ससुर और बहू की xxx चुदाई – विधवा बहु की लंड की पियास ससुर ने बुझाई

ससुर और बहू की xxx चुदाई – विधवा बहु की लंड की पियास ससुर ने बुझाई

नमस्कार दोस्तों। मैं सुनीता एक बार फिर आपके लिए एक बेहतरीन सेक्स स्टोरी लेकर आई हूं। यह कहानी एक ससुर और बहू की चुदाई की है। तो दोस्तों अपने लंड और चूत को पकड़ें और मज़े करना शुरू करें। चलिए कहानी शुरू करते हैं।

गोविन्द प्रसाद अपने गांव ही नहीं बल्कि पूरे कस्बे की जानी-मानी हस्ती थे।

सब उन्हें प्रसाद जी कहते थे और उनकी हैसियत क्या थी।

वे एक अच्छे इंसान भी थे और इसका एक उदाहरण यह भी है कि जब से वे गांव में मुखिया के चुनाव में खड़े होने लगे। उन्हें आज तक कोई हरा नहीं पाया था। वह हमेशा बहुमत से जीतेंगे।

गाँव में लगभग सभी लोग उन्हें पसंद करते थे क्योंकि वह किसी न किसी तरह से उनमें से हर एक की मदद करते थे।

गाँव में कुछ घर ऐसे थे जो पसंद नहीं करते थे। लेकिन वह अपने दूर के रिश्ते थे। सभी का मानना था कि सत्ता हासिल करने के लिए और जैसा कि आप जानते हैं कि आजकल भाई के दुश्मन हो जाता हैं।

लेकिन प्रसाद जी पर इसका कोई असर नहीं हुआ। फिर भी उन्होंने उन परिवारों को खुश करने का कोई मौका नहीं छोड़ा।

प्रसाद जी के पास सब कुछ था लेकिन हाल ही में उनके बेटे की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।

इस दर्द ने उन्हें झकझोर कर रख दिया था। प्रसाद के घर में केवल उनकी पत्नी कोकिला और बहू साक्षी ही रह गई थीं।

जो अब विधवा हो चुकी थी। प्रसाद जी जब भी साक्षी की तरफ देखते तो उन्हें बस अपने बेटे की याद आती।

हालांकि इससे ज्यादा उन्हें साक्षी की हालत पर ज्यादा दुख होता। वह जानते थे कि अभी इस उम्र में इस तरह से तड़पना उसके लिए ठीक नहीं है।

इसलिए साक्षी की शादी किसी और से करने की सोची थी। साक्षी उनके लिए सगी बेटी से बढ़कर थी और साक्षी भी प्रसाद जी को अपने सगे पिता से बढ़कर मानती थी।

दोनों के मन में एक-दूसरे के लिए ससुर-बहू नहीं बल्कि बाप-बेटी की तरह काफी इज्जत थी। 

प्रसाद जी ने कुछ दिनों तक प्रतीक्षा की और फिर एक दिन अपनी पत्नी और साक्षी के साथ साक्षी की दूसरी शादी करने का विचार सामने रखा।

प्रसाद जी की बात सुनकर साक्षी बहुत निराश हुई। उसका कहना था कि वह अब इस घर में आई है, अगर वह इस घर को छोड़ देगी, तो वह केवल अपनी अर्थी पर जाएगी।

प्रसाद जी भी साक्षी की बात समझ रहे थे और वो जानते थे कि साक्षी दूसरी शादी के लिए कभी राजी नहीं होगी. ऐसे ही कुछ दिन और बीत गए और साक्षी पर समय का प्रभाव साफ दिखाई देने लगा।

उसका चेहरा मुरझाया सा था। वो खुश तो रहती थी लेकिन सिर्फ ऊपर से दिखती थी और प्रसाद जी इस बात को बखूबी समझ रहे थे। आप देसी सेक्स कहानियों पर कई सास-ससुर की कई सेक्स कहानियां पढ़ सकते हैं।

एक दिन साक्षी से अकेले में बात करते हुए प्रसाद जी ने उससे एक बार फिर से दूसरी शादी के बारे में सोचने के लिए कहने की सोची। शाम का समय था और वह पिता के रूप में साक्षी के कमरे में दाखिल हुए।

जब वह अंदर दाखिल हुए तो उसकी आंखें सुन्न और शरीर कठोर हो गया था। सामने साक्षी पूरी नंगी अपने बिस्तर पर लेटी हुई थी और उसकी चूत में ऊँगली कर रही थी।

प्रसाद जी को अपने कमरे में देखकर साक्षी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और वो बस प्रसाद जी को एकटक देखती रही और उनकी चूत में उंगली करती रही. प्रसाद जी कमरे से उलटे पांव करके लौटे…..

लेकिन जिस तरह से निकले थे, वैसे वापस नहीं आ सके। अब उनके मन में एक अलग ही हलचल हुई। वह शाम को साक्षी के कमरे में जाकर उसे नंगा देखा था और सबसे बढ़कर उसे साक्षी को देखकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

प्रसाद जी अपने कमरे में आकर बिस्तर पर लेट गए और सोचने लगे। तभी दरवाजे पर दस्तक हुई। प्रसादजी ने दरवाजा खोला तो सामने साक्षी के अलावा कोई नहीं था।

यह देख कर वह सन्न रह गया क्योंकि जिस अवस्था में उसने उसे अपने बिस्तर पर देखा था,

अब वह उसके कमरे के दरवाजे पर खड़ी थी।

अपनी बहू को इस तरह पूरी तरह नंगी देखकर प्रसाद जी अवाक रह गए। इससे पहले कि वह कुछ कर पाता, साक्षी आगे बढ़ गई और पलक झपकते ही वह उसके ऊपर आ गई और उसके होंठ प्रसाद जी के होठों को चूम रहे थे।

साक्षी की इस हरकत पर प्रसाद जी के पास भी कोई सवाल या जवाब नहीं था।

क्योंकि शायद कहीं ना कहीं वो भी साक्षी की हालत समझ चुके थे, बस यही सोचते हुए उसने खुद को आगे बढ़ाया और साक्षी को भी किस करने लगा। 

प्रसाद जी का जवाब देखकर साक्षी का हाथ तुरंत उनकी धोती में घुस गया और उनके लंड को छू लिया. प्रसाद जी का लंड भी अब पूरी तरह सख्त हो गया था.

तभी साक्षी ने चुम्बन तोड़ा और एक झटके में धोती से प्रसाद जी का लौड़ा निकाल लिया। 

साक्षी ने अपने हाथ पर थोड़ा सा थूका और उसे अपने पर मल लिया। अगले ही पल वह प्रसाद जी के पास आ गई और उसने अपनी चूत प्रसाद जी के चेहरे पर रख दी।

Also Read

Ullu Hot Web Series

Girls WhatsApp Number

Sex Shayari

इससे पहले कि प्रसाद जी कुछ सोचते या समझते, साक्षी झुक पड़ीं।

और प्रसाद जी का लंड उनकी चूत में जाने लगा. इसी बीच साक्षी के मुंह से ऐसी आह निकली मानो उनकी सदियों की मुराद पूरी हो गई हो। 

प्रसाद जी का लंड बहू साक्षी की चूत में पूरी तरह समा गया था. साक्षी बिना देर किए उठकर बैठने लगी और अपने ससुर के लंड को अपनी चूत में पूरी तेजी से चुदवाने लगी,

बहू साक्षी की कसी हुई चूत को कहीं अपने लंड पर महसूस कर प्रसाद जी भी धन्य हो गए.

यह केवल 2-3 मिनट तक चला और साक्षी के आंसू बहने लगे। 

साक्षी की चूत इतनी गर्म थी कि वो भी अपने आप पर काबू नहीं रख पाई और उसका लंड भी झड़ने लगा,  कुछ देर तक साक्षी प्रसाद जी की छाती पर ऐसे ही आहें भरती रही और फिर उठकर उनकी आंखों में देखा और शरमा गई।

वह यूं ही नंगी प्रसाद जी के कमरे से भाग गई। जैसे ही समय ने साक्षी की बात सुनी, कुछ ही दिनों में उसका रंग वापस आ गया। प्रसाद जी और उनके बीच दो संबंध थे,

एक पिता और पुत्री का और दूसरा पति-पत्नी का।

उसके बाद साक्षी ने एक बेटे को भी जन्म दिया। प्रसाद जी की पत्नी कोकिला सब जानती थी लेकिन वह अपनी बेटी की खुशी से खुश थी। इसके साथ ही उनके परिवार में खुशियां लौट आई हैं।

तो दोस्तों आपको ये छोटे से ससुर और बहू की सेक्स स्टोरी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga