मकान मालकिन की बहु को चोदकर बच्चा दिया: पडोसन XXX कहानी भाग-2

मकान मालकिन की बहु को चोदकर बच्चा दिया: पडोसन XXX कहानी भाग-2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मकान मालकिन की बहु को चोदकर बच्चा दिया: पडोसन XXX कहानी भाग-2 ”। यह कहानी ललित की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

पडोसन XXX कहानी में मैंने एक पड़ोसन को बच्चा देने के लिए चोदा और वो वर्जिन निकली. उसका पति उसकी चूत की सील नहीं तोड़ पा रहा था.

दोस्तों कैसे हैं आप सब!
मैं ललित अपनी पडोसन XXX कहानी का अगला भाग लेकर हाज़िर हूँ

जैसा कि आपने पहले भाग: पडोसन XXX कहानी में देखा, किरन मेरे कमरे में आई और मेरे लंड को चूसा और मेरा वीर्य निकाल कर चाटा. लेकिन मैं उसे चोद नहीं सका क्योंकि उसका पीरियड चल रहा था।

तो इस हिसाब से मेरा लंड चार-पांच दिन तक अनशन पर रहा.
फिर मैंने एक तरकीब सोची और एक रात मैंने उसकी गांड चोद दी.
उसे बहुत दर्द हुआ क्योंकि उसने पहले कभी गांड नहीं मरवाई थी।

अब आगे की पडोसन XXX कहानी:

सुबह जब मैं अस्पताल जाने लगा तो देखा कि वह बीमार लग रही थी.
मैंने आंटी से पूछा- किरन जी को क्या हुआ?
आंटी बोलीं- पैर फिसल गया है, मोच आ गयी है.
मैंने कहा- मैं अभी दवा देता हूँ.

फिर मैं अपने कमरे से पेन किलर और एंटीबायोटिक टेबलेट ले आया और कहा- एक खुराक अभी ले लेना, एक शाम को! शाम तक आप बिल्कुल ठीक हो जायेंगे. मैं हॉस्पिटल के लिए निकल पड़ा. (पडोसन XXX कहानी)

शाम को जब मैं वापस आया तो देखा कि रात की बेडशीट धोकर सूखने के लिए डाल दी थी।

दीपक सप्ताहांत में लखनऊ आया।
मुझसे पूछा- डॉक्टर साहब, मेरी रिपोर्ट में क्या आया?
मैंने दीपक से कहा- कुछ दिक्कत है, मैं इलाज शुरू कर दूंगा, तुम ठीक हो जाओगे। इसमें थोड़ा समय लगेगा लेकिन आप पिता बन जायेंगे. मैं तुम्हें जो भी दवा दूँ उसे लेना शुरू कर दो।

मैंने उसे एक सेक्सवर्धक गोली दी और कहा- शाम को ले लेना. 3-4 दिन किरन जी से दूर रहो. दवा लगातार लेते रहें.

मुझे पता था कि दीपक का स्पर्म काउंट बहुत कम है. उसके बच्चे तो नहीं हो सकते लेकिन गोली निश्चित रूप से उसके लंड में थोड़ी और जान डाल देगी। इससे उसे मेरे इलाज पर विश्वास हो जायेगा।

वह वापस गुडगाँव लौट आये.

ऐसे ही दो दिन बीत गये.
Kiran का मासिक धर्म भी बंद हो गया।

वह आज रात मेरे पास आने वाली थी. सुबह जब वह मुझे चाय देने आई तो उसने मुझे इस बारे में बताया था।

वो बोली- मैं आज रात को आऊंगी.
ये कह कर वो चाय देकर चली गयी.

आंटी अंकल को मेरे बारे में कोई शक नहीं था. उन्होंने मुझे सभ्य और मददगार समझा।

मैं अस्पताल गया.

शाम को वापस आते समय मैं मेडिकल से डॉटेड कंडोम का एक पैकेट ले आया.
रात को खाना खाने के बाद मैं लेट कर टीवी देखने लगा.
मुझे नींद आ गयी।

रात 12 बजे कुंडी खुलने की आवाज आई। मैंने उठ कर देखा.
किरन ने आज कुछ कमाल कर दिया.

वो मेरे कमरे में सिर्फ पेंटी ब्रा में आ गयी.

मेरा दिमाग ख़राब हो गया है.

मैंने झट से उसे अपनी बांहों में ले लिया और बिस्तर पर बैठ गया.

वो बोली- डॉक्टर साहब, सच बताइये कि मैं मां बनूंगी न?
मैंने कहा- छोड़ो ये सब बातें! (पडोसन XXX कहानी)

आज वह स्वर्ग से उतरी हुई परी जैसी लग रही थी। मैंने उसके माथे को चूमा और फिर उसकी गर्दन को चूमा, उसके कानों को काटा।

फिर उसने वही बात कही- डॉक्टर साहब, पहले मेरे सवाल का ठीक से जवाब दीजिए।

मैंने उससे साफ़ कह दिया- दीपक बच्चा पैदा करने लायक नहीं है. हाँ, मैं तुम्हें गारंटी से माँ बनाऊँगा। ये बात मेरे और आपके अलावा किसी को पता नहीं चलेगी. वो बोली- डॉक्टर साहब, मुझे बच्चा चाहिए!

फिर क्या हुआ…वो पागल हो गई.
उसने तुरंत मेरे अंडरवियर के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ लिया और मेरा अंडरवियर उतार दिया.

आज मैं सिर्फ अंडरवियर में सोया क्योंकि आज मुझे चूत चोदनी थी.

मैंने उसकी ब्रा के हुक खोले और उसे उसके शरीर से अलग कर दिया।
उसकी गर्दन को चूसते हुए वो उसकी बगलों से होते हुए उसके Big Boobs तक पहुंच गया.

वो भी पूरे मूड में आ गईं.
मैंने उसके स्तनों के निपल्स को अपने मुँह में डाल लिया और उन्हें चूसने लगा।

मैं बता नहीं सकता.. मेरी हालत क्या थी।

इधर वो मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में पकड़ कर आगे पीछे कर रही थी.

मैंने उसके स्तनों को चूसते हुए उसके सपाट पेट पर अपनी जीभ घुमानी शुरू कर दी और घूमते-घूमते मैं उसकी नाभि तक पहुँच गया। वो अपनी गांड हिला रही थी.

मैं उसकी केले जैसी चिकनी जांघें सहलाने लगा.

अब मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी.
उंगली घुसते ही उसकी चीख निकल गई.

मैंने मन में सोचा कि दीपक ने तो इसकी चूत को सिर्फ बाहर से ही चोदा है, उसका लंड अन्दर गया ही नहीं था. एक तरह से यह वर्जिन है. आज इसकी सील तोड़ने में मजा आएगा ललित.

अगर कोई औरत उंगली डालने पर ऐसा कर रही है तो वो मेरा 7 इंच लंबा 3 इंच मोटा लंड कैसे अंदर लेगी.

अब मैंने उसकी Tight Chut को अपने दोनों हाथों से फैलाया, उसमें अपनी जीभ डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा।

उसे भी मजा आ रहा था.
वो अपनी कमर ऊपर नीचे उठाने लगी.

जैसे ही मेरी जीभ उसकी चूत के भगनासा को रगड़ती तो वो उत्तेजित हो जाती… आ आ उई हम्म्म ओ… की आवाजें निकालने लगती।

कुछ देर बाद उसने दो-तीन बार जोर से अपनी कमर उठाई और तेजी से ‘आ आ ऊ ऊ ऊ… मेरे सी शी…’ कहते हुए मेरे सिर को जोर से अपनी चूत पर धकेल दिया और फिर निढाल होकर लेट गई। (पडोसन XXX कहानी)

उसकी चूत से नमकीन पानी की धार निकली जिसे मैंने चाट कर साफ कर दिया.

अब हम दोनों बिस्तर पर लेटे हुए थे.
मैंने पलट कर उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

वो ऐसे चुसा रही थी जैसे कोई माँ अपने बच्चे को दूध पिला रही हो.

करीब आधे घंटे तक हम दोनों ऐसे ही लेटे रहे.

अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.
मैं उठा और कंडोम के पैकेट से कंडोम निकाला और अपने लंड पर लगा लिया.

बिस्तर के सिरहाने रखी तेल की शीशी उठाई, अपनी उंगली से उसकी चूत पर तेल लिया, उसकी चूत के अंदर लगाया और अपनी उंगली अंदर-बाहर करके उसे चिकना कर दिया।

मैंने उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और उसे ऊपर उठाया.
वो बोली- ये कंडोम इस्तेमाल करने की क्या जरूरत है?

मैंने कहा- अगर अब तुम्हें बिना कंडोम के चोदूंगा तो तुम प्रेग्नेंट हो जाओगी; हर कोई शंकित हो जाएगा. मैंने अभी दीपक को दवा दी है.

उसे भी लगना चाहिए कि मेरी दवा से उसे फायदा हुआ है और यह बच्चा उसका है. आंटी अंकल को भी ऐसा ही महसूस होना चाहिए. वो बोली- ठीक है.

मैंने अपने लंड का सिर उसकी चूत के मुँह पर रखा और धीरे से दबाया।
मुश्किल से आधा इंच ही गया होगा कि वह जोर से चिल्लाई- आउच माँ मर गई.

मैंने झट से उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये.
उसकी चीख उसके मुँह में ही दबकर रह गयी.

फिर मैंने धीरे से अपने लंड के सिरे को अंदर धकेला।
मेरा लंड अभी 2 इंच ही अंदर गया था कि वो अपने हाथों से मुझे पीछे धकेलने लगी.

मैंने अपने दोनों हाथों से उसके पंजे पकड़ कर दबा दिये।

मेरा मुँह उसके मुँह में फिट हो चुका था.
इस अवस्था में वह न तो हिल सकती थी और न ही कोई आवाज निकाल सकती थी।

मैंने अपने लंड का एक जोरदार धक्का मारा.
मेरा लंड उसकी चूत की दीवार को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया.

वह यह दुःख सहन न कर सकी; उसकी आंखों में आंसू आ गये.

किरन बेहोश हो गई, उसकी गर्दन एक तरफ लटक गई।
ये देख कर मैं एक बार तो डर गया.
मैंने कुछ देर इंतजार किया.

बिस्तर के सिरहाने रखी पानी की बोतल से उसके चेहरे पर पानी के छींटे मारे।
लेकिन मैंने अपना लंड उसकी चूत से नहीं निकाला.

मैं जानता था कि अगर मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला तो वो मुझे दोबारा अन्दर नहीं डालने देगी.

कुछ सेकेंड बाद उसे होश आया तो वह दर्द से कराह रही थी।
मैंने कहा- बस थोड़ी देर सहन कर लो, ठीक हो जायेगा.
तब जाकर उन्हें कुछ राहत मिली थी.

अब मैंने अपना लंड थोड़ा पीछे खींचा और फिर एक झटका दे दिया.
वो बोली- मां मर गई.. मुझे बचा लो. (पडोसन XXX कहानी)

मैंने कहा- धीरे किरन … शोर मत करना, अंकल-आंटी जाग जायेंगे.
वो बोली- मुझे दर्द हो रहा है. ऐसा लग रहा है जैसे किसी ने मेरी चूत में चाकू घुसा दिया हो.

मैंने कहा- बस थोड़ा सब्र करो.
दरअसल इसकी सील शादी के बाद आज ही टूटी थी.

मैं थोड़ी देर रुका और फिर धीरे-धीरे अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा।
अब उसे भी मजा आने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी.

फिर उसके मुँह से निकलने लगा- आह आह… ओह ओह… स्स्स्स… मेरे राजा… और जोर से चोदो मुझे… और जोर से चोदो मुझे। दीपक का लंड ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता. आज मुझे पता चल गया है कि लंड से Chut Chudai कैसे होती है.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.
वो भी गांड उठा उठा कर साथ देने लगी.

मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और उन्हें चूसने लगा और धक्के लगाने लगा।
उसे भी मजा आ रहा था.

मैंने तुरंत गति बढ़ा दी और तेज़ झटके दिए और अंततः उसकी सील तोड़ने में सफल रहा और स्खलित हो गया।
मैं उसके ऊपर गिर गया.

कुछ देर बाद मैं उठा तो देखा कि पूरा बिस्तर खून से सना हुआ था.
वो घबरा गई और बोली- क्या हुआ?
मैंने कहा- पहली बार ऐसा होता है.
वो बोली- पहली बार? शादी की रात दीपक ने पहली बार किया था!

मैंने पूछा- तो क्या तुम्हारी चूत से खून निकला था?
उसने कहा नहीं !
मैंने पूछा- फिर कितना दर्द हुआ?
वो बोली- कुछ भी नहीं!

तो मैंने उससे कहा- उसका लंड एक बार भी तुम्हारी चूत में नहीं गया. तो बच्चा कैसा होगा? आज मैंने तेरी सील तोड़ दी है.

फिर वो थोड़ा खुश हुई और उठने लगी.
तो वह उठ नहीं पाई और लड़खड़ा कर बिस्तर पर गिर गई.

मैंने उसे संभाला, उसकी चूत को कपड़े से साफ किया.
अपने लंड से वीर्य से भरा कंडोम निकाला और एक कागज में रख दिया.

फिर मैं उसे उसकी पेंटी ब्रा पहनाने लगा.

इतने में मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.
उसने मेरे लंड की तरफ देखा और बोली- डॉक्टर साहब, आज बहुत हो गया.. अब नहीं, नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

मैंने उसे पेन किलर और एंटीबायोटिक टेबलेट दी.
जिसे उसने पानी के साथ निगल लिया.

उससे खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था, चलना तो दूर की बात है.

उसे गोद में उठाया, उसके कमरे में छोड़ दिया और अपने बिस्तर पर लिटा दिया।

फिर मैंने नाइट ड्यूटी शुरू कर दी.
मैं शाम को 8 बजे जाता था और सुबह 6 बजे वापस आ जाता था.
ये ड्यूटी 5 दिन के लिए थी.

सुबह देखा तो दीपक आ गया था.

फिर मैंने उससे पूछा- दवा से फायदा हो रहा है या नहीं?
उसने कहा-बहुत फायदा है, डॉक्टर साहब!

मैंने पूछा- कितने दिन की छुट्टी लेकर आये हो?
उसने कहा- डॉक्टर साहब, छुट्टी नहीं है, सैलरी कट जायेगी. मैं दो-तीन दिन रुकूंगा.

मैं समझ गया कि ये सेक्स गोली का असर है. इससे कुछ होने की उम्मीद नहीं है लेकिन इसकी संतुष्टि जरूरी है.

मेरी नाइट ड्यूटी को पांच दिन बीत चुके थे.
दीपक भी चला गया. (पडोसन XXX कहानी)

छठे दिन मैं हॉस्पिटल जाने की तैयारी हो रहा था तभी किरन चाय लेकर आ गयी.
वो बोली- मैं आज रात को आऊंगी.
मैंने कहा- ठीक है.

मैं रोज की तरह शाम को अस्पताल से घर आया.
खाना खाने के बाद टीवी देखते-देखते सो गया।

रात के 12 बजे किरन मेरे कमरे में दाखिल हुई.
मेरे बिस्तर पर बैठ गया.

आज तो उसने कमाल कर दिया.
वो पूरी नंगी होकर आई थी.

आज मैं उसके चिकने और मांसल शरीर को देख कर दंग रह गया.

उसके ठोस स्तन और उसके सामने भूरे रंग के निपल्स अद्भुत थे।
उसकी चूत पर काले घुंघराले घने बाल देखकर मैं उत्तेजना से भर गया।

वह पगली सोच रही थी कि बच्चा आज ही पैदा हो जाए।

मैंने कहा- पहले मैं तुम्हारे निचले हिस्से को शेव करूंगा, फिर उसकी पूजा करूंगा, तभी तुम्हें प्रेग्नेंट करूंगा.

फिर मैंने अपनी शेविंग किट निकाली.
उसे बिस्तर के किनारे पर लिटाया, उसके दोनों पैरों को फैलाया, फोम लिया और उसके जघन के बालों पर स्प्रे किया।

कुछ देर रुकने के बाद उसने अपनी उंगली से झाग को फैला दिया।
फिर उसकी चूत के सुनहरे बालों को रेजर से धीरे-धीरे साफ किया।
सच में उसकी चूत एकदम साफ़ और खिल गयी. (पडोसन XXX कहानी)

उसकी चूत के पतले गुलाबी होंठ उत्तेजना के कारण कभी सिकुड़ जाते तो कभी खुल जाते।
इससे उसकी चूत का छेद दिखने लगा.

मैंने उस पर पानी छिड़का और कपड़े से साफ कर दिया.

आज मैंने कमरे में नाइट बल्ब के साथ बेड लैंप भी जला रखा था.

फिर मैंने एक थाली में धूप तेल की शीशी रखी, अगरबत्ती जलाई और उसकी चूत की आरती उतारी.

फिर मैंने अपनी उंगली पर तेल लिया और उसकी चूत पर लगाया.
पड़ोसन चिल्ला उठी.

मेरा लंड तो पहले से ही सलामी दे रहा था.
बिना समय बर्बाद किए मैंने उसके पैरों को बिस्तर के किनारे पर फैलाया और अपने लंड का सिर उसकी चूत के मुँह पर रखा और एक धीमा झटका दिया। वह जोर से चिल्लाई.

मैंने तुरंत अपना मुँह उसके मुँह पर रख दिया और दबा दिया.
उसकी चीख उसके गले में ही दबकर रह गयी.

मेरा 7 इंच का लंड उसकी चूत में 2 इंच अंदर तक घुस गया.
मैंने कुछ देर इंतजार किया.

मैंने अपने लंड को थोड़ा पीछे खींचा और उचित स्थिति में ले लिया और एक ही झटके में मेरा पूरा लंड उसके गर्भाशय तक पहुँच गया।

वो दर्द से छटपटाने लगी.
लेकिन वो कोई आवाज़ नहीं कर पाई क्योंकि उसका मुँह मेरे मुँह से बंद था.

उसके दोनों हाथों के पंजे मेरे हाथों में थे.
हाँ, उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे।

अब मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा.
कुछ देर बाद उसकी चूत से चूत का रस निकलने लगा और वो कराह उठी और कामोन्माद हो गयी.
उसकी चूत का रस चिकनाई का काम कर रहा था. (पडोसन XXX कहानी)
फच फच की आवाज आ रही थी.

अब उसे भी दर्द कम हो रहा था.
जब मुझे यकीन हो गया कि अब वो चिल्लाएगी नहीं.
मैंने उसके मुँह से अपना मुँह हटाया और उसके स्तनों को चूसने लगा।

वो बड़े मजे से ऊंह ऊंह ऊंह ऊंह कर रही थी.

उसने अपने दोनों हाथों से मेरे बाल पकड़ लिए और अपनी Moti Gand उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी।

उसने उत्तेजना में अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ा दिए।

इधर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.
वह दो बार चरमसुख प्राप्त कर चुकी थी।

लेकिन मेरे झड़ने में अभी वक्त था.
वो बोली- और जोर से चोदो मेरे राजा! आज मुझे स्वर्ग का सुख मिल रहा है.

मैं पूरी ताकत से अपना लंड उसकी चूत में पेल रहा था.

उसकी चूत से निकलने वाले रस के कारण मेरा लंड गच्च से अन्दर जाता और फच की आवाज के साथ बाहर आता.

मैं अब झड़ने ही वाला था.
इसलिए मैंने अपनी गति बढ़ा दी और अंततः जोर से धक्का मारा।

मेरा लंड उसकी योनि में चला गया और स्खलित हो गया।
उसकी चूत मेरे वीर्य से भर गयी.

मैं उसके ऊपर लेट गया.

उस रात मैंने उसे घोड़ी बना कर चोदा और अपने लंड से रस की एक भी बूंद बाहर नहीं आने दी.

इस तरह हमारा चुदाई का कार्यक्रम हर दिन चलता रहा.

एक दिन उसे उल्टी होने लगी।
उसकी सास बोली- डॉक्टर साहब, किरन को उल्टी हो रही है। इसका टेस्ट कराएं.

मैंने सास और बहू को अस्पताल बुलाया। गर्भावस्था परीक्षण में उसके गर्भवती होने की पुष्टि हुई।
उसका पीरियड भी रुक चुके थे. (पडोसन XXX कहानी)

आंटी के घर में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी.
फिर मैंने उसे चोदना बंद कर दिया.

मुझे डर था कि कहीं मेरे लंड के झटके से गर्भपात न हो जाये.

तीन महीने बाद मैंने उसे चोदना शुरू किया.
नौ महीने बाद उसे एक बेटा हुआ।

दीपक, किरन, आंटी अंकल सभी खुश थे।

एक दिन आंटी ने कहा- डॉक्टर साहब, आपका यह एहसान हम जिंदगी भर नहीं भूलेंगे। बस मुझ पर एक और एहसान करो. मेरे गांव में मेरे भतीजे की बहू की शादी हुए 5 साल हो गये हैं. उनके भी कोई बच्चा नहीं है. उसका भी इलाज करो.

तो मैंने कहा- उसे बुलाओ.. मैं देख लूँगा।

आप सभी को मेरी पडोसन XXX कहानी कैसी लगी नीचे कमेंट्स या मेल में लिखकर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga