प्रिंसिपल से सेट हुई मैडम को चोदा प्रिंसिपल के ऑफिस में

प्रिंसिपल से सेट हुई मैडम को चोदा प्रिंसिपल के ऑफिस में

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “प्रिंसिपल से सेट हुई मैडम को चोदा प्रिंसिपल के ऑफिस में” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

मेरे स्कूल की एक सेक्सी टीचर प्रिंसिपल के साथ सेट थी, उससे चुदाई करवाती थी.

मैं भी उस टीचर की चूत को मारना चाहता था. मुझे पहले मैडम की गांड मारने का मौका मिला। कैसे?

मेरा नाम राकेश है और मैं उदयपुर का रहने वाला हूँ।

ये बात तब की है जब मैं 19 साल का था और 12वीं क्लास में पढ़ता था

हमारे स्कूल में एक टीचर हुआ करती थीं। जिसका नाम आशिका था।

दोस्तों पहले मैं आपको मैडम के फिगर के बारे में बता दूं।

मैडम का फिगर था 34-30-36… का था … वो बड़े गजब की माल लगती थीं.

उनके बड़े ही तीखे नैन नक्श और मदमस्त जिस्म को देख कर उन्हें काम की मूर्ति कहा जा सकता था.।

जब वो चलती थीं, तो उनके छत्तीस इंच के चूतड़ ऐसे मटकते थे

कि बस ज़ोर से पकड़ कर मसल ही डालो सालों को

और अपना खड़ा लंड सीधा बिना झटके के अन्दर उतार दो.

दूसरी तरफ मैडम भी कुछ कम नहीं थीं। वह स्कूल के लड़कों की इन मंशाओं से अच्छी तरह वाकिफ थी

इसलिए वह जानबूझ कर लड़कों को देखकर अपनी चाल बदल लेती थी।

लड़के उसकी हरकतों को देखकर समझ जाते थे कि मैडम जानबूझ कर अपनी गांड हिला रही हैं.

लेकिन प्रिंसिपल साहब के डर के मारे कोई उन्हें कुछ नहीं कह सका।

प्रिंसीपल सर का डर क्यों था ये आपको इस सेक्स कहानी में आगे पता चल जाएगा.

जब वो काले सूट में स्कूल आती थी तो मेरा मन करता था

कि मैं उसे पकड़ कर उसी समय चोद दूं। लेकिन ऐसा नहीं कर सका।

फिर कुछ ऐसा हुआ कि सब गड़बड़ हो गया। मुझे नहीं पता था कि मेरी किस्मत में मेरे लिए कुछ और ही लिखा है।

गर्मी का मौसम था, स्कूल की छुट्टी हो गई थी। सभी शिक्षक अपना बैग आदि पैक करके अपने घर जाने के लिए तैयार हो रहे थे

उसी समय मुझे प्रिंसिपल साहब की आवाज सुनाई दी। वह आशिका मैडम को अपने केबिन में बुला रहा था।

दरअसल हमारा स्कूल इतना बड़ा नहीं था कि अगर प्रिंसिपल किसी को बुलाएं

और आवाज हम तक न पहुंचे। अब लगातार कुछ दिनों से मैंने नोटिस किया था

कि स्कूल खत्म होते ही आशिका मैडम के लिए प्रिंसीपल सर का बुलावा आ जाता था.

उस दिन मैंने सोचा कि आज क्या बात है यह जानकर ही घर जाऊंगा।

कुछ कुछ उड़ती हुई बातें भी मुझे उनके कमरे में झाँकने के लिए मजबूर कर रही थीं.

चूंकि सर और मैडम की आशिकी के चर्चे मेरे स्कूल में दाखिला

लेने से पहले से ही चले आ रहे थे. बस उस दिन मैंने मन बना लिया।

प्रिंसिपल साहब की आवाज सुनकर मैडम जी ने पर्स उठाया और अपने चेंबर में चली गईं।

शुरू में मैंने बाहर इंतजार करना बेहतर समझा और इंतजार करने के लिए बाहर पड़ी बेंच पर बैठ गया।

इस दौरान मेरे कान कमरे से आने वाली हर आवाज पर लगे हुए थे, लेकिन अंदर से सुई गिरने तक की आवाज नहीं आई.

प्रिंसिपल साहब के कमरे में गए हुए लगभग एक घंटा हो गया था

लेकिन अभी तक न तो मैडम और न ही प्रिंसिपल साहब बाहर आए थे.

तो मुझे यह समझने में देर नहीं लगी कि अंदर क्या चल रहा होगा।

कुछ देर और इंतजार करने के बाद मैंने अपनी कॉपी गुम होने

की शिकायत लिखवाने के बहाने प्रिंसिपल के कमरे में जाने का मन बना लिया

और मैं भी उनके कमरे में पहुंच गया, लेकिन वहां न तो प्रिंसिपल और न ही मैडम नजर आईं.

कमरा खाली देखकर मैं चौंक गया। मैंने सोचा कि

शायद ये दोनों पीछे के रास्ते से कहीं चले गए हैं और बाद में कमरे में आ जाएँगे।

लेकिन उस दिन बहुत देर हो गई थी, इसलिए मैं स्कूल से वापस आ गया

लेकिन मैं इन बातों से इतना अंजान नहीं था कि समझ ही नहीं पाता कि मैडम और साहब कहां गए होंगे।

अगले दिन जब मैं स्कूल में आशिका मैडम से मिला, उसी दिन से मैंने उसका पीछा करना शुरू कर दिया।

मैडम भी मेरे बदले हुए तेवर को समझ सकती थीं। चूंकि मैं स्कूल का प्रेसिडेंट था

जिसके कारण प्रिंसिपल साहब स्कूल की प्रार्थना से लेकर स्कूल नोटिस आदि हर चीज के लिए सीधे मेरा नाम सुनिश्चित करते थे।

इसी तरह स्कूल के वार्षिक समारोह का दिन आ गया। पूरे स्कूल को सजाया गया था।

उस दिन सभी बच्चे, शिक्षक, सभी सज-धज कर आए थे। आप समझ सकते हैं कि मैं किसकी ओर इशारा कर रहा हूं।

आशिका मैडम ने एक लंबा गाउन पहना हुआ था, वो भी चमकीले लाल रंग का

जिससे उनके बूब्स लगभग निकलने ही वाले थे.

मैंने कई बार देखा कि आज प्रिंसिपल साहब और मैडम के बीच बिल्कुल भी संवाद नहीं था।

मैंने कारण जानने के लिए मैडम को टटोलने की कोशिश की, लेकिन मैडम ने अपना मुंह नहीं खोला।

उनके इस व्यवहार से मेरा आश्चर्य सातवें आसमान पर था

कि आज मैडम कितनी मस्त लग रही थीं और प्रिंसिपल साहब घास ही नहीं डाल रहे हैं।

मैंने अपने गुस्से पर काबू रखना बेहतर समझा। समय आने पर आपको अपने संयम का उचित लाभ मिलेगा।

बस यही सोचकर मैं बाकी प्रोग्राम की तैयारी करने लगा। उस दिन छह-सात प्रोग्राम्स के बाद वार्षिकोत्सव समाप्त होने को था

और प्रिंसीपल उठकर चले गए। तभी मेरे दिमाग में एक उपाय आया।

मैंने बाहर जाकर देखा तो पाया कि प्रिंसीपल सर

प्रोग्राम को खत्म करने के बाद के कामों में लगे हुए थे और उनको अभी एक घंटा लग सकता था।

यह देखकर मेरे मन में एक खतरनाक विचार आया।

मैंने अपनी एक सहेली को मैडम के पास यह कहकर भेजा

कि प्रिंसिपल साहब ने आपको अपने ऑफिस बुलाया है, उन्हें आपसे कुछ जरूरी काम है।

जैसे ही मेरी साथी ने ये बात मैडम को बताई.. इतने में

मैं प्रिंसिपल साहब के ऑफिस चला गया और कमरे की लाइट बंद करके दरवाजे के पीछे छिप गया।

दो मिनट ही बीते होंगे कि किसी के आने की आवाज सुनाई दी। आशिका मैडम कुछ ही देर में ऑफिस के अंदर आ गई थीं।

जैसे ही वो अंदर आई मैंने जल्दी से दरवाजा बंद किया और उसे पीछे से पकड़ लिया

और उसकी मोटी मोटी चुचिओ को कपड़ों के ऊपर से दबाना शुरू कर दिया।

मैडम की आवाज आई- सर, आज हम सब यहीं करेंगे या फिर उसी कमरे में चले जाएंगे।

दूसरे कमरे का नाम सुन कर मन चकरा गया और मैं समझ गया

कि उस दिन जब मैं शिकायत के बहाने आया था तो मुझे इस कार्यालय में कोई क्यों नहीं मिला।

मैडम ने फिर आवाज लगाई- सर, अंदर वाले कमरे में आइए।

इतना सुनते ही मैंने मैडम को टेबल पर आगे की ओर झुकाया

और उनकी ड्रेस उठाई और उनके चूतड़ों की दरार के बीच वाले छेद पर अपना लंड रख दिया.

जब तक वो सोच पाती मेरा आधा लंड टीचर की गांड में घुस गया था.

वो बहुत जोर जोर से चिल्लाने लगी और कह रही थी- अरे सर ये शौक कब से हो गया

कल तक तो चुत मार कर ही शांत हो जाते थे

अरे आज तो शुरुआत ही इतनी खतरनाक है… क्या इरादा है आज हमारे प्रिंसिपल साहब का ..!

मैडम की बातें सुनकर मुझे मजा आने लगा और मेरा उत्साह भी बढ़ता जा रहा था।

मैंने मैडम की गांड को चोदना जारी रखा और 15 मिनट की धक्कम पेलाई में मैंने अपना वीर्य मैडम की गांड में ही डाल दिया।

जैसे ही मैं थोड़ा पीछे गया, मैडम मेरी ओर मुड़ीं और मुझे देखकर चौंक गईं।

मैं उनके सामने ही अपने लंड को पकड़ कर हिलाते हुए दुबारा खड़ा करने की कोशिश में लगा था.

तभी मैडम मुझ पर चिल्लाईं और बोलीं- अरे राकेश… क्या कर रहे हो… और अंदर कब आए?

मैंने उसे सारा मंजर समझाया और कहा- देखो मैडम… मुझे तुम्हारे साथ वही करना है

जो तुम रोज प्रिंसिपल साहब के साथ करती हो। यदि आप राजी राजी करेंगे, तो यह आपके लिए सही है।

वर्ना स्कूल इतना भी बड़ा नहीं है कि आपके कारनामे किसी से छुपे रहें। बात फैल गई तो और बदनामी होगी।

मेरे इतना कहते ही मैडम ने मेरे लंड को पकड़ लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने और चाटने लगी.

वो कहने लगी- मैं कब से चुदना चाह चाह रही थी. तू ही गंडफट था तो मैं क्या करती। तूने कभी मुझे दाना ही नहीं डाला।

मैं समझ गया कि मैडम मस्त हो गई हैं और फिर से मस्ती करेंगी। अब मैडम के दूध को मसलने लगा।

मैडम बोलीं- यार राकेश, मेरा गाउन खराब हो जाएगा। उस पर सिलवटें होंगी।

मैंने कहा- फिर गाउन उतारो ना मैडम आपके पक्के आशिक को आज पूरी नंगी मैडम चोदने का मन है.

मैडम ने गाउन उतार दिया और पैंटी में ब्रा आ गई। मैंने अगले ही पल उसकी ब्रा पैंटी उतार दी

और कमरे में एक छोटी सी लाइट जला दी। मैडम इतना चुदने के बाद अब भी मस्त माल थीं।

मैं उसका एक दूध चूसने लगा और दूसरा मसलने लगा। मैडम बोली- मुझे लंड ठीक से चूसने दे.

मैंने उनके दूध छोड़े और लंड से उनके मुँह को चोदना शुरू कर दिया।

थोड़ी देर में मैंने फिर से अपना सारा सामान मैडम के मुँह में डाल दिया।

इसके बाद मैंने मैडम को टेबल पर बिठाया और उनकी चूत चाटने लगा.

दस मिनट में ही उसकी चूत चोदने के लिए तैयार हो गई।

मैडम जोर जोर से चिल्ला रही थी- राकेश आह…अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो.

मेरी चूत पानी छोड़ रही है लंड हड़पने के लिए. इसका पेट भर दो अपने गर्म लंड से।

लेकिन आज मैं उन्हें तड़पा-तड़पाकर मजा देना चाहता था।

इसलिए मैंने उसे कुछ और मिनटों तक इसी तरह सताया।

फिर अपना सात इंच का लंड उनकी चूत में एक बार में ही उतार दिया.

मैडम की भीगी हुई चूत चौड़ी हो गई और मजे की वजह से उनकी आह निकल गई और हम दोनों चुदाई के मजे लेने लगे.

टीचर के मुँह से कामुक सिसकियाँ निकल रही थीं। मैडम प्रिंसिपल को भी गालियां दे रही थीं।

वो कह रही थी- साला कुत्ता…हर दिन मुझे ऑफिस में सेक्स के लिए बुलाता है।

लेकिन उससे कुछ नहीं होता था! दो मिनट बाद गिर जाता है।

नौकरी करनी है तो मजबूरी में उसी के नीचे लेटना पड़ रहा है। नहीं तो मैं ऐसे चूहे को अपना पेशाब भी नहीं पिलाती।

लगभग बीस मिनट के तेज़ सेक्स के बाद मैं उसकी चूत में झड़ गया

और थक कर उसके ऊपर गिर गया। फिर उसने मुझे होठों पर किस किया

और चुदाई के लिए धन्यवाद कहा। मैडम बोलीं- आज तो गांड और चूत मरवाने में मजा आ गया।

वो कहने लगी- अब आज से साले प्रिंसीपल की माँ की चुत. आज के बाद जब भी मेरी चूत लंड मांगेगी

अगर मुझे चुदना होगा तो मैं तुझे अपने घर बुला लूंगी. बस इसी वादे के साथ जब हम प्रिंसिपल के ऑफिस से निकले

तो देखा कि प्रोग्राम खत्म होने वाला था और प्रिंसिपल अपने ऑफिस आने वाले थे.

इसके बाद भी मैंने कई बार मैडम की चुदाई की।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

You cannot copy content of this page