लंड की प्यासी भाभी ने देवर के बड़े लंड से अपनी प्यास बुझाई

लंड की प्यासी भाभी ने देवर के बड़े लंड से अपनी प्यास बुझाई

हेलो दोस्तो मैं Ritu ji एक बार फिर लाई हूं आपके लिए एक नई और सच्ची सेक्स की कहानी लेके। मेरा नाम Ayushi है, और लंड की प्यासी भाभी में। मैं कही पे भी ट्रेवल कर सकता हूं।

जब मैं 19 साल का था तबी मेरे रोहन भैया 26 के। माँ ने बिस्टर पकाड़ लिया था लक्वे के करन। इस्लिये भी घर में अब एक बहू की बहुत जरूरी थी। पिताजी और मां को पता था की भैया की एक गोटी बहुत ही छोटी है और लुंड भी छोटा है। सेक्स तो कर देगा लेकिन नहीं के बराबर ही।

और ये बातें मेरे कानो में पद चुका थी की भैया सेक्सुली फिट नहीं है। मुझे बहुत ही दुख हुआ लेकिन क्या करता है। चुप रहना ही बेहतर था। पिताजी ने मां को कहा की शादी नहीं करेंगे इसकी। क्यूंकी जो आएगी अगर वो छोड के गई तो समाज में बड़ी बदनामी हो जाएगी।

लेकिन मां ने बस्टर पकाया लिया तब पिताजी मजबूर हो गए भैया की शादी के लिए। बोहुत सोच कर उन्होन एक गरीब घर की और पिचड़े गांव की लड़की प्रतिमा, जो भैया से भी 2 साल बड़ी थी, को खोज निकला। प्रतिमा भाभी के मां बाप भी गुजर चुके थे। और उसकी एक सगाई भी हुई थी।

लेकिन सगायी के तुरंत बाद ही उसके पिताजी चल आधार इसलिय मनहूस कह कर लड़के वालों ने रिस्ता तोड़ लिया था। वो एक तरह से मनहूस के नाम का कलंक धो रही थी। और ममी भी उसे प्रतापदित ही कर्ता थी बोझ समाज के। पिताजी को ये साड़ी जानकारी मिली तो उनको ऐसे ही लड़की की तलाश भी थी। लड़की देखने में, पिताजी और भैया ही गए थे।

प्रतिमा भाभी देखने में ना तो काली थी ना ही गोरी। हलका गोरा पान ही था और कद काठी मजबत थी। गदराय हुआ सा शरिर था। मुझे तो खास नहीं लगी। लेकिन पिताजी को जान गई। इस्लिये शादी बोहुत ही सादे तारिके से मंदिर में ही अगले दिन ही निता दी गई।

प्रतिमा भाभी को बया के गांव से सहर में अपने घर ले आए। भाभी रास्ते में थोड़ा तो रोई फिर चुप चुप ही रही। जो खाने दिया गया थोड़ा सा न नुकुर करके खा लिया। ज़रुरत पढ़ने पर सिर्फ 2-4 बातें ही धीरे से मुझसे की। मैंने जो भी पूछा या बोला तो काम से काम सबों में ही जवाब मिला।

कार में 8 घंटे का सफर था। ड्राइवर के अलावा हम सिर्फ 4 लोग हाय। पिताजी आगे की सीट पे। मैं बिच में, भाभी और साइड में भैया बैठे थे। मुझे निंद के झटके आने लगे तो भाभी ने मेरा सर गौड़ में रख लिया। ये अपनेपन मुझे भाभी का बहुत ही अच्छा लगा।

कार रुकी तो मैंने चॉकलेट दी भाभी को। पता चला लंड की प्यासी भाभी भैया के लंड से संतुस्ट नहीं हो परही थी की पसंद थी चॉकलेट और कोल्ड ड्रिंक। हम सब घर पूँछे। भाभी ने मां को प्रणाम किया और घर को घूम के देख रही थी। तो उसकी आंखें फटी की फटी रह गई थी। गांव में टूटी फूटी चैट थी और यहां बंगलो था।

थोड़ी देर के आराम के बाद पिताजी ने ब्यूटी पार्लर से 2 ब्यूटीशियन को बुलवा लिया था। उन लोगों ने भाभी के बाल को तारिक से काटा और सीधे किया और चेहरा को भी अच्छी तरह से आई ब्रो, फेशियल आदि किया। 4 घंटा लगे। भाभी तो पूरी तरह ही बदल के बिपाशा बसु जैसी लगाने लगी।

खुद पे विश्वास नहीं रहा था की वो ऐसी भी दिख सकती है। भाभी बहुत खुश थी और उसे बहुत प्यार मिल रहा था। घर आने के बाद तो अकेले में जब उसके पास गया तो मुझसे हांसी मजा भी किया। तब समझ में आया पिताजी के सामने वो क्या रख रही थी। गांव में यही होता भी है।

पिताजी को तो पता ही था भैया की सेक्सुअल कमजोरी का। इस्लिये उन्होन चुप के से भैया भाभी के कमरे में स्पाई कैमरा लगा दिया था। भाभी का क्या रिएक्शन होगा तो स्थिति से किस तरह से होगा। और ये बात मां से हो रही थी तो मैंने सुन लिया।

ताजजुब हुआ की एक ससुर अपनी ही बहू और बेटे की सुहागरात देखेंगे। लेकिन मां पिताजी की चिंता भी वाजिब थी और मैं भी चिंता में पड़ गया। और मैंने भी जुगड़ बैठा लिया। भैया के काम में चोरी से झंकार का। रूम को सजया गया था। भाभी भी साड़ी में थी।

भैया भाभी ने थोड़ी हिचक के बाद सुरुवत की। भाभी को स्मूच किया फिर वो भी शुरू हो गई। धीरे धीरे दोनो ही पूरी तरह नंगे हो चुके थे। भाभी के बड़े बड़े स्तन और निप्पल सामने की और तनी हुई थी। बिपाशा बसु जैसी दिख रही थी। भैया ने बूब्स दबये और निप्पल चुसे।

फिर चुट को चुना सुरु किया। भाभी उत्तेजित हो चुकी थी। भइया ने छोटा सा 4 इंच का लंड घुस्सा और चुदाई सुरु की। भाभी लेती राही। 2-3 मिनट में ही भैया का हो गया। भाभी अधूरी ही रह गई लेकिन कुछ भी नहीं बोली। और करवा ले कर लाइट बैंड करके सो गई।

अगले दिन सब कुछ समान्य ही था। पिताजी ने कैमरा भी हटा दिया था क्योंकि फूल के बिच ही छुपाया था। भाभी भी अच्छे से ही पेश आ रही थी। अगले दिन से रसोई आदि की व्यवस्था को देखने लग गई की नौकरी कैसे क्या बना रहे हैं। मां का बोहुत ख्याल रखना सुरु किया।

सभी का दिल जीत लिया 2-3 दिन मैं ही। बोहुत ही मेहंदी थी। वैसा ज्यादा काम उसे तो करना नहीं था बस करना होता था ऑर्डर देकर। पिताजी ने मुझे भी दिया था की भाभी का पूरा ख्याल रखना। बाजार भी घुमा के लाना और मनपसंद को भी खिलाना।

मैं रोज ही भाभी को लेकर बिना ड्राइवर के खुद ही ड्राइव करता हूं कार मैं ले जाता हूं। और आइसक्रीम, चाट, कोल्ड ड्रिंक आदि खूब खिला के लता। उसे पसंद भी थी ये सब और गरीब के करन ये सब मिला भी नहीं था। भाभी काफ़ी घुल मिल गई मेरे साथ।

दुपहर को हम दो अकेले ही रहते थे। रात को भैया के आने के बाद भी 9-9.30 बजे तक काम में ही एक साथ रहते, देखते और खेल खेलते। कैरम, लूडो, कार्ड आदि। हमें वक्त भाभी की साड़ी का पल्लू हटता और कभी दिखी देती रहती। लंड की प्यासी भाभी थी तो हट्टी कट्टी लेकिन पेट सादा था।

और नाभी एक दम से लुंबी और गहरी थी। मन तो करता था की नाभी को स्पर्श करुण और उनगली ग़ुस्सौं। लेकिन दार लगता था। भाभी अब खुलने लगी थी और हांसी मजाक में चिन्ना झपटी होती थी। खेल खेलते समय मैं और भइया मस्ती में लड़े हुए से एक दसरे से जैसे मिलते हैं।

तो भाभी को हांसी आती। 2-3 बार के बाद तो वो भी हम दोनो की है, कुछ में शामिल होने लगी। और भाभी की तकत ज्यादा थी। इसलिये ज्यादा मजा भाभी को भी आता था।

2 दिन के बाद की बात है। खेल खेल में कार्ड्स की चोरी की भाभी ने तो दोनो भाई उससे प्यार करने लगे। मेरा हाथ भाभी की मुलायम कमर पे था। भैया चिन्ना झपटी की कोषिश में ही। भाभी ने गुडगुड़ी के करन हड़बड़ा के करवाता ली और मैं भाभी के आला आ गया।

भाभी के बूब्स से मेरा मुह दब गया। लेकिन भैया से चुदा ने के चक्कर में 30 सेकंड वैसा रहा। पहली बार महसूस हुआ। भाभी के बूब्स बड़े तख्त थे। मौके का फ़ायदा उठते हुए मैंने हाथ से भाभी का पेट भी छूआ और नाभी को भी। भैया बोहुत ही भोले टाइप के और उनकी कमर कद काठी थी।

अगले दिन इस तरह से ही मस्ती करते हुए भाभी ने भैया को दबोच लिया और गुडगुड़ी की। भैया ने मुझे बचाने कहा। मैंने भाभी की कमर में पहले तो हाथ से फिर मुह से गुडगुड़ी की। तो हंसते हुए छोड़ दिया। मेरे कान पक्कड़ के खूंटे हुए बोली, “मेरी कमर में मुह घुसता है तू? तो मैं भी ऐसा ही करुंगी।”

और भाभी ने मेरे पेट में भी मुह घुस्सा कर गुडगुड़ी कर दी। रात को मैं फिर भैया भाभी के कमरे में झाँक रहा था चुप के। भाभी ने खुद ही शुद्ध कपड़े उत्तर दिए और भैया के मुह में निप्पल घुस्सा दी। भैया एक हाथ से दसरा वाला उल्लू प्रेस करते हुए निप्पल चुस रहे थे।

फिर भाभी ने अपने ऊपर लिया। भैया का 2 मिनट हाय हुआ। फ़िर भैया ने चुत में खैरा घुस्सा के काई डर तक आगे पिचे किया और दसरे हाथ से निप्पल को मसाला रहे। कुछ डर बाद भाभी ने ही रोक दिया। साफ था की भैया से वो संतोष थी ही नहीं।

भाभी के पिहार के जो हलत थे, हमारे सामने यहां सब कुछ था। बस यौन संतुष्टि छोड के। तो उसे हाथ से करने का रहता निकला था। और सब कुछ सामान्य था। भाभी ने भी सबका दिल जीत लिया 15-20 दिन में ही और जिम्मेदरिया भी बखूभी।

अब तो काई बार भैया को हडका भी लेती थी अकेले में। और भैया से मन माफिक तारिके से अपनी बॉडी को चुस्‍वती और अपनी आग ठंडा करने की कोशिश कार्ति। मुझे देख के अच्छा भी लगता है और भैया की हलत देख के दया भी आती है। वो बेचेरे बिना मन भी करते हैं स्मूचिंग मसाज इत्यादि।

लास्ट में बैगन या खेरा ही डाला जाता था। मुख्य सेक्स कहानियां पढा था इसलिय दिमाग में विचार आने लगे। लेकिन दार बोहुत लगता था। कहीं प्रतिक्रिया उल्टा पड़ा तो क्या होगा। भाभी को नंगा देख के उसके प्रति इच्छा हो गई थी। जबकी मैं उसके डिल्डोल के अब छोटा और कमजोर ही था। बस लम्बा ज़रुर था और भाभी ने मेरे से अपनी चुत की प्यास बुझाई

भाभी भइया के साथ भी जाति तो मुझे ले जाती। और कहीं भी बाहर निकलना हुआ तो मेरे साथ ही। मैं खुद के लिए भी भाभी की ही पसंद को मानता हूं। भाभी से बहुत खुल गया था और वो भी मेरा बोहुत ध्यान राखी अभिभावक की तरह भी।

दूध नहीं पीना चाहता था तो जबर्दस्ती पिलाना और विटामिन वाली सब्जियों के लिए भी। अपना बहुत आ गया था 15 दिनो में ही और मेरे साथ खुश रहती। मैं उन्को नए ऐप्स, गेम्स सिखता। अकेले में लपरवाही से रहती तो उसकी साड़ी टोपी जाति कमर से। तो कभी दिख जाती थी।

और मुझे लड़कियों और औरतों की कभी देखना बहुत अच्छा लगता था। भाभी का पालतू सादे होने की वजह से कभी बहुत ही दर्शक और लंबी बड़ी सी थी। एक दम बिपाशा बसु की तरह। रात को जब भैया आ जाते हैं। खाना आदि सब खा के पापा तो आला रूम में चले जाते हैं।

मैं और भैया भाभी ऊपर फ्लोर के कमरे में चले जाते हैं। और ऊपर फ्लोर का गेट लॉक भी कर ते थे। हम टिनो के अलावा कोई नहीं होता था हम फ्लोर पे। फ्लोर पे आने के बाद भाभी फ्री और रिलैक्स हो जाती थी। सर पे से साड़ी का पल्लू हटा देती है क्योंकि मैं तो छोटा था।

पेट के साइड का पल्लू भी लूज हो जाता तो रह के कभी दिख जाती है। जब भाभी और भइया लड़ती करते तो मैं भी शमील हो जाता और मौका पाते ही पेट पे हाथ लगता है। ये सब धीरे-धीरे इतना आम हो गया था की। काई बार तो भाभी के पेट पे हाथ भी रख देता जब वो लेति हुई होती हमें समय बात करते समय।

इस तरह भाभी के आने के बुरे हम सब बोहुत खुश थे। बाकी अगले भाग में।

आपको यह कहानी कैसी लगी ??

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga