पड़ोसन गर्लफ्रेंड को चोदा और उसकी चुदाई की इच्छा को पूरा किया

पड़ोसन गर्लफ्रेंड को चोदा और उसकी चुदाई की इच्छा को पूरा किया

मेरा नाम अमन है. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “पड़ोसन गर्लफ्रेंड को चोदा और उसकी चुदाई की इच्छा को पूरा किया”

मैं बैंगलोर से हूँ। मेरी आयु 27 वर्ष है। मेरा रंग गोरा है और मेरी लम्बाई 5 फुट 10 इंच है. मेरे लिंग का साइज़ 7 इंच है. ये कहानी 1 साल पहले की है.

मेरे घर के सामने एक परिवार रहने आया. उस परिवार में 6 लोग थे. माता-पिता 2 भाई और दो बहनें थे। दोनों बहनें अपने भाइयों से बड़ी थीं.

छोटी वाली का नाम कृतिका था. कृतिका का फिगर 32 28 32 था. कृतिका के भाई से मेरी दोस्ती हो गई जिसके कारण मैं कृतिका के घर जाने लगा।

कृतिका मुझे पसंद करने लगी थी और वह हमेशा मुझसे बात करने का मौका ढूंढती रहती थी। कृतिका ने मुझसे बात करने से पहले मेरी बहन से दोस्ती की.

कृतिका मेरी बहन से मिलने के बहाने मेरे घर आने लगी और किसी न किसी बहाने मुझसे बात करने लगी.

एक दिन मैं अपने घर से कहीं जा रहा था और कृतिका मेरे घर आ रही थी। रास्ते में उसने मुझे रोका और मुझसे बोली मुझे तुमसे कुछ बात करनी है.

मैंने उससे कहा- बताओ क्या बात है? फिर उसने कहा- नहीं, तुम गुस्सा हो जाओगे. और वह चली गयी. शाम को जब वो मुझसे मिली तो फिर बोली- उसे मुझसे कुछ बात करनी है.

मैंने कहा- जो भी बात है बताओ? तो उसने मुझसे वादा करवाया कि मैं उससे नाराज नहीं होऊंगा और ना ही किसी को बताऊंगा.

मैंने वादा किया कि मैं किसी से कुछ नहीं कहूँगा और बोला- आप मुझ पर भरोसा कर सकते हैं। फिर उसने कहा- मैं तुमसे प्यार करती हूँ.

और इसके बाद वह वहां से भाग गई. शाम को जब मैं उसके घर गया तो उसके घर पर कोई नहीं था. मुझे देख कर वो मुस्कुराती हुई मेरे पास आई और मुझसे पूछने लगी- मैं तुम्हें पसंद हूँ या नहीं?

मैंने उससे कहा- मैं भी तुमसे प्यार करता हूँ. ये सुनकर बहुत ख़ुशी हुई. मैं कुछ देर तक उनके घर पर रुका उसके बाद मैं उनके घर से वापस आ गया।

अगले दिन जब मैं उसके घर गया तो उसके घर पर कोई नहीं था. तो वो दौड़कर मेरे पास आई और मुझसे लिपट गई.

उसके गले लगते ही मेरे शरीर में अजीब सी हलचल होने लगी, मेरे पूरे शरीर में गुदगुदी होने लगी. मैं अपने जीवन में पहली बार किसी लड़की को गले लगा रहा था।

मैं अपने घर वापस आ गया और मैं कमरे में आकर मुठ मारने लगा. अगले दिन जब मैं उनसे मिला तो उन्होंने मुझे एक पत्र दिया. जैसे ही मैंने पत्र लेकर अपनी जेब में रखा, उसका छोटा भाई आ गया

और मुझसे बाजार चलने को कहा। और मैं उसके साथ बाजार चला गया. मार्केट में उससे अलग हो कर लेटर को अपने जेब से निकाल कर पढ़ने लगा।

उसने लिखा कि उसे एक मोबाइल चाहिए ताकि वह मुझसे बात कर सके. मैंने बाज़ार से एक सिम कार्ड लिया और घर आकर उसे अपने पुराने मोबाइल से अटैच करके कृतिका को दे दिया।

कृतिका का भाई ज्यादातर मेरे साथ ही सोता था. उस दिन भी वो मेरे साथ ही सोया. रात करीब 11:30 बजे मेरे नंबर पर कृतिका का कॉल आया.

उसने मुझे अपने बगीचे में मिलने के लिए बुलाया. मेरे घर के सामने एक बगीचा है और बगीचे के बाद एक सड़क है, सड़क के दूसरी तरफ कृतिका का घर है।

मैंने फोन काट दिया और उसके भाई को देखा, वह गहरी नींद में सो रहा था। मैं चुपके से उठा और अपने बगीचे में चला गया.

कृतिका पहले से ही वहां खड़ी थी. जाते ही मैंने उसे गले लगा लिया और चूमने लगा. कृतिका ने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूची पर रख दिया.

और दबाने को कहा. मैं उसकी चूची दबाने लगा और वो मेरे लंड को पैंट के ऊपर से ही दबाने लगी.

थोड़ी देर बाद उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये और चूसने लगी. और हम दोनों एक दूसरे के अंगों से खेलने लगे.

कुछ देर बाद कृतिका के घर से किसी के आने की आहट सुनाई दी। हम तुरंत एक-दूसरे से अलग हो गए और पेड़ों के पीछे छिप गए।

कुछ देर बाद हमने देखा कि कृतिका के पापा पेशाब करने के लिए मेरे बगीचे की तरफ आ रहे थे। कृतिका अपने पिता को बगीचे की ओर आते देखकर डरने लगी।

उसके पापा हमसे कुछ दूरी पर खड़े हो गये और अपना लंड निकाल कर पेशाब करने लगे.

कृतिका बड़े ध्यान से अपने पापा को पेशाब करते हुए देखने लगी. उसके पापा ने पेशाब किया और अपना लंड हिलाकर पैंट के अंदर डाला और घर चले गये.

उनके घर जाने के बाद कृतिका मुझसे अपने सामने पेशाब करने के लिए कहने लगी. उसके कहने पर मैं उसके सामने पेशाब करने को तैयार हो गया.

जैसे ही मैंने पेशाब करने के लिए अपना लंड पैंट से बाहर निकाला, उसने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया.

जब मेरा पेशाब निकलने लगा तो वो मेरे लंड की खाल को आगे पीछे करने लगी. कुछ देर बाद हम दोनों अपने-अपने घर चले गये.

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

उस दिन के बाद हम रोज रात को फोन पर बात करने लगे. धीरे-धीरे फोन पर फोन सेक्स शुरू हो गया। अब हर रात हम दोनों को फोन सेक्स किए बिना नींद नहीं आती थी.

हम लोग चुदाई के लिए सही समय का इंतजार करने लगे. कुछ दिनों बाद मेरी बहन की शादी थी. रात को जब संगीत का प्रोग्राम था तो कृतिका मेरे घर आई।

उसने मुझे बाथरूम की ओर जाने का इशारा किया. मैं सबकी नजरो से बचकर बाथरूम में जाकर खड़ा हो गया.

कुछ देर बाद कृतिका भी वहां आ गयी. हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर एक दूसरे को चूमने लगे.

समय कम था इसलिए हमने जल्दी से चुदाई करना उचित समझा. मैंने कृतिका की सलवार नीचे सरका दी और उसकी चुत में उंगली डालने लगा.

कुछ देर उसकी चुत को उंगली से चोदने के बाद कृतिका अपनी चुत में लंड डालने के लिए कहने लगी.

मैंने अपना लंड उसकी गांड पर रखा और झटका मारा तो मेरा लंड फिसल गया. फिर कृतिका ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चुत पर सेट किया और अंदर डालने को कहा.

जैसे ही मैंने झटका मारा तो मेरे लंड का टोपा उसकी चुत में चला गया. साथ ही वो दर्द से छटपटाने लगी.

तभी उसकी बड़ी बहन उसे ढूंढते हुए बाथरूम की तरफ आने लगी. हम जल्दी से एक दूसरे से अलग हुए और मैं तुरंत टॉयलेट में छुप गया.

कृतिका की बहन कृतिका को लेकर अपने घर चली गयी. मेरे घर में शादी का पूरा समारोह ख़त्म हो गया और हमें दोबारा मौका नहीं मिल सका।

हम दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए परेशान रहने लगे. 2 महीने बाद मेरे गांव में एक लड़की की शादी थी. कृतिका ने मुझसे उस शादी में मिलने के लिए कहा.

हमने शादी के दिन मिलने का प्रोग्राम बनाया. शादी के दिन सुबह कृतिका ने मुझे फोन किया और उसने मुझसे कहा कि वह आज रात मेरे साथ सेक्स करना चाहती है.

और मुझसे कंडोम लाने को कहा. शाम को कृतिका का भाई मुझसे मिला. वह जल्दी में था, उसे आज शाम को किसी भाभी से भी मिलना था जिसके लिए वह कंडोम लाया था।

उसने मुझे कंडोम का एक पैकेट दिया और कहा- इसे अपने पास रखो. और रात में मैं वापस लेने के लिए आऊंगा और वह वहां से चला गया.

रात को बरात आने के बाद कृतिका ने मुझे फोन किया और शादी में आने के लिए कहा. जल्दी से शादी में पहुँच कर मैंने कृतिका को फ़ोन किया तो उसने कहा- मैं थोड़ी देर में फ़ोन करूँगी।

और उसने फोन रख दिया. जयमाला के वक्त जब मेरी नजर स्टेज पर पड़ी तो कृतिका खूबसूरत लाल साड़ी में दुल्हन के साथ खड़ी थी.

उनको साड़ी में देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरा मन कर रहा था कि उसे स्टेज पर पटक कर चोद दूँ. स्टेज पर जयमाला का कार्यक्रम पूरा होने के बाद मैं खाना खाने चला गया.

जब मैं खाना खा रहा था तो कृतिका ने मुझे फोन किया और अपने खेत के पास बुलाया. सभी की नजरों से बचते हुए मैं खेत के पास चला गया.

मेरे खेत तक पहुंचते-पहुंचते वो भी वहां पहुंच गयी. उस समय खेतों में सरसों बोई गई थी। मैं उसे सरसों के खेत के बीच में ले गया.

थोड़ी सी जगह बनाने के बाद मैंने उसका दुपट्टा जमीन पर बिछा दिया. मैं कृतिका के पीछे आ गया और उसकी गर्दन पर किस करते हुए उसके मम्मों को दबाने लगा.

उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं. अब धीरे-धीरे उसके शरीर से एक-एक करके कपड़ा हटता गया। वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी.

मैं धीरे-धीरे उसके पूरे शरीर को चूमने लगा। थोड़ी देर बाद उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए. अब हम दोनों एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे थे.

मैं उसकी एक चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरी चूची को हाथ से दबाने लगा। कृतिका ने अपना हाथ नीचे किया और मेरे लंड को सहलाने लगी.

थोड़ी देर बाद मैं उससे अलग हुआ और मैंने उससे मेरा लंड मुँह में लेने को कहा. तो उसने मना कर दिया. लेकिन मेरे बार-बार कहने पर वो मान गयी.

कृतिका मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. कुछ देर तक लंड चूसने के बाद वो हट गई. मैंने उससे दुपट्टे पर लेटने को कहा तो वह लेट गई।

मैं उसके पूरे शरीर को चूमने लगा और अपनी एक उंगली उसकी चुत में डाल कर आगे-पीछे करने लगा। थोड़ी देर बाद उसकी चुत से पानी निकलने लगा.

वह मुझसे अपनी चुत में लंड डालने को कहने लगी. अब मैंने अपनी जेब से कंडोम निकाला और अपने लंड पर लगा लिया.

मैंने उसके दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखा और अपना लंड उसकी चुत पर सेट किया और धक्का दे दिया. मेरा आधा लंड उसकी चुत में चला गया.

अचानक उसकी आँखों से आँसू निकल आये और वो दर्द से छटपटाने लगी और मुझे अपने से दूर करने की कोशिश करने लगी। तो मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद जब उसे थोड़ा आराम मिला तो मैंने फिर से एक जोरदार झटका मारा. अब मेरा पूरा लंड उसकी चुत में चला गया.

और वो दर्द से चिल्लाने लगी और अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ाने लगी. मैं कुछ देर तक उसके ऊपर वैसे ही लेटा रहा.

जब उसे थोड़ा आराम मिला तो मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चुत में आगे-पीछे करना शुरू कर दिया। अब उसे भी मजा आ रहा था.

वो भी अपनी कमर हिला कर मेरा साथ देने लगी, मुझे और जोर से धक्का देने के लिए बोलने लगी. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.

बीस-पच्चीस धक्को के बाद वो झड़ गयी. थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ गया. मैं कुछ देर तक उसके ऊपर लेटा रहा.

थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड उसकी चुत से बाहर निकाला तो देखा कि कंडोम फटा हुआ था. जिसे देखकर वह डर गई और रोने लगी और बोली- अगर वह गर्भवती हुई तो जान दे देगी।

मैंने उसे बहुत समझाया कि ऐसा कुछ नहीं होगा, मैं सुबह तुम्हारे लिए दवा ले आऊंगा. उसके खाने से कुछ नहीं होगा.

उसके बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिये. कुछ देर वहां रुक कर बात की और घर आ गये.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga