परदेसी भाभी को चोदा और उनकी चूत का भोसड़ा बना दिया

परदेसी भाभी को चोदा और उनकी चूत का भोसड़ा बना दिया

सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार. मेरा नाम राहुल है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “परदेसी भाभी को चोदा और उनकी चूत का भोसड़ा बना दिया”

मैं मुंबई का रहने वाला हूँ. मेरे लिंग का साइज 8 इंच से ज्यादा है. मैं अस्पताल में काम करता हूं. मैं हर दिन अस्पताल से घर आने के बाद सो जाता हूं।

ये बात आज से 10 दिन पहले की है. एक दिन मैं हॉस्पिटल में काम कर रहा था, तभी मुझे फेसबुक पर कृतिका नाम से रिक्वेस्ट आई. मैं उस वक्त व्यस्त था इसलिए मैंने इस पर ध्यान नहीं दिया. (परदेसी भाभी को चोदा)

फिर हॉस्पिटल से घर आने के बाद मैंने उसे मैसेज किया तो उसने भी मैसेज का रिप्लाई किया. हम दोनों बातें करने लगे. उसने कहा कुछ देर बाद काम है यह कह कर ऑफलाइन हो गई।

मैं उसकी प्रोफाइल चेक करने लगा. सबसे पहले मैं आपको कृतिका के बारे में बता दूं। कृतिका की उम्र 35 साल थी, वो मस्त भाभी थी. उनके दो बच्चे थे. लेकिन जैसा मैंने उसे फोटो में देखा उसका फिगर 36-32-38 का था.

उसकी आंखें बहुत नशीली थीं. वह दिल्ली की रहने वाली थी. मैं उससे बात करने लगा. कुछ ही दिनों में हम एक-दूसरे से काफी खुल गये और काफी देर तक बातें करने लगे।

हम दोनों के लिए समस्या यह थी कि अगर मैं ऑनलाइन होता, तो वह नहीं होती। और जब वह ऑनलाइन थी, मैं नहीं था। एक दिन मैंने कृतिका को मैसेज किया तो काफी देर तक उसका कोई जवाब नहीं आया.

मैंने उसे दोबारा मैसेज किया लेकिन अभी तक उसकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया. इस बात को एक सप्ताह हो गया है. उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया.

मैं बस फेसबुक खोलता और उसके जवाबो के लिए अपना इनबॉक्स देखकर मन मसोस कर रह जाता। ऐसे ही 10 दिन बाद उसका मैसेज आया- हेलो. नोटिफिकेशन की घंटी बजी तो मैंने झट से उसे मैसेज किया- हाय.

फिर हम बातें करने लगे. तभी पता चला कि उसका पति सीबीआई में है और घर आया हुआ है. इस वजह से वह फेसबुक का इस्तेमाल नहीं कर रही थी.

अब हम दोनों धीरे-धीरे एक-दूसरे के बारे में जानने लगे। हम दोनों में से किसी ने भी अभी तक सेक्स के बारे में बात नहीं की थी. एक दिन मैंने उससे पूछा- तुम बहुत भाग्यशाली हो. उसने पूछा- क्यों?

मैंने कहा- तुम्हारे पास इतना अच्छा पति है, तुम बहुत भाग्यशाली हो. वे भी बहुत अच्छा काम करते हैं. मेरी बात सुनकर वो उदास हो गयी. उन्होंने एक उदास इमोजी भेजा. मैंने पूछा- क्या हुआ.. उदास क्यों हो गई?

उसने कहा- क्या ख़ाक लकी हूँ.. मेरी तो जिंदगी बर्बाद हो गई। मैंने पूछा- कैसे? उन्होंने बताया कि उनके पति 3 महीने में एक बार घर आते हैं. मैं उसकी बातों से अंदर ही अंदर खुश था, लेकिन मैंने उसकी बातों पर दुख भी जताया.

फिर वो बोली- तुम ये बातें छोड़ो यार. मैंने एक स्माइली इमोजी भेजा. उसने कहा- और बताओ.. क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है? मैंने लिखा- नहीं. उन्होंने लिखा- क्यों? मैं- मैं आप जैसी किसी से नहीं मिला. (परदेसी भाभी को चोदा)

इस पर वो हंसने लगीं और बोलीं- मैं तो बूढ़ी हो गई हूं. मैं- तुम पागल हो … असली मज़ा तो तुम्हारे जैसी में ही है. ये सुनकर वो हंसने लगीं. कुछ देर बाद उसने खुद ही अपना फोन नंबर मैसेज किया और मुझसे मेरा नंबर मांगा.

मैंने भी उसे अपने दोनों नंबर मैसेज कर दिये. उसने पूछा- फोन पर बात करो? मैंने कहा- मैं लगाता हूं. मैंने कृतिका से कॉल पर बात करना शुरू किया. उनकी आवाज बहुत सुरीली थी. वह हँसती तो भीतर झुरझुरी फैल जाती।

काफ़ी देर बात करने के बाद हमारी फ़ोन चैट ख़त्म हो गई. उसके बाद हम कभी भी बात कर लेते थे. वह मुझे मिस्ड कॉल देती थी और मैं फ्री होते ही उससे फोन पर बात करना शुरू कर देता था।

हम दोनों खुलते चले गये. पहले साधारण चुटकुले फिर सेक्सी चुटकुले भी चलने लगे। उसे भी मेरे साथ बातें करने में मजा आने लगा. एक दिन मैंने उससे मजाक में कहा- अगर तुम्हारे जैसा कोई मिल जाए, तो जिंदगी बन जाती है.

उसने कहा- अच्छा.. अगर तुम्हें मेरे जैसी कोई मिल जाए तो तुम उसके साथ क्या करोगे? मैंने कहा – एन्जॉय … प्यार! वो बोली- क्या मैं बुरी हूँ? मैंने कहा- नहीं यार, मैंने ऐसी बात कहां कही है.

मेरी बात पर उन्होंने कहा- आपने मेरी जैसी मिलने की बात कही न, तो मैंने कहा कि क्या मैं बुरी हूँ. उनकी इस बात पर मैंने उनसे कहा कि भाभी आप बहुत अच्छी हैं.. काश आप मुझे मिल जातीं.. तो मेरी जिंदगी बेहतर हो जातीं.

इस पर वह हंस पड़ी. उन्होंने धीरे से कहा- अगर तुम कोशिश कर सकते हो तो करो. मैं भी हँसा – अवश्य। धीरे-धीरे हम बातें करते-करते एक-दूसरे से सेक्सी बातें करने लगे।

वह मेरी जिंदगी के बारे में पूछने लगी… और मैं धीरे-धीरे उसे अपनी जिंदगी के बारे में सब कुछ बताने लगा। कुछ देर तक खुल कर सेक्सी बातें करने के बाद मैंने पूछा- तुम्हारा साइज क्या है?

उन्होंने बताया कि उसका साइज क्या है. हम बहुत सेक्सी बातें करने लगे. मुझे धीरे धीरे उसका नशा चढ़ने लगा. और वो भी मेरी बातों से बहुत उत्तेजित हो रही थी.

उसने पूछा- तुम्हारा छोटू कितना बड़ा है? मैंने कहा- इंचटेप से नापना अच्छा होगा, जब खुद ही टेलर को अपना नाप ट्रायल रूम में जाकर देगा.

भाभी मेरी बात पर हंस पड़ीं और बोलीं- ट्रायल रूम मतलब तुम्हारा छोटू अन्दर जाकर ही माप बताएगा? मैंने कहा- भाभी, आपने ठीक समझा. वह खिलखिला कर हंस पड़ी.

इस तरह हम दोनों रात भर सेक्सी बातें करने लगे. वो मुझे प्यार से गालियां देती थी, मैं भी उसे फोन पर चोदता था. इसके बाद उसने खुद से वीडियो कॉलिंग पर बात करने को कहा। मुझे इसकी प्रतीक्षा थी।

मैंने वीडियो कॉलिंग की. भाभी एक खूबसूरत नाइटड्रेस में थीं. उसने स्लीवलेस फ्रॉक जैसी मैक्सी पहनी थी. ये मैक्सी बहुत पतली थी. उसने अन्दर ब्रा भी नहीं पहनी थी. उनकी मैक्सी के नीचे से उनकी लाल पैंटी साफ दिख रही थी.

कुछ देर तक मैंने उसकी खूबसूरती की तारीफ की और उसने भी मेरी तारीफ की. फिर वो बोली- छोटू दिखाओ. मैंने कहा- वो अभी सो रहा है. भाभी बोलीं- मैं उसे जगा दूंगी.

मैंने अपने कपड़े उतार दिये और केवल एक फ्रेंची में आ गया। ये देख कर उन्होंने अपनी मैक्सी की डोरी ढीली कर दी जिससे उनके मादक दूध दिखने लगे. उसके मम्मों को देख कर मेरा लंड अंगड़ाइयां लेने लगा. मेरी फ्रेंची फूलने लगी.

यह देख कर भाभी बोलीं- छोटू जाग रहा है. भूखा होगा, दूध तो पिलाना ही पड़ेगा. मैंने देखा कि भाभी ने अपनी मैक्सी सामने से पूरी खोल दी थी. उसके मस्त स्तन नंगे हो गये. आह क्या मस्त सख्त चॉकलेटी निपल्स थे. (परदेसी भाभी को चोदा)

मेरा लंड एकदम से जोश में आ गया और मैंने अपनी फ्रेंची उतार दी. भाभी खड़ा लंड देख कर चौंक गईं- हे भगवान … इतना बड़ा है तो मेरी फाड़ देगा. मैंने कहा- भाभी मोबाइल से निकल कर आपकी चूत में कैसे घुस सकता है.

कुछ देर तक हम दोनों ऐसे ही वीडियो सेक्स करते रहे. भाभी ने अपनी चूत खोल कर दिखा दी. हम दोनों बिल्कुल नंगे होकर एक दूसरे की आग बुझाते रहे. हम दोनों अब एक दूसरे के लिए पागल हो रहे थे. ऐसा चार दिनों तक चलता रहा.

फिर पांचवें दिन उन्होंने कहा कि क्या आप मुझसे मिलने दिल्ली आ सकते हैं? मैंने कहा- हां बिल्कुल आ सकता हूं. हम दोनों का मिलना तय हो गया. उन्होंने मेरे लिए एक होटल में कमरा बुक किया और मैं उनसे मिलने वहां पहुंच गया.

भाभी खुद मुझे लेने स्टेशन आईं. मैं उसके साथ उनकी गाड़ी में बैठ कर होटल आ गया. हम दोनों होटल के कमरे में आ गये. हम दोनों से रहा नहीं गया. मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया और चूमने लगा.

उसने भी मुझे चूमा और कहा- इतनी जल्दी क्या है. आज हम दोनों हर तरह से एक दूसरे से मिलेंगे. कुछ देर बैठने के बाद कब हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये.

मैंने उसे फिर से चूमना शुरू कर दिया. अब मैं भाभी को चोदने के लिए पागल हो रहा था. मैं उसके मम्मे दबाने लगा और वो भी मेरा साथ दे रही थी. उसने धीरे से कहा – मेरे पास यही कपड़े हैं … मुझे घर भी जाना है।

ये सुनते ही मैं समझ गया कि भाभी को नंगा होना ही पड़ेगा. मैंने उसकी साड़ी खोल कर एक तरफ रख दी. ब्लाउज पेटीकोट की कोई चिंता नहीं थी. मैं उसके बालों में हाथ डालकर सहलाने लगा

और धीरे-धीरे उसकी कमर पर हाथ फिराने लगा। वो मेरे हाथों की हरकत से पागल हो रही थी. करीब 20 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसके मम्मों को बेतहाशा दबाना शुरू कर दिया. उसने कहा- ऊपर से ही सब कुछ करोगे?

मैंने उनका ब्लाउज खोलकर नीचे गिरा दिया और उनकी ब्रा के ऊपर से ही भाभी के चूचों को चूसने लगा. भाभी बहुत खुश होकर अपने हाथ से मेरे मुँह में दूध देने लगीं.

कुछ देर तक मैं उसकी नाभि को चूसने लगा. नाभि को चूसते हुए मैं और नीचे चला गया. वो लेट गयी और मैं उसके पेट को चूमने लगा. इसके बाद मैंने उसकी ब्रा उतार कर साइड में रख दी.

भाभी के रसीले स्तन मेरा जोश बढ़ाने लगे. मैंने एक निपल को चूसना शुरू कर दिया. फिर मैंने भाभी के उस निप्पल को अपने दांतों से दबा कर धीरे से काट लिया. भाभी एकदम से चिल्ला उठीं- उई माँ … क्या कर रहे हो … काटो मत.

मैं उसके सेक्सी बदन से मदहोश हो रहा था. फिर मैं उसकी पीठ पर, गर्दन पर चूमने लगा. वो बहुत हॉट थी. उसके मुँह से मादक कराहें निकलने लगीं.

Visit Us:-

ये देख कर मैंने उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया. पेटीकोट खींच कर अलग कर दिया. भाभी अब सिर्फ एक पैंटी में मेरी बांहों में घूम रही थीं.

मैं उसकी मक्खन जैसी जांघों को चूमने लगा. भाभी ने खुद ही अपनी पैंटी नीचे कर दी, तो मैं समझ गया. मैंने भाभी की पैंटी उतार दी. अब वो मेरे सामने नंगी लेटी हुई थी. (परदेसी भाभी को चोदा)

मैंने उसे पलटा दिया और उसकी बुर को चूसने लगा. गांड चूसते चूसते मैंने भाभी को फिर से घुमाया और उनकी चिकनी चूत मेरे सामने थी.

मैं उसकी चूत को चाटने लगा. तो भाभी सिहर उठीं और बोलीं- आह क्या कर रहे हो … सच में मजा आ गया. मैं भाभी की चूत चाटता गया और भाभी की आग भड़क उठी.

अब वो रोने लगी और ‘आह आह..’ की आवाजें निकालने लगी. मैं कुछ मिनट तक उसकी चूत को ऐसे ही चाटता रहा.

चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया और कुछ ही पलों में भाभी का शरीर अकड़ गया और भाभी की चूत ने पानी छोड़ दिया.

भाभी की चूत से पानी निकलने लगा. मैंने सारा रस पी लिया. दो मिनट बाद भाभी बोलीं- तुम तो बहुत एक्सपर्ट लगते हो. मैंने भाभी की तरफ नशीली आंखों से देखा और कहा- हां, मैं आपके लिए फिल्म देखकर आया हूं.

अब उसकी बारी थी. उसने मेरी जींस खोलकर मेरे लंड को सहलाया और लंड चूसने लगी. मेरे लंड का साइज 8 इंच देख कर भाभी बोलीं- वाह, मजा आ गया. भाभी लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं.

जब भाभी मेरा लंड चूस रही थी तो मैं सातवें आसमान पर था. मैं बता नहीं सकता कि लंड चुसवाने में कितना मजा आ रहा था. मैं भाभी के बाल पकड़ कर उन्हें आगे पीछे खींचने लगा. भाभी के मुँह को ही चूत समझ कर चोदने लगा.

कुछ मिनट तक लंड चूसाने के बाद मैंने भाभी से कहा- मेरा होने वाला है. उसने हाथ के इशारे से कहा- कोई बात नहीं.. मेरे मुँह में ही रस निकाल दो।

उसका इशारा मिलते ही मैंने लंड को स्पीड दे दी और मेरा वीर्य उसके मुँह में निकलने लगा. वो मेरे लंड को मुँह में लेती रही और मेरा सारा रस पी गयी.

उसके बाद हम दोनों फिर से किस करने लगे. कुछ देर किस करने के बाद भाभी बोलीं- चलो अब खेल शुरू करते हैं.

मैं उसे गर्म करने लगा. मैं उसके पेट पर, नाभि पर, फिर चूत पर चूमने लगा। भाभी गर्म हो गईं और बोलीं- अब बस भी करो यार.. प्लीज़ अब नहीं रहा जाएगा.. तुम अपना 8 इंच का लंड मेरी चूत में पेल कर इसे फाड़ दो।

मैंने उसकी चुत चूसना बंद नहीं किया तो वो मुझे गालियां देने लगी- मादरचोद क्यों तड़पा रहा है … चोदता क्यों नहीं. उसके मुँह से गाली सुनकर मैंने उसे चुदाई की पोजीशन में लिटा दिया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया.

जैसे ही मैंने अपना लंड भाभी की चुत में डाला, वो चिल्लाने लगीं- उई मां मर गई … ये बहुत बड़ा है … आह इसे बाहर निकालो प्लीज़ … बहुत दर्द हो रहा है … साले मूसल घुसेड़ दिया … आह मेरे पति का तो छोटा सा था … तुम्हारा तो बहुत बड़ा है … आह प्लीज़ इसे बाहर निकालो.

लेकिन मैं नहीं माना और झटके देता रहा. दो मिनट बाद वो मेरा साथ देने लगी. धीरे धीरे चुदाई का मजा आने लगा. कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाकर चोदना शुरू कर दिया.

फिर मैंने भाभी को अलग-अलग पोजीशन में 15 मिनट तक चोदा. इस चुदाई के दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी. मैं अब भी उसे चोद रहा था. वो बार बार गर्म हो जाती थी.

तीसरी बार के समय वो बोली- आह और तेज … और तेज प्लीज़ बाबू और तेज और तेज बाबू चोदते रहो … चोदते रहो मुझे … आह मुझे अपनी रंडी बना लो. मादरचोद कितना चोदता है… आह्ह.

वह मुझे गालियां देने लगी. मैं भी उसे गालियां दे रहा था. मैं- चुद साली रंडी में तेरी माँ चोद दूँगा माँ की लौड़ी… हम दोनों एक साथ चरम सीमा पर आ गये थे. फिर 5 मिनट के बाद मैंने बोला कि मेरा होने वाला है.

उसने कहा- मेरे अन्दर ही छोड़ दो … मेरी बच्चेदानी निकली हुई है। मैं उसे चोदने लगा. उसके बाद मेरा भी हो गया और मैं उसके ऊपर गिर गया. (परदेसी भाभी को चोदा)

उस रात मैंने उसे अलग-अलग पोज़िशन में चार बार चोदा और उसने मेरा भी बुरा हाल कर दिया। पता नहीं कितने दिनों की प्यासी थी. चुदाई के बाद हम दोनों सो गये. सुबह मैंने निकलने की तैयारी कर ली. वह रो पड़ी।

लेकिन मुझे जाना पड़ा. उन्होंने मुझे पैसे भी दिये. मैंने मना कर दिया तो भाभी ने मेरा कान पकड़ लिया और बोलीं- रख ले मेरी जान … अपने लिए कुछ खरीद ले. मैं उससे विदा लेकर वापस आ गया.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga