खूबसूरत शादीशुदा लड़की को चोदा जब उसका पति ऑफिस गया हुआ था

खूबसूरत शादीशुदा लड़की को चोदा जब उसका पति ऑफिस गया हुआ था

नमस्कार. मेरा नाम राज है. मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “खूबसूरत शादीशुदा लड़की को चोदा जब उसका पति ऑफिस गया हुआ था”

मैं एक बड़ी कंपनी में अच्छे पद पर कार्यरत हूँ. मेरी उम्र 30 साल है और हाइट 5.6 फीट है. मैं अपने जीवन की एक घटना इस कहानी के रूप में आपके साथ साझा करना चाहता हूँ।

यह घटना बिल्कुल सत्य है. मैंने इसमें किसी भी तरह की कोई मिलावट नहीं की है.’ ये बात आज से चार साल पहले की है. मैं अपने काम की वजह से हर वक्त ऑनलाइन रहता था.

मुझे कंप्यूटर के सामने बैठने की आदत थी इसलिए मैं हर समय सोशल मीडिया साइट्स आदि पर एक्टिव रहता था. ऐसे ही एक दिन मैं फेसबुक पर टाइम पास कर रहा था

कि मेरी नजर एक बेहद खूबसूरत लड़की की फोटो पर पड़ी. पहली ही नजर में ही वो मेरे मन को ऐसे भा गयी कि मेरा मन उसकी ओर खिंच गया.

मैंने तुरंत उन्हें रिक्वेस्ट भेज दी. अब मैं हर रोज उसकी तरफ से किसी जवाब का इंतजार करने लगा. तीन दिन बाद भी उसने मेरी रिक्वेस्ट एक्सपेक्ट नहीं की जबकि मैं बेसब्र हो रहा था

कि काश वो मेरी रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट कर ले। चौथे दिन आख़िरकार उसने मेरी रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली और अब मैं उसकी कई तस्वीरें देख सकता हूँ। पहले उनकी एक-दो तस्वीरें ही नजर आती थीं। (शादीशुदा लड़की को चोदा)

मैंने उसकी सभी तस्वीरें देखीं और जैसे-जैसे मैं तस्वीरें देखता गया, मैं उसका दीवाना होता गया। लेकिन कुछ तस्वीरों में वह शादीशुदा नजर आईं।

अगले दिन मैंने उसे धन्यवाद कहते हुए एक संदेश भेजा। उसकी प्रोफाइल पर उसका नाम आशिका लिखा हुआ था. जब उससे बात हुई तो उसने बता दिया कि वो शादीशुदा है.

वह लड़की देखने में बहुत सुन्दर थी. उम्र सिर्फ 23 साल और फिगर बिल्कुल नई कली जैसा। तब उसने बताया कि वह द्वारका की रहने वाली है। इस तरह हम कई दिनों तक बातें करते रहे.

कुछ ही दिनों में हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गये। फिर हमने मिलने का प्लान बनाया. जब मैंने उसे पहली बार अपने सामने देखा तो देखता ही रह गया.

उसका फिगर 32-24-30 था. रंग एकदम गोरा और लंबाई 5 फीट से कुछ ज्यादा लग रही थी. पहली बार उसको देखते ही मेरा लंड वहीं पर तन गया. मैं उसे चोदने की योजना बनाने लगा.

इस बीच हमारी मुलाकातें भी चलती रहीं. एक दिन मैंने उसे प्रपोज कर दिया. उन्होंने स्वीकार भी कर लिया. अब उसे बिस्तर पर ले जाने की बारी उसकी थी।

एक दिन उसने बताया कि उसके घर में कोई नहीं है. उनके पति को किसी काम से मुंबई जाना था. इसलिए वह घर में अकेली थी. उनके पति सरकारी नौकरी पर थे.

उन्होंने मुझसे अपने घर आने को कहा. मैं भी पहले से ही इस दिन का इंतज़ार कर रहा था. मैं रात को ठीक 9 बजे उसके घर पहुंच गया. वो मुझे पिछले दरवाज़े से घर के अंदर ले गयी और गले लगा लिया.

मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया. दोस्तों उस दिन तो वो और भी कयामत लग रही थी. उन्होंने महरून रंग की नाइटी डाल रखी थी. उसके बाल थोड़े गीले थे. शायद वो कुछ देर पहले ही नहाकर आई थी.

उसकी नाइटी ऊपर से ऊपर कट वाली थी और नीचे से छोटी थी. उसे ऐसे देख कर मेरा लंड अकड़ गया. तनाव में लिंग 7 इंच का हो गया. फिर हम दोनों ड्राइंग रूम में आकर बैठ गये.

मैं कुर्सी पर बैठा था और वो मेरे सामने बिस्तर पर बैठी थी. मैंने प्यार से उसका एक पैर उठाया और अपनी जाँघों पर रख लिया। मैं जांघों के बीच रख कर उसके पैरों को प्यार से सहलाने लगा.

उसके अंदर भी चूत चुदवाने की आग जल रही थी और मेरे अंदर भी उसकी चूत को चोदने की आग जल रही थी। मैं तो पहले से ही उसे चोदने के मूड में था

और वो भी चुदने के लिए पूरी तरह से तैयार थी. उसके पैर का अंगूठा बार-बार मेरे खड़े लंड को छू रहा था. जैसे ही उसका पैर मेरे लंड पर आकर छूता था तो लंड में एक जोरदार झटका लगता था.

कुछ देर तक वो अपने पैरों से मेरे तने हुए लंड को सहलाती रही और मैं उसकी जाँघों को सहलाता रहा। जब हम दोनों के लिए कंट्रोल करना मुश्किल हो गया तो हम खड़े हो गये.

मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चूसने लगा. वो भी मेरा साथ देने लगी. उसने तुरंत मेरी शर्ट के बटन खोलना शुरू कर दिया.

मैं भी उसकी नाइटी को ऊपर से खोलने लगा. उसने मेरे सारे कपड़े उतरवा दिए. पहले शर्ट और फिर मेरी बनियान भी. फिर मैं उसके पीछे गया और मैंने उसे पीछे से गले लगा लिया.

उसकी गर्दन पर किस करने लगा और मेरा लंड उसकी गांड के करीब चला गया. मैंने उसके चूचे दबाये और नीचे से उसकी चूत को सहलाने लगा.

अब मैं एक हाथ से उसके मम्मे दबा रहा था और दूसरा हाथ कभी उसकी चूत को छूता, कभी उसकी पीठ, कभी पेट और गांड को दबाता हुआ पीछे से उसके चूचों तक पहुँच गया।

उसकी सांसें अब तेज़ होने लगी थीं. फिर मैंने उसकी नाइटी को उसके बदन से अलग कर दिया. नाइटी उतारने के बाद जो नजारा मेरी आंखों के सामने आया उसे मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकती. (शादीशुदा लड़की को चोदा)

एकदम गोरा और गदराया हुआ बदन. उसके ऊपर प्रिंटेड ब्लैक पैंटी और निपल्स पर टाइट ब्लैक ब्रा. उसके चूचे उसकी ब्रा में ऐसे फंसे हुए थे कि थोड़ा दबाते ही उछल कर बाहर आ जाते थे.

कुछ देर तक मैं बिना पलक झपकाए उसे देखता रहा. फिर मैं थोड़ा नीचे झुका और उसकी नाभि पर चूम लिया. मैंने उसकी नाभि पर लगातार किस किया. अब उसकी सिसकियाँ भी बढ़ती जा रही थी.

फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी. ब्रा खुलते ही उसके मम्मे बाहर आकर आज़ाद हो गये। मैं उसके पीछे गया और उसके दोनों मम्मों को जोर-जोर से मसलने लगा। साथ ही उसके कंधे पर बेतहाशा चूम रहा था.

मैंने उसे पूरी तरह से प्रताड़ित करने की ठान ली थी. इतनी सेक्सी जवान लड़की मेरे सामने थी तो मैं पागल हो गया. उसके मखमली बदन को छूकर ऐसा लग रहा था

मानो मैं फूलों का तकिया अपने बदन से चिपका रहा हूँ। अब मैंने उसके दोनों हाथों को ऊपर उठाया और उसके हाथों को अपनी गर्दन में फंसा लिया.

फिर उसकी गर्दन और कान के नीचे तक प्यार से चूमने लगा। मेरे हाथ उसके दोनों चूचों को जोर जोर से दबा रहे थे. आशिका इतनी गर्म हो गई कि उसका पूरा शरीर कांपने लगा.

उसकी उत्तेजना बहुत बढ़ गयी थी. आशिका अब बिस्तर की ओर बढ़ने की कोशिश कर रही थी. वह खड़ी भी नहीं हो पा रही थी. लेकिन मैं उसे इतनी जल्दी चोदने के मूड में नहीं था.

मैं उसके सेक्सी बदन का पूरा मजा लेना चाहता था. उसे और अधिक तड़पाने के लिए मैंने अगला निशाना उसकी चूत को बनाया. मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया.

Visit Us:-

उसकी चूत बहुत मखमली और गर्म थी. मैंने उसकी चूत को अपनी हथेली से रगड़ा और अपनी उंगली उसकी चूत के अंदर डाल दी. जब उंगली गर्म चूत के अंदर घुसी तो मुझे भी बहुत मजा आया.

उंगली अन्दर जाते ही उसके मुँह से बहुत गर्म सिसकारी निकली. मैं धीरे धीरे उसकी चूत में लगातार उंगली चलाने लगा. उसकी पूरी चूत गीली हो चुकी थी.

इस बीच उसने अपनी दोनों टांगें पूरी तरह भींच लीं. शायद उसकी चूत से पानी निकल गया था. फिर वो पलटी और मुझे चूमने लगी. वो भूखी शेरनी की तरह मेरे होंठों को कस कर चूसने लगी.

मैं भी इन रोमांचक पलों का मजा लेने के लिए उसका पूरा साथ देने लगा. उसने कई मिनट तक मेरे होंठों को जमकर चूसा. फिर मैंने अपनी पैंट खोल दी. मैंने नीचे से पैंट को अपनी टांगों से उतार दिया.

अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था और मेरा लंड फटने को हो गया था. नीचे अंडरवियर में तने हुए लंड का साइज़ साफ़ दिख रहा था. मेरे लंड का साइज़ देख कर आशिका के होंठों पर शरारती मुस्कान तैर गई.

उनके चेहरे के भाव देखकर ऐसा लग रहा था जैसे उन्हें जो चाहिए था वो मिल गया है. वो मेरे घुटनों के बीच बैठ गयी और मेरे अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लंड को छूकर देखने लगी.

मेरा लंड झटके मार रहा था. फिर उसने मेरा अंडरवियर उतार दिया. उसने मेरे लाल-गर्म लोहे जैसे लंड को अपने हाथ में भर लिया और दबा कर उसकी ताकत नापने लगी.

मैं समझ गया था कि आज ये पूरा लेने के मूड में है. मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर पटक दिया और अब मैंने उसके पैरों की उंगलियों में अपनी उंगलियाँ फंसा दी और उसके पैरों को चूमने लगा।

धीरे-धीरे ऊपर की ओर बढ़ते हुए मैंने उसकी जांघों पर उसकी चूत के पास किस किया. फिर उसकी पैंटी को जोर से खींच कर फाड़ दिया. उसकी चूत नंगी हो गयी.

मैंने उसकी चूत को ध्यान से देखा. उसकी चूत बाहर से हल्की सांवली और अंदर से बिल्कुल गुलाबी दिख रही थी. मैंने अपने होंठ सीधे उसकी चूत पर रख दिए और उसकी चूत को चूमने लगा.

मैं जोर जोर से उसकी चूत को चूमने लगा. जोश में आकर उसने मेरा सिर अपनी चूत पर दबा दिया, वो मेरे होंठों को और जोर से अपनी चूत पर कसने लगी.

कुछ देर तक उसकी चूत चाटने का मजा लेने के बाद मैं फिर से उसके पूरे शरीर को बेतहाशा चूमने लगा. अब हम दोनों के मुंह से कामुक सिसकारियां निकलने लगीं और पूरे कमरे में गूंजने लगीं.

अब मैंने उसे घुमाया और पीछे से उसकी गांड और जांघों पर किस किया और इस तरह हम दोनों ही आउट ऑफ कंट्रोल हो गये. मैंने अगले ही पल आशिका को सीधा किया

और उसकी चूत पर उंगली रख कर उसकी चूत के दाने को जोर-जोर से रगड़ने लगा। मेरी स्पीड इतनी तेज़ थी कि ऐसा लग रहा था मानो मेरी उंगलियाँ नहीं बल्कि कोई वाइब्रेटर उसकी चूत पर चल रहा हो। (शादीशुदा लड़की को चोदा)

बीच-बीच में मैं एक हाथ से उसके मम्मे भी दबा रहा था और सहला रहा था। इस क्रिया के कुछ ही पलों के अंदर वो बुरी तरह से भलभला गयी और जोर जोर से झड़ गयी.

मेरा पूरा हाथ उसकी चूत के पानी से भीग गया. अब वो भी थक गयी थी. उसके मनमोहक खूबसूरत चेहरे पर एक अलग ही राहत थी. उसकी आँखें अभी भी बंद थीं.

अब मैंने लेटे-लेटे ही उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया. वो मुठ मारते हुए धीरे धीरे मेरे लंड को सहलाने लगी. मेरा लंड भी पूरे जोश में था.

अब मैं भी उसकी चूत में लंड डालने के लिए और इंतज़ार नहीं कर सकता था. मैंने उसकी टांगों को फैला कर खुद बेड से नीचे जाने का फैसला किया। मैंने उसे पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया

और खुद नीचे खड़े होकर लंड को उसकी चूत के दाने पर सैट कर दिया. मैं अपने लंड का मोटा टोपा उसकी चूत के दाने पर रगड़ने लगा. ऐसा करने पर आशिका मछली के जैसे मचलने लगी.

वो नीचे से कमर उठा कर लंड को अपनी चूत में लेने की कोशिश करने लगी. मैंने अपना मोटा लंड उसकी चूत में सटाया और एक धक्का मारा तो लंड 2 इंच तक उसकी चूत में घुस गया.

पहले ही झटके में उसकी चीख निकल गई, लेकिन बहुत जोर से नहीं. मैं धीरे-धीरे ऐसे ही उसकी चूत को चोदने लगा. मैं उसके ऊपर झुक गया और उसके होंठों को चूमने लगा।

जब मुझसे रुका नहीं गया तो मैंने जोर से धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया. वो मेरे इस हमले के लिए तैयार नहीं थी और पूरा लंड उसकी चूत में समा गया.

उसकी चीख मेरे होंठों के नीचे दब कर रह गयी. मैं अब बिना रुके तेजी से उसकी चूत को चोदने लगा. मैं उसके होंठों को चूस रहा था. दो मिनट बाद मैंने होंठ हटाए तो उसके मुंह से दर्द की जगह कामुक सिसकारियां निकल रही थीं- आह्ह.. अच्छा.. ओह्ह.. और चोदो.. और जोर से.. आह्ह.. ओह्ह माय गॉड.

मेरा जोश और चोदने की स्पीड दोनों बढ़ती जा रही थी. उसे चोदते हुए मुझे लगभग 20 मिनट हो गये थे. अब हम दोनों झड़ने वाले थे. जैसे ही मेरा वीर्य निकलने के करीब आता दिखा

तो मैंने धक्के रोक दिए और लंड बाहर खींच लिया. मैं तुरंत बिस्तर पर लेट गया और आशिका मेरे ऊपर चढ़ गयी. उसने खुद ही अपनी चूत को मेरे लंड पर टिकाया

और मेरे लंड पर बैठ कर लंड को अपनी चूत में डलवा लिया. उसके खुशबूदार महकते बाल मेरे चेहरे पर फैल गए और वो मेरे होंठों को जोर-जोर से चूसने लगी।

उनका ये अंदाज मुझे इतना पसंद आया कि आज भी उस पल के बारे में सोचता हूं तो पागल हो जाता हूं. मैं भी नीचे से गांड उठा उठा कर उसकी चूत में लंड पेलने लगा.

अगले पांच मिनट में वो झड़ गयी. मैंने उसे घुमा दिया. पानी से भीगा लंड दोबारा उसकी चूत में डालने से पहले मैंने उसकी टाँगें अपने कंधे पर रख लीं।

उसकी टांगों को कंधे पर रख कर मैंने पूरा लंड उसकी चूत में पेल दिया. उसकी चूत रस से ऐसी भीगी हुई थी कि पहले ही झटके में लंड उस चुदासी लड़की की जड़ तक समा गया.

मैंने धक्का लगाना शुरू किया तो मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकराने लगा. उसको दर्द होने लगा लेकिन मुझे इतना मजा आ रहा था कि मैं अब रुकना नहीं चाहता था.

उसकी गीली चिकनी चूत को चोदने में बहुत मजा आया. अब मैंने अपने पैर सीधे किये और अपने पैरों के पंजों पर ही संतुलन बनाकर उसे चोदना शुरू कर दिया।

इस एंगल से पूरा लंड चूत की जड़ तक चला जाता और छप-छप की आवाज आती. पूरा कमरा छप-छप की आवाजों से गूंजने लगा.

मैं फुल स्पीड में उसे चोदने लगा और 10 मिनट तक उसकी चूत को रगड़-रगड़ कर ढीला कर दिया। लंड की ठुकाई इतनी तेज थी कि वो कहने लगी बस… बस… बस… अब तो मेरे वीर्य का वेग भी रुक नहीं सकता था. (शादीशुदा लड़की को चोदा)

धक्के लगाते हुए मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया. हम दोनों एक दूसरे के नंगे बदन को अपनी बांहों में लपेट कर ऐसे ही लेटे रहे. उस रात मैंने उसकी चूत चार बार और चोदी.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga