दुकानदार सेठ ने मोटे लंड से चोदा और उधार माफ़ किया

दुकानदार सेठ ने मोटे लंड से चोदा और उधार माफ़ किया

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “दुकानदार सेठ ने मोटे लंड से चोदा और उधार माफ़ किया” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

आज की कहानी का हीरो एक सेठ है, जो 45 साल का होगा। उसका नाम रोशन लाल था।

हमारे गांव में उनकी दुकान थी। वह शहर का सारा किराना सामान लाकर बेचता था।

उसके यहां से हम सभी गांव वाले चीजें मंगवा लेते थे।

उनका शरीर भारी था जिसके कारण हम उन्हें मोटा कहते थे।

उसकी पत्नी भी बहुत मोटी थी। और उनके दो छोटे बच्चे भी थे।

लेकिन सेठ बहुत परेशान हुआ। वह गांव की कई औरतों की चूत में पिस्सू था। वो उनको चोदता था।

वह मोटा सेठ बहुत सुन्दर नहीं है। वह महिलाओं को चीजें उधार देता है

वह ब्याज पर पैसा भी देता है। जो उसे पैसे उधार नहीं दे सकती, बदले में वह अपनी चूत देती है।

सपना गांव की ही एक युवती है। उसका शरीर भरा हुआ है। बड़े स्तन और पतली कमर फैली हुई गांड।

कोई भी उसको देख कर चोदे बिना नहीं रह सकता है।

उस दिन जब वह सेठ की दुकान पर आई तो सेठ ने उससे अपने उधार के पैसे मांगे।

सेठ-सपना, तुम भी ठीक हो?

सपना- हां सेठ जी, मैं ठीक हूं।

सेठ- बहुत दिनों से दिखाई नहीं दे रहे थे… कहीं बाहर जा रहे थे?

सपना- नहीं सेठ जी, बस यही काम करने में लगी रही।

सेठ- तो बताओ क्या सामान लेना है?

सपना- कुछ घरेलू सामान लेना है!

सेठ- तो बताओ क्या दे दूं? सब कुछ तुम्हारा है।

सपना- एक किलो चने की दाल, नमक की थैली, सूखा धनिया और तेल!

सेठ – सारा सामान मैं तुम्हें दे दूंगा; पर वो पिछला हिसाब तो दे।

घने दिन हो लिए! सपना- दे दूंगा सेठ जी… अभी मेरे पास पैसे नहीं हैं!

सेठ- नहीं सपना… इसके कई हजार रुपये हैं। और आपने 5 हजार नकद लिए थे।

सपना- कितने बने सेठ जी; आज मुझे सब कुछ बताओ?

सेठ – अच्छा तुम गोदाम के अंदर चलिए मैं आपको पूरा हिसाब बताता हूँ!

सपना दुकान के दूसरे दरवाजे से गोदाम के अंदर चली गई। वहां सेठ का बेटा बैठा था।

सेठ – सपना का हिसाब कर दूं। आप दुकान पर जाएं। वहां कोई ग्राहक सौदा लेने आए तो दे दें।

और सेठ जी हिसाब किताब लेकर सपनां का हिसाब करने लगे।

सेठ- सपना देखो… तुमने 5 हजार कैश लिए थे। और 750 रु ब्याज ! घरेलू सामान 900 रुपए में जा रहा है। सपना चुपचाप सुनता रहा।

सेठ- पूरा हिसाब 6 हजार 6 सौ 50 रुपए का बनाया है। अब बताओ कब दोगे ?
सपना- सेठ जी, अभी मेरे पास इतने पैसे नहीं हैं?

सेठ जी उठे और पास जाकर सपना की चूची पर हाथ रख दिया।
सपना- सेठ जी एक-दो महीने में दे देंगे!
और उसने सेठ का हाथ उसके शरीर से हटा दिया।

सेठ-सपना या बात ठीक नहीं है! पैसे देकर भी दुकान का सामान लाना पड़ता है। घर में भी खर्चे हैं। मेरे बारे में भी सोचो!

सपना- सेठ जी, इतने पैसे आपके तो जो दो महीने रुक जाओगे तो क्या होगा। तुम और सब से तो नहीं मांगते इतनी जल्दी!!

सेठ- पैसे … पैसे ही तो ना … सब उधारी में पड़ा। सब से कहना पड़ता हे … ना कहूँ तो कोन देगा।

सपना- सेठ जी, उस सुमन के पास इतना रुपए है। क्या तुमने उस पर इतनी ज़ोर से नहीं पूछा?

सेठ मुस्कुराने लगा और फिर से सपना के निप्पल पर हाथ फेरने लगा।

तब सेठ ने कहा- सुमन महीने में एक-दो बार मेरी सेवा करके चली जाती हे। और इस बार तो उसने हिसाब ही पूरा कर दिया।

सपना- उसका खाता कितने का था? सेठ- 8 हजार रुपए थे। एक बार में पूरा हुआ।

अब सपना सेठ जी का विरोध नहीं कर रही थी। और सेठ जी उसकी निप्पल दबा रहे थे।

सपना- 8 हजार रुपये कहां से दिए? उसने मेरे 50 रुपए तो दो महीने से दिए नहीं।

सेठ – बता तो मैं दूंगा। लेकिन किसी के सामने इसका जिक्र न करें! सपना- किसी से कह कर क्या करूंगी!

सेठ जी ने अब सपना की कमीज के ऊपर से ब्रा में हाथ डाला और उसके निप्पल सहलाते हुए बोले- उसने अपनी दी मुझे!

इसलिए मैंने खुशी-खुशी सारा कर्ज माफ कर दिया। सपना- उस रांड की लेने के चक्कर में तमने इतने रुपए छोड़ दिए?

सेठ – मैं इसके कर्ज के सौ रुपये भी नहीं दूंगा। वह अपनी बेटी को लाई थी।

वह एक जवान लड़की थी मेरा तो जी खुश कर दिया। स्वर्ग दिखा दिया उस छोरी ने!

अब सेठ जी ने सपना की ब्रा से अपना हाथ निकाल कर सलवार में डाल दिया

तो संत ने हाथ पकड़ लिया। लेकिन कहा कुछ नहीं।

सेठ- देखो सपनाओं, नखरे मत करो! आज मेरा जीवन कर रहा है आज दे दोगे तो मैं तुम्हारा कर्ज भी माफ कर दूंगा।

सपना भले ही साफ-सुथरे चरित्र की महिला थी, लेकिन जब उसकी हालत बिगड़ती गई तो वह कब तक खुद को संभाल पाती।

तो संत कहने लगे – सेठ जी क्या आप सारा कर्जा माफ कर देंगे ? अगर हाँ, तो आज दे दूँगा।

सेठ – मैं सब कुछ नहीं करूँगा… दुकान के लिए सिर्फ सूद और पैसा छोड़ दूँगा।

तो सपनां ने एक चाल चली और सेठ जी का हाथ उनकी सलवार से उतार दिया।

सपना- सेठ जी, आप सारा हिसाब खत्म कर दें तो मैं दे देता हूं। वरना …..

सेठ जी का लंड अब उनके बस का न रहा; काम की आग में जल रहे थे।

तो सेठ ने कहा- चल सपनाओं, मैं आपका सारा कर्ज माफ कर देता हूं। लेकिन दो बार देना पड़ता है।

सपना- ठीक है सेठ जी। आज आप जो करना चाहते हैं वह करें!

सेठ- आज नहीं सपना, कल भी आना पड़ेगा। इतना पैसा छोड़ दो तो दो दिन देना पड़ेगा।

संत कुछ नहीं बोले और अपनी सलवार उतार कर पास रखी चावल की बोरी पर रख दी।

सेठ जी ने भी अपना पायजामा उतार दिया और लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगे। सेठ का लंड मोटा लग रहा था.

सपना थोड़ा आश्चर्य से सेठ के लंड को देख रहा था.

अब सेठ ने कहा- सपना, जल्दी से घोड़ी बन जाओ। मैं तुम्हें पीछे से घेर लूंगा और तुम्हें चोदूंगा। मेरा दो मिनट में हो जाएगा।

सपना ने दोनों हाथ बोरी पर टिकाकर प्रणाम किया। उसके नंगे चूतड़ थोड़े फैल गए और गांड का छेद दिखाई देने लगा।

लेकिन सपना की चूत नजर नहीं आ रही थी. उसका थोड़ा सा हिस्सा ही दिखाई दे रहा था।

सेठ जी उसके चूतड़ों के पीछे गए और पहले पीछे से सपना के लंड में अपनी उंगली घुसा कर छेद को खोल दिया. फिर लंड डालकर धक्का देने लगा.

सपना को शायद मोटा लंड लेने की आदत नहीं थी इसलिए वो थोड़ा सिसकती रही लेकिन फिर वो चुप रही और अपनी चूत चुदाई करने लगी.

लेकिन सेठ जी देसी जवान को चूत में मजा आ रहा था। सेठ-सपना, मैं तुम्हें कई साल से ले जाने की कोशिश कर रहा हूं

लेकिन तुम नहीं मानते। लो… आज तुम मान गए। आपको एक कुंवारी लड़की की तरह शर्म आनी चाहिए।

आप बहुत सुंदर हैं! चक्की बांटकर खाओ। कभी-कभी हमें थोड़ा मज़ा भी दिया!

सपना- सेठ जी, समाज को शर्मसार होना पड़ेगा! और कोनसा और लुगाई की तरह, मैं सबसे चुदाती फिरू हूं।

सेठ- कौन सबको बता रहा है… तुमने सबका ठेका ले लिया। हमें आपके काम आना चाहिए।

भविष्य में भी दो रुपये की जरूरत पड़ेगी, हम दे देंगे। सपना- ठीक है सेठ जी।

एक दो धक्का मारने के बाद सेठ जी चले गए। संत ने अपनी सलवार उठाई और पहनाते हुए बोले- सेठ जी

कल मैं आऊँगा, नहीं जाऊँगा। आज ही एक बार और कर लें।

सेठ- नहीं सपना, अब तो तुम बड़े शरीर वाले हो गए हो। इतना तो मेरे साथ नहीं हुआ होता।

आप युवा हैं, भले ही आप इसे 10 बार करें। सपना- सेठ जी, अब हिसाब चुकता करो।

तो सेठ जी ने बही उठाई और सपनां को दिखाकर सेठ

सारे पैसे ले लो, तुमने पेंसिल बदल ली, हिसाब पूरा हो गया! पर तुम फिर दो चार दिन के लिए आ जाना!

सपना बाहर आ गया। पीछे से सेठ भी निकला। सेठ ने अपने पुत्र से सपनां को सामान देने को कहा और सेठ स्वयं थक कर सिंहासन पर बैठ गया।

वहां से सामान लेकर सपना अपने घर आ गई।लेकिन सपना खुश नहीं थी क्योंकि उसने सेठ के साथ बिना इच्छा के सेक्स किया था।

और फिर सेठ ने भी उसे बिना गर्म किए सलवार उतरवा दी और उसकी चूत में लिंग डालकर दो मिनट तक सहवास किया और गिर गया। सपनां को क्या मजा आया?

मेरे हिसाब से सेक्स करने के लिए इच्छा की जरूरत होती है। वरना सेक्स करना अच्छा नहीं लगता।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

You cannot copy content of this page