लंड की दीवानी सेक्सी आंटी को चोदा भाग-1

लंड की दीवानी सेक्सी आंटी को चोदा भाग-1

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “लंड की दीवानी सेक्सी आंटी को चोदा” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम अनिल शर्मा है। मैं बैंगलोर के डोम्लुर का रहने वाला हूँ। आप सभी पाठकों को प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद।

दोस्तों क्या आपने सोचा है कि एक बार सेक्स करने और करवाने के बाद अगर चुदाई का मौका ना मिले तो कैसा लगता है?

लंड और चूत का कैसा संगम है, जब भी होता है तो नदी की तरह बहता है।

सभी लंडधारी भाई अपना लंड पकड़ कर मुठ मार सकते हैं और जिनकी चूत गर्म हो जाये तो खीरा, बैंगन, लौकी, ककड़ी, गाजर, मूली जो भी मिले डाल लें।

मेरी इस कहानी का आनंद लें और अपने सुझाव दें, मुझे मेल भेजकर अपने लंड और चूत की तरफ से आशीर्वाद ,

दें ताकि मुझे इसी तरह नई नई चूत और गांड चोदने के लिए मिलती रहे और मैं अपना अनुभव आपके साथ साझा करता रहूँ।

दोस्तों, मैं उच्च शिक्षा के लिए एक कमरा किराये पर लेता था। जिस आंटी के यहां मैंने कमरा किराये पर लिया था, उनका नाम पूनम था।

पूनम आंटी के पति भारत से बाहर बिजनेस करते थे। आंटी अपने दो बच्चों के साथ रहती थी। उनके बच्चे अभी स्कूल और कॉलेज में पढ़ रहे थे।

अब अगर आंटी की खूबसूरती की बात करूं तो भगवान ने उनके एक-एक अंग को बहुत फुर्सत से बनाया था।

उसका गोरा शरीर, पूरे 36 साइज के बड़े-बड़े मम्मे, 36 साइज की उठी हुई गांड और 30 साइज की कमर थी।

दो बच्चों की मां होने के बाद भी आंटी बहुत कामुक दिखती थीं। ऐसा लग रहा था कि कोई नई दुल्हन हो। आंटी ने अपने शरीर को बहुत अच्छे से मेन्टेन कर रखा था।

समय के साथ, पूनम आंटी और उनके बच्चों के साथ मेरे अच्छे संबंध बन गए। मैं कई बार बाथरूम में और अपने कमरे में आंटी के नाम पर मुठ मारता था।

नई जगह पर होने और उच्च शिक्षा के कारण व्यस्त रहने के कारण मैंने बाहर किसी लड़की को प्रभावित नहीं किया।

आंटी के उस किराये के कमरे में रहते हुए एक साल ऐसे ही बीत गया।

अगले साल आंटी के दोनों बच्चे भी CA और MBA के लिए अहमदाबाद चले गये। अब आंटी घर में अकेली रह गईं। धीरे-धीरे ऐसे ही दिन गुजरते रहे।

मेरी और आंटी की नजदीकियां भी बढ़ गईं।

अंकल साल में सिर्फ एक बार एक महीने के लिए घर आते थे।

दोस्तो, एक अकेली औरत अपने आप को सेक्स करने से कब तक रोक सकती है, जब वो घर पर अकेली हो… उसके बच्चे भी उसके साथ नहीं होते,

तो खाली दिमाग शैतान का घर होता है।

इन सबके चलते धीरे-धीरे पूनम आंटी मुझसे खुलकर बात करने लगीं। वह मेरा मजाक उड़ाने लगी। वह मुझसे पूछती थी कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं।

क्या आपने कभी सेक्स किया है या नहीं?

पूनम आंटी अपनी चूत में लंड लेने के लिए बेकरार थीं और मैं आंटी को चोदने के लिए। लेकिन सब कुछ बातों तक ही सीमित रहा। (सेक्सी आंटी को चोदा)

सेक्स की आग दोनों तरफ थी, लेकिन कहते हैं पहल कौन करे। दोनों की इज्जत से गांड फटती थी।

अब घर में मैं और पूनम आंटी ही रहते थे, तो जो भी काम होता, आंटी मुझसे ही बोलती थीं।

अगर उसे बाज़ार जाना होता था या कोई सामान लाना होता था तो वो मुझसे ही बात करती थी।

धीरे-धीरे मैं आंटी की ओर बहुत आकर्षित होने लगा। जब वो मेरे साथ बाइक पर कहीं जाती थी तो उसकी चुचियों का स्पर्श पाकर लंड फूल जाता था।

आह… क्या बताऊं दोस्तो, उस वक्त मेरे लिए खुद पर काबू रखना मुश्किल हो गया था। घर आते ही बाथरूम में जाकर अपना लंड हिलाना पड़ता था।

कुछ ही दिनों में आंटी भी मेरी तरफ आकर्षित होने लगीं।

एक बार बाजार से वापस आते समय आंटी ने शराब के ठेके पर बाइक रोकने को कहा। मैंने बाइक रोकी और वो ठेके पर चली गयी।

वहां से उसने दो बोतल शराब और दो बोतल बीयर खरीदी। पास ही एक अंडा विक्रेता से कुछ अंडे ले लिये।

मैं हैरानी से उसे देख रहा था। आंटी वापस आ गईं और मेरे साथ बाइक पर बैठ गईं।

मैंने आंटी से पूछा- आंटी आप ड्रिंक करती हो?

पूनम आंटी- क्यों… नहीं कर सकते? सिर्फ तुम आदमी ही पी सकते हो… हम क्यों नहीं?

मैं- सॉरी आंटी… मेरा ये मतलब नहीं था, मैंने आपको पहले कभी ऐसे ड्रिंक के साथ नहीं देखा था इसलिए पूछ लिया।

आंटी- ठीक है… अब चलो यार, कभी-कभी मैं अपना अकेलापन दूर करने के लिए पी लेती हूँ। क्या तुम मेरे साथ ड्रिंक करोगे?

मैंने आंटी की तरफ पीछे सरकते हुए उनकी चूची पर रगड़ते हुए कहा- वाह आंटी… नेकी और पूछ पूछ… आप मुझे पिलाओगी तो मैं क्या नहीं लूँगा?

मुझे एहसास हुआ कि जब मैंने आंटी के स्तनों को मसला तो उसके बाद आंटी ने अपने स्तनों को मेरी पीठ से रगड़ना शुरू कर दिया था।

जब भी कोई छोटा सा गड्ढ़ा आता तो वो अपनी चुचियों को मेरी पीठ पर ज़्यादा रगड़ने लगती थी।

मैं उनकी हवस को समझ गया था कि आज दारू पार्टी के बाद आंटी की गांड चोदने का मौका मिल सकता है।

ऐसे ही बातें करते हुए हम दोनों घर पहुंच गये। घर आकर मैं अपने कमरे में चला गया और आंटी भी अपने काम में लग गयी।

कुछ देर बाद आंटी ने आवाज दी तो मैं हॉल में आ गया। (सेक्सी आंटी को चोदा)

वहां आंटी ने 2 गिलास और एक शराब की बोतल सजा रखी थी। आज जब मैंने आंटी को देखा तो देखता ही रह गया।

आंटी ऐसी लग रही थी मानो कोई स्वर्ग से अप्सरा उतर आई हो।

सफ़ेद रंग का पारदर्शी गाउन, उसमें से उसका दूधिया बदन चमक रहा था, छोटी सी लाल रंग की ब्रा और पतली पट्टी वाली पैंटी साफ़ दिख रही थी।

एक पल के लिए मैं स्तब्ध रह गया।

जब आंटी ने मुझसे हाथ मिलाया तो मुझे होश आया।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट में इन जगह पर बुक करें :

आंटी- क्या हुआ अनिल … कहां खो गए?

इतना कह कर आंटी हंसने लगीं।

मैं- आंटी आज आप बहुत खूबसूरत लग रही हैं।

आंटी बोलीं- खूबसूरत या हॉट?

मेरे मुँह से न सेक्सी निकला न हॉट… तुम तो एक नंबर की आइटम लग रही हो।

मेरी बात सुनकर आंटी हंसने लगीं और बोलीं- अब तुमने सही बात कही है.. जाओ बैठ जाओ।

आंटी को देख कर मेरा लंड लोअर में खड़ा हो गया। मैंने देखा कि आंटी की नजर भी मेरे लोअर पर ही टिकी हुई थी।

मैं जल्दी से सोफे पर बैठ गया और पैग बनाने लगा। एक पैग बनाया और गिलास में बर्फ डाल कर उन्हें इशारा किया।

आंटी और मैंने अपना चश्मा उठाया। हमने चियर्स किया और दोनों शराब पीने लगे।

जल्द ही हम दोनों ने तीन तीन पैग ले लिए, जिससे नशा छाने लगा। (सेक्सी आंटी को चोदा)

मैंने अपनी लोअर की जेब से सिगरेट की डिब्बी निकाली और पहले झिझकते हुए आंटी की तरफ देखा,

तो उन्होंने बड़े ही अश्लील इशारे से उनके होंठों को चाटा। मैंने डिब्बा उसकी ओर बढ़ाया तो उसने कहा- एक ही जलाओ, मैं उससे ले लूँगी।

मैंने सिगरेट जलाई और कश खींच कर आंटी की तरफ बढ़ा दी। आंटी ने भी सिगरेट को अपने होंठों के बीच दबा लिया और मजे से सिगरेट खींचने लगीं।

उसने पहले एक कश खींचा और मेरे खड़े लंड की तरफ धुआं फेंका और हंसने लगी।

मैंने कहा- ऐसा मत करो यार.. जल जायेगा।

आंटी समझ गईं और बोलीं- मैं किसलिए हूं, सारी आग बुझा दूंगी।

दोस्तों सिगरेट पीते हुए आंटी सच में बहुत सेक्सी लग रही थी। उनका अंदाज किसी पॉर्न एक्ट्रेस जैसा लग रहा था।

मुझे उसकी आंखों में भी हवस दिख रही थी। वह भी कुछ करने को बेताब थी।

वो शराब पीते हुए मेरे पास आकर बैठ गयी। उनका वजन मेरी तरफ था इसलिए नशे में मैंने आंटी को पकड़ लिया और अपनी गोद में खींच लिया।

आंटी भी शायद यही चाहती थीं, वो मुझसे लिपट कर मेरी गोद में बैठ गईं। मेरा लंड उनके चूतड़ों की दरार में घुस गया।

आंटी ने मेरे लंड को लोअर के ऊपर से ही पकड़ कर सहलाया।

आंटी बोलीं- अरे ये मेरी गांड में क्या चुभ रहा है … वाह क्या मस्त है। आज मैं इसे शराब के साथ लुंगी।

इसके तुरंत बाद आंटी ने मेरी गोद से मेरा लोअर, चड्डी समेत नीचे खींच लिया। मेरा लंड आंटी के सामने फड़फड़ाने लगा।

मैंने अपने आप को सोफे के पीछे खड़ा कर लिया और सिगरेट दबा ली और अपना लंड हिलाने लगा। आंटी ने एक पल की भी देर नहीं की।

उसने मेरा लंड पकड़ लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।

दो बार लंड को अन्दर तक चूसने के बाद आंटी ने बोतल से सीधे मेरे लंड पर शराब डाल कर लंड को नहलाया और लंड को मुँह में दबा कर चूसने लगीं।

वो बहुत मजे से लंड चूस रही थी। मुझे ऐसा लगा जैसे मैं झड़ने वाला हूँ।

लंड चूसते-चूसते आंटी अपने दोनों हाथों से अपनी चुचियां दबाने लगीं और अपनी चुत रगड़ने लगीं।

आंटी नशे में हो गयी थी। वो मुझे गालियाँ देने लगी- मादरचोद, हरामी, बहन के लौड़े, तेरी माँ की चूत, भड़वे। इतने दिन हो गये, एक स्त्री के साथ यहाँ रहते हुए। (सेक्सी आंटी को चोदा)

फिर भी तूने कुछ नहीं किया कमीने… ले आज मैं तुझसे खुद कह रही हूँ, मुझे अपनी रंडी बना ले, मुझे सरेआम चोद… गधे के लंड से चोद…

लेकिन मेरी इस चूत और गांड की प्यास बुझा दे, मैं कुछ भी करूंगी तुम कहते हो…प्लीज़ आज मुझे मना मत करो। हे लंड के मालिक, मेरी इस चूत पर दया करो।

मैं आंटी के मुँह से ऐसी बातें सुनकर हैरान हो गया कि देखो ये हवस क्या चीज़ है। साली रंडी मेरे लंड की गुलाम बनने को तैयार है।

मैंने आंटी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूमने लगा।

कुछ देर तक आंटी के होंठों को चूसने के बाद मैंने आंटी का गाउन उतार दिया और आंटी की लाल ब्रा को खोलकर साइड में रख दिया।

भाभी के मखमली मोटे चूचे थे, उन्हें देखते ही मेरे मुँह में पानी आ गया।

मैंने अपने दोनों हाथ पूनम आंटी के मम्मों पर रख दिए और उन्हें दबाने और मसलने लगा।

आंटी- आह आह ऊह… सी सी, हरामी, मादरचोद, कुत्ते उखाड़ेगा क्या… मुझ पर नहीं तो मेरे इन मम्मों पर तो रहम कर… बहन के लौड़े इन्हें प्यार से दबाओ… इनका दूध चूसो।

मैं- साली कुतिया, मैं तुझे अपनी पर्सनल कुतिया बनाऊंगा, तू मेरी कुतिया बनेगी।

मैं आंटी को गाली देते हुए उनके मखमली दूध पर मुँह रख कर स्तन चूसने लगा,

अगर मैं स्तन को काट भी लेता तो आंटी जोर से सिसकारी लेती- आह आह… हरामी, इतने दिन हो गए… तुम अकेले ही हो आंटी के बारे में बिल्कुल भी नहीं सोचा…

मेरे राजा, मुझे अपनी रंडी बना लो… कुतिया… अब और मत तड़पाओ, मेरी चूत पानी-पानी हो रही है, इसे औज़ार दो।

घुसा दे अपना लौड़ा मेरे भोसड़ा में। मुझे ऐसे चोदो, ऐसे चोदो कि मुझे सिर्फ तुम ही दिखो। मेरे पति को कभी याद मत करना।

माहौल सेक्स और कामुकता से भरा हुआ था। आंटी इतनी गालियाँ दे रही थीं कि मैं खुद सोच रहा था कि क्या कोई औरत ऐसे भी गालियाँ दे सकती है।

क्या चुदाई की आग इतनी भी भड़क सकती है? मैं भी मुंह में आते आते आंटी को गालियां दे रहा था।

हाँ दोस्तों ये बात सच है और मेरा अनुभव ये है कि अगर सेक्स का मजा लेना है तो गालियों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करो। 

और अगर महिला पार्टनर गालियों को अच्छे से लेती है तो सेक्स का रोमांच, मजा बढ़ जाता है। । ऐसा लग रहा है कि बस मैं और तुम चुदाई करेंगे।

इस दुनिया से दूर एक अलौकिक आनंद, स्वर्ग का सुख, दो शरीर एक जान।

आंटी के मम्मों को चूमते और चूसते हुए मैं उनके पेट पर आ गया। उसके पेट पर भी मैंने हल्के से दांतों से काटा और चूमा। आंटी की नाभि एकदम गोल थी। (सेक्सी आंटी को चोदा)

जैसे ही मैंने उस पर अपना मुँह रखा तो आंटी की सांसें तेज हो गईं। आंटी का पेट गर्म सांसों के साथ अन्दर-बाहर हो रहा था, साथ ही आंटी और भी उत्तेजित होती जा रही थीं।

नाभि के नीचे पेट को चूमते हुए नीचे की ओर बढ़ाया। आह्ह… झुमरी तलैया लाल रंग के कच्छे में कैद थी।

पूनम आंटी की गीली पैंटी चूत के रस से चमक रही थी। ऐसा लग रहा था मानो आंटी ने पेशाब कर दिया हो।

मैं घुटनों के बल बैठ गया और पैंटी के ऊपर से ही अपना मुँह रख कर आंटी की चूत को सूंघने लगा। क्या मादक खुशबू थी पूनम आंटी की चूत के रस की।

कच्छी पर मुँह रगड़ कर मैंने उसे चूत के रस में पूरा गीला कर दिया था। मानो गर्मी में मुंह धो लिया हो।

एक अजीब सी अनुभूति हुई। चड्डी के साथ-साथ चड्डी के ऊपर से ही आंटी की चूत को चूसने लगा। आंटी की चूत के रस का बहुत नमकीन स्वाद था।

मैंने जीभ से ऊपर से नीचे तक चाटा तो बहुत नमकीन स्वाद था।

अहा… मैंने आंटी की चूत को मुँह में भर लिया और जोर-जोर से दबाने लगा, काटने लगा।

आंटी सिसकारियाँ भरने लगीं। हम दोनों वासना से उबलने लगे। आंटी ने मेरे बाल पकड़ कर मेरे मुँह को अपनी चूत मेरे मुँह पर जोर-जोर से मारने लगीं।

दोस्तों, इस भाग के लिए बस इतना ही। जल्द ही मैं अपनी कहानी का दूसरा भाग आपके सामने प्रस्तुत करूंगा।

इसके लिए आप अपने विचार और सुझाव मुझे मेल के जरिये जरूर भेजें, ताकि मैं अपनी कहानी और भी रोमांटिक अंदाज में आपके सामने पेश कर सकूं।

आपकी चूत के पेशाब की प्यासी सभी खड़े लंड वाली चूत वालियों को सलाम।

आपका अनिल शर्मा

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह सेक्सी आंटी को चोदा कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप Wildfantasy.in” पर पढ़ सकते हैं।

आगे की कहानी: लंड की दीवानी सेक्सी आंटी को चोदा भाग-2

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga