चुदक्कड़ मामी को होली के दिन घोड़ी बनाया – मामी XXX कहानी

चुदक्कड़ मामी को होली के दिन घोड़ी बनाया – मामी XXX कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “चुदक्कड़ मामी को होली के दिन घोड़ी बनाया – मामी XXX कहानी”। यह कहानी किशन की है वो आपको आगे की कहानी बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मामी XXX कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी मामी से मजाक करता था. मामी ने भी मेरा साथ दिया. होली के दिन मैंने अपनी मामी को कैसे चोदा?

दोस्तो, मेरा नाम किशन है मैं भोपाल का रहने वाला हूँ और आज इतने दिनों के बाद मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी आपको अपनी पहली चुदाई की कहानी बताऊँ।

पारिवारिक चुदाई सेक्स रिश्ते की यह कहानी करीब 4 साल पहले की है जब मैं 12वीं में पढ़ता था.

मेरे तीन मामा हैं, जिनमें से सबसे बड़े मामा हमारे शहर में एक कंपनी में काम करते हैं। मामा और मामी यहीं रहते हैं.

मेरी मामी का फिगर कमाल का है.
उसका गोरा रंग, खूबसूरत आंखें, पतले होंठ, मोटे स्तन, पतली कमर, उभरी हुई Moti Gand, जो भी उसे देखता है वह हस्तमैथुन किए बिना नहीं रह पाता।

मेरी मामी बहुत मज़ाक करती हैं और मैं भी उनके साथ बहुत मज़ाक करता हूँ।
मैं मजाक में उसके गाल भी चूम लेता तो भी वो कुछ नहीं कहती.

एक दिन ऐसा हुआ कि जब मैं अपनी मामी के घर गया तो रास्ते से मैंने कुछ टॉफ़ी ले ली और मुँह में रखकर चबाते हुए अपनी मामी के घर पहुँच गया।

जब मैं उनके घर पहुंचा और मामी को देखा तो उन्होंने गहरे गले का सूट पहना हुआ था जिसमें से उनके कुछ स्तन और उनके बीच की लाइन साफ़ दिख रही थी।
मैं कुछ देर तक उसके चूचों को देखता रहा.

मामी मुझे देख रही हैं, मुझे इस बात का अंदाज़ा भी नहीं था.

कुछ देर बाद मामी बोलीं- क्या देख रहे हो?
मैंने भी मजाक में कहा- जो भी दिखा रही हो.

इस पर मेरी मामी बोलीं- तुम आजकल बहुत शरारती हो रहे हो!
और मैं बस उस पर हँसा।

फिर मैं वहीं रखे सोफे पर बैठ गया और इधर उधर की बातें करने लगा.

जब हम बात कर रहे थे तो मेरी मामी ने मुझसे पूछा- तुम इतनी देर से क्या खा रहे हो?
मैं: कुछ नहीं, बस टॉफी. मामी- मुझे भी दे दो. (मामी XXX कहानी)

उसके इतना कहने के बाद मैंने टॉफ़ी अपनी जीभ पर रखी और जीभ बाहर निकाल कर कहा- ये लो और खाओ.
मामी ने तुरंत मेरी जीभ अपने मुँह में ले ली और जीभ को चूसा और टॉफ़ी मुँह में ले ली और मुझे करीब 2 मिनट तक किस किया और फिर हट गईं.

उसके ऐसा करने से मैं स्तब्ध रह गया, मेरे मुँह से एक भी शब्द नहीं निकला।
यह देख कर मामी बोलीं- क्या हुआ, तुम्हें पसंद नहीं आया क्या?
मैं- नहीं, ऐसी बात नहीं है, मुझे बहुत मजा आया. एक बार और करो मामी!

मामी- अच्छा, क्या मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड हूं जो तुम्हें बार-बार किस कर सकूं?
मैं: अगर तुम नहीं हो तो आज के लिए बन जाओ!

मामी- सिर्फ आज के लिए? और क्या आप शेष दिन के लिए किसी और की तलाश कर रहे हैं?
मैं- नहीं यार मामी, कोई नहीं है. आप बन जाओ!

मामी- हट पगले, ऐसा नहीं होता.

और मामी ने टोकते हुए कहा- बच्चे स्कूल से आते होंगे. मुझे अभी खाना बनाना है. तुम थोड़ी देर रुको.. आज खाना खाकर जाना। मैंने भी हां कह दिया. (मामी XXX कहानी)

फिर कुछ देर में बच्चे भी स्कूल से आ गये और मैं उनके साथ मस्ती करने लगा.

हम सबने खाना खाया और उसके बाद मैं अपने घर के लिए निकल गया.

ऐसे ही कुछ दिन बीत गए.

और फिर वह क्षण आ गया जिसका मैं इंतजार कर रहा था।

मेरे परिवार को किसी जरूरी काम से गाँव जाना था और चूँकि वह मेरा स्कूल था इसलिए मैंने जाने से मना कर दिया।

तो मेरा परिवार गाँव चला गया और मैं स्कूल चला गया।

मैं दोपहर को स्कूल से वापस आया और खाना खाकर सो गया.
शाम को उठा, खाना बनाया और घूमने निकल गया.

वापस आकर खाना खाया और सोने के लिए बिस्तर पर जाने ही वाला था कि मेरे फोन पर मामी का फोन आया- क्या कर रहे हो?
मैं- कुछ नहीं.. मैंने खाना खा लिया है, मैं सोने जा रहा हूँ।

मामी- इधर आओ, तुम्हारे मामा कंपनी गए हैं, उनकी नाइट शिफ्ट है. और तुम भी घर पर अकेले हो और यहाँ मैं भी अकेली हूँ. तुम घर पर ताला लगाओ और जल्दी आओ!

यह सुनकर मेरा दिल गार्डन गार्डन हो गया और मैं अपने घर पर ताला लगाकर अपनी मामी के घर चला गया।

वहां पहुंच कर मैंने घंटी बजाई तो मामी बाहर आईं.
उसने दरवाज़ा खोला और मुझे अंदर ले गयी. (मामी XXX कहानी)

मैंने कन्फर्म करने के लिए मामी से पूछा- मामा कब आयेंगे?
तो वो बोली- वो थोड़ी देर में आने वाला है. अभी उसका फ़ोन आया था!

मैं: आप तो कह रहे थे कि आप नाइट शिफ्ट में रुके हैं.
मामी- हां, मैंने भी यही सोचा था लेकिन वो ओवरटाइम कर रहे थे.

यह सुनकर मेरा पूरा मूड खराब हो गया और फिर कुछ देर बाद मामा भी आ गये.
उन्होंने खाना खाया और फिर सभी लोग सोने चले गये.

रात को जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि मेरे मामा और मामी Chut Chudai करने में व्यस्त थे।
मामा बहुत जल्दी स्खलित हो गये लेकिन मामी अभी तक स्खलित नहीं हुई थीं।

इस तरह मामा खुद तो ठंडे हो गये लेकिन मामी को गर्म छोड़ गये।
मामी कुछ बड़बड़ाते हुए सो गईं और फिर मैं भी सो गया.

अब काफी दिन बीत गए और होली का दिन भी आ गया.
मेरे पेपर भी खत्म हो चुके थे इसलिए मैं बिल्कुल फ्री था, कोई टेंशन नहीं थी.

मामा और मामी दोनों होली मनाने हमारे घर आये थे.
पापा और मामा ने साथ में शराब पी और हम सबने खूब होली खेली.

दोपहर हो चुकी थी, सब लोग नहा रहे थे और मैं भी नहा चुका था। (मामी XXX कहानी)

मामा हमारे घर पर शराब पीकर सो गये तो मामी ने मुझसे कहा- चलो मुझे घर छोड़ दो। पता नहीं तुम्हारे मामा कब जागेंगे.
तो मैं मामी को उनके घर छोड़ने के लिए निकल पड़ा.

मैंने अपनी बाइक स्टार्ट की और मामी को बैठाया.
मामी मेरे बिल्कुल करीब बैठी थीं.

रास्ते में उसके 34 साइज के मम्मे मेरी पीठ पर दब रहे थे.
मुझे बहुत मजा आ रहा था.

जब भी मैं ब्रेक मारता तो मामी के स्तन और भी ज्यादा दब जाते।
आह… क्या अहसास था वो!

करीब दस मिनट बाद हम मामी के घर पहुँच गये।
जैसे ही मैं आने को हुआ तो मामी ने मुझे रोका और कहा- रुको, मैं नहा कर चिकन बनाती हूँ. तुम अपने पिता के लिए ले जाना.
तो मैंने कहा- ठीक है. (मामी XXX कहानी)

मैं बस किसी बहाने से मामी के करीब आने की सोच रहा था.

अब मैंने बाइक वहीं खड़ी की और घर के अंदर चला गया.

मामी नहाने जाने लगीं और कमरे से अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गईं.
जब वो अपने कपड़े बाथरूम में रखकर वापस आई तो मैंने देखा कि उसकी सलवार साइड से फटी हुई थी.

जैसे ही वो मेरे पास से गुजरी तो मैंने मजाक में उसकी फटी हुई सलवार पर हाथ रख दिया और खींच दिया और सलवार काफी फट गयी.

मामी- भोसड़ी के … पूरी सलवार फाड़ दी.
मैं: वो तो पहले से ही फटा हुआ था. मैं बस देख रहा था.

फिर मैंने मामी की फटी हुई सलवार को और खींचा तो वो पूरी फट गई.

इस पर मामी दूसरी तरफ घूम गईं और अपनी फटी हुई सलवार लेकर बाथरूम की ओर जाने लगीं.

मैंने भी मौके का फायदा उठाया और उसके पास जाकर उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया.
मामी की सलवार नीचे गिर गयी.

फिर मैंने मामी को अपनी तरफ खींचा और उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिये.
इस पर उसने बिल्कुल भी विरोध नहीं किया और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे.

चूमते-चूमते मैं उनके Big Boobs को मसलने और दबाने लगा।
मामी उत्तेजित होने लगी और वो भी कामुक होने लगी.

फिर मैंने धीरे से उसकी शर्ट उतार दी और उसे बिस्तर पर लेटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया और उसके दोनों स्तनों को मसलने लगा और उसे चूमने लगा। (मामी XXX कहानी)

फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी चूत पर रख दिया और उसे मसलने लगा.
मामी के मुँह से जोर से आह निकल गई- आह!

मैं मामी के एक मम्मे को हाथ से दबा रहा था और दूसरे को मुँह में लेकर चूस रहा था.
मेरा एक हाथ लगातार मामी की चूत को मसल रहा था.

अब मामी की चूत से चिकना पानी निकल रहा था.

फिर मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी तो मामी और भी उत्तेजित हो गईं और कहने लगीं- किशन अब रहा नहीं जा रहा है. तुम मुझे जल्दी से चोदो और मेरी चूत की आग बुझा दो!

मैंने अपना लोअर नीचे खींचा और जैसे ही अपना लंड बाहर निकाला तो मामी बोलीं- ये तो तेरे मामा के लंड से भी मोटा और बड़ा है.

मैं आपको बता दूं कि मेरा लंड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है जो किसी भी चूत का भोसड़ा बना सकता है.

मामी ने आगे कहा- हाय… तुम्हारा ये लंड देख कर तो मेरी चूत में आग और भी भड़क रही है. अब देर मत करो और फाड़ दो मेरी इस Tight Chut को!

उसकी यह बात सुनकर मैं उत्तेजित हो गया.
मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और मामी ने भी अपनी टांगें फैला कर मुझे निमंत्रण दिया- अपना हथियार मेरी प्यासी चूत में डालो.

फिर मैंने मामी की टांग पकड़ी और अपना लंड मामी की चूत पर सेट किया और एक जोरदार धक्का दे दिया.
मामी के मुँह से जोर की कराह निकल गई.
उसे थोड़ा दर्द हो रहा था.

मामी ने मुझसे थोड़ी देर रुकने को कहा.
कुछ देर बाद मैंने धक्के लगाना शुरू कर दिया.

जब भी मैं जोर से धक्का लगाता तो मामी के मुँह से दर्द भरी आह निकल जाती.

थोड़ी ही देर में मेरी स्पीड भी बढ़ गई और मामी भी अपनी गांड उठाकर हर धक्के का जवाब देने लगीं.

मामी मुझसे चुदते हुए बहुत बोल रही थीं- हाय मेरे राजा, और तेज चोदो मुझे.. आज अपने लंड से मेरी इस चूत की प्यास बुझा दो.. ये बहुत दिनों से प्यासी थी. हाय… आज फाड़ डालो इसे… चोद कर मेरी चूत का भोसड़ा बना दो… हाय… बहुत मजा आ रहा है… और तेज़… और तेज़!

उनकी बातें सुनकर मेरे अंदर एक अलग सा तूफान उठ रहा था और मैं पूरे जोश के साथ मामी की चूत में अपना लंड पेल रहा था. (मामी XXX कहानी)

करीब 10 मिनट की जोरदार चुदाई के बाद मामी का शरीर अकड़ने लगा और उन्होंने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया और कामोन्माद हो गयी. मेरा अभी तक नहीं हुआ था इसलिए मैं धक्के लगाता रहा.

और करीब 2 मिनट तक धक्के लगाने के बाद मैं मामी की चूत में ही स्खलित हो गया और उनके ऊपर ही लेट गया.

कुछ देर बाद हम उठे और नहाने चले गये.

वहां फिर मैंने अपनी मामी को एक बार और चोदा और इस बार यह कार्यक्रम काफी देर तक चलता रहा.

अब जब भी मौका मिलता है, मेरी मामी मुझे बुला लेती हैं और हम खूब सेक्स करते हैं.

तो दोस्तो, यह थी मेरी मामी XXX कहानी! कृपया मुझे मेल करके जरूर बताएं कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga