ऑफिस की दोस्त के साथ बारिश के मौसम के मजे और चुदाई का खेल

ऑफिस की दोस्त के साथ बारिश के मौसम के मजे और चुदाई का खेल

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, मैं आपको एक लड़के की सेक्स लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “ऑफिस की दोस्त के साथ बारिश के मौसम के मजे और चुदाई का खेल”। यह कहानी अंकुश की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

ऑफिस स्टाफ सेक्स कहानी में पढ़िए कि एक दिन बारिश में मेरे पास मेरी एक सहकर्मी लड़की का फोन आया। मैं रास्ते में उसे घर छोड़ने गया ! हम भीग चुके थे। उसने मुझे घर पर बुलाया।

नमस्कार, मेरा नाम अंकुश सिंह है और मैं Jaipur से हूँ। अचानक मेरे फोन पर मेरी सहकर्मी श्रीश का फोन आया – अंकुश तुम कहां हो? मैंने जवाब दिया- घर जा रहा हूं। श्रीश ने कहा- यार, मेरी गाड़ी रास्ते में खराब हो गई है, स्टार्ट ही नहीं हो रही… क्या आप आ सकते हैं?

मैंने श्रीश से पूछा- तुम कहां हो? उसने मुझे अपनी लोकेशन बताई और दस मिनट में मैं वहां पहुंच गया। मेरे पास बाइक थी और मैं पूरी तरह से भीग चुका था। मैंने कार स्टार्ट करने की कोशिश की लेकिन कार स्टार्ट नहीं हुई। मैंने श्रीश से कहा- शायद पानी ज्यादा होने की वजह से गाड़ी में पानी चला गया है।

हमें गाड़ी यहीं कहीं खड़ी करनी होगी और मैं तुम्हें अपनी बाइक पर तुम्हारे घर तक छोड़ दूँगा। श्रीश ने मुझे ठीक कहा और हम बाइक पर उसके घर के लिए निकल पड़े। श्रीश शादीशुदा थी और उसका पति किसी काम से शहर से बाहर गया हुआ था।

वो ऑफिस में मेरे बगल में बैठती थी और हमारे बीच काफी अच्छे संबंध थे। हम दोनों तरह-तरह के विषयों पर बात किया करते थे। वह बहुत खुशमिजाज महिला थी। हालाँकि उसकी उम्र ज्यादा नहीं थी, लेकिन वह एक शादीशुदा भाभी थी, इसलिए मैं उसके बारे में एक लड़की के बजाय एक महिला के रूप में लिख रहा हूँ।

श्रीश के पति एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते थे और उनकी कंपनी के काम के लिए उन्हें रोज बाहर जाना पड़ता था। मैं भी जयपुर में अकेला रहता हूं इसलिए हम दोनों कभी-कभी साथ में डिनर करने भी जाते थे। वह मुझे बहुत पसंद करती थी।

मजाक-मजाक में वह मुझसे गर्लफ्रेंड के बारे में बात करती थी तो मैं उससे कहता था कि मुझे गर्लफ्रेंड बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है। एक बार जब वह मुझसे ज्यादा जिद करने लगी तो मैंने उससे कहा- तुम मेरी गर्लफ्रेंड हो। वो इस बात को लेकर गंभीर हो गई और उसने मुझसे कहा- काश मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड बन पाती!

मैंने कहा- तुम ऐसा क्यों कह रहे हो? तो वह चुप हो गई। उस दिन के बाद से मुझे लगा कि वो मेरी तरफ काफी झुकी हुई है और मेरी सबसे अच्छी दोस्त बनने की कोशिश करने लगी है। श्रीश हमेशा साड़ी ही पहनती थी और उसमें वह बेहद खूबसूरत नजर आती थी।

कभी-कभी जब वह काम करते-करते झुक जाती थी, तो मुझे उसके गहरे गले के ब्लाउज के साथ उसके दूधिया स्तन बहुत आकर्षक लगते थे। हालांकि, मैं उसी वक्त उन्हें टोका करता था। एक बार ऐसे में मैंने उन्हें टोका था- तुम एक कुंवारे को मारने पर क्यों तुले हो?

वह समझ चुकी थी और अपना पल्लू ठीक करते हुए बोली- कुंवारा खुद ही मूर्ख है, तो मैं क्या करूं? मेरी समझ में नहीं आया और मैंने पूछा- तुम्हारा मतलब तुम मुझे मूर्ख कह रहे हो? वो हँसी और बोली- कुंवारे हो क्या? मैंने कहा- हां, इसमें कोई शक है क्या?

होठों को दबाते हुए वह हँसी और बोली- कुछ लोग तो शादी से पहले भी कुँवारे नहीं होते, मैं समझ गया और धीमी आवाज में कहा कि मैं कुंवारा हूं। श्रीश हैरानी से मेरी तरफ देखने लगी और फिर हल्की सी हंसी आ गई। खैर… उस दिन दोनों लोग पानी में भीगते हुए श्रीश के घर पहुँचे और मैंने श्रीश को छोड़ दिया और अपने घर के लिए निकलने लगा।

तो श्रीश ने मुझसे कहा- तुम यहां कुछ देर ठहरो, यदि बारिश थम जाए तो चले जाना क्योंकि आगे सड़क पर और पानी होगा। मुझे भी कोई जल्दी नहीं थी क्योंकि मैं अकेला रहता था। मैं श्रीश के घर गया पर खड़ा ही रहा। मैंने उससे पूछा- तुम्हारे पति कहां हैं?

उसने मुझसे कहा- वह जयपुर से बाहर है और 2 दिन बाद वापस आएगा। भारी बारिश के कारण लाइटें भी कट गईं। श्रीश मोमबत्ती ले आई और बोली- आप बैठिए तब तक मैं चाय बना लेती हूँ। लेकिन पूरी तरह भीग जाने के कारण मैं कहीं बैठ नहीं सकता था, इसलिए मैंने कहा- मैं ऐसे ही ठीक हूं… मैं यहां गेट पर खड़ा हूं। तब तक आप चाय बना लीजिए।

उसने मुझे तौलिया दिया और कहा- सिर पोंछो, मैं कपड़े बदलकर आती हूं फिर चाय बनाती हूं। वह चेंज करने के लिए अपने कमरे में गई और वहां उसने इमरजेंसी लाइट चालू कर दी। गेट के नीचे से रोशनी निकल रही थी और श्रीश की परछाई भी दिखाई दे रही थी, जिसमें वह अपनी साड़ी उतारती नजर आ रही थीं।

यह देखकर मैं थोड़ा उत्तेजित हो गया और गेट के कीहोल से अंदर झाँकने लगा। अंदर का नज़ारा देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया। श्रीश ब्लाउज और पेटीकोट में थी और तौलिए से अपने बालों को पोंछ रही थी। इसके बाद श्रीश ने अपना ब्लाउज खोला और अब वह सफेद ब्रा और पीले पेटीकोट में रह गई थी।

वह फिर से अपने शरीर को पोंछने लगी। फिर अचानक पता नहीं क्या हुआ वो जोर-जोर से रोने लगी। मैं गेट से थोड़ा पीछे हट गया और घबरा गया। लेकिन दोबारा चिल्लाने की आवाज सुनकर मैं हिम्मत जुटाकर उसके कमरे में चला गया। मैंने देखा कि श्रीश के पेटीकोट पर एक कॉकरोच फंसा हुआ था।

क्योंकि रोशनी नहीं थी और श्रीश ने इमरजेंसी लाइट चालू कर दी थी। उसकी रोशनी में कॉकरोच आ गया था। मैंने जल्दी से वहाँ पड़े एक अखबार को पलटा और कॉकरोच को हटाकर मार डाला। लेकिन इस दौरान श्रीश ये भूल गई थी कि वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पेटीकोट में है।

अब जब मैंने श्रीश की तरफ देखा तो उसने जल्दी से अपने आप को एक तौलिये से ढक लिया। चूँकि मैं बहुत उत्साहित था, मैं श्रीश को देखता रहा और धीरे-धीरे उसकी तरफ बढ़ने लगा। श्रीश थोड़ा डर गई और उसने आँखें नीची कर लीं। मैंने श्रीश को अपनी बाँहों में कसकर पकड़ रखा था।

हम दोनों भीगे थे और ऊपर से बरसात का मौसम मदहोश कर देने वाला था। श्रीश पहले तो थोड़ा झिझक रही थी, लेकिन धीरे-धीरे उसके अंदर भी सेक्स करने की इच्छा जाग्रत होने लगी।  मैंने जल्दी से श्रीश की ब्रा का हुक खोला और उसके कोमल और भरे हुए स्तनों को दबाने लगा।

अब श्रीश गर्म होने लगी थी और मेरा लंड भी कांपने लगा था, मैंने श्रीश को सहलाते हुए उसका पेटीकोट भी उतार दिया। अब वह केवल नीली पैंटी में थी। फिर मैं भी नंगा हो गया और Srish को भी पूरी तरह नंगा कर दिया। हम दोनों एक दूसरे के गले लगकर बिस्तर पर चले गए।

श्रीश मुझसे भी तेज निकली, उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और जल्दी से उसे अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। मैं गर्म हो गया। जब मैंने श्रीश को बिस्तर पर सीधा लेटने को कहा तो श्रीश ने कहा- पहले कंडोम लगा लो। इतना कहकर उसने मैनफोर्स कंडोम निकाल कर मेरे लंड पर रख दिया.

इसके बाद श्रीश सीधे बेड पर लेट गई और मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया. वो अपनी गांड को सहलाने लगी और लंड के मजे लेने लगी. उसी समय मैंने एक जोरदार झटका दिया और अपना पूरा लंड उसकी चूत के अंदर घुसा दिया. श्रीश ने एक मीठी आह भरी और मेरा लंड पकड़ लिया।

साथ ही उसने मुझे अपनी बाहों में कसकर पकड़ लिया और मेरी गांड को उठाने लगी। मैं उसकी चूत को चोदने लगा. उसकी हल्की कामुक आहें मेरे कानों में सुनाई देने लगीं। कभी हमारी गर्म साँसें आपस में टकरातीं तो कभी हमारे होंठ चूमते।
उस समय पूरी तरह से मदहोशी का माहौल बन चुका था।

कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैंने श्रीश से कहा- अब तुम डॉगी स्टाइल में झुको। मैं पीछे से मारूंगा। वह उठी और कुतिया की तरह झुक गई। मैंने पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाला और गोली चलाने लगा. इस पोज़ में मुझे उसकी चूत को चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था।

श्रीश की मादक आहें वातावरण को और भी मादक बना रही थीं। साथ ही जब उसकी मस्त गांड आकर मुझसे टकराती तो मजा दोगुना हो जाता। मैंने श्रीश से कहा – मैं आपकी गांड मारना चाहता हूं। तो उसने कहा- यार मैंने ऐसा पहले कभी नहीं किया। लेकिन आज मैं तुम्हारे साथ सब कुछ करने को तैयार हूं। कृपया इसे धीरे-धीरे करें।

ठीक है कहकर मैंने अपना लंड चूत से निकाला और अपना लंड श्रीश की गांड पर रख दिया. मेरे लंड अपनी गांड के छेद पर ले कर वो डर रही थी. मैंने उसकी गांड पर थूक गिराया और धीरे से लंड को थोड़ा दबाते हुए अंदर डाल दिया। सुपारा गाण्ड का पहला वलय फैलाकर भीतर जाने लगा।

मैंने कुछ और थूक टपकाया और लंड को दबाने लगा. श्रीश की साँसें तेज़ होने लगीं और उसकी कसमें समझ आने लगीं। वो दर्द में थी लेकिन वो लंड को सह रही थी. जब मैंने कुछ और जोर दिया तो वह और जोर से आहें भरने लगी। फिर उसने विलाप करते हुए कहा- प्लीज रहने दीजिए… बहुत दर्द हो रहा है… पीछे से मुझसे नहीं होगा। तुम चूत ही चोदो।

उसकी गांड के तंग छेद और उसकी गर्म आँखों ने मुझे ऐसा महसूस कराया जैसे मैं सामान के किसी सीलबंद पैकेट को चोद रहा हूँ, इसलिए मैं रुकना नहीं चाहता था। उसकी नशीली गांड ने मुझे पूरी तरह मदहोश कर दिया। मैंने श्रीश की बातों को अनसुना कर कमर से कस कर पकड़ लिया और एक झटका मारा।

मेरा लंड थोड़ा और अंदर चला गया. लेकिन श्रीश की चीख निकल गई और वह अपने स्थान से हटकर बिस्तर पर गिर पड़ी। उसके साथ मैं भी उसकी गांड में लंड चिपका कर उसके ऊपर लेट गया. मैंने जबरदस्ती अपना पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया.

श्रीश ने आह भरते हुए कहा- प्लीज थोडा रुक जाओ… लंड को अंदर ही रहने दो, झटका मत देना. लेकिन मुझे झटका मारने में मजा आने लगा था। मैंने थोड़ी देर के लिए श्रीश की गांड की चुदाई की और अपना लंड वापस निकाल लिया। उसी समय मैंने एक झटके से श्रीश को सीधा किया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसकी चूत को चोदने लगा.

इससे श्रीश को आराम मिला और वो अपनी चूत चुदवाने लगी. कुछ देर बाद श्रीश ठंडी पड़ गई और श्रीश को चोदते हुए मैं भी ठंडा पड़ गया। श्रीश ने मेरे लंड से कंडोम निकाला और बिस्तर के किनारे नीचे रख दिया. उसने मुझे गले से लगा लिया और बोली- सच में मजा आ गया… क्या तुम आज रात मेरे घर रुक सकते हो?

मैंने हाँ कह दिया क्योंकि वैसे भी मैं जयपुर में अकेला रहता हूँ इसलिए मुझे कोई चिंता नहीं थी। उस रात मैंने बड़े मजे से श्रीश की चुदाई की। मैं फिर से श्रीश की गांड को चोदना चाहता था… लेकिन उस रात उसने मुझे फिर से अपनी गांड नहीं चोदने दी।

बदले में मैंने जो चाहा, श्रीश ने मेरी इच्छा पूरी की। क्या थी वो ख्वाहिश… इसका खुलासा अगली सेक्स स्टोरी में करूंगा। दोस्तों आपको मेरी यह ऑफिस स्टाफ सेक्स स्टोरी कैसी लगी मुझे मेल जरूर करे। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga