पडोसी से चुदी पूरी रात जब मम्मी पापा घर पर नहीं थे

पडोसी से चुदी पूरी रात जब मम्मी पापा घर पर नहीं थे

दोस्तो, मेरा नाम आशिका है. आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे में “पडोसी से चुदी पूरी रात जब मम्मी पापा घर पर नहीं थे”

मेरी आयु 24 वर्ष है। मैं मुंबई में रहती हूँ. मेरे घर में माँ, पापा और मेरा छोटा भाई रहते हैं। मेरा फिगर 30-30-32 है तो चलिए मैं आपको कहानी बताती हूं.

यह कुछ साल पहले की बात है जब मैं 18 साल की हो गई थी। मैं शाम को अपने पड़ोस के लड़कों के साथ खेल रही था. हम तीन लड़कियाँ और 5 लड़के थे। उनमें से एक का नाम राहुल था।

राहुल दिखने में ठीक था, गोरा रंग था, खेलते-खेलते अंधेरा हो गया। हम छुपन-छुपाई खेल रहे थे. हम सभी को ढूंढने की बारी राहुल की थी। पहले भी हम खेलते थे लेकिन वो शाम अलग थी.

गर्मी अधिक होने के कारण सभी के कपड़े गीले हो गये थे। गर्मियों में मैं सलवार कमीज ही पहनती थी. उस शाम जब कुछ ज्यादा ही अंधेरा हो गया तो मैंने घर जाने के लिए खेल छोड़ दिया।

तभी मैं अँधेरे में लड़खड़ा कर गिर पड़ी। तभी राहुल ने मुझे देख लिया और आकर मुझे पकड़ लिया. तभी बाकी दोस्त भी आ गये. जब राहुल की बहन ने उसे पीछे से मारा तो वह नियंत्रण खो बैठा और मेरे ऊपर गिर गया.

मैंने खुद पर कंट्रोल करते हुए उसके हाथों को पकड़ लिया जिससे उसका मुँह मेरे मुँह के पास आ गया और उसके हाथ मेरी चुचियों से छू गये. जैसा कि पहले बताया गया था, गर्मी के कारण मेरे कपड़े गीले हो गए थे

और मैंने नीचे ब्रा भी नहीं पहनी थी, इसलिए राहुल के हाथ लगते ही मेरी चुचियाँ दब गईं और मुझे गुदगुदी होने लगी. मेरे चूचे दबाते ही उसका लंड खड़ा होने लगा. यह मेरी जाँघ से जुड़ा हुआ था जिसे मैं बड़ा होते हुए महसूस कर रही थी।

इसलिए मैंने उसे अपने ऊपर से उठाने की कोशिश की. तो वो उठा और अपना दाहिना हाथ मेरी चूची पर रख दिया और दबा दिया. उसके गुलाबी अंडरवियर में से उसका खड़ा लिंग साफ़ दिख रहा था। (पडोसी से चुदी)

आपको बता दूं कि राहुल घर में सिला हुआ अंडरवियर पहनता था, जिससे मुझे उसके लंड का स्पर्श करीब से महसूस होता था. उस वक्त मैं घर गई और खाना खाकर सो गई.

और जब मुझे बिस्तर पर वो सब याद आया तो मैंने अपनी चुचियाँ अपने आप से दबा लीं. ऐसा करने से मुझे कुछ अच्छा लगा। उस वक्त मेरा फिगर 28-28-30 था.

अगले दिन से राहुल मुझे अलग नजर से देखने लगा और मेरे साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताने लगा. अब वह मेरी पढ़ाई में भी मदद करने लगा. पढ़ाई में उसकी मदद करने से मैं भी उससे और अधिक खुल गई

और उसके घर आने-जाने लगी। राहुल घर पर केवल पतली बनियान और अंडरवियर में रहता था, जिसके कारण मैं कई बार उसका लिंग देख लेती थी। लेकिन उस वक्त मेरे मन में ऐसा कोई ख्याल नहीं था.

एक बार उसके घरवाले बाहर गये थे और मुझे गणित का एक सवाल समझ नहीं आया. मैं उसके घर गई तो दरवाजा खुला था. मैं अन्दर गई तो बाथरूम से पानी की आवाज़ आ रही थी.

शायद वो नहा रहा था. मैं वहीं बैठ कर इंतज़ार करने लगी. तभी बाथरूम से कुछ आवाज आने लगी, वो जोर जोर से आह उह हम्म हम्म आह की आवाज निकाल रहा था. उस वक्त भी मेरे मन में सेक्स के बारे में कुछ नहीं आया.

इतने में उसकी माँ आ गई और उसकी आवाज आई तो मैं बाहर चली गई. इतने में राहुल भी बाहर आ गया. उसने मुझसे पूछा- इस वक्त यहां? तो मैंने कहा- कुछ समझना था!

वो मेरे पास आया और समझाने लगा. साथ ही कभी वो अपने हाथ से मेरे हाथ को छूता तो कभी मेरे पैर को अपने पैर से छूता. ये सब हमारे बीच पहले भी होता था इसलिए मैंने कुछ नहीं किया.

इस बार उसका हाथ मेरी चूची से छू गया, जिससे उसका लंड अपने आकार में आने लगा. मैंने उसे छेड़ते हुए देखा तो वो उसके लंड को छूने लगी. लेकिन उन्होंने मना कर दिया.

उसके बाद मेरा भाई मुझे घर से बुलाने आया तो मैं घर चली गई. अगले दिन होली थी तो आस-पड़ोस के सभी लड़के-लड़कियाँ मिलकर होली खेलते थे। उस दिन मैंने सफ़ेद टॉप और कैपरी जींस पहनी हुई थी

जो मेरी जांघों तक ही थी। हम सब होली खेलने लगे जिससे मेरे सारे कपड़े रंगों से भर गये। गली में सभी लोग थे लेकिन राहुल वहां नहीं था। उसकी बहन ने बताया कि वह घर में छिपा हुआ है. तो मैं उसके घर गई.

वह बाहर खुले में नहा रहा था. उसने सिर्फ कच्छा पहना हुआ था और पूरा भीगा हुआ था. उसके बाल उसके शरीर से ऐसे चिपके हुए थे जैसे किसी चीज़ से मक्खी चिपकी हो। उसके गीले अंडरवियर से उसके लंड के घने बाल साफ़ दिख रहे थे.

लेकिन मैं उसे रंगना चाहती थी इसलिए मैं उसके पास जाने लगी. तभी मेरा पैर पानी में फिसल गया और मैं पानी में गिर गई. मैं ऐसे गिरी कि मेरा हाथ उसके लंड को छू कर वहीं रह गया.

मेरे छूते ही वो खड़ा होने लगा. लेकिन मैंने खड़े-खड़े ही उसके लंड को दबा दिया, जिससे मेरे रंगे हुए हाथ का निशान उसके लंड पर छप गया. इसलिए वह भी बदला लेने के लिए मुझे रंग में रंगना चाहता था.

मैं भागने लगी तो उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया. उसने मुझे इतनी जोर से पकड़ लिया कि अब उसका खड़ा लंड मुझे चुभने लगा और उसके हाथ मेरी चुचियों पर थे. उसने उन्हें जोर से दबाया और बोला-अब हिसाब बराबर हो गया।

उसके हाथ का निशान मेरी छाती पर छप गया, तो उसने उसे साफ करने के लिए मेरे ऊपर पानी डाल दिया, जिससे मेरे गीले टॉप से मेरे निपल्स दिखने लगे. वो बस मेरी छाती को देखता रहा. इतने में उसकी बहन आ गई

तो मैं उसके साथ चली गई. अगले दिन मेरे घर वालों को मेरे भाई का इलाज करवाने के लिए बाहर जाना था, इसलिए मेरे घरवाले राहुल के घर ये कह कर चले गये कि मैं कुछ दिन उसके घर पर रहूँगी. (पडोसी से चुदी)

मैं रात को उसके घर गई. तो वहां पता चला कि उसकी बहन अपने मामा के घर गई है और उसके माता-पिता किसी जरूरी काम से दिल्ली जा रहे हैं. उसकी माँ ने खाना बना लिया था. राहुल मुझे खाना परोसने लगा.

उसने दाल का बर्तन मेरे ऊपर गिरा दिया, जिससे मेरे सारे कपड़े बर्बाद हो गये. तो उसकी माँ ने कहा- आशिका, तुम नहा लो और कृतिका के कपड़े पहन लो। तो मैं नहाने चली गई और उसके मम्मी-पापा भी चले गये।

नहाने के बाद जब मैं कपड़े पहनने लगी तो वो मुझे फिट नहीं आ रहे थे. किसी तरह मैंने उसकी शर्ट तो पहन ली लेकिन उसका पजामा मुझे नहीं मिला. बाथरूम में राहुल का उसी रंग का अंडरवियर पड़ा हुआ था

जिस पर उसके माल निकालने का दाग लगा हुआ था. मैं वही पहन कर बाहर आ गई. उसकी बहन की शर्ट में से मेरे आधे निपल्स भी दिख रहे थे. वो मुझे इस तरह देख कर चौंक गया तो मैंने कहा- सब तुम्हारी वजह से हुआ है!

और कृतिका के कपड़े नहीं आ रहे थे तो उसने तुम्हारा अंडरवियर पहन लिया. उसके बाद हमने अचार के साथ खाना खाया और एक ही कमरे में एक साथ सोने चले गये. रात को हमारी बात हुई तो उसने कहा- आशिका, एक बात बताओ.

मैं – क्या? राहुल – मेरा ये खड़ा क्यों हो जाता है? मैं – मुझे नहीं पता! ये कह कर मैं सो गई. मैं नाराज ना हो जाऊँ…यही सोचते-सोचते वह भी सो गया। हम दोनों एक ही बिस्तर पर थे जिससे मेरा पैर उसके पैर को छू रहा था

और उसके बाल मुझे गुदगुदी करते। क्योंकि वो भी बनियान और कच्छी में सो रहा था. रात को करीब 2-3 बजे लाइट चली गई तो मेरी नींद खुली और मैंने राहुल की तरफ से आवाज सुनी.

मैंने फोन की रोशनी से देखा तो उसका कच्छा उतरा हुआ था और वह आंखें बंद करके अपना लंड सहला रहा था. मुझे कुछ होने लगा और मैंने फोन बंद कर दिया और उसकी तरफ घूम गई

और अपनी गोरी नंगी टांग उसकी लात पर रख कर उसके लंड को अपनी लात से दबा दिया। वह कांप उठा. तभी राहुल ने अपनी कमर उठाई और अपने लंड को मेरी लात से दबा दिया.

उसने मुझे 2-3 बार हिलाया लेकिन मैं सोने का नाटक कर रही थी और नहीं उठी. मैंने उसके लंड को फिर से अपनी जाँघ से दबा दिया. इस बार उसका माल निकल गया और मेरी जांघ गीली हो गई, लेकिन मैं वैसे ही लेटी रही.

Visit Us:-

थोड़ी देर बाद राहुल ने करवट बदली और वो मेरी तरफ घूम गया. तो मैंने भी करवट बदल कर उसकी तरफ करवट ले ली और अपनी जांघ उसके ऊपर रख दी. उसने अपना एक हाथ अपनी जांघों के बीच लंड के पास रखा.

मेरी उंगलियाँ उसकी झांटों में चली गईं और मेरा हाथ उसके खड़े लंड को महसूस कर रहा था। तो मैंने जबरदस्ती अपना हाथ वहां रख दिया. उसने भी कोई विरोध नहीं किया और अपना हाथ मेरी जाँघ पर रख दिया और धीरे-धीरे सहलाने लगा।

मैं बीच-बीच में इधर-उधर हाथ भी घुमा रही थी, लेकिन मेरे हाथ में उसके बाल ही आते थे, वो सोच रहा था कि मैं सो रही हूँ। फिर वो मेरी तरफ बढ़ा और मेरा हाथ अपने लंड के नीचे दबा दिया.

इस समय उसका लंड लोहे की तरह सख्त हो गया था. अब इससे पहले कि वो कुछ और कर पाता.. लाइट आ गई, हवा आई तो मैंने खुद को हिलाया और वो डर गया कि मैं जाग रही हूँ। वह जल्दी से अलग होकर बाथरूम में गया

और करीब पंद्रह मिनट बाद बाहर आया। मैं समझ गई कि उसने क्या किया होगा. लेकिन मैं निडर थी क्योंकि मेरे पास उसे चोदने और तैयार करने के लिए 2 रातें और थीं! उसके बाद राहुल बाहर आकर सो गया

और अगले दिन सुबह मैं अपने घर आ गयी. मैं अपने कपड़े उतार कर नहाने चली गई, तभी मुझे उस रात की याद आई तो मैं उसी बिस्तर पर लेट गई। फिर मैंने खुद को शीशे में देखा और अपना हाथ अपनी चूत पर रख दिया

और उसे सहलाने लगी. ऐसी हालत में एक लड़की और क्या कर सकती थी? कुछ देर बाद मैं झड़ गई. फिर मैंने सोचा कि क्यों न मैं अब राहुल के घर जाऊं और उसके साथ समय बिताऊं. तो मैं जल्दी से नहाने चली गई

और नहा कर नंगी ही बाहर आ गई. मैंने बिना ब्रा पहने सफ़ेद टॉप पहना था, जिसमें से मेरे चूचों का शेप और आकार दिख रहा था. और नीचे मैंने बिना पैंटी के घर में बना निक्कर पहना था जो मेरी जांघों तक आ रहा था

और बहुत पतला भी था. मैंने उसके घर जाकर घंटी बजाई तो वो तेजी से दौड़ता हुआ आया. उसने सिर्फ तौलिया लपेटा हुआ था. शायद वो नहाने जा रहा था. मुझे देख कर उसने कहा- अब यहां कैसे?

तो मैंने पढ़ाई के बहाने कहा- मुझे कुछ समझना है. उसने मुझे हॉल में बैठाया और नहाने चला गया. करीब 15 मिनट बाद जब वह बाहर आए तो उनका शरीर थोड़ा गीला था और शरीर पर बाल चिपके हुए थे। (पडोसी से चुदी)

उसने ढीली बनियान और खुला अंडरवियर पहना हुआ था. वो मेरे पास आकर बैठ गया और मुझे पढ़ाने लगा. उसकी जांघ मेरी जांघ से छू रही थी. मेरे मन में मस्ती छा गई, मैंने उससे कहा- राहुल, तुम्हारे शरीर पर इतने बाल क्यों हैं?

पहले तो वो मेरी तरफ देखने लगा, फिर बोला- सब ऐसे ही हैं. मैं- कहां? मेरे नहीं है? राहुल- अरे पगली, लड़के तो ऐसे ही होते हैं, तेरा भाई तो इससे भी ज़्यादा है. मैं – ठीक है। उसके बाद उन्होंने मुझे पढ़ाना शुरू किया.

कॉपी से कुछ समझ कर मैंने अपना हाथ उसकी जांघ पर रख दिया. तभी लाइट चली गई और कमरा गर्म होने लगा. धीरे-धीरे हम पसीने से भीगने लगे। तो मैंने उससे कहा- कुछ ठंडा मिलेगा? गर्मी लग रही है।

वह शरबत बनाने के लिए रसोई में चला गया। वैसे भी किचन में बहुत गर्मी है इसलिए पूरा भीग गया. जब वह वापस आया तो उसके चेहरे से पसीना टपक रहा था. गर्मी के मारे मेरा भी बुरा हाल था

मेरे कपड़े भी गीले हो गये थे। जब वह मुझे शरबत पिलाने लगा तो देखता ही रह गया. अब मेरा टॉप पारदर्शी हो गया और मेरे निपल्स साफ़ दिखने लगे. उसका लंड खड़ा होने लगा.

किताब एक तरफ रख कर मैंने उसे अपने पास बुलाया तो मेरी नंगी जांघें देख कर उसका खड़ा लंड और तन गया और अंडरवियर से बाहर आने को हो गया. मैंने गुस्सा होने का नाटक किया तो उसने खुद को संभाला

और सॉरी बोलने लगा. तो मैंने कहा- सॉरी, ठीक है. पर यह क्या? मैंने उसके लंड की तरफ इशारा करते हुए कहा. वह शरमा कर नीचे झुका और शरबत मेरे ऊपर फेंक दिया. बर्फ़ ने मुझे ठंड का अहसास कराया।

मैंने उसे अपने पास बिठाया और कहा- ये सब प्राकृतिक है. आप भी एक इंसान हैं और ऊपर से लड़के किसी भी लड़की को ऐसी हालत में देखकर किसी का भी खड़ा हो जाएगा. ये कहते हुए मैंने अपनी लात उसकी लात पर रख दी.

ऐसा करते ही उसका लंड ऊपर नीचे होने लगा और फिर उसका माल मेरे सामने निकल गया और उसके कपड़े गंदे हो गये. यह देखकर मुझे ख़ुशी हुई. वह लज्जित होकर बैठ गया। मैंने उससे कहा- मुझे नहाना है.

मेरे पास कपड़े नहीं थे तो मैंने उसके कपड़े मांगे. पहले तो उसने मना कर दिया. फिर मैंने कहा- मुझे रात तक यहीं रुकना है, तब तक ये सूख जायेंगे. और कल रात भी मैंने तुम्हारे ही कपड़े पहने थे. तो उसने दे दिए.

मैं उसे नहलाने ले गई. मुझे उसके कपड़े ढीले लगे लेकिन मैंने उन्हें पहन लिया. उसकी बनियान मेरी छाती के लिए बहुत खुली थी लेकिन उसका अंडरवियर मुझे फिट आ गया। मैं रात का अहसास फिर से पाना चाहती थी

इसलिए मैंने उसे पास नहीं आने दिया. फिर हमने नूडल्स खाये और लाइट बंद करके सो गये. मैंने राहुल से कहा- मैं एक बार सो जाती हूँ तो सीधे सुबह उठती हूँ। मैंने ये बात जानबूझ कर कही ताकि वो रात को दोबारा वो सब कर सके.

ऐसा ही हुआ। करीब 12 बजे मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि राहुल ने अपने सारे कपड़े उतार दिये थे. वो मेरे बगल में नंगा लेटा हुआ था. मैंने कल की तरह फिर से नींद में हिलने का नाटक करते हुए अपनी जाँघ उसके लंड पर रख दी।

उसका लंड आग की तरह तप रहा था. राहुल मेरी ओर घूमा और मैंने अपनी जाँघ हटाकर अपना हाथ उसकी जाँघ में डाल दिया और अपनी उंगलियाँ उसके लंड और शिश्न की ओर ले गयी। वो अपनी कमर हिलाने लगा

और उसने अपना हाथ सीधा मेरी चूत पर रख दिया. उसने अपना मुँह मेरी चुचियों में डाल दिया. मैंने उसके लंड पर हाथ रख कर दबाया तो उसके लंड का पानी निकल गया. मेरा पूरा हाथ भीग गया लेकिन मैंने अपना हाथ लगाए रखा.

मेरी चूत भी अब गर्म होने लगी और मैंने भी अपना पानी छोड़ दिया. फिर हम दोनों उठे. उसने बिना देर किये मेरे कपड़े फाड़ दिये और मुझे अपनी गोद में बैठा कर चूसने लगा. साथ में उसने मेरी चूंचियां जोर से दबा दीं।

मेरे मुँह से जोर की आह निकल गई लेकिन उसे कोई फर्क नहीं पड़ा. थोड़ी देर बाद उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और मुझे नीचे चुभने लगा. उसने मुझे गोद में उठाया और अपने बाथरूम के बाथटब में ले गया.

उसने मेरी चूत को कुत्ते की तरह जोर जोर से चाटा और तेल लगा कर मेरी चूत में अपनी उंगलियां डाल दीं. मैं दर्द के मारे जोर से चिल्लाई और मेरा पानी निकलने लगा. फिर उसने बिना देर किये अपने लंड पर तेल लगाया

और मेरी चूत पर रखा और जोर से धक्का मारा. मैं दर्द से तेज़ आवाज़ में चिल्लाई. उसने पानी का नल खोल दिया. अब टब में पानी भरने लगा. कुछ देर बाद जब मैं शांत हुई तो उसने एक और धक्का लगा दिया. (पडोसी से चुदी)

उसका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया और मेरी चुत की सील टूटने से टब का पानी खून से लाल हो गया। फिर 2 मिनट बाद उसने मुझे चोदना शुरू किया और 15 मिनट तक चोदता रहा.

इस बीच मैं एक बार झड़ गई. और फिर उसने अपना पानी मेरे अन्दर ही छोड़ दिया. उस रात उसने मुझे 3 बार चोदा. उसके बाद अगले दिन मेरे घरवाले और उसके घरवाले आये.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga