मकान मालकिन भाभी को चोदा और उनकी चूत का पानी निकाल दिया

मकान मालकिन भाभी को चोदा और उनकी चूत का पानी निकाल दिया

नमस्कार दोस्तों, मैं अमन आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने “मकान मालकिन भाभी को चोदा और उनकी चूत का पानी निकाल दिया”

मैं दिल्ली में काम करता हूँ। बात उन दिनों की है, जब मैंने एक नया कमरा किराये पर लिया था। मेरे मकान मालिक दो भाई थे. दोनों भाई अपनी पत्नियों और बच्चों के साथ उस घर में रहते थे।

उस दिन मैं अपने कमरे में सारा सामान व्यवस्थित करके शाम को छत पर चला गया. मैं छत पर आस-पास का नजारा देख रहा था, तभी भाभी कपड़े लेने आईं. उसने मुझे पीछे से आवाज़ दी- सुनो! (मकान मालकिन भाभी को चोदा)

मैंने घबरा कर पीछे देखा तो एक दुबली पतली बेहद खूबसूरत औरत खड़ी थी. मैंने उससे पूछा- तुम! मेरी बात काटकर मेरी तरफ मुस्कुराकर बोलीं- चौंको मत. मैं घर की बड़ी बहू आशिका हूं।

मैंने उसे अपना नाम अमन बताया तो उसने कहा- हां तुम्हारे भाई ने तुम्हारे बारे में बताया है. मैंने उससे पूछा- घर में और कौन है? उसने बताया कि वह, उसका पति, एक बच्चा और उसका देवर अपनी पत्नी के साथ रहते हैं.

मैंने उससे पूछा- तुम्हारी भाभी दिखाई नहीं दे रही? भाभी ने बताया कि वह अपने भाई की शादी में मायके गयी है. इसके बाद भाभी बोलीं- अगर तुम्हें किसी चीज की जरूरत हो तो मांग लेना. मैंने कहा- ठीक है भाभी.

इसके बाद वह कपड़े लेकर नीचे चली गयी. मुझे बाद में पता चला कि भाभी छब्बीस साल की थीं. वो बहुत ही खूबसूरत औरत थी, उसे देख कर कोई नहीं कह सकता था कि वो एक बच्चे की माँ है।

भाभी की लंबाई करीब पांच फुट चार इंच, कमर छब्बीस और स्तनों का आकार बत्तीस रहा होगा. उसकी खूबसूरती देख कर मेरा दिल उसे चोदने के सपने देखने लगा.

मैं जानता था कि उनको चोदना एक सपना ही है क्योंकि अगर कुछ भी गलत हुआ तो मैं बड़ी मुसीबत में पड़ जाऊँगा। लेकिन जब भी वो मेरे सामने आती थी तो मैं उसे जी भर कर देखता रहता था

और लाइन मारने की कोशिश करता था. इस चक्कर में कभी-कभी हमारी नजरें टकरा जाती थीं और मैं अपनी नजरें झुका लेता था. कभी कभी तो मुझे ऐसा लगता था कि भाभी जानबूझ कर मुझसे नजरें मिलाती थीं.

एक दिन मैं नाइट ड्यूटी करके वापस रूम पर आया तो भाभी बच्चे को स्कूल बस में बिठाकर मेन गेट बंद करके वापस आ रही थीं. सीढ़ियों पर मेरी नजर उससे टकराई. वो मेरी आँखों में आँखें डाल कर मुझे देख रही थी.

उस दिन पता नहीं क्या हुआ, मैंने मन में सोच लिया कि आज नजरें नहीं झुकाऊँगा। और मैं बस उसकी आंखों में देखता रह गया. कुछ देर बाद भाभी मुस्कुराईं और बोलीं- ऐसे क्या देख रहे हो, क्या कच्चा ही खा जाओगे?

उसे मुस्कुराता देख मेरा डर गायब हो गया और मेरे मुँह से निकल गया- अगर आप इजाजत दें तो जरूर खाऊंगा. भाभी कुछ नहीं बोलीं, बस तेजी से घूमीं और वहां से चली गईं. (मकान मालकिन भाभी को चोदा)

उसकी यह प्रतिक्रिया देख कर मेरी गांड फट गयी, चेहरे पर हवाइयां उड़ने लगीं. मैं अंदर से बहुत डरा हुआ था. मैं नहाकर और खाना खाकर कमरे में जाकर लेट गया और उसके बारे में सोच रहा था

तभी अचानक भाभी मेरे कमरे में आ गईं. भाभी ने मुझसे कहा- तुम मुझे क्यों घूर रहे थे? मेंने कुछ नहीं कहा। भाभी मुझे डांटने लगीं. वो बोलीं- आज उन्हें आने दो.. मैं उनसे कहूंगी कि तुम मुझे घूरते रहते हो.

मैं बहुत डर गया, मैंने भाभी से सॉरी कहा और कहा कि आज के बाद ऐसी गलती नहीं होगी. भाभी जिद पर अड़ गई कि वह आज भैया को सब बता देगी. मैं उन्हें मनाने की कोशिश कर रहा था.

काफी देर बाद भाभी बोलीं- ठीक है, मैं नहीं बताऊंगी, लेकिन तुम्हें मेरी बात माननी पड़ेगी. मैंने कहा- ठीक है भाभी.. आप जैसा कहोगी, मैं वैसा ही करूँगा। भाभी ने मुझसे कहा- आओ मेरे पास बैठो और मुझे सच सच बताओ कि तुम मुझे क्यों घूरते रहते हो?

अब तक मुझे कुछ-कुछ समझ आने लगा था, तब भी मेरी गांड फट रही थी। मैंने उनकी बात से सहमति जताते हुए कहा- भाभी, आप मुझे बहुत पसंद हैं. भाभी ने अपने मम्मे ऊपर उठाते हुए कहा- बताओ तुम्हें मुझमें क्या पसंद है?

तो मैंने कहा कि भाभी आपका पूरा शरीर, आपका चेहरा. मैं रुक गया.. तो भाभी ने पूछा- और! मैंने कहा- भाभी, आप मुझे सिर से पाँव तक बहुत सुन्दर लगती हो। इससे भाभी की आंखों में चमक आ गई और होंठों पर मुस्कान आ गई.

मैं समझ गया कि भाभी अपनी तारीफ सुनना चाहती हैं. उनसे ऐसी बात करने से मेरे लंड में अकड़न आने लगी और लोअर के नीचे से लंड का उभार साफ दिखने लगा, जिसे भाभी ने भी देख लिया.

भाभी मेरे लंड को देखते हुए बोलीं- तुम नहीं सुधरोगे, मुझे तुम्हारी शिकायत करनी पड़ेगी. इससे पहले कि मैं कुछ कहता, भाभी ने लोअर के ऊपर से ही मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ लिया और सहलाते हुए बोलीं- मुझे पता है कि तुम मुझे चोदना चाहते हो

मैं खुद भी तुम्हें पसंद करती हूं. लेकिन अगर ये बात कभी सामने आ गई तो बहुत बदनामी होगी. इसलिए आज के बाद तुम मुझे कभी घूरकर नहीं देखोगे. आपको ऐसे व्यवहार करना होगा जैसे हमारे बीच कुछ भी नहीं है।

जब भी मौका मिलेगा मैं खुद आपसे मिलूंगी. मैंने कहा- ठीक है भाभी जैसा आप कह रही हो वैसा ही होगा. भाभी मेरे लोवर में हाथ डाल कर मेरे लंड को सहला रही थी और मैं मन में सोच रहा था

कि आज किस्मत बहुत मेहरबान है जो भाभी खुद ही चुदने के लिए तैयार हो गयी. मैंने उसका हाथ पकड़ कर लोअर से बाहर निकाला. इससे पहले कि भाभी कुछ बोलतीं, मैंने उनके होंठों को अपने होंठों में ले लिया और चूसने लगा.

कुछ देर तक भाभी के दोनों होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने के बाद मैंने भाभी को बिस्तर पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया. मैं अपने दोनों हाथों से भाभी की दोनों चुचियों को साड़ी के ऊपर से दबाते हुए उनकी गर्दन पर चूमने लगा.

मैंने भाभी के चूचों को दबाते हुए पूछा- भाभी, कैसा लग रहा है? तो भाभी बोलीं- अच्छा लग रहा है जान. भाभी भी आंखें बंद करके हल्की-हल्की आहें भरते हुए अपनी चुचियां मसलवाने का मजा ले रही थीं. (मकान मालकिन भाभी को चोदा)

मैंने भाभी की गर्दन को चूमते हुए उनके कंधे से साड़ी का पल्लू हटा दिया और ब्लाउज के ऊपर से ही उनके मम्मों को फिर से दबाने लगा. कुछ देर तक भाभी की गर्दन को चूमने और उनकी चुचियों को दबाने के बाद मैंने साड़ी निकाल कर अलग कर दी

और उनके ब्लाउज का हुक खोलकर भाभी को बैठाया और साड़ी भी निकाल दी. फिर भाभी की ब्रा का हुक खोलकर ब्रा को निकाल कर अलग कर दिया. मैंने भाभी को फिर से बिस्तर पर लिटाया और उनके ऊपर चढ़ गया

और उनके चेहरे को अपने हाथों में ले लिया और उनके पूरे चेहरे को चूमने लगा. भाभी ने भी मुझे कस कर अपनी बांहों में भर लिया था और धीरे-धीरे आहें भर रही थीं.

कुछ देर तक भाभी के चेहरे को चूमने के बाद मैं उनके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा. भाभी भी मेरे होंठों को चूसते हुए मेरा साथ दे रही थीं. भाभी के होंठों को चूसने के बाद मैंने अपनी जीभ भाभी के मुँह में डाल दी.

भाभी मेरी जीभ को चूसने लगीं. कुछ देर बाद मैं भी भाभी की जीभ अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. फिर मैंने उनकी ब्रा भी उतार दी और उनके शरीर पर बची हुई उनकी पेंटी को भी उतारकर उन्हें पूरी नंगी कर दिया.

भाभी मेरे सामने नंगी लेटी हुई थी. उनका शरीर बेहद खूबसूरत लग रहा था. मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और पूरा नंगा हो गया. इसके बाद मैं भाभी के पैरों के पास आया और उनके पैरों की उंगलियों, टखनों, घुटनों और जांघों को एक-एक करके चूमते हुए उनकी कमर तक आ गया.

मैंने भाभी के दोनों पैरों को फैलाकर उनकी चूत को चूमा और उनकी चूत के अंदर अपनी जीभ डालकर उनकी चूत को चूसने लगा. भाभी आंखें बंद करके कामुक आहें भर रही थीं.

उनकी चूत को चूसने के बाद मैं भाभी के पेट और कमर को चूमते हुए स्तनों के पास आया। मैं भाभी की एक चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरी को हाथ से मसलने लगा। कुछ देर बाद मैंने भाभी की दूसरी चूची को मुँह में ले लिया और पहली को मसलने लगा.

कुछ देर तक भाभी की चुचियों को चूसने और मसलने के बाद मैंने भाभी के कंधों, गर्दन और कानों को चूमते हुए उनके माथे को चूमते हुए मजा लिया. भाभी की आँखें बंद थीं और वो धीरे-धीरे सिसकियाँ ले रही थीं।

मैं एक बार फिर से भाभी के होंठों को अपने होंठों से चूसने लगा. भाभी ने मुझे कस कर अपनी बांहों में भर लिया. मैंने भाभी के होंठों को चूमते हुए उन्हें अपनी बांहों में भर लिया और करवट बदल ली और अब भाभी मेरे ऊपर आ गईं.

मैंने भाभी की टांगों में अपनी टांगें फंसा दीं और उनके चूतड़ों को दबाते हुए कहा- भाभी, अब मुझे चूमो! मेरे इतना कहते ही भाभी ने मेरा चेहरा अपने हाथों में ले लिया और मुझे चूमने लगीं.

मेरे चेहरे को चूमने के बाद भाभी थोड़ा नीचे आईं और मेरी छाती के दोनों निपल्स को मुँह में लेकर चूसने लगीं. मेरे चूचे चूसने के बाद भाभी ने मेरी तरफ देखा तो मैंने भाभी से कहा- भाभी, मेरा लंड भी चूसो!

भाभी ने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और बोलीं- यार, मुझे भाभी मत कहो … मेरा नाम लेकर बोलो. इतना कह कर उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और मजे से चूसने लगी. (मकान मालकिन भाभी को चोदा)

मैंने भाभी का सिर सहलाया और कहा- आशिका डार्लिंग … तुम बहुत अच्छा लंड चूसती हो. कुछ देर तक भाभी को अपना लंड चुसवाने के बाद मैंने अपना लंड उनके मुँह से बाहर निकाल लिया.

मैंने भाभी का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया और अपनी बांहों में भर लिया. फिर दिशा बदल कर उन्हें नीचे उतारा और उनके ऊपर चढ़ गया. भाभी मुझसे बोलीं- अब मुझे मत तड़पाओ. …अब मुझे जल्दी से चोदो.

मैंने भाभी से कहा- ठीक है जानेमन! मैंने उसके पैर फैलाये और उसके बीच घुटनों के बल बैठ गया। मैंने अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगाया और भाभी की चूत के छेद पर रखा और धक्का दिया तो पूरा लंड आसानी से भाभी की चूत में चला गया.

भाभी ने अपनी टाँगें मेरी जाँघों में लपेट लीं और मेरी कमर को अपने हाथों से पकड़ लिया और बोलीं- आह… हचक कर चोदो मुझे… मेरी जान… बड़ी आग लगी है। मैं भाभी की चूत में धीरे धीरे धक्के देकर चोदने लगा.

कुछ देर तक मैं भाभी को ऐसे ही चोदता रहा, फिर भाभी ने मुझसे कहा कि मेरा होने वाला है.. अब जल्दी से चोदो। मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेजी से भाभी को चोदने लगा.

कुछ देर बाद भाभी का शरीर अकड़ने लगा और उन्होंने मुझे कस कर अपनी बांहों में भर लिया. उसी समय मेरे लंड ने भी भाभी की चूत में पानी छोड़ दिया. मैंने भाभी के माथे को चूमा और कहा- आशिका, तुम बहुत प्यारी हो.

उसके बाद मैं भाभी के ऊपर लेट गया. भाभी ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया. मैंने भाभी को ऊपर किया और उनकी पीठ सहलाने लगा.

भाभी को बांहों में लेकर ऐसे ही बातें करता रहा. मैंने भाभी से कहा कि जान आप एक बच्चे की मां हैं, लेकिन खूबसूरती के मामले में आप लड़कियों को भी पीछे छोड़ रही हैं, आपने खुद को इतना मेंटेन कैसे कर रखा है?

भाभी ने मुझसे कहा- मैं पहले से ही ऐसी हूं … और अब भी रोज सुबह योगा करती हूं. कुछ देर बाद लंड में अकड़न आने लगी तो मैंने भाभी से लंड चूसने को कहा. भाभी उठीं और मेरा लंड चूसने लगीं.

Visit Us:-

जब मेरा लंड पूरा सख्त हो गया तो मैंने भाभी को लंड के ऊपर बैठने को कहा. भाभी अपने पैर मेरी कमर के दोनों तरफ करके बैठने लगीं. उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर सैट किया

और धड़ाम से बैठ गयी. मेरा पूरा लंड भाभी की चूत में जड़ तक समा गया. मैंने दोनों हाथों से भाभी की कमर पकड़ ली. तभी भाभी बोलीं- अभी तो तुमने मुझे चोदा, अब मैं तुम्हें चोदूंगी.

मैंने भाभी की कमर को सहलाते हुए कहा कि मेरी जान, ये तो मेरी किस्मत है जो तुम मुझे चोद रही हो, चोदो जानेमन. भाभी अपनी कमर हिला-हिला कर मुझसे चुद रही थीं… मैं भी नीचे से धक्के देकर भाभी का साथ दे रहा था।

भाभी कुछ देर तक ऐसे ही मुझसे चुदती रहीं. उसके बाद मैं उठकर उसी पोजीशन में बैठ गया. अब भाभी मेरी गोद में मेरी जांघों पर बैठी हुई थी और मेरा लंड भाभी की चूत में घुस चुका था.

मैंने भाभी को अपने सीने से लगा लिया, उनका चेहरा अपने हाथों में ले लिया और उनके होंठों को चूसने लगा. कुछ देर तक भाभी के होंठों को चूसने के बाद मैं उनके चेहरे और गर्दन पर चूमने लगा.

उसके बाद मैंने उसकी कमर पकड़ कर उसे उसी पोजीशन में कुछ देर तक चोदा. भाभी को चोदते समय जब उत्तेजना बढ़ जाती तो मैं भाभी के होंठों को चूसने लगता, उनके चेहरे को चूमने लगता और उनके मम्मों को दबाने और चूसने लगता।

उसके बाद मैंने भाभी को घोड़ी बना दिया. भाभी के पीछे आकर उनकी चूत में लंड डाल दिया. भाभी की पतली कमर पकड़ कर चोदने का अलग ही मजा था. (मकान मालकिन भाभी को चोदा)

कुछ देर तक भाभी को घोड़ी बनाकर चोदता रहा. उसके बाद भाभी को बिस्तर पर लिटा दिया. उसकी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख कर भाभी को फिर से चोदना शुरू कर दिया.

इस बार भाभी बहुत जोर से बोल रही थीं- आह मजा आ रहा है … और चोदो मुझे … और चोदो आह … आह. भाभी लंड के नीचे दबी हुई मजे से आहें भर रही थी. भाभी के मुँह से निकल रही सिसकारियाँ मुझे और भी उत्तेजित कर रही थीं।

तभी भाभी बोलीं- मेरा आने वाला है, जोर से चोदो मुझे. मैंने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी. कुछ देर बाद भाभी का शरीर कांपने लगा और वो मेरे शरीर से कस कर चिपक गयी. अब मैं भी बहुत जोश में आ गया था, मैंने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और भाभी को चोदने लगा।

कुछ देर बाद मेरे लंड ने भाभी की चूत में ही वीर्य छोड़ दिया. झड़ने के बाद मैंने हांफते हुए भाभी के माथे को चूमा और उनके ऊपर लेट गया. कुछ देर बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और मैं अपने कमरे में आ गया।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga