स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा उसी के घर में

स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा उसी के घर में

मैं शाम , दिल्ली का रहने वाला हूँ। आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा उसी के घर में”

मेरी उम्र 23 साल है. मेरा लंड छह इंच लंबा और दो इंच मोटा है. मैंने इस वर्ष अपनी इंजीनियरिंग पूरी कर ली है और अब मैं सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहा हूं।

यह कहानी मेरी और मेरी पुरानी गर्लफ्रेंड की है जिसकी अब शादी हो चुकी है. ये बात कुछ साल पुरानी है. तब मैं उन्नीस साल का था.

उसी समय मेरी दोस्ती मेरी क्लास की एक लड़की आशिका से हुई. वो देखने में किसी कयामत से कम नहीं थी. वह मुझसे एक महीने छोटी थी. उसकी जवानी उस पर कहर ढा रही थी.

उसकी जवानी का मुझ पर इतना नशा छा गया था कि मैं उसे देखते ही सब कुछ भूल जाता था. उसकी झील सी गहरी आंखें मुझे न जाने किस दुनिया में ले जाती थीं.

जब भी वो मेरे सामने से निकलती थी तो मेरा सब कुछ रुक जाता था. मैं अपनी कक्षा का सबसे होनहार छात्र था और मेरे साथ सभी लड़के-लड़कियाँ दोस्ती करने के लिए उत्सुक रहते थे। (स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा)

लेकिन आशिका की बात कुछ और थी. वो मुझे घास ही नहीं डाल रही थी. वह एक अलग सेक्शन में थी, शायद वह मेरे बारे में ज्यादा नहीं जानती थी। इसलिए मुझे उसे मनाने में थोड़ी दिक्कत हो रही थी.

मैंने भी सोच लिया था कि जब वो खुद मेरे पास आएगी, तभी उससे दोस्ती करूंगा. कुछ समय बाद हमारे कॉलेज में एक प्रतियोगिता हुई। उसमें हमारी कक्षा के दोनों वर्गों को मिलाकर समूह बनाये गये।

यह मेरी किस्मत थी कि आशिका मेरे साथ आ गई। मैं उसके साथ रहकर बहुत खुश था. मैंने उससे बात की। प्रतियोगिता का जो टॉपिक दिया गया था वह थोड़ा कठिन था।

हालाँकि मुझे उस टॉपिक पर काम करने में कोई परेशानी नहीं हुई. लेकिन आशिका की सांसें थम चुकी थीं. उसने मुझसे कहा- क्या तुम्हें इस विषय में कुछ पता भी है? मैंने ना में सिर हिला दिया.

वह मुंह बनाते हुए बड़बड़ाने लगी कि पता नहीं मुझे किसका साथ निभाना पड़ेगा. मैं उसकी बेबसी पर मन ही मन मुस्कुरा रहा था. प्रतियोगिता शुरू होने वाली थी

और अब किसी भी तरह से कोई बदलाव नहीं हो सकता था. जब मैंने अपने दोस्तों की तरफ देखा तो उन सभी को मुझे देखकर यकीन हो गया कि मैं वह प्रतियोगिता जीतूंगा।

जैसे ही घंटी बजी और टॉपिक टॉपिक हल करने का समय शुरू हुआ तो मैंने आशिका की तरफ देखा और कहा हां बताओ कैसे करना है? वो मेरी तरफ देखते हुए कहने लगीं- मुझे इस विषय में कुछ नहीं पता.

मैं मुस्कुराया और कुछ ही समय में टॉपिक को हल करके अपनी टेक्स्ट बुक जमा करने के लिए उठ खड़ा हुआ। आशिका को अब भी उम्मीद नहीं थी कि मैंने हल कर लिया है.

वह अभी भी गुनगुना रही थी. इस प्रतियोगिता का परिणाम आज ही घोषित होना था और विजेता टीम को शील्ड मिलनी थी. परिणाम घोषित होने तक हम सभी को एक-दूसरे के साथ बैठना था।

हम दोनों साथ में बैठे हुए थे. मैं उससे कुछ नहीं कह रहा था. अब हुआ यूं कि कॉपी जमा करने के बाद मेरे सभी दोस्त मेरे पास आ गए और मुझसे कहने लगे कि आज तो तुम ही यह प्रतियोगिता जीत सकते हो. (स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा)

यह सुनकर आशिका मेरी तरफ आश्चर्य से देखने लगी. उन्हें यकीन ही नहीं हो रहा था कि मैं शील्ड जीत सकता हूं।’ खैर… नतीजे आये और मुझे शील्ड लेने के लिए मंच पर बुलाया गया।

मैंने आशिका को आगे किया- तुम जाओ. वो झिझकने लगी और बोली- नहीं, ये तुम्हारा अधिकार है.. तुम जाओ. मेरे मुँह से निकल गया कि अब ये तुम्हारा नहीं, हमारा है.

उसने मेरी तरफ देखा और मैंने उसे आंख मार दी. वो शर्मा गईं और स्टेज पर जाकर शील्ड ले लीं… हालांकि मैं भी साथ चला गया… मगर शील्ड मैंने उसे ही लेने दी।

इस घटना से वो मुझ पर समझो मर मिटी थी. बाद में उसने मुझसे कॉफ़ी के लिए पूछा। तो मैंने हंस कर हां कह दिया. हम दोनों कैफे में बैठ गये और बातें करने लगे.

मैं वहां उसकी तारीफ करने लगा कि तुम बहुत खूबसूरत हो और मैं तुम्हें देखता रहना चाहता हूं. इससे वह शरमा गयी. एक तरह से ये मेरी तरफ से उसे प्रपोज करना था.

उसने मेरी तरफ देखा और मेरी आँखों में देखा, तो मैंने फिर से अपनी आँखें बंद कर लीं। उसने कहा- तुम्हारी आंख बहुत बदतमीज है … इसे सम्भाल कर रखना।

मैंने उसकी आँखों में देखते हुए पूछा- क्यों सम्भालना है? वो बोली- अब इनको किसी और की तरफ देख कर नहीं दबना चाहिए. मैंने पूछा- क्यों?

उसने मुस्कुरा कर मेरी तरफ आंख मारी और बोली- अब ये आंखें मेरी हो गयीं. बस आशिका मुझ पर फ़िदा थी। हमारी दोस्ती अभी शुरू ही हुई थी. मैंने उसका हाथ अपने हाथ में लिया और चूम लिया.

वह शर्म से लाल हो गयी. मैंने उससे ‘आई लव यू..’ कहा. उसने भी कहा मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ.. हम दोनों वहां से निकल कर अपने-अपने घर चले गये. अब हमारी फोन पर बातें होने लगीं.

पहले तो हम दोनों नॉर्मल प्यार की बातें करते थे, फिर धीरे-धीरे हम खुलने लगे और सेक्स के बारे में बातें करने लगे.. और फोन सेक्स करने लगे। ऐसे ही बातें करते-करते कब एक महीना बीत गया. (स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा)

पता ही नहीं चला। जब भी वो मेरे साथ होती थी तो हम दोनों एक दूसरे के शरीर से छेड़छाड़ करने लगते थे. मैं उसकी पप्पी लेता था. वो मुझे चूमती रहती थी. हम दोनों की वासना बढ़ती जा रही थी.

मैंने एक दिन उससे कहा- मैं उससे अकेले में मिलना चाहता हूँ। वो बोली- मन तो मेरा भी है, मगर किधर मिलूं? मैं भी बेबस था. फिर एक दिन रात को उसका फोन आया.. तो उसने मुझसे कहा कि उसके मम्मी-पापा कल किसी काम से शहर से बाहर जा रहे हैं

इसलिए तुम सुबह नौ बजे मेरे घर आ जाना। इसके बाद हम दोनों अगली सुबह का इंतजार करने लगे और बड़ी मुश्किल से रात भर फोन पर बात करते हुए रात गुजार पाए।

आख़िर वो दिन आ ही गया, जिसका हम दोनों को बेसब्री से इंतज़ार था. मैं सुबह जल्दी उठ कर उसके घर जाने के लिए तैयार हो गया और नौ बजे मैंने उसे फोन किया कि वो दरवाजा खोल कर रखे।

जैसे ही मैं उसके घर पहुंचा तो वो दरवाजे पर मेरा इंतजार कर रही थी. जैसे ही मैंने उसे देखा तो देखता ही रह गया. उस दिन उन्होंने लाल सलवार-कुर्ता पहना हुआ था.

उसके घर पर उसके अलावा उसकी एक छोटी बहन थी, जो दूसरे कमरे में बैठी थी. हम दोनों कमरे में गए और जैसे ही मैंने दरवाजा अंदर से बंद किया तो वो मुझसे चिपक गई

और मुझे जोर-जोर से चूमने लगी। उसके होंठों के स्पर्श से मेरा लंड सलामी देने लगा और उसकी गर्म सांसें मुझे महसूस होने लगीं. मैंने उसे चूमते-चूमते उसके कुर्ते में हाथ डाल दिया

और ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाने लगा, जिससे वो हल्की-हल्की सिसकारियाँ लेने लगी। फिर मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और बेड पर ले जाकर लेटा दिया.

उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और चूमने लगी. मैं भी उसका साथ देने लगा. धीरे-धीरे मेरा हाथ उसकी कुर्ती के अंदर चला गया और कुछ देर उसके स्तन दबाने के बाद मैंने उसकी कुर्ती और ब्रा दोनों उतार दीं।

फिर मैंने उसके मम्मे दबाये और उसकी गर्दन और कान के पीछे चूमने लगा, जिससे वो सिसकने लगी. क्योंकि गर्दन और कान पर किस करने से लड़कियां ज्यादा उत्तेजित हो जाती हैं।

अब मेरा एक हाथ उसकी सलवार खोलते हुए उसकी चूत तक पहुंच गया था. उसकी चूत गीली हो चुकी थी. मैंने उसकी चूत को टटोला और उसकी सलवार को उसके बदन से अलग कर दिया.

अब वो सिर्फ पैंटी में थी. उसके बाद उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरा लंड चूसने लगी. ये मेरा पहला अनुभव था इसलिए मैं 4-5 मिनट में ही उसके मुँह में झड़ गया, फिर उसने सारा वीर्य पी लिया.

फिर मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत को सहलाने लगा. उसकी चूत पर हल्के, मुलायम, रेशमी बाल थे. उसे लिटाकर मैंने उसकी टाँगें खोलीं और उसकी चूत की फांकों पर अपनी जीभ रख दी। (स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा)

उसकी गांड उचक गई और वो एकदम से सिहर उठी. मैंने उसकी टाँगें पकड़ लीं और उसकी चूत में अपनी जीभ से चोदना शुरू कर दिया। एक मिनट से भी कम समय में वो मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी.

Visit Us:-

उसका शरीर अचानक अकड़ गया और कुछ ही देर में वो झड़ गयी. उसके बाद उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मुझे चूमने लगी. मैंने भी उसका साथ दिया

और कुछ देर बाद उसके पेट और नाभि को सहलाते हुए उसे चूमने लगा, जिससे वो फिर से उत्तेजित होने लगी. वो कहने लगी- जो भी करना है.. जल्दी करो.. मुझसे अब नहीं रहा जा रहा है।

मैंने अपनी पैंट की जेब से एक कंडोम निकाला और उसे दिया और लंड पर चढ़ाने के लिए कहा। वो मेरे लंड पर कंडोम पहनने लगी. कंडोम पहनने के बाद मैंने लंड को उसकी चूत पर सेट किया

और जोर से धक्का मारा. पहली बार में लंड चूत से फिसल गया. इसके बाद उन्होंने लंड को पकड़ कर अपनी चुत पर सैट किया और मुझे पेलने का इशारा करते हुए खुद नीचे से दबाव देने लगीं.

इससे मेरा लंड उसकी चूत में जाने लगा. लंड का सुपारा चूत की दरारों में घुस चुका था. फिर मैंने एक जोरदार शॉट मारा तो मेरा लंड उसकी चूत को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया.

इससे वो दर्द से कांपने लगी और मेरी पकड़ से छूटने की कोशिश करने लगी. मैंने रुकते हुए उसे चूमना शुरू कर दिया और उसके दूध दबाने लगा.

कुछ देर बाद वो खुद ही नीचे से अपनी गांड हिलाते हुए लंड को अपनी चूत में लेने लगी. अब मैं भी उसकी चूत में धीरे धीरे धक्के लगाने लगा. वो नीचे से गांड हिला कर मेरा साथ देने लगी.

धीरे-धीरे मैंने स्पीड बढ़ा दी और तेजी से उसे चोदने लगा। कुछ देर में वो अकड़ने लगी और अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ाने लगी. वो झड़ने की कगार पर थी.

ये समझ कर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसी के साथ उसकी चूत में ही झड़ गया. जब मेरा लंड मेरी गर्लफ्रेंड की चूत से बाहर आया तो उस पर खून लगा हुआ था.

खून देखकर वो मेरी तरफ देखकर मुस्कुराई और फिर उसने मेरा वीर्य से भरा कंडोम निकालकर बाहर फेंक दिया और थोड़ी देर किस करने के बाद हमने कपड़े पहने. (स्कूल की गर्लफ्रेंड को चोदा)

अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स करने के बाद मैं अपने घर के लिए निकल गया. उसके बाद जब भी हमें मौका मिलता, हम खूब चुदाई करते।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga