पड़ोसन भाभी को चोदा और उनकी चुत का रस पिया

पड़ोसन भाभी को चोदा और उनकी चुत का रस पिया

मेरा नाम अमित है, मेरी उम्र 24 साल है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “पड़ोसन भाभी को चोदा और उनकी चुत का रस पिया”

मैं मुंबई से हूं लेकिन फिलहाल कालकाजी, दिल्ली में रह रहा हूं। यहाँ मैं आप सभी के बीच अपने जीवन की पहली घटना बताने जा रहा हूँ। मेरी ये कहानी कालकाजी से शुरू होती है.

वैसे तो मैं बहुत शरीफ दिखता हूँ. लेकिन मैं बहुत शरारती किस्म का हूँ.. चूत पाने के लिए कुछ भी कर सकता हूँ। मैं यहां पढ़ने के लिए आया था पर अब यही छोटी मोटी नौकरी पर गुजारा कर रहा हूं।

पर मुझे अब भी किसी चीज की कमी खल रही थी. जी हां … सही समझे … चूत की। कालकाजी में जहां मैं रहता था, वहां कई महिलाएं अपने बच्चों के साथ रहती थीं.

उनमें से एक थीं कृतिका जी जो मेरी कहानी की नायिका हैं। वह छतरपुर की रहने वाली थी और अपनी 19 साल की नन्ही बेटी आशिका के साथ मेडिकल की तैयारी करवाने के लिए यहां आई थी.

और मेरी नजर उन दोनों मां बेटी पर थी कि बस किसी तरह वो मेरे नीचे आ जाएं और मैं उनकी सारी जवानी चूस लूं. मैं वैसे ही उन पर डोरे डालने लगा. वे दोनों मेरे पड़ोस में रहती थी. (पड़ोसन भाभी को चोदा)

तो मैं अक्सर उससे छत पर मिला करता था और हम एक दूसरे को देखकर मुस्कुरा देते थे! ये छोटी सी मुलाकात धीरे-धीरे दोस्ती में बदल गई.

अब जब भी कृतिका जी और मैं मिलते तो हंसी-मज़ाक आम हो गया था। और इसी बहाने मैं भाभी के शरीर पर इधर उधर हाथ फेर लेता था.

पेट पर चिकौटी काटना मुझे बहुत ही पसंद था। और वो भी तब जब वो साड़ी पहने तब तो क्या कहना. हम दोनों की शरारतें बढ़ती ही जा रही थीं. भाभी भी मेरे करीब आने लगीं.

और हो भी क्यों न… एक 38 साल की महिला जो 6 महीने से अपने पति से दूर रह रही हो उसका दूसरे मर्द के करीब आना लाजमी है। एक बार हम दोनों सिटी मॉल घूमने गये थे.

वहां वो मुझसे चिपक कर चल रही थी. मुझे भी अच्छा लग रहा था. फिर हम दोनों एक दूसरे की तरफ देखने लगे. उसे पता नहीं क्या हुआ… उसने अचानक मुझे पकड़ लिया

और मेरे होंठों पर बहुत देर तक चूमती रही। अच्छा हुआ कि वहां कोई नहीं था. मैं बहुत खुश था और भाभी मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी.

अब हम दोनों व्हाट्सएप पर भी बातें करने लगे और फिर हमने सेक्स चैट भी शुरू कर दी. लेकिन हमें तो एक-दूसरे में समाना था।

रविवार को उनकी बेटी की परीक्षा थी और उसके बाद वह दोस्तों के साथ फिल्म देखना चाहती थी। तो वो चली गई. मतलब 8 घंटे के लिए घर से दूर।

हमारे पास काफी समय था क्योंकि मेरी भी छुट्टी थी। भाभी ने मुझे फोन करके अपने घर बुलाया और कहा छत से आ जाओ. मुझे ये समझते देर नहीं लगी कि मेरा काम हो गया.

बस कॉल करने की देर थी मैं तो काफी देर से इसके लिए तैयार बैठा था. मैं जल्दी से टीशर्ट और परफ्यूम मार कर उसके यहां पहुंच गया। वो मुझे देख कर खुश हो गयी और मेरे गले लग गयी. (पड़ोसन भाभी को चोदा)

वो मुझसे चिपकी हुई थी. फिर उसने मुझे छोड़ दिया और बोली- अरे मैंने तो तुमसे नाश्ता-पानी के लिए भी नहीं पूछा.. बताओ क्या खाओगे? तो मैंने भी तपाक से कहा – तुम्हें.

भाभी गुस्से में बोलीं- तुम कुछ ज्यादा ही शैतान हो गये हो! तो मैंने कहा- ठीक है, तो मैं चलता हूँ! इतनी सुनने की देरी थी कि वो दौड़कर आई और मुझसे लिपट गई।

उसकी आंखों में आंसू थे. मैंने उसे चूमा. उसने कहा- तुम मुझे छोड़कर कभी मत जाना. कसम से यार… वो उस पल मुझे मेरी पत्नी जैसी लग रही थी।

वो कहती जा रही थी- अब तुम मुझे अपना बना लो.. बहुत अपना। उस समय भाभी ने आसमानी रंग की साड़ी और भूरे रंग का बहुत टाइट सेक्सी ब्लाउज पहना हुआ था, जिसमें वो काफी भा रही थी.

मैंने भी देर नहीं की, उसे अपनी गोद में उठाया और उसके होंठों पर किस करते हुए उसके बेडरूम में आ गया और उसके ऊपर लेट कर उसे स्मूच करने लगा।

करीब 10 मिनट तक स्मूच करने के बाद मैंने उसका ब्लाउज अलग कर दिया था. मैं फिर से भाभी की चुचियों को पीने लगा और एक हाथ से दबाने भी लगा.

मैं अपना एक हाथ सीधे भाभी की चूत पर ले गया और साड़ी के ऊपर से ही उसे रगड़ने लगा। वो मुझमें खोती जा रही थी और उसने मुझ पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली थी.

फिर मैंने एक एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए. अब भाभी सिर्फ काली पैंटी में थीं जो उनके रस से भीगी हुई थी. भाभी का शरीर उस समय एकदम सेक्सी लग रहा था.

मैं उसकी 36″ की चुचियों को पीने लगा, पूरी चुची को मसल मसल कर लाल कर दिया कि वो एकदम हांफने लगी. तभी मैंने अपने होंठ उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर रख दिये.

उसके मुँह से जोर की आह्ह्हह्ह निकल गयी. फिर मैंने भाभी की पैंटी उतार दी और उनका काम रस पीने लगा. वो जोर से आवाज करते हुए 5 मिनट बाद झड़ गयी और निढाल हो गयी.

मैं भी उसके बगल में लेट गया. भाभी के चेहरे पर संतुष्टि के भाव साफ़ दिख रहे थे. फिर वो उठी और मुझे चूमते हुए थैंक्स कहा और बोली- अब तुम्हें खुश करने की बारी मेरी है. (पड़ोसन भाभी को चोदा)

वो मेरे शरीर के अंगों को चूमते हुए मेरे कपड़े उतारने लगी और फिर जब उन्होंने मेरे लंड को देखा जो कि 16 सेमी लम्बा और 5 सेमी चौड़ा है तो भाभी बोलीं – अरे, ये इतना बड़ा भी होता है क्या?

फिर वो मुस्कुराई और बोली- आज तो मजा आ जाएगा। वो बोली- अच्छा है की तुम नीचे के बाल नहीं रखते! और मेरे सीने के बालों पर हाथ फिराने लगी और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

आज तक मैंने जिसे भी चोदा है, किसी ने मेरा लंड ऐसे नहीं चूसा. भाभी पूरा अन्दर तक पोर्नस्टार की तरह चूस रही थीं। मैं तो बस उसमें खोया जा रहा था.

फिर हम दोनों 69 की अवस्था में आ गये, हम दोनों एक दूसरे के साथ खेल रहे थे। तभी मैंने धीरे से अपनी एक उंगली भाभी की चूत में डाल दी. वो थोड़ी उचकती हुई उसको झेल गई।

तभी हम दोनों एक साथ झड़ गये और वो मेरा सारा वीर्य पी गयी. फिर वो उसे लगातार चूसती रही. मैं 2 मिनट में उठ गया तो बोला- इतनी जल्दी? तब मैंने बताया- मेरा लंड जल्दी थकता नहीं है

और देर तक टिकता है. तो भाभी बोलीं- अगर ऐसा है तो दिखाओ अपनी ताकत. मैं उसके ऊपर आ गया और उससे मेरा लंड अपनी चूत में सैट करने को कहा. उसने ऐसा ही किया।

मैंने आव देखा न ताव… वासना की गर्मी के वशीभूत होकर मैंने एक ही बार में पूरा लंड भाभी की चूत में डाल दिया। वो जोर से चिल्लाई और मुझे जालिम और गंदी गालियां देने लगी।

Visit Us:-

फिर मैं भाभी के होंठों को चूसने लगा. अब मैं मस्ती में धीरे-धीरे से धक्के लगाने लगा, वो भी अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ दे रही थी।

अब हम दोनों ने अपनी कमान संभाली और ठुकाई शुरू हो गई. भाभी दर्द के मारे मजे से ‘आह आह्ह ऊह उह उह्ह उह्ह्ह ह्ह्ह ह्म्म्म्म्’ की आवाजें निकाल रही थी।

मैं भी ऐसी आवाजें सुन कर बस चोदते हुए खोया जा रहा था. भाभी मुझसे और तेज चोदने को कहने लगीं. फिर वो एक बार और झड़ गयी. लेकिन अब भी वो मस्ती में आवाजें निकाल रही थी.

मैं भी मजे से चोदे जा रहा था. ऐसे ही 20 मिनट तक चोदते-चोदते वो दो बार और झड़ गयी, लेकिन मैं अभी भी उसी जोश में था। भाभी थक कर और पसीने से लथपथ होकर मुझसे बोलने लगीं- तुम तो जानवर हो … अभी भी ऐसे ही खड़े हो.

तो मैंने कहा- जब ऐसी चूत सामने हो तो मेरा लंड कैसे थक सकता है. वो बोली- मुझे थोड़ी राहत चाहिए! तो मैं उसके बगल में लेट गया और उसके स्तनों को दबाने लगा और पीने लगा और एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा।

5 मिनट बाद वो कामुक आवाजें निकालने लगी. मैं समझ गया कि भाभी गर्म हो गयी है. तो मैंने उन्हें कुतिया बनाया और कुत्ते की तरह पीछे से भाभी की चूत में लंड डाल दिया और पेलने लगा.

वो फिर से शोर मचाने लगी. कुछ देर बाद मैंने उसका एक पैर अपने कंधे पर रखा और सहलाने लगा। इस अवस्था में बहुत मज़ा आता है क्योंकि आप मम्मे पीते हुए बड़े ही जोश में किसी को चोद सकते हो।

यह मेरी पसंदीदा पोजीशन है और इसी पोजीशन में चोदते, चूमते, चोदते और चीखते चिल्लाते हम दोनों एक साथ झड़ गये. और फिर मैं उसके नंगे बदन के ऊपर ही थक कर गिर गया.(पड़ोसन भाभी को चोदा)

पसीने से लथपथ हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर हांफ रहे थे. मेरा लंड अभी भी उसकी चूत में ही था. और ऐसे ही हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर सो गये.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga