ऑफिस की लड़की को चोदा अपने किराये के रूम पर Part-2

ऑफिस की लड़की को चोदा अपने किराये के रूम पर Part-2

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु कैसे मेने “ऑफिस की लड़की को चोदा अपने किराये के रूम पर” Part-2

मैंने एक बार अपने ऑफिस में आई नई लड़की को पटाकर चोदा था. हम बार बार चुदाई करना चाहते थे.

दोस्तो! आप सब कैसे हैं? मैं फिर से आपके सामने अपनी कहानी का दूसरा भाग लेकर हाजिर हूँ.

मेरी पहली कहानी :-ऑफिस की लड़की को चोदा अपने किराये के रूम पर Part-1

अपनी पिछली कहानी में मैंने आपको बताया था कि कैसे मैंने हॉट लड़की आशिका को अपने कमरे पर चोदा।

अब आगे:

मेरे कमरे में एक बार चुदाई करने के बाद हम दोनों संतुष्ट नहीं थे. हम दोनों और चुदाई करना चाहते थे इसलिए हमने शनिवार को मिलने का सोचा. (ऑफिस की लड़की को चोदा)

शनिवार हमने इसलिए चुना क्योंकि आशिका रविवार को अपने घर से नहीं निकल सकती थी और चुदाई के बाद एक दिन का आराम भी मिल जाये।

मैंने शनिवार के लिए एक होटल का कमरा बुक किया और मैंने उसे समझाया कि उसे अपना आईडी प्रूफ लाना होगा।

काफी इंतज़ार के बाद शनिवार भी आ गया. मेरे मन में बहुत सारे लड्डू फूट रहे थे. आख़िर आज हम पूरा दिन चुदाई करने वाले थे।

मैंने उसे अपने कमरे का पता बताया. वो अपनी स्कूटी लेकर मेरे बताये पते पर आ गयी. हम गले मिले और मैं हेलमेट पहनकर स्कूटी चलाने लगा.

आशिका ने मुझे पीछे से कस कर पकड़ लिया। उसके मोटे मम्मे बार-बार मेरी पीठ पर रगड़ कर मुझे उत्तेजित कर रहे थे।

मैंने अपना एक हाथ पीछे ले जाकर उसके चूचे दबा दिए, जिस पर वह कसमसा गई और मेरे कान में बहुत कामुक आवाज में बोली- जानू, थोड़ी देर रुको, फिर इन्हें अच्छे से मसल दो! ये आपकी।

और मेरी गर्दन पर चूमा, जिससे मेरा औज़ार पूरा तन गया. थोड़ी देर में हम मेरे बुक किये हुए होटल पर पहुँच गये।

मैंने स्कूटी पार्क की और आशिका को अपना आईडी प्रूफ दिया और कहा- तुम रिसेप्शन पर पहुँचो, मैं अभी आता हूँ।

मैं जैसे ही उसके पास गया तो पता चला कि वो अपना आईडी प्रूफ लाना भूल गई है. ये सुन कर मेरा मन ख़राब हो गया.

मैं सेक्स के पूरे मूड में आ गया था और इसने सारा गुड़ गोबर कर दिया. मेरा खड़ा लंड बैठ गया. ये मेरे खड़े लंड के साथ धोखा था.

मुझे गुस्सा तो बहुत आ रहा था लेकिन चुदाई भी जरूरी थी. इसलिए मैंने गूगल पर एक गेस्ट हाउस सर्च किया और उसे कॉल करके सारी जानकारी ली और फिर हम उस गेस्ट हाउस के पते पर पहुंच गए।

गेस्ट हाउस में जाकर हमने सारी औपचारिकताएँ पूरी कीं और हम कमरे में आ गये। यह एक अच्छा बालकनी वाला कमरा था।

कमरे में घुसते ही मैंने उसे अन्दर से बंद कर लिया और आशिका पर टूट पड़ा। हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूम रहे थे जैसे कई दिनों से भूखे हों. अगर मैं उसके ऊपरी होंठ को चाटता, तो मैं अपने निचले होंठ को चूसता।

कभी वो मेरी जीभ अपने मुँह में लेती तो कभी मैं उसकी जीभ अपने मुँह में लेकर चूसता। हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूम रहे थे जैसे खा ही जायेंगे. (ऑफिस की लड़की को चोदा)

आज मैं किसी भी चीज़ पर जल्दी दांव नहीं लगाना चाहता था क्योंकि आज हमें रोकने वाला कोई नहीं था और किसी के आने का डर भी नहीं था।

15 मिनट तक किस करने के बाद हम अलग हुए. मैंने उसके चेहरे की ओर देखा, उसके होंठों पर लिपस्टिक लगी हुई थी, उसके बाल बिखरे हुए थे।

उसकी ऐसी हालत देखकर मुझे हंसी आ रही थी और साथ ही उसके चेहरे को देखकर साफ लग रहा था कि वो चुदाई के लिए तरस रही है.

मैंने देर न करते हुए धीरे-धीरे उसके कपड़े उतारना शुरू कर दिया। सबसे पहले मैंने उसका टॉप उतारा तो उसकी हल्के गुलाबी रंग की ब्रा से उसके मम्मे ऐसे झाँक रहे थे मानो ब्रा फाड़ कर बाहर आना चाहते हों।

आप यहां सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

पहले मैंने उसके माथे पर चूमा, फिर उसकी नाक पर, फिर उसके दोनों गालों को चाट-चाट कर लाल कर दिया।

फिर मैंने उसके कान के पीछे चूमा, जिससे उसमें झुरझुरी सी होने लगी. फिर मैं उसकी गर्दन पर किस करने लगा.

ये किसी भी लड़की की सबसे बड़ी कमजोरी होती है. जैसे ही मैंने उसकी गर्दन को चाटना शुरू किया तो उसकी उह्ह… आह्ह… जैसी कामुक आवाजें निकलने लगीं।

उसने मेरा सिर पकड़ लिया और मेरे होंठ चूसने लगी. फिर हमने 5 मिनट तक किस किया.

फिर मैंने उसके क्लीवेज को चाटा और फिर उसकी नाभि को… मेरे इस फोरप्ले से वो बहुत गर्म हो गई थी.

उसकी तेज सांसें इस बात का सबूत थी कि वो मेरा लंड लेने के लिए बेकरार है. मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके बड़े-बड़े मम्मों को चूसने लगा

और दूसरे हाथ से उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा। अब आशिका चुदने के लिए मरी जा रही थी।

मैंने समय बर्बाद न करते हुए कंडोम लगाया और उसकी पैंटी उतार दी। उसकी पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी, मैंने अपना लंड उसकी चूत के दरवाजे पर रखा और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर पेल दिया.

गीली चूत होने के कारण लंड को अन्दर जाने में कोई परेशानी नहीं हुई. वह चिल्लाई लेकिन हम इतने नशे में थे कि हमें उसकी कोई परवाह नहीं थी. (ऑफिस की लड़की को चोदा)

लंड के चूत में घुसते ही फच-फच की आवाज और स्ट्रॉबेरी की महक पूरे कमरे में फैल गई. आह्ह… आह्ह… करके और गांड उछाल-उछाल कर चोद रहा था।

इस बीच मैंने उसे कई बार स्मूच भी किया. अब आशिका मेरे ऊपर थी। उसने बताया कि ये उसकी पसंदीदा पोजीशन है क्योंकि इसमें लंड पूरा अन्दर चला जाता है.

आशिका उछलने लगी और सी… सीई… सिसकियाँ लेने लगी। उसके मम्मे नंगी आशिका से भी तेज़ उछल रहे थे, जिन्हें देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया। मैं तुरंत उन पर टूट पड़ा.

आशिका की चूत में मेरा लंड ऐसे लग रहा था जैसे किसी भट्टी में पड़ा हो। हमें सेक्स करते हुए 20 मिनट हो गए थे और मैं अब झड़ने वाला था.

आशिका इस बीच 3 बार झड़ चुकी थी. अब आशिका की चूत ने मेरे लंड को बहुत कसकर पकड़ रखा था, आह्ह्ह्ह… फक… बोलते बोलते मैं झड़ गया।

कुछ देर तक हम एक दूसरे के शरीर से चिपक कर ऐसे ही लेटे रहे और एक दूसरे को प्यार करते रहे।

कुछ देर बाद मेरा फिर से चोदने का मन होने लगा. इस बार मैं आशिका को बालकनी में ले गया

और मैंने उसका एक पैर रेलिंग पर रखा और उसकी कमर पकड़ कर अपना लंड सीधा उसकी चूत में पेल दिया।

आशिका भी इस नई पोजीशन को देखकर रोमांचित हो गई और फिर हमने 20 मिनट तक सेक्स किया।

उसके बाद हमने 3 बार और सेक्स किया और आख़िर तक आशिका दर्द के कारण रो रही थी। वह ठीक से चल भी नहीं पा रहा था.

मैंने और आशिका ने इसके बाद कई बार अलग-अलग जगहों पर सेक्स किया और वो भी अलग-अलग आसन में।

फिर आशिका बैंगलोर चली गयी, तब से मैंने किसी लड़की या भाभी को इतनी ज़ोर से नहीं चोदा।

कुछ समय पहले मेरी आशिका से फ़ोन पर बात हुई थी. तो वो कह रही थी- यार, तेरे जैसा लंड मैंने आज तक नहीं देखा

ये तो चूत को पूरी संतुष्टि देता था! मुझे तुम्हारी और तुम्हारे लंड की बहुत याद आती है. मुझे आपकी बहुत याद आती है!

तो दोस्तो, यह थी मेरे जीवन की हॉट लड़की की चूत चुदाई की सच्ची घटना जो मैंने आप लोगों के सामने प्रस्तुत की। कृपया मुझे अपने विचार ईमेल करके अपनी प्रतिक्रिया अवश्य बताएं। (ऑफिस की लड़की को चोदा)
धन्यवाद।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga