ट्रेन में मिले अंकल ने सेक्स का ऑफर दिया: ओल्ड अंकल गे सेक्स

ट्रेन में मिले अंकल ने सेक्स का ऑफर दिया: ओल्ड अंकल गे सेक्स

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “ट्रेन में मिले अंकल ने सेक्स का ऑफर दिया: ओल्ड अंकल गे सेक्स”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मेरा पहला गे सेक्स अनुभव एक अंकल के साथ था, जिनसे मेरी मुलाकात ट्रेन में हुई थी। जब मैं पहली बार नौकरी के लिए मुंबई आया तो मुझे ट्रेन से यात्रा करनी पड़ी। एक दिन एक हाथ आया और मेरे लंड को छू गया।

दोस्तो, मेरा नाम करन है, मेरी उम्र 24 साल है।

यह कहानी मेरी सच्ची घटना पर आधारित है जिसे मैं आप लोगों के साथ साझा कर रहा हूँ।

मैं पहले समलैंगिक सेक्स के बारे में कुछ नहीं जानता था लेकिन बचपन से ही मुझे बूढ़े लोगों को देखना पसंद था, मुझे उन्हें नहाते या अंडरवियर बदलते देखना पसंद था लेकिन हमारे गाँव में कोई गेनहीं था। मैंने कभी नहीं सोचा था कि ऐसा सेक्स भी हो सकता है.

बात उन दिनों की है जब मैं पहली बार नौकरी के लिए मुंबई आया था। मुझे मुंबई में एक कपड़े की दुकान पर सेल्समैन की नौकरी मिल गई और मैंने काम करना शुरू कर दिया। ऐसे में हर दिन लोकल ट्रेन से सफर करना पड़ता है।

एक दिन मेरे साथ कुछ अजीब हुआ, ट्रेन में बहुत भीड़ थी और मैं गेट के पास खड़ा था।

मुझे ऐसा लगा जैसे कोई मेरा लंड पकड़ रहा हो. पहले तो शायद गलती से किसी का हाथ लग गया होगा, लेकिन धीरे-धीरे उसने अपना हाथ मेरी पैंट के अंदर डालना शुरू कर दिया। (ओल्ड अंकल गे सेक्स)

जब मैंने उसे देखा तो वह करीब 50 साल का बूढ़ा आदमी होगा, मुझे डर लगने लगा और मैं वहां से हट कर दूसरी जगह खड़ा हो गया और अपने काम पर चला गया.

लेकिन मैं पूरा दिन यही सोचता रहा कि वह ऐसा क्यों कर रहा है? अगर मैं कुछ देर और वहीं खड़ा रहता तो वह और क्या करता?

यही सब सोचते-सोचते शाम हो गई, दुकान पर ग्राहकों का आना बंद हो गया और मैं वहीं बैठ कर सोचने लगा।

मेरे साथ एक और लड़का काम करता था, जिसका नाम पुनीत था, उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ? आप क्या सोच रहे हैं?

पहले तो मैंने उसे कुछ नहीं बताया लेकिन एक-दो दिन बाद मैंने सोचा कि अगर मैं उसे बता दूं.. तो वह क्या कहता है?
फिर मैंने उसे बताया कि मेरे साथ क्या हुआ.

तो उसने कहा- अरे ऐसा तो होता रहता है.
मैं अचानक डर गया और पूछा- क्या मतलब है तुम्हारा?
उसने कहा- अरे मेरे साथ भी ऐसा होता है. मैंने कई बार सेक्स भी किया है.

मुझे बिल्कुल भी विश्वास नहीं हो रहा था, मुझे लगा कि शायद वह मजाक कर रहा है।
मैंने कहा- झूठ क्यों बोल रहे हो यार?

तो उसने कहा- अरे नहीं… सच में ऐसा होता है! यकीन नहीं होता तो इस बार अगर आप किसी से मिलें तो उसे देखकर मुस्कुरा दीजिए, फिर देखिए क्या होता है। मैंने कहा- ठीक है, मैं देखूंगा.

और हम दुकान बंद करके घर चले गये. दो-तीन दिन तो ऐसे ही गुजर गए, कोई नहीं मिला लेकिन चौथे दिन बांद्रा से धीमी लोकल पकड़ी और ठाणे चला गया। (ओल्ड अंकल गे सेक्स)

और वहां से मैंने भिवंडी के लिए फास्ट ट्रेन पकड़ी और जैसे ही ट्रेन में चढ़ा, किसी ने मेरा लंड पकड़ लिया. भीड़ के कारण मैं देख नहीं पाया कि मेरा लंड किसने पकड़ा और मैं गेट के पास जाकर खड़ा हो गया.

कुछ देर बाद एक पचपन साल का आदमी मेरे पास आकर खड़ा हो गया और मुझे देखकर मुस्कुराने लगा तो मैं भी हंस पड़ा.

फिर उसने अपना हाथ नीचे किया और धीरे-धीरे मेरे लंड को छूने लगा। मेरा लंड भी खड़ा होने लगा और वो उसे पकड़ कर दबाने लगा. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

फिर उसने मेरी पैंट में हाथ डाल कर मेरा लंड पकड़ लिया और बाहर निकाल कर हिलाने लगा.

फिर मुझे बहुत डर लगने लगा कि अगर किसी ने देख लिया तो क्या होगा.
इसी डर के कारण मैंने उसका हाथ पकड़ कर हटा दिया और झट से अपना लंड अन्दर डाल दिया।

इतने में भिवंडी स्टेशन आ गया और जब मैं उतरा तो वह भी मेरे साथ उतर गया और मेरे पीछे आने लगा और पीछे से आवाज देकर रुकने को कहा.

मुझे बहुत डर लग रहा था लेकिन फिर भी मैं रुक गया.

वो मेरे पास आया और बोला- तुम कहाँ रहते हो और कहाँ जा रहे हो?
मैंने कहा- मैं बांद्रा रहता हूं और काम पर जा रहा हूं.
उसने कहा- चलो चाय पीते हैं.

पहले तो मैंने मना कर दिया लेकिन वह ज्यादा जिद करने लगा तो मैंने हाँ कह दी और हम पास ही एक होटल में चले गये।

वहां उन्होंने दो चाय का ऑर्डर दिया और मेरे पास आकर बैठ गये.

फिर उसने पूछा- क्या करते हो?
मैंने कहा- मैंने आपसे कहा था कि मैं भिवंडी में काम करता हूं.

अंकल बोले- अरे नहीं, तुम सेक्स में क्या करते हो?
मैंने कहा- अंकल, मैंने पहले कभी ऐसा नहीं किया है … और मुझे मुंबई आये हुए अभी एक महीना ही हुआ है, मुझे इसके बारे में कुछ नहीं पता. (ओल्ड अंकल गे सेक्स)

उसने कहा- ठीक है, कोई बात नहीं! क्या तुम मुझे चोदोगे?
पहले तो मैं एकदम डर गया कि ये अंकल क्या कह रहे हैं, फिर मैंने भी सोचा कि इसीलिए तो हम दोस्त बने हैं, इसलिए मैंने हाँ कह दी।

फिर मैंने पूछा- लेकिन ये सब हम करेंगे कहां?
तो अंकल बोले- मेरा कमरा सुबह 10 बजे तक खाली रहता है, क्या तुम कल आओगे?

मैंने कहा- ठीक है, मैं आऊंगा.
फिर अंकल ने मेरा नंबर ले लिया और मैंने भी उनका नंबर ले लिया और मैं काम पर चला गया.

पूरे दिन मैं यही सोचता रहा कि कल अगर मैं उसके घर जाऊंगा तो कहीं वो मेरे साथ कुछ गलत तो नहीं करेगा. मैं बस यही सोचता रहा कि कब रात हो गई, मुझे इसका एहसास ही नहीं हुआ और मैं दुकान बंद करके घर चला गया।

सुबह उठा, जल्दी से नहाया, फ्रेश हुआ और उसकी बताई जगह पर चला गया।

मैंने वहीं से उसे फोन किया कि मैं आ गया हूं, तुम कहां हो?
उसने कहा- 5 मिनट रुको, मैं आता हूँ.
मैंने कहा- ठीक है, आ जाओ!

5 मिनट बाद वो अंकल आये और बोले- आ जाओ!
तो मैंने कहा- अंकल, मुझे बहुत डर लग रहा है.

उसने कहा- अरे डरने की कोई बात नहीं है, मैं कुछ नहीं करूंगा. मुझ पर विश्वास करो!
मैंने कहा- ठीक है अंकल. अब चलें! (ओल्ड अंकल गे सेक्स)
और हम उसके घर गये.

वह एक बड़ी बिल्डिंग में रहता था, उसका घर भी बहुत अच्छा था!
उसने मुझे बैठने को कहा और मैं उसके सोफे पर बैठ गया.

उसने मेरे लिए पानी का गिलास लाया और पूछा- घर कैसा लगा?
मैंने कहा- अंकल, आपका घर बहुत अच्छा है, आप क्या करते हैं?

तो उसने कहा- मैं सरकारी नौकरी करता हूँ।
मैंने कहा- ठीक है अंकल जी, अब क्या करें?

तो उसने कहा- अरे क्या करें… मजे करेंगे और क्या!
मैंने कहा- ठीक है, चलो करते हैं!

अंकल मुझे अपने बेडरूम में ले गये और मेरे गालों को चूमने लगे और एक हाथ से मेरे लंड को दबाने लगे. मैंने भी उसका लौड़ा पकड़ लिया। उसका लंड भी बहुत बढ़िया था. इस उम्र में भी ये बहुत टाइट था, मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था.

फिर उसने धीरे-धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और वो मेरे पूरे शरीर को चूमने लगा.
मुझे बहुत मजा आ रहा था. (ओल्ड अंकल गे सेक्स)

फिर उसने भी मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया.
मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था लेकिन मजा भी बहुत आ रहा था.

फिर वो लेट गये और मुझे ऊपर आने को कहा. फिर मैंने भी उसे चूमना शुरू कर दिया.
चूमते-चूमते मैं उसके लंड तक पंहुचा तो उसने कहा- इसे मुँह में लो ना?

पहले तो मैंने मना कर दिया लेकिन फिर मैंने सोचा कि इसे एक बार आज़माकर देखता हूँ कि कैसा लगता है।
और मैंने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया.

पहले तो इसका स्वाद थोड़ा अजीब लगा लेकिन बाद में यह स्वादिष्ट लगने लगा.

फिर अंकल बोले- चलो, अब सेक्स करते हैं.
मैंने भी कहा- ठीक है, चलो!

वो अंदर गया और तेल की शीशी लेकर आया और मेरे लंड पर लगाया और अपनी गांड पर भी लगाया और बिस्तर पर पैर ऊपर करके लेट गया. (ओल्ड अंकल गे सेक्स)

फिर मैंने पहले अपनी उंगली से उसकी गांड के छेद को देखा और अपना लंड डाला, धीरे से अंदर धकेला लेकिन लंड अंदर नहीं गया… दो-तीन बार कोशिश की, लेकिन फिर नहीं गया.

तभी अंकल ने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और बोले- अब धक्का मारो!
मैंने दोबारा डाला, इस बार लंड आधा अन्दर चला गया.
अंकल बोले- बहुत बढ़िया लंड है तुम्हारा!

फिर मैंने एक और ज़ोर का धक्का मारा, इस बार लंड पूरा अंदर चला गया.
अंकल बोले- धीरे से डालना यार, इतनी जोर से गांड फाड़ देगा क्या?
मैंने कहा- ठीक है अंकल, अब मैं धीरे-धीरे करूंगा.

अंकल मुझे चूमने लगे और मैं नीचे उनको चोद रहा था.

5 मिनट चोदने के बाद मैं झड़ने वाला था, मैंने कहा- अंकल, मैं झड़ने वाला हूँ, कहाँ निकालूँ?
तो उसने कहा- अन्दर ही निकाल दो यार… कुछ आराम मिलेगा! (ओल्ड अंकल गे सेक्स)

फिर मैंने भी चार-पांच जोरदार धक्के लगाए और अंदर ही झड़ गया और अंकल के ऊपर लेट गया.

अंकल बोले- मेरा भी निकाल दो यार!
फिर मैंने ऐसे ही लेटे हुए एक हाथ से अंकल का पानी निकाला और उनके पेट पर गिरा दिया.

अंकल बोले- मजा आ गया यार…तुम्हे कैसा लगा?
मैंने कहा- अंकल, मुझे पहली बार इतना मजा आया… मेरी बचपन की इच्छा आज पूरी हो गई!

अंकल बोले- कैसे?
मैंने कहा- अंकल, मुझे बचपन से ही आप जैसे बूढ़ों को नंगा देखना बहुत पसंद था लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि एक दिन मुझे उनके साथ मजा करने का मौका मिलेगा.

मेरी ओल्ड अंकल गे सेक्स कहानी आपको कैसी लगी कमेंट करके बताये

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasy की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga