लंड की प्यासी पड़ोसन ने अपनी काम वासना को मेरे लंड से ठंडा किया।

लंड की प्यासी पड़ोसन ने अपनी काम वासना को मेरे लंड से ठंडा किया।

मेरा नाम राहुल है और मैं Delhi का रहने वाला हूं। मुझे वर्कआउट करना, गेम्स खेलना और घुमना बहुत पसंद है। में बहोत समय से सेक्स कहानियां पढता आ रहा हूं। कहानी आपको शायद थोड़ी धीमी लगेगी, लेकिन पूरी पढ़ोगे तो वादा है मेरा लड़किया अपनी चुत में उनगलिया करे बिना और लड़कों अपना पानी निकले बिना नहीं रह पायेंगे। ब्यूटिफुल भाभी न्यूड शो

ये बात तब की है जब में कॉलेज के थर्ड ईयर में था। मैं जहां रहता हूं वही मेरे पास वाले घर में ही रहती थी एक सुंदर और सेक्सी भाभी जिस्का नाम है प्रीति सिंघल जो मुझसे उमर में 3 साल बड़ी थी। और Wild Sex Stories की हीरोइन है जिसे मैंने जीवन के अपार आनंद का सबसे पहले अनुभव किया है। ”पड़ोसन की काम वासना”

उस वक्त Preeti Singhal की शादी को लग भाग 8 साल हो गए थे और वो अपने पति और अपनी 5 साल की लड़की के साथ रहती थी। उसका पति किसी लोकल कंपनी में जॉब करता था। उसे शरब की लत लगी थी जिसी वजह से प्रीति सिंघल भाभी हमेश परशान रहती थी।

में पहले से बहुत शरीफ लड़का था जिसे आज तक एक बार प्यार हुआ था और मैंने कभी किसी और लड़की के बारे में ऐसा नया सोचा था। लेकिन फिर एक दोस्त की वजह से में सेक्स कहानियां के परिचय में आया। वहा में भाभी की कहानियां पढ़ी, पहले मुझे ये सब अजीब लगा लेकिन फिर मजा आने लगा और फिर में इस्का दीवाना हो गया।

प्रीति सिंघल भाभी अक्सर हमारे घर पर आया करती मेरी माँ से बात करने या कुछ लेने या टीवी देखने। पहले मैंने कभी उनको नजरिये से नई देखा था। लेकिन अब जब भी वो मेरी नजर उनके सुडोल और भरे हुए हैं। काई बार उन्होने भी ये नोटिस किया लेकिन कभी कुछ बोला नई।

अपने शरीर को अच्छा बनाए रख कर रखें था। एक दम गद्रय बदन था। उनकी फिगर थी 34 30 34. सोच लो क्या सेक्सी लगी होगी। में वैसा ज्यादा उनसे बात नहीं करता था। बस कभी उनको कुछ काम होता तो मुझे बोलती और में उनका काम कर देता।

मुझे वर्कआउट करना पसंद है पहले से, मैं वर्कआउट करता था नियमित। काई बार वो मुझे देखती थी कसरत करते हुए और तारिफ भी करती थी मेरी बॉडी की। एक दिन जब मुझे कॉलेज से देर हो गई तो प्रीति सिंघल भाभी मेरे घर पर ही बेटी थी।

इसे भी पढ़े – छोटी सी मुलकत में दिल जीत लिया

हमें समय उन्होने मुझे छेड़ते हुए कहा जीएफ से मिलने गए होंगे, जरा हमें भी तो दिखो जीएफ की फोटो। में थोड़ा सा शर्मा गया और बिना कुछ बोले वह चला गया। धीरे धीरे में भाभी के साथ और भी खुल गया। अब मैं कभी बालकनी में उनका इंतजार करता हूं जब वो झाडू लगाने आती तो उनके दरार और कमर को देखने की कोशिश करता है।

वो भी मुझसे बात करता है जब भी मौका मिलता है। इसी तरह अब हम अच्छे दोस्त बन गए थे। वो मुझे काई बार उनके पति की बात भी बता कैसे कैसे वो पीते हैं उनसे अच्छे से नए पेश आते हैं। मुझे बहुत बुरा लगता है उस समय और मुझे उन्को समझौता और हौसला देता।

अब लग रहा था जैसे हम दो एक दसरे से बात करने का मौका धुंध रहे थे। ये दोनो को पता था लेकिन ऐसा ही व्यवहार कर रहे थे जैसे कुछ है ही नहीं। एक दिन भाभी बालकनी में खादी थी और वो कुछ उदास लग रही थी, उनसे बात करने की कोशिश की तो वो ज्यादा बोल भी नई रही थी।

मेने फिर जोर देके पुछा तो बता के उनके पति ड्रिंक करके उन्हे बुरा भला बोला और उने हाथ भी उठा। मुझे बहुत हुआ उनके पति पे। मेने उन्हे थोड़ा समझौता और थोड़ा उनका मूड भी थिक किया हसी मजाक करके।

उन्होन पुछा के दिवाकर तुम्हारी कोई जीएफ नहीं है क्या?

मैंने बोला नहीं है।

फिर उन बोला ऐसा हो ही नई शक्ति ऐसा, क्यों नई है जीएफ?

मैंने भी उनको बोल दिया के आपके जैसी अच्छी मिली ही नई कभी। ये सुनके वो थोड़ा खुश भी हुई और शर्मीले भी। फिर वो घर में चली गई। सच कहु तो मेरा लंड इतना टाइट हो गया था हमें टाइम। मस्त लग रही थी हम समय भाभी।

एक दिन में नाह का आया था और सिरफ तौलिये में कुछ कर रहा था। तब भाभी आई उन्हें एक कॉल करना था और उनके फोन में बैलेंस नहीं था। वो बेड मुझे कोने पे बेठी थी मेरे लेग्स के साइड..

मुझे फोन यूज करते करते पाता ही नया चला का मेरा लंड पुरा भाभी को दिख रहा है। वो थोड़ी देर तक बेटी मेरे लंड को देखती रही, फिर अचानक से हड़बडके चली गई, हम समय मुझे कुछ पता नई चला।

फिर एक दिन भाभी रात को मेरे घर पर आई थी कुछ काम के लिए और मुझे बिस्तर में जाने दो अपने लंड से खेल रहा हूं।

मुझे ऐसे करते देख शायद उनके शरिर में आग लग गई थी। वो मुझे स्माइल देके चली गई अपने घर.उनकी ऐसी स्माइल देख के मेरे लंड की प्यासी और टाइट हो गया। दुसरी सुबा वो मेरे पास आई और मुझे बोली के मुझसे कुछ जरुरी बात करनी है उन अकेले में। मुझे कुछ समझ नहीं आया लेकिन मैंने बोला थिक है।”पड़ोसन की काम वासना”

फिर जब मैं अकेला था तो वो मेरे पास आई, मैंने पूछा क्या बात है, वो बहुत गंभीर रही थी लेकिन फिर उन बोला के अगर वो मुझसे ज्यादा मिली तो कुछ गलत हो जाएगा हमारे बीच। मैं हमें वक्त कुछ समाज ही नई पाया के क्या प्रतिक्रिया करू घर में माँ पिताजी के आने का भी डर लग रहा था इसलिये में बिना कुछ बोले चला गया कॉलेज।

में पूरा दिन कॉलेज में यही सोचता रहा के भाभी ऐसा क्यों बोली। फिर शाम को आके मेने भाभी से बात करने की कोशिश की लेकिन वो जान बुझ के दूर जा रही थी मेरे से। फिर मेने उनको रोक के पुछा का क्या मामला है। वो कुछ बोल नई रही थी।

मैंने उनके कंधो पे हाथ रखा तो शिखर सी उठी। इतने में उनके पति के आने की आवाज सुन के वो चली गई। दसरे दिन जब मुझे कॉलेज में था, उनके बहुत से कॉल आए जो मैंने पिक नई किए, फिर बहुत बार कॉल आने पे जब मेने पिक किया तो वो बहुत गुसे में थी और मुझे बहुत बोल रही थी।

में कुछ समाज नया पाया पर मेरा दिमाग खराब हो गया। में घर आके बिस्तर पे लेता था, अचानक से आई रूम में और मुझे हिलाया, मैं उठा पर कुछ बोला नई। उनका व्यवहार अलग ही था अब। वो मेरे पास आकार बेटी और प्यार से बात करने लगी।

फिर अचानक से उन्होन मेरे जांघों पे हाथ रख दिया, मैने हटाने की कोषिश की तो बोले कल तो अच्छे से कांधा पक्का रहे थे और आज क्या हुआ। मेने उन्हे जाने को बोला तो वो बोली उन कुछ कहना है मुझसे। मेरी माँ ने मुझे आवाज़ दी, मैंने बोला आप जल्दी बोलो मुझे जाना है।

वो बोली नहीं आप जाके आओ फिर बताती हूं, मैं फटाफट से जेक आया, वो वही पे बेटी थी। फिर मैंने पुछा तो वो बोली, के आज उनके पति की रात की पाली है, आप लोगे? उनका ऐसा सीधा सवाल मुझे चौंक ही गया था।

मेने उन्हे बोला ये सब ठीक न में नई आउंगा, आप जाओ याहा से। बोला एक किस करोगे तब ही जाऊंगी। मैंने मन किया पर वो नई मणि, सच कहू तो मेरे होते भी सुख रहे थे ऐसी बात सुनके। पर मुझे दार भी लग रहा था किसी के आ जाने का, पर उनकी जिद के आगे मेरी ना चली और मैंने उनको हां बोला।

उन्होनने अपने हवाला कर दिया और मेरे गले लग गई, मैंने भी उन्हे बहो में भर लिया। सच बताऊ तो ​​क्या फीलिंग्स थी में बता नहीं सकता। उतनी हसीन, सेक्सी फिगर की मल्किन भाभी मेरी बहो में थी मेरा लंड टाइट हो गया था।

फिर मेने दीवार के सहे उने लगाके 2-3 मिनट तक किस किया, ये मेरी लाइफ का पहला किस था, मुझे उनके वापस को सहला रहा था। फिर उनके घर से आवाज आई तो अचानक से चली गई घर। मेरा लंड टाइट हो गया था बहुत। मेने फिर बाथरूम में जेक उन्को कल्पना करके मुठ मारी।

सच में था से ज्यादा बड़ा आया है बार मुथ मार के। अब हमें मौका नई मिल रहा था मिलने का और में भी कॉलेज में व्यस्त रहने लगा, मैंने सोचा था के अब कभी ऐसा नहीं करुंगा। लेकिन उन्को तो अभी बहुत कुछ करना था मेरे साथ।

वो मुझे कॉल करने लगी, एक दिन में कॉलेज में था तब उन मुझे बोला के उनको रात को आया था जिसमे सिरफ हम करते हैं। मैंने पुछा फिर क्या हुआ। वो बोली अगर सब बताऊंगी तो बेहोश हो जाएंगे सुनके। एक दिन में अकेला था घर पे, और उनके पति भी कुछ लेने गए थे बहार, उन कॉल पे बोला वो अकेले है आ जाओ चुपके से…

ये सुनके मेरे लंड में हरकर होने लगी। मैंने बोला आप आ जाओ मेरे रूम में, वो तूरंत आ गई। उनके आते ही मैंने उनकी कमर में हाथ फिरते हुए दरवाजा बंद किया। और अंदर आते ही हम दो एक दसरे से लिपट गए।

फिर वो मेरे होठो को चुनने लगी और में भी किस करते करते उनकी शुद्ध शरिर पे हाथ फिरने लगा उनकी गांद को दबने लगा। फिर मेने उनको पिचे से पकाड़ के उनके बूब्स दबने लगा। तो शिहर उठी वो बोली आज तो शुद्ध बदन को छू लिया आपने। मैंने बोला पुरा कहा अभी एक चीज बाकी है। फिर मेने पुछा वहा छू सकता हूं?

वो बोलि अगर वहा छू लिया तो फिर यही लेगा मिलेगा। हमारे पास ज्यादा टाइम नई था तो हमने किसिंग की बहुत सारी फिर वो चली गई अपने घर। हमें सही मौका नई मिल रहा सेक्स करने का, लेकिन कभी में उनके घर जेक तो कभी वो मेरे घर में आके किसिंग और रोमांस करते हुए।

इसे भी पढ़े –
एक दिन भाभी अकेली थी घर पे। उन्होन मुझे बोला आज रात को मैं अकेला हूं आप आ जाओ। भाभी ने ये बात बताई मुझे और ये सुन कर ही मेरा लंड सलामी देने लगा। मेने एक योजना बनाया मेने घर पे बोल दिया के मुझे दोस्त के घर जाना होगा और देर से होगा तो वही पे सो जाउंगा।

फिर में घर से बहार निकला और चुपके से जाके उनके कमरे में घुस गया। भाभी जैसे मेरा इंतजार ही कर रही थी उन्होनें मेरे अंदर जाते ही दरवाजा बंद कर दिया और मुझसे लिपट गई। मैं उन्हे बेहतशा चुम्ने लगा। उनके होठ मुझे किसी अमृत से कम नए लग रहे थे। में अपना प्यार बुझाने लगा।

आज टाइम की कोई कमी नई थी मेने वही खड़े खड़े ही उनके होठो को जी भर के चुमा और चुना। उन्को दीवार से लगा की उनकी पूरी बॉडी को सारे के ऊपर से ही महसोस कर रहा था में.. और साथ में उनके रासीले होथो का रसन कर रहा था।

भाभी कुछ ज्यादा ही हॉर्नी हो गई थी उस रात। उन्होन तुरंत मुझे बिस्तर पे देता दिया और मेरे ऊपर आ के मुझे किस करना लागी। रूम में एक छोटी सी लाइट जल रही थी। जिसमे मुझे भाभी का गद्रया बदन और उनका खूबसूरत चेहरा दिख रहा था।

मैंने फिर से उनके होथो को चुना शुरू किया.. और हम दो एक दसरे के बदन से ऐसे लिपटे जैसे हम एक ही हिस्सेदार हो। मैंने धीरे से उनके ब्लाउज को और साड़ी को उतर दिया किस करते हुए। अब वो मेरे सामने ब्रा और पेटीकोट में थी, उनका गठीला बदन मेरे लंड को और टाइट कर रहा था।

मैंने उनके होथो को, गार्डन को, गालो को और कंधो पे बहोत डेर तक किस किया, बहुत सारे काटने दिए। वो विलाप करने लगी थी। फिर मेने उनकी ब्रा को निचे करके उनके स्टानो को देखा और फिर उनके स्टान का रास्पन करना लगा। मेने बहोत डर तक उनके निप्पल को चुसा और स्तन को दबया।”पड़ोसन की काम वासना”

वो बहुत ज्यादा उत्तवली हो रही थी चुदने के लिए। लेकिन मुझे तो उनको शुद्ध बदन के बड़े लेने आज पूरी रात। मैंने उनके बूब्स को बहुत डर तक चुना। फिर वो उठ गई और मेरे ऊपर आके मुझे किस करने लगी, मैंने उनके स्तन दबे और वो किस करते हुए मेरी टीशर्ट निकली और पूरी बॉडी पे किस करते हुए मेरे पंत की तरफ बढ़ी,

उन्हे तुरंत मेरे पंत को निकल दिया और अंडरवियर के ऊपर से ही लंड से खेलने लगी। फिर उन अंडरवर को आला कर के मेरे लंड को हाथ में ले लिया, और हिलाने लगी, मुझे बहुत मजा आ रहा था। फिर उन्होन मेरे लंड को मुह में ले लिया और चुनने लगी।

वो थिक से कर नहीं पा रही थी। उन्होन बोला की पहली बार उन्होन लंड मुह में लिया है, उनके पति का कभी नहीं चुना। फिर मेने उन्हे छोटी सी ब्लोजोब की क्लिप दिखी और इस्तेमाल लॉलीपॉप की तरह चुनने को कहा। वो बहुत ही जल्दी सिख गई और उसके बाद उनहोने क्या लंडा चूसा मेरा में आपको बता नई शक्ति.. जिंदगी का सबसे अच्छा एहसास था वो मेरा।

फिर मैंने उनको मेरे आला लिया और उनके मुह में अपना लंड गुसा दिया। उनके दो हाथो को ऊपर करके उनके मुंह को छोडने लगा। फिर मेरा निकलने वाला था, मैं उन्हे छोडे बिना झड़ना नई चाहता था इसलिये में लंड को उनके मुह से निकला दिया।

फिर में उन्हे किस करते करते उनके स्तन और फिर कमर को किस करना लगा, वो बहुत ज्यादा कर रही थी। मैंने धीरे से उनका घाघरे का नाडा खोल का उपयोग उतर दिया। डिम लाइट में भाभी मेरे सामने सिर्फ पैंटी में सोया थी। वो नजरा आज भी याद करता है तो लंड पानी छोडने लगता है।

फिर मेने भाभी के शुद्ध जिस्म को देखने के लिए लाइट ऑन की.. उसके बाद में भाभी की जघन्य क्षेत्र को किस करते हुए मुह से उनकी पैंटी दातो से पकाड़ के आला खिचने लगा। उनके हाथ मेरे बालो पे घूम रहे थे।

फिर मैंने उनकी पैंटी को आला किया तो उनकी चुत मेरे सामने आ गई.. मैं देखता रह उन्होन 2 दिन पहले ही शेव की थी तो हल्के हल्के बाल भी जो उनकी चुत को और भी कामुक बना रहे थे। उनकी चुत में से थोड़ा सा रस भी बह रहा था जो बालो पे चमक रहा था।

अब में पैंटी को पुरा निकला के उनके जोड़े को खोल दिया, मैं इस्तेमाल को चुन रहा था। फिर मैंने भाभी के चेहरे को देखा तो वो मेरी तरफ ही देख रही थी.. मनो आंखों से कह रही हो खा जाओ मेरी चुत को जल्दी से निछोड़ दो इस्तेमाल करो।

फिर मेने चुत के दोनो साइड धीरे धीरे चुंबन करते हुए उनकी किस पे भी जीब गुमने लगा और धीरे-धीरे चुंबन करना लगा का उपयोग करें। फिर मुझे भी भुखे भेदिये की तरह उनकी चुत पर टूट पड़ा, मैं ऐसे चूस रहा था जैसे फिर से कभी नई मिलेगी का उपयोग करता हूं।

उनकी छुट का एक भी ऐसा इंच नया होगा जहां मेरी जुबान नई घूम होगी। वो लगतार आआआह ऊह दिवाकर्रर चाटो मेरी चुउत को आहा खा जाउ आज इसे उम्म्ह.. ऐसे मों कर रही थी। उनके विलाप मुझे और भी उत्साहित कर रहे थे।

मैं कफी टाइम त उसकी रासीली चुत के माजे लेता रहा। और अचानक से मेने महसूस किया के उनके हाथ मेरे सर को बहुत जोर से दबा रहे हैं उनकी छुट पे और उनके पान भी काम रहे हैं। मुझे पता चल गया के वो झड़ने वाली है तो मेरे चुनना और तेज कर दिया पूरी जुबान चुट में डालके।

फिर वो आला से ऐसे ढकके लगान जैसे मेरे मुह को छोड रही हो अपनी चुत से। और कुछ ही डर में अपना सारा अमृत रस मेरे मुह में ही छोड़ दिया, उनकी आहें भी हमें वक्त चारम सीमा पे थी।

उसके बाद में उनका सारा रस चाट लिया और उनकी तरफ देखा तो एक अलग ही सुखों था उनके चेहरे पर। और वो मुझे अपने ऊपर खिन्च के किस करने लगी, उन्होन बोला के उन ऐसा अहसास आज तक नया हुआ पहले। फिर मेने किस करते करते उनकी चुत को अनग्लियो सहलाया, बूब्स को दबया उन्हे फिर से तयार करने के लिए।

देखते ही देखते वो चुदने के लिए तैयार हो गई। उन्होन मुझे बोला बिना कंडोम को चोदने के लिए, वो गोलियां ले लेगी बाद में, मैं भी खुश हो गया। फिर उनके ऊपर आके मैंने अपने लंड का टोपा उनकी चुत पे रागड़ा और उन्हे किस करना लगा।

मैंने फिर अपना लंड उसकी चुत में ढकेल दिया, वो चिल्लाने जा रही थी पर अपने होने से उसके होठ ताला कर दिए। उसकी चुत आज भी टाइट थी उनकी डिलीवरी सिजेरियन से होने की वजह से शायद, उन बोला उनके पति उन्हे बहुत कम छोटे हैं इसलिय।

फिर मेरे अधे लंड को अंदर बहार किया। फिर उन्को किस करते करते अचानक से पुरा लंड उनकी चुत में उतर दिया, उनकी गाल मेरे मुह में ही दब गई। उन्होन मेरे बैक पे भी बहुत जोर से नखून लगाये। उन्होन मुझे स्पीड बढ़ाने के लिए बोला।

फ़िर में उन्की तबादतो छुडाई करने लगा। अपने दोनो पैरों को उतारो मेरी कमर पी बंद दीये छुडाई के समय। ऐसे ही थोड़े समय करने के बाद फिर वो उठा मेरे ऊपर आ गई। और मेरे लंड पे अपनी चुत रागद ने लगी…. आह क्या एहसास था वो..

मुझे किस करते करते वो मेरी आंखो में देख रही थी और आला उनकी चुत की डर मेरे लंड पे महसूस हो रही थी.. फिर भाभी ने ऊपर से डबव दिया और मेरा लंड भाभी की चुत को छिरे हुए और अंदर। भाभी ने पुरा लंड चुत के अंदर तक ले लिए।

अब भाभी बड़ी मस्ती से ऊपर आला हो रही थी .. 5 मिनट तक वो मेरे ऊपर आला होके चुदती रही, मैं उनके ऊंचे स्तन से खेल रहा था और उनको चुस रहा था। ऐसे ही मस्ती भरी चुदाई के बाद, मुझे लगा में झूमने वाला हूं.. तो मैंने अपने लंड को बहार निकला लिया और उनकी चुत सहलाने लगा और किसिंग और चूसने लगा।

फिर मेने उनको घोड़ी बनने को बोला, वो तुरंत जुक गई और गोदी बन गई। मैंने उनकी गांड पे जोर से मारा तो उनकी आह निकल गई। फिर मैंने उनकी चुत को थोड़ा सा चुना और फिर अपना लंड उनकी चुत में दाल दिया। मेने उनके कंधो और बालो को पकाड़ के उनको पीछे से बहोत छोड़ा।

बीच बीच में उनके स्तन भी दबा रहा था जो नीचे झूल रहे थे। फिर जैसे ही में झाडे वाला था मैंने उनको बोला की मेरा निकलने वाला है। वो बोले उनके मुह में झडने के लिए। फिर मैंने अपना लंड उनके मुह में दे दिया और वो मजे से इस्तेमाल करने लगी।

2 मिनट में अपना सारा माल उसके मुह में झड़ दिया। उसे सारा रस पी लिया, फिर थोड़ी देर बाद वो वॉशरूम में मुझे जाने चली गई। 5 मिनट बाद में खड़ा हुआ और में भी उसके पीछे वॉशरूम में गया। उसे नंगा देख के मेरे लंड में फिर से हलचल होने लगी और उसका इस्तेमाल पिच से पके के उसके स्तन दबने लगा और चुत में अनगली करने लगा।

मैंने उसे बोला मैं यूज बाथरूम में एक और बार छोडना चाहता हूं। वो तयार हो गई और घुम के मुझे किस करने लगी। उसे मेरे लंड को चुस के फिर से खड़ा कर दिया। फिर मेने वही बाथरूम में झुका के डॉगी स्टाइल में मैं छोड़ा का इस्तेमाल करती हूं।

इसे भी पढ़े – ”पड़ोसन की काम वासना

रात को 4 बजे तक हमने खूब रोमांस और चुदाई की, हम बीच वो कम से कम 12 बार झड़ी थी। फिर उजला होने से पहले में उनके घर से उन्हे किस कर के निकला और घर चला गया। उसके बाद भी मैंने भाभी को काई बार छोटा और हमने बहुत मजे लिए। मैंने उनके कहने पर उनकी गांद भी मारी थी। लगभाग 1.5 साल हमारी चुदाई की कहानी चलती रही और हमें काई अलग अलग तारिके से चुदाई की..

फिर वो दुसरी जग रहने चले गए। उसके बाद एक साल तक हमारी कॉल प भी बात होती थी। वो कहती थी वो बहुत मिस करती है मुझे और मेरी चुदाई को.. मैं भी बहुत मिस करता था। लेकिन उसके बाद हमारी बात कम हो गई और फिर अचानक से उनका नंबर बंद हो गया और साथ में हमारी बात भी। जो भी हो, भाभी के साथ बिते वो पल हमें याद रहेंगे। मुझे उम्मीद है वो जहां भी हो खुश रहे।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga