मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया Part-2

मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया Part-2

मेरा नाम अमन हे आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मैंने “मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया”

इस कहानी का पहला भाग:-

मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया Part-1

मेने आपको पिछली कहानी में बताया की कैसे मैंने अपनी मामी को नंगी देखा तो मेरा मन उनकी चुदाई के लिए बेचैन होने लगा. मैंने खेत में मामी को चुदाई के लिए मना भी लिया था.
अब आगे:

पेट को चूमने के बाद अब मैं वापस मामी जी के ऊपर चढ़ गया और उनके स्तनों को चूमते हुए सीधे मामी जी के रसीले होंठों को चूसने लगा।

मामी जी को अब नशा होने लगा था. अब मामी जी ने मुझे प्यार से अपनी बांहों में भर लिया. मैं लगातार मामीजी के होंठों को चूस रहा था।

ऐसा लगा मानो मेरी लॉटरी लग गई हो. आज मैं एक अद्भुत, जानदार, मदमस्त चूत का आनंद ले रहा था।

अब मेरे पैर हरकत करने लगे. अब मैंने मामी जी की टांगों को अपनी टांगों में फंसा लिया। मैं मामी जी की टांगें मसल रहा था। मेरा लंड एकदम टाइट हो गया था और मामी जी की चूत के ठीक ऊपर था.

मेरा लंड मामी जी की रसीली चूत में घुसने की कोशिश करने लगा लेकिन मेरे लंड को कोई रास्ता नहीं मिल रहा था. मैं लगातार मामीजी के रसीले होंठों को चूस रहा था।

थोड़ी देर बाद मैं मामीजी की ओर मुड़ा। अब मामी जी का मुँह और चूत ज़मीन पर थे और उनकी गांड ऊपर थी। आसपास सरसों की कई पत्तियां और पौधे जमीन से चिपक कर बिस्तर बन गये थे.

कुछ पत्तियाँ मामी जी के शरीर और गांड में भी चिपकी हुई थीं। अब मैं सीधे मामी जी की गांड पर आ गया और साड़ी के ऊपर से ही उनकी गांड को मसलने लगा.

मामी जी की गांड बहुत बड़ी थी इसलिए मुझे उनकी गांड मसलने में बहुत मजा आ रहा था. आंटी की साड़ी गांड के बीच की दरार में फंस रही थी.

मैं मामी जी की गांड को साड़ी के ऊपर से ही चाटने लगा. मुझे मामी जी की गांड चाटने और मसलने में बहुत मजा आ रहा था. थोड़ी देर बाद मैं पूरी तरह से मामी जी के ऊपर चढ़ गया, अब मेरा लंड मामी जी की गांड में दबने लगा।

अब मैं मामी जी की गर्दन पर चूम रहा था। मुझे मामी जी की पीठ और गर्दन को चूमने में बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने मामी को जी भर कर चूमा और चाटा.

मैं अब धैर्य खोने लगा था. मेरा लंड एकदम तन गया था. मेरा लंड मामी जी की चूत में जाने के लिए बेताब हो रहा था. मैंने तुरंत अपने सारे कपड़े उतार दिए.

अब मैं मामीजी के सामने सिर्फ अंडरवियर में था. अंडरवियर में मेरा लंड तूफ़ान बन गया था. मैंने मामी जी को घुमा कर सीधा किया। मामी की नजर मेरे लंड पर टिक गयी.

मैंने मामी जी के पेटीकोट में उलझी हुई साड़ी का पल्लू खोल दिया। साड़ी का पल्लू खुलते ही पूरी साड़ी ढीली हो गयी. अब मैं मामी जी की साड़ी खोलने लगा लेकिन अभी भी साड़ी मामी जी की गांड में फंसी हुई थी।

अब मैंने मामी जी की गांड को थोड़ा ऊपर उठाया और पूरी साड़ी खोल दी. मेरी प्यारी मामी अब मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में थीं. अब मैंने मामी जी के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और पेटीकोट को खुला रख दिया।

मामी जी अब नीचे केवल एक छोटी सी पैंटी पहने हुई थीं। मामी जी की पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी. अब मैं मामी जी के ब्लाउज पर टूट पड़ा.

मैंने तुरंत ब्लाउज का हुक खोल दिया और ब्लाउज खोलते ही मामी जी के बड़े-बड़े रसीले मम्मे बाहर आ गये। मामी जी के स्तन बहुत गोरे और मुलायम थे।

ब्लाउज खोल कर एक तरफ रख दिया. अब मामी जी शरमाने लगीं. यह अद्भुत दृश्य था! जिस मामी की मैं इतनी इज्जत करता था, आज उसी प्यारी मामी की चूत चोदने जा रहा हूं.

आज मैं उन फलियों का दूध पीऊंगा जिनका दूध बचपन में मेरी मामी ने मुझे पिलाया था. मैं मामी जी की चूत पर बैठा हुआ था. हमारे सारे कपड़े हमारे चारों ओर बिखरे हुए थे। अब मामी जी का नंगा शरीर सरसों के पत्तों पर था।

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था. मैं नीचे आया, मैंने मामी का एक पैर ऊपर उठाया और पैर को चूमना शुरू कर दिया। मामी की टाँगें संगमरमर की तरह चमक रही थीं। पैर को चूमते हुए मैं मामी जी की चूत तक पहुंच गया.

अब मैं मामी जी की चूत को पैंटी के ऊपर से ही चाटने लगा। पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी. मैं पैंटी के ऊपर से ही चूत को चाटने लगा.

मामी की चूत पानी छोड़ रही थी. वो अब सिसकने लगी. अब मैंने मामी जी का दूसरा पैर ऊपर उठाया और पैर को चूमते हुए मामी जी की चूत तक पहुंच गया। मामी जी की चूत की खुशबू अब मुझे पागल कर रही थी.

अब मैंने तुरंत अपना अंडरवियर उतार दिया. मेरा मूसल जैसा लंड मामी जी के सामने आ गया था. मामी जी मेरे लंड की तरफ देख रही थीं.

मैंने तुरंत मामीजी की पैंटी सरका दी और उतार कर फेंक दी। अब मेरी प्यारी मामी की चूत मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी. मामी की चूत देख कर मैं पागल हो गया.

आज पहली बार मैंने अपनी प्यारी मामी की चूत देखी. मामी की चूत बहुत बड़ी थी. चूत के आस पास कांटों का छोटा सा जंगल भी था. मामी जी की चूत बहुत गीली हो चुकी थी।

मैंने मामी जी की चूत में अपनी उंगली डाल दी। मामी जी के मुँह से अचानक आह निकल गई. मामी जी छटपटाने लगीं. अब मैं उंगली को चुत के अन्दर बाहर करने लगा.

मुझे मामी जी की चूत में उंगली अंदर-बाहर करने में बहुत मजा आ रहा था। मामी जी की चूत अंदर से भट्टी की तरह गर्म हो रही थी.

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ, मैंने तुरंत अपना मुँह मामी जी की चूत पर रख दिया। मैं मामी जी की चूत को चाटने लगा.

दोस्तो, क्या बताऊँ आपको… मैं तो ख़ुशी से पागल हो रहा था। मुझे मामी जी की चूत चाटने में बहुत मजा आ रहा था.

मामी जी धीरे-धीरे सिसकारियाँ भर रही थीं। वो मेरे बालों में हाथ फिराने लगी. मैं लगातार मामी जी की चूत का रस पी रहा था।

चूत चाटने के बाद मैं फिर से मामी जी की चूत में अपनी उंगली डालने लगा। जैसे ही मेरी उंगली मेरी चूत में घुसी, मामी जी फिर से एकदम से चौंक गईं.

मामी जी कराहने लगीं. अब मैं अपनी उंगली मामी जी की चूत में अन्दर-बाहर करने लगा। मुझे मामी जी की चूत में उंगली करने में बहुत मजा आ रहा था.

आंटी तो पागल हो रही थी, आह, उह, ओह, ओ करने लगी। अब मैं मामी जी के ऊपर चढ़ गया। शायद अब मामी को सरसों की पत्तियां चुभने लगी थीं. मेरा लंड मूसल जैसा हो गया था.

मैं एक बार फिर मामी जी के चूचों पर टूट पड़ा और उन्हें दोनों हाथों से मसलने लगा. मामी जी एकदम से चीख पड़ीं, लेकिन मैंने मामी जी पर कोई ध्यान नहीं दिया और उनकी चुचियों को जोर-जोर से मसलता रहा.

मैंने बोबे का निपल मुँह में ले लिया और चूसने लगा. मामी जी का बोबा रस से भरा हुआ था। मुझे बूब्ज़ चूसने में बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने बहुत देर तक बोबों को चूसा। आज मामी के गाल लाल हो गये थे.

अब मैंने एक बार फिर से मामी जी के होंठों पर हाथ मारा और मामी जी के रसीले होंठों को चूस लिया।

मेरा लंड मामी जी की चूत में घुसने के लिए बेताब हो रहा था. मैं मामीजी के चरणों में आ गया. मैंने मामी जी की दोनों टांगें उठा कर अपने कंधे पर रख लीं.

मामी जी की चूत अब मेरे लंड के सामने थी. मामी जी की चूत बहुत गीली हो चुकी थी। मैंने लंड को चूत पर सैट किया. लंड को चुत में डालने से पहले मैंने एक बार चुत को उंगलियों से फैलाया. चूत अंदर से गीली और गुलाबी थी.

मैंने अपना लंड चूत पर रखा और एक जोरदार धक्का मारा तो मेरा आधा लंड मामी जी की चूत में समा गया. मामी जी दर्द से कराहने लगीं. मामी जी अपने हाथ-पैर इधर-उधर पटकने लगीं।

मामी जी मुझसे लंड बाहर निकालने के लिए कहने लगीं. लेकिन मैंने मामी जी की बात नहीं मानी. अब मैंने एक जोर का धक्का और मारा.

अब मेरा पूरा लंड मामी जी की चूत को चीरता हुआ चूत की जड़ तक पहुंच गया था. मामी जी दर्द से चिल्ला रही थीं, शायद बहुत दिनों के बाद आज मामी जी की चूत की चुदाई हुई थी।

मैंने मामी जी के होंठों को अपने होंठों से बंद कर लिया. अब मैं मामी जी की चूत में लंड पेलने लगा. मैं लगातार लंड को चूत के अंदर बाहर कर रहा था.

अपनी चूत पर लगातार हो रहे हमले से मामी जी अब शांत होने लगी थीं. मामी जी को भी अब अपनी चूत चुदवाने में मजा आ रहा था.

अब मामी जी ने मुझे दोनों टांगों के बीच में फंसा लिया था. मैं लगातार मामी जी की चूत में लंड पेल रहा था.

अजीब नज़ारा था… आज मैं अपनी प्यारी मामी को सरसों के खेत के बीच में चोद रहा था। चारों ओर शांति थी. सिर्फ लंड के चूत में अन्दर-बाहर होने की आवाज आ रही थी.

मामी जी की चूत ने पानी छोड़ दिया. मेरा लंड मामी जी की चूत चोदने में लगा हुआ था. चूत गीली होने के कारण अब दच दच फच फच की आवाज गूँज रही थी।

मैं लगातार मामी जी को चोद रहा था। मामी जी भी अपनी चूत चुसवाने में पूरा साथ दे रही थीं. मेरा लंड पानी छोड़ने वाला था तो मैंने मामी जी से पूछा- मामी जी, मेरा निकलने वाला है. बताओ पानी कहां डालूं?

मामी बोलीं- अन्दर डाल दे. मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया. कुछ ही देर में मामी जी की चूत मेरे लंड के रस से भर गयी. मैं थक गया था। मामी जी की चूत आज चुदकर भोसड़ा बन गयी थी।

मामी की चूत से पानी निकल रहा था. अब शाम का समय हो गया था. मैंने एक बार फिर मामी जी की रसीली फांकों को अच्छे से चूसा और फांदों का रस पिया। अब हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिये.

आज मैं अपनी प्यारी मामी की चूत चोद कर बहुत खुश था. मामी जी भी आज बहुत खुश लग रही थीं. आज बहुत दिनों के बाद मामी की चूत को लंड का स्वाद मिला था.

अब मामी जी गांड मटकाते हुए आगे चल रही थीं और मैं मामी जी की गांड को घूर रहा था. मामी जी की गांड बहुत सेक्सी थी. अब हम भैंस को लेकर घर पहुँच गये।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga