सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-1

सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-1”। यह कहानी जतिन की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

हॉट मौसी की जवानी देख कर मेरा लंड चूत मांगने लगा. मैं मौसी के बदन को घूरने लगा. उसने भी मेरी वासना भरी नजर को भांप लिया था. वह अपने बूब्स को ढकने लगी.

दोस्तो, मैं जतिन 22 साल का मस्त लड़का हूँ। मेरा लंड 6 इंच लंबा है जो किसी भी चूत में खलबली मचाने के लिए काफी मस्त और असरदार है.

मुझे अक्सर सुगठित महिलाएं बहुत पसंद आती हैं.
ऐसी मस्त औरतें देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

अभी कुछ दिन पहले मेरी मौसी Shikha हमारे घर आई थी. उनके साथ मौसी के बच्चे भी थे, जिनकी उम्र 5 और 7 साल थी.

मौसी को देखते ही मेरा लंड फनफनाने लगा.
आज मैं मौसी को दो साल बाद देख रहा था. मौसी का गोरा चिकना बदन, बड़े बड़े मम्मे और फूली हुई गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. (मौसी चूत चुदाई)

मौसी अन्दर आईं और मैंने मुस्कुरा कर उनका स्वागत किया.
कुछ देर बात करने के बाद मौसी आराम करने चली गयी.

शिखा मौसी करीब 34 साल की हैं. उनका पूरा शरीर भरा हुआ दिखता है. मौसी के पास कातिलाना शरीर है।
उसके बड़े स्तन और फूली हुई गांड किसी को भी हस्तमैथुन करने पर मजबूर कर सकती है.

मौसी के चूचे करीब 34 साइज़ के हैं. वह हमेशा अपने बूब्स को अच्छी तरह से ढक कर रखती है, जिसके कारण मेरे लिए उसके Big Boobs की झलक देखना बहुत मुश्किल था, लेकिन कोई भी महिला अपने बूब्स के उभार को छुपा नहीं सकती।

मौसी की चिकनी कमर का साइज़ 30 इंच है और उनकी सेक्सी गांड का साइज़ लगभग 36 इंच है.
साड़ी में मौसी की गांड बहुत मस्त दिखती है. (मौसी चूत चुदाई)

फिर शाम को हम लोग पार्क में घूमने निकल गये. बच्चे पार्क में खेल रहे थे और मैं अपनी मौसी से बातें कर रहा था।
मेरी वासना से भरी नजरें हॉट मौसी की जवानी पर टिकी थीं. मैं मौसी की चुचियों को छेड़ने की कोशिश कर रहा था.

फिर मौसी ने पल्लू को ठीक किया और अपने बूब्स को ढक लिया.
खैर.. मैंने हिम्मत नहीं हारी और उससे बात करता रहा।

फिर हम घर लौट आये और मौसी रात को जल्दी सो गयी.
इधर मैं पूरी रात अपनी मौसी को चोदने के ख्यालों में खोया रहा और अपने लंड को मसलता रहा.
अब सुबह हो चुकी थी जब मैं उठा तो मेरे ख्यालों में सिर्फ मौसी ही थी और मैं उनको याद करके अपने लंड को मसलने लगा.

लंड एकदम सख्त हो गया था और मैं अनजाने में अपनी आँखें बंद करके अपने लंड से खेल रहा था।
तभी अचानक मौसी मेरे कमरे में आई और मेरी चादर खींच दी.

“जतिन…उठ, सोता रहेगा क्या।” अब उठ जा!”
जैसे ही मौसी ने चादर खींची तो उनकी नजर मेरे खड़े मोटे लंड पर पड़ी.

मेरे हाथ में लंड देखते ही मौसी घबरा गईं.
वो तुरंत मुझसे कहकर वापस चली गई- उठो और बाहर आओ.. चाय तैयार है।

लेकिन मेरा लंड ठंडा होने के बाद ही मैं बाहर गया.
मौसी रसोई में थी.

मुझे बहुत शर्मिंदगी महसूस हो रही थी.
फिर मौसी की सेक्सी Moti Gand देखकर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मौसी ने मुझे चाय दी.
तभी मौसी की नज़र फिर से मेरे लंड के तम्बू पर पड़ी.
मौसी कुछ नहीं बोली और अपना काम करने लगी.

फिर दिन ऐसे ही बीत गया.

अब एक तरफ तो मुझे डर लग रहा था लेकिन दूसरी तरफ मेरी मौसी को चोदने की इच्छा भी हो रही थी.
मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ?

मौसी मुझसे दूर रहने लगी थी.
फिर मैंने मौका देखकर मौसी से सॉरी कह दिया.

“कोई बात नहीं जतिन, इस उम्र में ऐसा होता है. लेकिन फिर भी तुम्हें थोड़ा ध्यान रखना चाहिए।”
“हाँ मौसी, अब ऐसा नहीं होगा।”

मौसी ने मुझे माफ़ कर दिया था लेकिन मेरा लंड उनकी चूत मांग रहा था.
मैं बहुत परेशान हो रहा था. मेरा लंड मौसी के साथ सेक्स करने के लिए तड़प रहा था.

मैं रोज मौसी को हवस भरी नजरों से घूर रहा था.
मौसी भी मेरी वासना भरी आँखों को पढ़ रही थी.

फिर एक दिन मौसी टीवी देख रही थी. उनके साथ मेरी बहन और बच्चे भी बैठे थे. मैं खड़ा होकर अपनी मौसी को देख रहा था. वो बार-बार मुझसे नजरें हटा रही थी. (मौसी चूत चुदाई)

फिर कुछ देर बाद मेरी बहन उठकर कमरे में चली गयी.
तभी मुझे मौके की नजाकत समझ में आई और मैं उठकर अपनी मौसी के पास जाकर बैठ गया.

अब मैं धीरे-धीरे मौसी के हाथ और कलाई को छूने लगा.

तभी मौसी हंसते हुए बोलीं- जतिन, चुपचाप टीवी देखो!
“मैं देख रहा हूँ मौसी।”

अब मौसी का हाथ मेरे हाथ में था. मैं उसके हाथ की मालिश कर रहा था.
“यहाँ सब लोग हैं यार… क्या कर रहे हो!”
जैसे ही उसने ये कहा, मैं खुशी से भर गया.

“तो फिर तुम अन्दर आ जाओ मौसी।”
तभी मौसी बोलीं- ज्यादा शरारत मत करो … नहीं तो मैं तुम्हारी मां को सब बता दूंगी. इन दिनों आपके मन में क्या चल रहा है? मुझे सब पता है! मैं- जब तुम्हें सब पता है तो फिर मुझे इतना क्यों तड़पा रही हो मौसी?

मौसी- जो तुम चाहते हो वो नहीं हो सकता. अब मुझे इतना मत सताओ!
मैं- छेड़ना तो पड़ेगा मौसी. अन्यथा आप शायद ही सहमत होंगे.

अब मैं मौसी को बेडरूम में ले जाने की कोशिश कर रहा था लेकिन मौसी जाने को तैयार नहीं थी.

फिर काफी देर के बाद मौसी ने बच्चों को सुला दिया और खुद भी सो गयी.
मैं अपना लंड पकड़ कर इधर उधर घूम रहा था लेकिन मौसी की चूत में डालने का मौका नहीं मिल रहा था.

शाम को माँ बाज़ार गयी थी और मेरी बहन मेरी मौसी के बच्चों के साथ छत पर खेल रही थी।
मौसी उस समय बेडरूम में कुछ काम कर रही थी.

आगे क्या हुआ… मैं तुरंत मौके का फायदा उठा कर मौसी के कमरे में घुस गया और उसे पकड़ लिया.
मेरी इस हरकत से मौसी एकदम से चौंक गयी. वो मुझे दूर करने की कोशिश करने लगी- जतिन पागल हो गया है क्या? मुझे छोड़ दो। मैं: मौसी, अब मुझसे सब्र नहीं होता. (मौसी चूत चुदाई)

मैंने मौसी के मम्मे जोर से दबाये.
आह… मौसी के स्तन बहुत मस्त थे!

इधर मेरा लंड मौसी की गांड में घुसने के लिए दबाव बनाने लगा.
मैंने मौसी को बिस्तर पर पटक दिया.
मौसी की तो डर के मारे गांड फटने लगी.

“जतिन… कोई आ जायेगा!”
मैं- कोई नहीं आएगा मौसी.

मैंने झट से अपने प्यासे होंठ मौसी के लाल गुलाबी रसीले होंठों पर रख दिए और मैं मौसी के होंठों का रस पीने लगा.

कमरा आउच पुच पुच आउच पुच पुच… की आवाजों से गूंजने लगा.

उधर मैं मौसी के मम्मों को मसल रहा था और मौसी के गुलाबी होंठों का रस पी रहा था. इधर मेरा लंड मौसी की Tight Chut ढूंढने में लगा हुआ था.

इससे पहले कि मैं अपना लंड मौसी की चूत में डालता, मुझे सीढ़ियों से नीचे आने की आवाज़ सुनाई दी.
उसी वक्त मौसी ने मुझे धक्का देकर हटा दिया और अपनी साड़ी और ब्लाउज ठीक कर लिया.

फिर जल्द ही वह कमरे से बाहर भाग गई.
आज भी मेरा लंड मौसी को चोदे बिना रह गया.

शाम को मौसी मुझसे नाराज़ लग रही थीं.
“मैं तो कह रही थी कि कोई आएगा… पर तुम सुन ही नहीं रहे थे!”
मैं- सॉरी मौसी, मैं बहुत जल्दी में था.

“इतनी भी क्या जल्दी है यार… अगर कोमल ने सब देख लिया होता तो मुझे कितनी बदनामी झेलनी पड़ती?”
मैं: हाँ मौसी, सब गड़बड़ हो जाता. (मौसी चूत चुदाई)

“अब मेरे साथ ऐसा कुछ मत करना।”
मौसी मुझसे बहुत नाराज़ थी.

अब मुझे मौसी की चूत मिलना भी मुश्किल हो रहा था.
फिर दो दिन ऐसे ही बीत गये.
मेरा लंड अभी भी प्यासा था.

मौसी तो जैसे अपनी चूत देने के मूड में ही नहीं थी.

इस घटना के तीसरे दिन घर में और भी मेहमान आये। अब घर में जगह की कमी होने के कारण माँ ने ऊपर के कमरे में मौसी के सोने की व्यवस्था कर दी.

मेरे सोने की व्यवस्था भी मेरी मौसी के बगल वाले कमरे में थी.

रात को खाना खाने के बाद मौसी बच्चों को लेकर कमरे में आ गयी.
मौसी अभी भी मुझसे नाराज़ थी.

कुछ देर बाद बच्चे सो गए और मौसी मोबाइल चलाती रही.

मुझे अपनी हॉट मौसी की जवानी के बारे में सोच कर नींद नहीं आ रही थी.
मैं हिम्मत करके मौसी के कमरे में गया और उनसे बात करने लगा.

मैं बिस्तर के दूसरी तरफ लेटा हुआ था और अपनी मौसी को ताड़ रहा था। मेरा लंड मौसी की चूत के लिए तड़प रहा था.

फिर मैंने हिम्मत जुटाई और उठ कर मौसी के बगल में लेट गया.
मैं मौसी की Chut Chudai करने के लिए बेताब था.

मैंने अपना हाथ मौसी के मम्मों पर रख दिया और धीरे-धीरे उसके मम्मों को मसलने लगा.
मौसी ने कोई जवाब नहीं दिया, वो अपना मोबाइल इस्तेमाल करती रही.

मैं मौसी के पेटीकोट में हाथ डालने लगा.

“जतिन, तुम फिर शुरू हो गये! मैंने तुम्हें यह समझाया, ठीक है?”
“हाँ यार… लेकिन आज सही मौका है… अब प्लीज़ मुझे मेरी प्यास बुझाने का मौका तो दो!”

वो कुछ नहीं बोली, शायद उसका मूड भी बदल गया था.
यही सोच कर मैंने अपना हाथ मौसी के पेटीकोट के अंदर डाल दिया और उनकी चूत को मसलने लगा.

मौसी की चूत भट्टी की तरह जल रही थी.
अपनी चूत पर मेरा हाथ पाकर भी वो बिल्कुल चुप थी. इसका मतलब साफ़ था.

इधर मेरा लंड मौसी की गांड से रगड़ खाने लगा.

फिर मैंने मौसी के मम्मों को बुरी तरह से दबा दिया.
“इसस्स्स्स…” अचानक मौसी कराहने लगी.

मौसी मेरा हाथ हटाने लगी- जतिन यार, ऐसा मत करो… मैंने तुम्हें मना किया है!
“मौसी, अब तुम जो भी सोचो, लेकिन अब मैं तुमसे दूर नहीं रह सकता।”
इतना कह कर मैंने मौसी को कस कर गले लगा लिया.

मौसी की चुप्पी मेरे लंड को उत्तेजित करने लगी और मैंने मौसी की चूत को जोर से रगड़ दिया. “आईईईई स्स्स्स्स…ओह जतिन, मान जाओ यार।” अब मुझे मौसी की ना में हाँ नज़र आ रही थी. (मौसी चूत चुदाई)

मैं मौसी की चूत और बूब्ज़ को बुरी तरह मसलने लगा।
मौसी धीरे-धीरे कराहने लगी; उसका विरोध ख़त्म हो गया था और उसके पैर फैल गये थे.

फिर मैंने मौसी को सीधा किया और झट से उसके ऊपर चढ़ गया.
मैंने झट से अपने प्यासे होंठ मौसी के रसीले गुलाबी होंठों पर रगड़ दिए और मौसी के होंठों का रस पीने लगा.

कुछ ही देर में मौसी की चूत की आग भड़कने लगी और मौसी भी मेरे होंठों को अपने होंठों में फंसाने लगी.

कमरा आउच पुच पुच आउच पुच की आवाजों से गूंज उठा.
अब मेरा धैर्य खोने लगा था. (मौसी चूत चुदाई)

मैं मौसी के ब्लाउज के हुक खोलने लगा लेकिन मौसी ने मुझे रोक दिया- यहां बच्चे सो रहे हैं.
तो मैं मौसी का इशारा समझ गया और मैंने तुरंत मौसी का हाथ पकड़ा और उसे अपने कमरे में ले आया.

मैंने झट से मौसी को बिस्तर पर पटक दिया और उसके ब्लाउज के हुक खोल दिए और उसकी ब्रा को ऊपर सरका दिया, जिससे उसकी चुचियां नंगी हो गईं.

“ओह मौसी, तुम्हारे मम्मे बहुत मस्त हैं… आह, आज तो मैं इन्हें पूरा निचोड़ डालूँगा।”

मैंने मौसी के बूब्स को अपने दोनों हाथों की मुट्ठियों में कस कर पकड़ लिया और उनके बूब्स को बुरी तरह से दबाने लगा.

इस तरह मौसी के मम्मे दबाने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

“ओह मौसी! आउच! आपके स्तन अद्भुत हैं!”
“धीरे धीरे दबाओ जतिन. क्या आज ही उन्हें उखाड़ फेंकने का इरादा है?”
“हाँ मौसी।” (मौसी चूत चुदाई)

मैं मौसी के मम्मे मसल रहा था.
मौसी दर्द से कराह रही थी.

कुछ ही देर में मौसी के मम्मे लाल हो गये थे.
मैंने झट से मौसी के एक रसीले मम्मे को अपने मुँह में दबा लिया और भूखे जानवर की तरह चूसने लगा.
मेरा दूसरा हाथ दूसरे मम्मे की माँ चोदने में व्यस्त था।

“आह… मौसी, आपका स्वाद बहुत अच्छा है, आह, मैं तो पागल होने लगा हूँ।” ये सुनकर मौसी भी मेरा सिर पकड़कर मुझे दूध पिलाने लगीं. मैं फुल स्पीड से मौसी की चुचियों का स्वाद ले रहा था.

दोस्तो, शिखा मौसी सेट हो चुकी थी, अब मौसी चूत चुदाई कहानी अगले भाग में लिखूंगा. आपको मौसी चूत चुदाई कैसी लगी? आप मुझे कमेंट करके जरूर बताएं.

कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्त अगला भाग पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे।

कहानी का अगला भाग: मौसी चूत चुदाई कहानी

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga