये इसकी चूत से निकला है लेकिन वो मेरे लंड से निकले थे इसका पता मुझे अगली सुबह को लगा जब मेरे लंड पे जलन और दर्द होने लगा जो करीब चार दिन तक रही। सेक्स करने के बाद एक सवाल मेरे मन में था जो मैने उस टाइम पूछना सही नही समझा था रात कक मैसेज में मैने उससे पूछा के फर्स्ट टाइम में चूत बहुत टाइट होती है और मेरा लंड जाने पे तुमको ज्यादा दिक्कत नही हुई ऐसा क्यों, तो उसने बताया वो लगभग हर रात मुठ मार के सोती है और एक बार दिन में घर में जब कोई नही था तो उसने कोई टूथब्रश अपने अंदर डाल दिया और बहुत सारा खून निकला, अब पता नही उसने टूथब्रश डाला या क्या वो वही जाने।

खैर मुझे इस बात से कोई मतलब नहीं था लेकिन मैं कन्फ्यूज था के सेक्स तो शायद इसका भी फर्स्ट टाइम था पर खून मेरा निकला और इसका नही क्योंकि घर जाते ही उसने मुझे मैसेज किया के जब तुम्हारा लन्ड मेरे अंदर गया तो क्या बताऊं कैसा महसूस हुआ और वो पल में कभी नहीं भूलूंगी और मेरे पैर थक गए बहुत आज, मैने भी कहा के मुझे भी आज एक अलग ही मजा आया और समझ में आया के लोग क्यों सेक्स के पीछे पागल है । इस दिन के बाद हमने लगभग तीन चार दिन और सेक्स किया एक बार वो मेरे ऊपर बैठ गई पर मैंने उसे हटा दिया क्योंकि मेरी गांड फट रही थी जैसे ही वो नीचे की तरफ झटके मार रही थी और मेरी चीख निकलने वाली थी उस दिन फिर से मेरा थोड़ा खून निकला पर पूरी सील नही टूटी। कुछ महीने बाद में फिर से अपने रिश्तेदार के यहां शिफ्ट हो गया घर वालों के कहने पे। अपने रूम के अलावा वो और कहीं आने को राजी नहीं थी न होटल पे तो फिर धीरे धीरे हमारा एक दूसरे से कांटेक्ट छूट गया। वैसे भी मुझे डर था के कहीं इसके घर वालों को पता न चल जाए के हम दोनो एक दूसरे के संपर्क में है वरना दिक्कत हो जायेगी। मोटी दीदी को मैं नहीं चोद पाया जिसका मेरा बहुत मन था क्योंकि वो दिखने में सेक्सी तो थी ही पर उसका बात करने का तरीका भी बहुत अच्छा था और छोटी वाली को ये भनक लग गई थी तो उसने मुझे कहा के एक बार उसने रोड पे एक लड़के को थप्पड़ मारे थे जो उसपे कमेंट कर रहा था, अब मुझे नहीं पता के ये सच था या उसने मुझे डराने के लिए ये बात कही थी।

अगर आपको मेरी सेक्स स्टोरी पसंद आयी तो कमेंट करे | Wildfantasy पर और भी सेक्सी स्टोरीज हे पढ़िए और मूड बनाये

Delhi Escort

This will close in 0 seconds