पड़ोसन भाभी को चोदा और चरमसुख का आनंद दिया

पड़ोसन भाभी को चोदा और चरमसुख का आनंद दिया

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोहित है। आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “पड़ोसन भाभी को चोदा और चरमसुख का आनंद दिया”

में मुंबई का रहने वाला हु आज से कुछ साल पहले की बात है। उस वक्त मेरी उम्र 20 साल थी। मेरे पड़ोस में एक शादीशुदा जबरदस्त माल थी। उसका नाम आशिका था। वह करीब 25 साल की खूबसूरत महिला थी।

वो बड़े बड़े बूब्स और मस्त चौड़ी गांड की मालकिन थी। मैं कई दिनों से उसे इम्प्रेस करने के चक्कर में था। उसे देखकर लड़के अपना लंड मसलने लगते थे.

हर कोई उस देसी भाभी के साथ सेक्स और चुदाई की फिराक में रहता था। एक दिन की बात है मैं सब्जी लेने बाजार गया था। इत्तेफाक से वहां आशिका भी मिल गई थी।

उसे देखकर मेरा लंड तनाव में आ गया. मैं उसके सामने मँडराने लगा। मैं सोच रहा था कि किसी तरह उससे बात कर लूं। सब्जी ली और झोली में भरकर जाने लगी। मैं भी उसके पीछे पीछे चल दिया। उनका बैग काफी भारी लग रहा था।

कुछ दूर चलने के बाद उसने अपना बैग नीचे रख दिया। ऐसा लग रहा था जैसे उससे वह झोला उठाना अब भारी पड़ रहा है। वह उठकर खड़ी हो गई। परेशान सी लग रही थी। शायद किसी की मदद चाहिए थी।

मैं भी जानबूझकर उसके सामने से गुजरा। उसने अचानक पुकारा – सुनो? मैं पीछे मुड़ा और बोला- हां भाभी जी! उसने कहा- आज मेरा सामान कुछ ज्यादा हो गया है। क्या आप इस बैग को घर तक छोड़ने में मेरी मदद कर सकते हैं?

मैंने खुश होते हुए कहा- हां, हां… क्यों नहीं! फिर मैंने उसका बैग उठाया और हम साथ में घर आ गए। घर आकर उसने मुझे अंदर बिठाया और पानी के लिए पूछा। मैंने पानी के लिए कह दिया। (पड़ोसन भाभी को चोदा)

कुछ देर बाद वह पानी और चाय दोनों ले आई। मैंने एक गिलास पानी लिया और उसे पी लिया। फिर वह मेरे साथ बैठ गई। मैंने पूछा- तुम्हारे घर में और कौन है? उसने कहा- मेरे दो बच्चे और मेरा ससुर।

मैंने पूछा- और भैया? भाभी ने कहा- वह भोपाल में काम करता है। वह वहीं रहता है और साल में दो बार ही घर आता है। मैंने कहा- तो आपको बड़ी परेशानी हुई होगी?

भाभी ने हां में सिर हिलाया। फिर हम चाय पीने लगे। इधर-उधर की छोटी-छोटी बातें हुईं और फिर मैं चलने लगा। मैंने मौका देखकर कहा – भाभी, अगर तुम्हें कभी किसी काम के लिए मेरी मदद की जरूरत होगी, तो मैं आ जाऊंगी।

आप मेरा फोन नंबर ले लीजिए, आप बेझिझक मुझे कभी भी कॉल कर सकती हैं। फिर मैंने अपना फोन नंबर दिया और वहां से चला गया। उस दिन के बाद जब भी भाभी को मेरी जरूरत होती थी, वो मुझे कॉल करती थी।

धीरे-धीरे फोन पर बातें ज्यादा होने लगीं। मैं उनके घर ज्यादा से ज्यादा जाने लगा। एक दिन बात करते-करते मैंने पूछ ही लिया- भाभी, आप लगभग एक साल से भाई के बिना रहती हैं, क्या आपको कभी अकेलापन महसूस नहीं होता

और उनकी कमी महसूस नहीं होती? भाभी ने कहा – कमी तो बहुत लगती है लेकिन क्या किया जा सकता है, उनका काम भी जरूरी है। इसलिए मैं किसी तरह खुद को समझा लेती हूं।

उसके बाद मैं आगे कुछ नहीं बोला। इसी तरह कई बार मैं भाभी से डबल मीनिंग में बात करने लगा था। उसने मेरी बातों का बुरा नहीं माना। फिर धीरे-धीरे सेक्स को लेकर भी बातें होने लगीं।(पड़ोसन भाभी को चोदा)

मैंने भाभी से कहा भैया के आने के बाद आप बहुत खुश हो जाती होंगी ना? वो तो दिनभर आपको छोड़ते नहीं होंगे? उसने उदास मन से कहा – नहीं, ऐसा कुछ नहीं है। आते भी हैं तो रात में एक बार ही करते हैं।

वैसे भी उनका बहुत छोटा है। ज्यादा खुश नहीं हो पाती मैं। अचानक मेरे दिमाग में न जाने क्या आया भाभी की सेक्स की कामुक बातों से मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैंने अपने लंड की फोटो खींची और भाभी को व्हाट्सएप कर दी.

मैंने फोटो के साथ ही पूछा- इससे भी छोटा है क्या? भाभी ने मैसेज देखा लेकिन कुछ जवाब नहीं दिया। मैंने सोचा कि मैंने गलती की है। लंड की फोटो नहीं भेजनी चाहिए थी।

तभी रात को 11 बजे उनका मैसेज आया – नहीं, ये वाला बहुत बड़ा है, इसका बहुत छोटा है। मैंने कहा- भाभी ये 6.5 इंच का है। अभी तक इसको छेद नसीब नहीं हुआ है। बहुत तड़पता रहता है। वह बोली – चुप कर बदमाश सो जा!

उसके बाद मैं हर रोज भाभी के साथ सेक्स चैट करने लगा। वो भी मेरे साथ सेक्स की बातें बड़े चाव से करती थी. अब मुझे यकीन हो गया था कि भाभी की चुदाई तो अब पक्की है। एक दिन रात को मैंने भाभी को बातों-बातों में बहुत गर्म कर दिया।
भाभी ने अपनी पैंटी की फोटो भी भेजी। भाभी की चूत ने उनकी पेंटी गीली कर दी थी. भाभी की गीली पेंटी देखकर मैं पागल हो गया। मैंने पूछा- भाभी मैं तुम्हें चोदना चाहता हूं. मैं आप से बहुत प्यार करता हूं।

Visit Us:-

क्या आप मुझे एक मौका दे सकती हो उसने कहा- नहीं, किसी को पता चल जाएगा। सुनकर मैं खुश हुआ। अब भाभी को झांसे में लेते हुए मैंने कहा- भाभी उसकी चिंता मत करो, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा।

वह बोली- ठीक है, कल मैं दूसरे गाँव में अपनी बहन के घर जा रही हूँ, तुम भी मेरे साथ चलो। मौका मिला तो वहीं कर लेंगे। मैं खुशी से पागल हो गया। बस भाभी की चुदाई के बारे में सोचते हुए, मैंने मुट्ठ मार ली और शांति से सो गया।

अगले दिन मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे पैरों में पहिए लग गए हों। मैंने जल्दी से सारा काम खत्म किया और भाभी के कॉल का इंतजार करने लगा। उसने मुझे दोपहर 12 बजे फोन किया।

उस समय उसका ससुर घर पर था। अगर भाभी अकेली होतीं तो मैं उसी के घर में उसको चोद देता। फिर हम तैयार होकर उसकी बहन के घर के लिए निकल गये। हम शाम को 5 बजे पहुंचे। (पड़ोसन भाभी को चोदा)

कुछ बातें हुईं और फिर देखते ही देखते रात हो गई। हमने रात का खाना खाया और फिर सोने की तैयारी करने लगे। उसकी बहन के घर में उसका ससुर और उसका बेटा था। उसका पति भी बाहर काम करता था।

खाना खाने के बाद हम लोग सोने के लिये चले गये। वह भी अपनी बहन और ससुर के साथ सोने चली गई। मुझे एक बड़ा सिंगल कमरा दिया। मुझे उसमें अकेले सोना पड़ता था।

भाभी अपने दोनों बच्चों के साथ उसी कमरे के बगल वाले कमरे में सोने चली गई थी। मैंने अपने कमरे का दरवाजा बंद नहीं किया। मैं भाभी के आने का इंतजार कर रहा था।

रात के 11 बजे ही भाभी मेरे कमरे में आ गईं। उसने नाइट सूट पहन रखा था। भाभी के स्तन उनके नाइट सूट से बाहर झाँक रहे थे। भाभी कमाल लग रही थीं।

उसने धीरे से दरवाजा अंदर से बंद किया और मेरे बिस्तर पर आ गई। मैंने आते ही उसे अपनी बाहों में ले लिया और उसे चूमने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी। मैं उसके होठों को चूसते-चूसते उसके निप्पलों को दबाने लगा.

वह गर्म होने लगी। जल्द ही हम दोनों एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे और मैं होठों को काटने और खाने लगा। सेक्स का उत्साह पल पल बढ़ रहा था। देखते ही देखते हम दोनों पूरी तरह से नंगे हो गए। (पड़ोसन भाभी को चोदा)

और एक दूसरे को गले से लगा लिया, चूम लिया और चाटने लगे। भाभी को नंगा देखकर मैं पागल हो गया। उसकी फूली हुई चूत और उसकी चूत पर छोटे-छोटे उभार बहुत खूबसूरत लग रहे थे।

मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि मैं अपनी आंखों के सामने भाभी की नंगी चूत देख रहा हूं. ऐसा लग रहा था जैसे मैं कोई सपना देख रहा हूं। उसके होठों को चूसने के बाद मैं नीचे सरका और उसके निप्पल पीने लगा.

भाभी सिसकने लगीं और मेरे सिर को अपने बूब्स में दबाने लगीं. भाभी को बहुत दिनों से किसी पुरुष का प्यार नहीं मिला था इसलिए वह तड़प रही थी। भाभी के दोनों स्तन चूसने के बाद मैं नीचे सरका।

उसकी चूत सूजी हुई थी और उसमें से अमृत रस निकल रहा था. मैंने भाभी की भीगी हुई चूत पर अपना मुँह लगाया और उनकी चूत का रस चाटने लगा.

होंठ जैसे ही उसकी चूत पर लगे भाभी सिहर उठी और अपनी चूत फैला कर बिस्तर पर पीठ के बल गिर पड़ी। उसके निप्पलों को दबाते हुए उसकी चूत को चूसने लगा. मुझे भी भाभी की चूत पीने में मज़ा आ रहा था.

अब वो काफी गर्म हो गई थी और मेरे लंड को हाथ में लेकर मेरे होठों को सहलाने लगी. फिर वो नीचे झुकी और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

वो मेरे साढ़े छह इंच के लंड को पूरी तरह अपने मुँह में ले लेतीं और फिर बाहर निकाल देतीं. ऐसा लग रहा था कि उसने कई दिनों से अपने पति के लंड को अपने मुँह में नहीं लिया था.

काफी देर तक चूसने के बाद मेरा पानी निकलने ही वाला था। मैंने कहा- भाभी जी अभी मैं झड़ने वाला हूं। भाभी ने लंड को मुँह से निकाल कर कहा – मुँह में ही झाड़ दो. (पड़ोसन भाभी को चोदा)

ये सुन कर मैं भी जोश में आ गया और भाभी के मुहं को चोदने लगा. बालों को पकड़कर लंड को गले तक घुसाने लगा. फिर अचानक मेरे लंड से वीर्य निकल गया और मैंने सारी सामग्री भाभी को दे दी.

उन्होंने मेरे वीर्य की एक बूंद भी बेकार नहीं जाने दी। वो खुशी-खुशी सारा माल अमृत समझकर निगल गई। मैं भाभीजी के पास लेट गया। लगभग आधे घंटे के बाद भाभी जी फिर से मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं.

कुछ ही देर में मेरा लंड खड़ा हो गया. अब मुझसे भी संभल नहीं रहा था। मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में गया और अपना लंड पकड़ कर उसकी चूत पर रगड़ने लगा. भाभी भी पूरी तरह से हॉट हो गई थीं।

उसने कहा – अब तो जल्दी डाल दो क्यों तड़प रहे हो? लेकिन मैं भाभी को तरसता रहा और अपना लंड उनकी चूत पर रगड़ता रहा. जब उससे रहा नहीं गया तो वह जोर से बोली चोद न मदारचोद!

मुझे भाभी की बातों पर विश्वास नहीं हो रहा था! वह तुरंत वेश्याओं की भाषा में आ गई। मुझे भी गुस्सा आया और बोला – रुक जा चिनाल, अब मैं तेरी चूत की गर्मी निकलता हूं.

फिर मैंने अपना लंड भाभी की चूत के छेद पर लगा दिया. फिर एक जोरदार झटके से अपना पूरा लिंग भाभी की चूत में घुसा दिया. भाभी की चूत को फाड़ते हुए मेरा गरम लंड उनकी चूत के अंदर चला गया.

अंदर जाते ही भाभी बोलीं- इतनी जोर से नहीं कुत्ते, तुमने चूत फाड़ ली है. मैं 6 महीने बाद लंड ले रही हूँ आराम से। लेकिन अब मेरे लंड को चूत का स्वाद मिल गया था.

मैं अब रुक नहीं सका। मैं बिना रुके भाभी की चूत में लंड लेने लगा और भाभी की चुदाई शुरू हो गयी. मैं भाभी की चूत को बेरहमी से चोद रहा था। वो भी मुझे पूरा सपोर्ट कर रही थीं। उसकी सिसकियां पूरे कमरे में गूँज रही थी।

चोदते हुए दस मिनट हो गए थे। इस दौरान भाभी दो बार झड़ चुकी थीं। काफी देर तक चोदने के बाद अब मेरा झड़ने वाला था। मैंने भाभी से कहा – मेरी चिनाल भाभी अब मैं झड़ने वाला हूं।

वो बोली – फिर क्या सोच रहे हो, मेरी चूत को अपने लंड का रस पिला दो. उसकी प्यास बुझाओ ये सुनकर मैंने भाभी की टांगें उठाईं और उनको चोदने लगा.

उसकी चीखें निकलने लगी और कुछ देर बाद मेरे लंड का लावा भाभी की चूत में गिरने लगा. मैंने सारा माल भाभी की चूत में भर दिया. चुदाई करते हुए वो मेरा सामान अपनी चूत में लेती रही और सिसकती रही. (पड़ोसन भाभी को चोदा)

उसके बाद मैं थक गया और एक तरफ गिर गया। भाभी को भी नशा हो गया था। उसके बाद हम दोनों सो गए।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga