मकान मालकिन की बहु को चोदकर बच्चा दिया: पडोसन XXX कहानी भाग-1

मकान मालकिन की बहु को चोदकर बच्चा दिया: पडोसन XXX कहानी भाग-1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मकान मालकिन की बहु को चोदकर बच्चा दिया: पडोसन XXX कहानी भाग-1 ”। यह कहानी ललित की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

पडोसन XXX कहानी में एक डॉक्टर ने किराये पर कमरा लिया. जमींदार की बहू को बच्चा नहीं हो रहा था. तो डॉक्टर ने उसकी मदद कैसे की?:

हेलो दोस्तों मेरा नाम ललित है, यह पडोसन XXX कहानी उस समय की है जब मैं लखनऊ मेडिकल कॉलेज पीजी गायनी में भर्ती हुआ था।

मैंने कॉलेज ज्वाइन कर लिया. दो दिन कॉलेज के गेस्ट हाउस में रुके, फिर वहां के स्टाफ की मदद से बंगले का आधा हिस्सा किराए पर लिया, जिसमें 2 कमरे, किचन और बाथरूम थे।

घर के आधे हिस्से में अंकल-आंटी रहते थे; बुजुर्ग थे.
दोनों सरकारी शिक्षक की नौकरी से सेवानिवृत्त हुए थे; अच्छी पेंशन मिलती थी.

उनका एक बेटा है. वह गुडगाँव में एक निजी कंपनी में छोटे पद पर काम करता है।
शादीशुदा, 3 साल हो गए, कोई संतान नहीं। (पडोसन XXX)
उनकी पत्नी उनके साथ रहती हैं.
दोनों हर रविवार को आते हैं.
ये सब आंटी ने बताया.

एक दिन जब मैं हॉस्पिटल से आया तो देखा कि आंटी का बेटा और बहू आये थे.
आंटी ने मुझे चाय के लिए अपने घर बुलाया.

मैंने देखा कि लड़का लगभग 26 या 27 साल का और पतला था।
उसने मुझे देख कर हेलो कहा.
मैं कुर्सी पर बैठ गया.

इतने में उसकी पत्नी साड़ी और घूंघट करके आई और ट्रे में चाय लेकर आई।
क्योंकि वहां उसके ससुर भी बैठे थे इसलिए उसने घूंघट डाल रखा था.

आंटी बोलीं- हमारे यहां ये परंपरा है.

बहू चाय रख कर चली गयी.

अंकल न जाने क्या सोचते हुए चाय का कप लेकर दूसरे कमरे में चले गये।
वो बोला- अरे Kiran बहू, मैं बाहर बरामदे में जा रहा हूँ, तुम सब बैठो और बातें करो।

बहू बाहर आकर अपनी सास के पास बैठ गई और चाय पीने लगी।

बहुत खूबसूरत, करीब 22 या 23 साल की रही होगी. साड़ी ब्लाउज में किरन गजब लग रही थीं.
उसके तने हुए स्तन उसके ब्लाउज से बाहर आने को तड़प रहे थे। (पडोसन XXX)

आंटी बोलीं- डॉक्टर साहब, हमारे दीपक की शादी हुए 3 साल से ज्यादा हो गए और कोई अच्छी खबर नहीं मिली. हमने बहुत इलाज कराया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. मैंने कहा- किससे इलाज करवाया? तो बोली- दाई से!

मैं आश्चर्य से उनकी ओर देखने लगा.

आंटी बोलीं- तुम तो बच्चों और औरतों के डॉक्टर हो, बताओ क्या करना है?
बहू शरमा रही थी; शर्म के मारे उसकी गर्दन झुक गयी थी और चेहरा लाल हो गया था.

मैंने कहा- दीपक जी, आपने अपना टेस्ट करा लिया.
तो उसने कहा- नहीं.
मैंने पूछा- क्या आपने किरन जी का टेस्ट करवाया?
तो उसने कहा- नहीं.

मैंने कहा- पहले दोनों का टेस्ट करा लो. तुम दोनों कल अस्पताल आ जाओ. मैं टेस्ट लिखूंगा और उन्हें लैब में करवा दूंगा।
दीपक ने कहा- मुझे छुट्टी नहीं है. मैं किरन को छोड़ दूँगा, तुम उसका पहले करवा लेना। अगली बार जब मैं छुट्टी लूंगा तो करवा दूंगा।

मैंने कहा- ठीक है आंटी, कल सुबह 10 बजे किरन जी को कमरा नंबर 14 में ले आना!
यह कह कर अपने कमरे में चला गया.

मैं आपको बता दूँ कि मेरे बेडरूम का दरवाज़ा दूसरे कमरे के दरवाज़े में खुलता था जो दूसरी तरफ से बंद था।
वह किरन दीपक का बेडरूम था जो अंदर से बंद रहता था.

आंटी अंकल का बेडरूम बिल्कुल अलग था जो घर के पिछले हिस्से में था.

खैर सुबह दीपक गुडगाँव चला गया.

मैं सुबह 8 बजे हॉस्पिटल चला गया और आंटी को अपना मोबाइल नंबर देकर कह दिया कि जब वो हॉस्पिटल आएं तो मुझे फोन कर देना। (पडोसन XXX)

करीब 10:15 बजे आंटी अपनी बहू किरन को लेकर आईं.
मैंने अपने सहायक को टेस्ट के लिए उसके साथ लैब में भेजा।

करीब दो घंटे बाद सारे टेस्ट हो गए।
मैंने उन्हें घर भेज दिया.

मैं शाम को अस्पताल से घर आया.
मैं चाय बनाने ही वाला था कि किरन चाय का कप लेकर आ गयी.
मैंने कहा- इसकी क्या जरूरत थी, मैं अपनी चाय और खाना खुद ही बना लेता हूं.
वो बोली- कोई बात नहीं डॉक्टर साहब!

तभी किरन बोली- मेरी रिपोर्ट कब आएगी?
मैंने कहा- मैं आते ही बताऊंगा.
फिर वह चली गई.

रात को करीब 12 बजे मुझे अपने कमरे का दरवाज़ा खुलने की आवाज़ आई।

मैं उठा और देखा कि किरन अपने बेडरूम से मेरे बेडरूम में आ गयी है।
मैंने आश्चर्य से उसकी ओर देखा.

उसने मेरे मुँह पर हाथ रखा और बोली- डॉक्टर साहब, अगर मेरी रिपोर्ट में कोई खामी हो तो प्लीज मेरी सास को मत बताना.

नहीं तो वह मुझे घर से निकाल देगी. वे मुझे बांझ कहकर रोज ताना मारते हैं। वे अपने बेटे की दूसरी शादी करने की तैयारी में हैं. (पडोसन XXX)

उसने आगे कहा- सच तो यह है कि दीपक मुझे संतुष्ट नहीं कर पाता है. कुछ ही देर में उनका वीर्यपात हो जाता है। मैं ये बात किसी को बता भी नहीं सकता.

लेकिन मुझे नहीं पता कि मैं आप पर विश्वास क्यों करती हूं। मुझे लगता है कि आप मेरे घर उजड़ने से बचा लेंगे. इतना कह कर किरन मेरे पैरों पर गिर पड़ी.

मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी बाँह पकड़ कर उसे उठाया।
उठते ही उसने मुझे गले लगा लिया; उसकी कठोर छाती मेरी छाती से छू गयी.

उसके स्पर्श से मेरा शरीर झनझना उठा।
मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिये और उसे चूम लिया; फिर उसे उसके बिस्तर पर लिटा दिया.

हे भगवान्… क्या सुन्दर शरीर था उसका।
मुझसे रहा नहीं गया। मैं उसके ब्लाउज के ऊपर से उसके Big Boobs को दबाने लगा।

वो भी कसमसाने लगी.

मैंने उसके ब्लाउज के बटन खोल दिये. क्या मस्त बोबे थे उसके!
उसने अंदर लाल रंग की ब्रा पहनी हुई थी.

कुछ देर तक मैं ऊपर से ही दबाता रहा और फिर मैंने उसकी ब्रा के हुक खोल दिये.
उसके दोनों चूचे आजाद हो गये.

उसके स्तन का आकार 34 इंच था। वे मुझे अछूते लग रहे थे, शायद दीपक ने उन्हें ठीक से दबाया भी नहीं होगा।

मैंने किरन के दोनों स्तनों को अपने हाथों में ले लिया और उन्हें चूसने लगा।
बोबों पर सफेद दूध से सजे गोरे भूरे स्तनों को चूसने में बहुत मजा आता है।

मेरे अंडरवियर में मेरा लंड खड़ा हो गया था.

जब मैं उसके स्तनों को चूस रहा था तो वह कराहने लगी और अपना हाथ मेरे अंडरवियर में डाल कर मेरे लंड को मसलने लगी। (पडोसन XXX)

मैंने उससे अपना लंड चूसने को कहा तो उसने मना कर दिया, बोली- मैंने कभी नहीं चूसा है.
फिर मैंने कहा कि इसे मुँह में लेकर देखो, बहुत मज़ा आएगा.

बड़ी मुश्किल से उसने मेरा लंड अपने मुँह में लिया और कुछ ही देर में वो उसे अच्छे से चूसने लगी.

मैंने उसका पेटीकोट ऊपर खींच लिया और उसकी चूत को सहलाने लगा तो उसने अपना हाथ हटा लिया.
वो बोली- मेरा पीरियड चल रहा है, आज ही शुरू हुआ है.
मेरे साथ खड़े लंड पर धोखा हो गया.

फिर उसने मेरे लंड को जोर से चूसा, मेरा वीर्य निकाला और उसे निगल लिया.
बाहर आने के बाद मैं थक कर बिस्तर पर लेट गया.

वह रोज शाम को चाय लेकर आती थी.
अंकल और आंटी को मेरे बारे में कोई शक नहीं था.

एक दिन दीपक लखनऊ आया और बोला- डॉक्टर साहब, मेरी जांच कराओ!
मैंने कहा- ठीक है, कल सुबह हॉस्पिटल आ जाना.

अगले दिन वह अस्पताल आया।
मैंने इसका टेस्ट करवाया.

रिपोर्ट आने में समय लगता है, इसलिए मैंने उसे घर भेज दिया और कहा- रिपोर्ट आते ही देखूंगा। मैं उसी हिसाब से दवा दूँगा. चिंता मत करो, मैं सब ठीक कर दूँगा।

शाम को दीपक वापस गुडगाँव जाने वाला था.
अब वह पत्नी को साथ ले जाने की बात करने लगा.

तो आंटी ने मुझसे पूछा.
मैंने कहा- किरन की रिपोर्ट नहीं आई है. रिपोर्ट आने के बाद इलाज शुरू करना होगा। बाकी जैसा आप चाहें!

दीपक समझ गया और किरन को छोड़कर चला गया।
दो दिन बीते और किरन की रिपोर्ट आ गई.
सब कुछ सामान्य था.

दीपक का स्पर्म काउंट बहुत कम था.

मैंने आंटी से कहा- इलाज में समय लगेगा लेकिन दोनों को बच्चा जरूर होगा, ये मेरी गारंटी है.
घर पर सभी खुश थे. (पडोसन XXX)

रात को किरन मेरे पास आई और बोली- सर, क्या मेरी रिपोर्ट में कुछ गड़बड़ है?
मैंने कहा- हां … लेकिन मैं ठीक कर दूंगा. तुम्हारी चूत का छेद बहुत छोटा है, इसे चौड़ा करना होगा. फिर सब ठीक हो जाएगा.

मैंने जानबूझ कर झूठ बोला क्योंकि मैं उसके साथ Chut Chudai करना चाहता था।
अगर मैंने उसे सही बताया होता कि कमी दीपक में है तुम में नहीं है, तो वह मुझे उसका इलाज करने के लिए कह सकती थी।
और शायद वो अपनी चूत चुदाई करवाने से मना भी कर सकती थी.

मैंने कहा- आज मैं तुम्हें जन्नत की सैर कराऊंगा.
किरन ने कहा- अभी भी खून बह रहा है.
मैंने कहा- कोई नहीं, मैं कल से दवा शुरू कर दूंगा.

मैं जानता था कि विटामिन डी की कमी से पीरियड्स की अवधि बढ़ जाती है। खून भी ज्यादा आता है.

मैंने उसे बिस्तर पर खींच लिया, उसके ब्लाउज के बटन खोल दिए और उसके स्तन दबाने लगा।
वो बोली- धीरे धीरे करो, मुझे दर्द होता है.

फिर मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी; उसके स्तन दबाने लगा.
मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और उन्हें चूसने लगा।

मेरी खुरदुरी जीभ से चाटे जाने पर उसके स्तनों के निपल्स सख्त होने लगे।
मैंने चूस कर सनसनी मचा दी.

अचानक उसने खुद को मुझसे छुड़ाया और बोली- क्या मेरी Tight Chut का छेद बड़ा हो जायेगा?
मैंने कहा- वो मुझ पर छोड़ दो.

मैंने फिर से उसके स्तनों को मुँह में ले लिया और चूसने लगा।
मेरा लंड अंडरवियर में ही खड़ा होने लगा.

उसके स्तनों को चूसते समय मैंने उसके एक हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया।
उसने अपनी मुट्ठी में ले लिया और आगे-पीछे करने लगी।

मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह सख्त हो गया था.
उसने पहली बार कहा- हाय दईया… इतना बड़ा! दीपक का तो इसका आधा भी नहीं है.

और आज उसने बिना कुछ कहे मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

जब वो लंड के टोपे पर अपनी जीभ फिरा रही थी तो मेरे शरीर में रोंगटे खड़े हो रहे थे।
मैं भी पूरी ताकत से आगे-पीछे करते हुए उसके मुँह को चोदने लगा।

मेरा लंड उसके गले तक घुस गया था.
वह सांस नहीं ले पा रही थी.
आंखों में आंसू थे.

फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और कुछ ही देर में मैं उसके मुँह में झड़ गया.

मैं बिस्तर पर लेट गया और उसे अपने बगल में लिटा लिया।
वो मेरी छाती को सहला रही थी. मैं उसके स्तनों से खेल रहा था.

कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

अब मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लेटा दिया और उसकी पैंटी को उसके पैरों के बीच से निकाल दिया।

वो कहने लगी- मुझे पीरियड्स आ रहे हैं, ब्लीडिंग हो रही है. कृपया आज न करें.
मैंने कहा- नहीं करूंगा. मैं इसे तुम्हारी Moti Gand में ही डालूँगा.
वो बोली- मैंने आज तक पीछे से नहीं किया है.

मैंने कहा- इसे गांड में डालने से योनि का छेद बड़ा हो जाता है जो बच्चा पैदा करने में बहुत उपयोगी होता है। तुम्हें बच्चा चाहिए न.

उसने कहा हाँ।
मैंने कहा- तो चुपचाप जैसा मैं कहूँ वैसा करो.
उसने कहा- ठीक है.

उसने अपनी टांगें चौड़ी कर दीं और घोड़ी बन गयी.
मैंने अपने लंड का सिर उसकी गांड के मुँह पर रखा और धीरे से दबाया।

लंड फिसल कर उसकी चूत में घुस गया.
मैंने तुरंत बाहर निकाला.

फिर उसने बिस्तर के अंत में रखी तेल की शीशी उठाई और अपने हाथ से अपने लंड पर तेल लगाया।
अपनी एक उंगली से उसकी चूत पर लगाया, उंगली को उसकी चूत में डाला और अच्छे से घुमाया।
उसे थोड़ा दर्द हुआ और वो आहें भरने लगी. मैं जगह बना रहा था.

मैंने अपने लंड का सिर उसकी गांड पर फिट किया और एक हल्का सा धक्का दिया।

वो चिल्ला उठी- आउच माँ मर गई.. बाहर निकालो.. बहुत दर्द हो रहा है।
मैंने कहा- किरन, प्लीज़ सहन करो. जगह बनाना जरूरी है. मैं यह आपकी भलाई के लिए कर रहा हूं.
उसने अपने होंठ दबाये.

फिर मैंने एक जोरदार धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया.
वो जोर से चिल्लाई- आउच माँ मर गई… मुझे बचा लो!

मैंने थोड़ा इंतजार किया.
वह शांत हो गयी.

फिर मैं और जोर जोर से धक्के देकर उसकी गांड चोदने लगा.
उसे भी मजा आने लगा. (पडोसन XXX)

मैंने अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया था और अपने दोनों हाथों से उसके मम्मे पकड़ कर दबा रहा था.
धीरे धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.

मैंने कहा- जान, मैं झड़ने वाला हूँ, बताओ कहाँ निकालूँ? उसने कहा- अन्दर ही छोड़ दो।
मैंने तेजी से झटके मारते हुए अपना रस उसकी गांड में छोड़ दिया.

जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी गांड से बाहर निकाला तो फच की आवाज आई।
उसकी गांड से निकला कुछ खून और मेरे वीर्य का मिश्रण बिस्तर पर फैल गया.

वह बेहोश हो गई थी. मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसकी गांड और चूत को कपड़े से पोंछ दिया।
फिर उसे अच्छे से सेनेटरी नैपकिन लगाया और पैंटी पहनाई.

कुछ देर बाद मैंने उसके चेहरे पर पानी छिड़का.
तब जाकर उसे होश आया.

उसे ब्रा और ब्लाउज पहनाने के बाद वह उसके कमरे में उसे दोनों हाथों से उठाकर उसके बिस्तर पर लिटा दिया।

उसके बाद मैंने अपनी बेडशीट बदल ली.
गंदी चादर एक तरफ फेंक दी.

इस पडोसन XXX कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं.

कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्त अगला भाग पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे।

कहानी का अगला भाग: पडोसन XXX कहानी

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga