स्टूडेंट की गांड मारी जब इंस्टीट्यूट से सब जा चुके थे

स्टूडेंट की गांड मारी जब इंस्टीट्यूट से सब जा चुके थे

मेरा नाम अमित है, मैं मुंबई का रहने वाला हूँ। आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने अपने “स्टूडेंट की गांड मारी जब इंस्टीट्यूट से सब जा चुके थे”

ये बात कुछ साल पहले की है. उस समय मैं दिल्ली में कंप्यूटर पढ़ाता था और एक कंप्यूटर सेंटर में काम करता था. मुझे यहां अकेले रहना पड़ता था, इसलिए मैं अत्यधिक कामवासना से पीड़ित रहता था।

मैं बस अपने इंस्टीट्यूट में जाता और कंप्यूटर सिखाने का काम पूरा करके शाम को घर आ जाता था। उस समय कंप्यूटर क्लास में कई तरह के लोग आते थे. लड़के, लड़कियाँ, पुरुष, महिलाएँ, बच्चे सभी आते थे। (स्टूडेंट की गांड मारी)

मेरी बहुत इच्छा थी कि किसी लड़की को पटाकर चोदूँ, लेकिन साली कोई हाथ ही नहीं रखने देती थी। इसके अलावा, मेरी कक्षा में लगभग केवल लड़के ही थे।

मेरी क्लास में ज़्यादातर लड़के उन्नीस या बीस साल के ही थे। उनमें से एक लड़का था रोहन. वह अक्सर क्लास में देर से आता था और पूछने पर हर बार नया बहाना बना देता था।

वो शाम को मेरे पास कंप्यूटर सीखने आता था. शाम को ज्यादा छात्र नहीं आते थे. कई बार तो मैं और रोहन ही अकेले रह जाते थे. उसकी उठी हुई गांड देख कर मेरा मन उसे चोदने का करने लगा.

वैसे तो मुझे लड़कियाँ चोदने का शौक है लेकिन यहाँ तो मुझे कोई लौंडिया ही नहीं मिली। इसलिए मैं रोहन की गांड मारना चाहता था।

मैं अक्सर उसके पास जाता और उसे खड़ा करके देर से आने का कारण पूछता। उसने मेरी किसी बात का उत्तर नहीं दिया, बस सिर झुकाए खड़ा रहा।

रोहन गोरा चिट्टा और मोटा दिखने वाला लड़का था. लेकिन वह बहुत सरल और शांत स्वभाव के थे. इसलिए मैंने शुरू में उसके साथ कुछ नहीं किया. लेकिन जब वो सवाल पूछने पर शांत रहा तो मेरी हिम्मत बढ़ गई

और मैं उसकी गांड पर हाथ फेरते हुए उससे पूछने लगा. फिर मैं उसकी गांड पर हाथ फेर कर मजा लेने लगा. उस दौरान वो भी कुछ नहीं कहता था, बस हल्के से मेरी तरफ देखता था और अपना सिर नीचे कर लेता था.

फिर मैंने एक बार उसके लंड को दबाया, तब भी उसने कुछ नहीं कहा, तो मैंने मन बना लिया कि इसे ही अपने लंड की आग बुझाने का जरिया बनाना है.

नियमित कक्षा में उसकी अनुपस्थिति मुझे उसे अपने झांसे में लेने के लिए उकसा रही थी. हालाँकि मैं अपनी कक्षा में बहुत सख्ती से काम करता था। इसी सख्ती के साथ मैंने एक योजना बनाई.

एक दिन मैंने सभी विद्यार्थियों के सामने उससे अपने माता-पिता के साथ आने को कहा। मैंने कहा कि तुम अक्सर देर से आते हो और कम्प्यूटर सीखना भी नहीं चाहते। चार महीने में आपने मुश्किल से सिर्फ 20 दिन ही सीखा होगा.

मैंने उससे माता-पिता को लाने के लिए कहा, इसलिए वह अगले दिन से देर से नहीं आया। मैंने उसकी तरफ देखा तो वो हल्के से मुस्कुराया. अगले दिन जब रोहन क्लास में अकेला रह गया तो मैंने पूछा कि तुम्हारे मम्मी-पापा क्यों नहीं आए?

उसने कुछ नहीं कहा। मैंने एक बार फिर जोर दिया, तब भी उसने कुछ नहीं कहा. अब मुझे भी गुस्सा आ रहा था तो मैंने उसे डांटना शुरू कर दिया. उसने फिर भी कुछ नहीं कहा, बस कंप्यूटर की तरफ देखता रहा. (स्टूडेंट की गांड मारी)

मैंने उनसे कहा कि आपने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया. मैं तुम्हें नंगा कर दूँगा फिर भी वह चुप रहा. अब मुझे ही कुछ करना था तो मैंने सच में उसे नंगा करना शुरू कर दिया. सबसे पहले उसकी पैंट की ज़िप खोली.

मैंने उसका लंड हाथ में लिया और बाहर निकाला और बोली- जवाब दो.. नहीं तो बाकी कपड़े भी उतार दूंगी. वह मेरी डाँट से कतराने लगा। फिर उस दिन मैंने उसे छोड़ दिया और कहा – यह भविष्य में नहीं होना चाहिए सावधान रहें, इस बार मैं आपकी गांड मरूंगा।

Visit Us:-

इससे मैंने उसके चेहरे पर डर की जगह मुस्कान देखी. वह एक-दो दिन के लिए ही सही आया… लेकिन फिर उसका वही रवैया हो गया। कुछ दिनों बाद रोहन पहले की तरह क्लास में देर से आने लगा

और देर तक रुकने की कोशिश करने लगा. मैंने उसकी भावना को समझा और उसकी गांड को मारने का मन बना लिया। तीसरे दिन सबके जाने के बाद मैं उसके पास गया और उसे डांटते हुए खड़ा होने को कहा.

वह चुपचाप खड़ा हो गया. मैं उसकी पैंट खोलने लगा. उन्होंने मुझे न तो रोका और न ही कोई विरोध किया. मैं उसकी तरफ देखते हुए धीरे-धीरे लंड को बाहर करने लगा.

वह चुप रहा, इसलिए आज मैंने उसकी गांड को मारने के बारे में सोचा। अगले कुछ ही पलों में मैंने उसकी पैंट उतार दी और उसे पूरा नंगा कर दिया. उसका लंड मुरझाया हुआ सा लटक रहा था.

मैंने कहा- रोहन जवाब दो, नहीं तो मैं अपना लंड निकाल कर तुम्हारे मुँह और गांड में दे दूँगा. उसने कहा- सर मम्मी-पापा शादी में गए थे … इसलिए देर हो गई. तुम्हें जो सज़ा देनी हो, दो.

मेरा लंड अभी भी उसकी गांड के पीछे पड़ा हुआ था. मैं उसके बारे में पूछता रहा और उसकी गांड को सहलाता रहा. उसका लंड हरकत में आने लगा.

जब मुझे लगा कि वो थोड़ा ठंडा हो रहा है.. तो मैंने अपना 7 इंच का लंड निकाला और उसके हाथ में दे दिया। मैंने उससे कहा- चूसो इसे. जैसे ही उसने मेरे लंड को अपने मुलायम हाथ में पकड़ा तो मेरा लंड टाइट होकर फुंफकारने लगा.

वो मेरे लंड को घूरता रहा. मैंने कहा- जल्दी से चूसो इसे. उसने मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. मैं उसके मुँह में अपना लंड पेल कर मजा लेने लगा और मैं अपनी शर्ट ऊपर उठा कर उससे लंड चुसवाने का मजा लेने लगा.

काफी देर तक लंड चूसने के बाद मैं उसके मुँह में झड़ गया.. लेकिन वो मेरा लंड चूसता रहा। इससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

अब उसकी मुलायम गोरी गांड चोदने की बारी थी. मैंने उसकी पैंट पहले ही उतार दी थी. मैंने उसे कंप्यूटर टेबल पर झुका कर खड़ा कर दिया और फिर अपना लंड उसकी गांड पर रगड़ने लगा.

उसने भी मस्ती से अपनी गांड फैला दी थी. मैं धीरे-धीरे अपने लंड को उसकी गांड की दरार पर दबाने लगा. लेकिन ये मेरा पहली बार था. मैंने आज से पहले किसी के साथ सेक्स नहीं किया था.

क्योंकि अभी तक मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी और ना ही मैंने किसी वेश्या के साथ सेक्स किया था. मैंने उसकी गांड में लंड डालने की कोशिश की. मेरे पहले प्रयास में, मेरा लंड उसकी गांड के छेद से फिसल गया। (स्टूडेंट की गांड मारी)

लेकिन बाद में मैंने लंड को उसकी गांड के छेद के निशाने पर रख कर थोड़ा दबाव डाला तो उसकी आह निकल गयी. शायद मेरे लंड का मुँह उसकी गांड में लग गया था. लेकिन मैंने देखा कि मेरा लंड अभी तक अन्दर नहीं घुसा था.

मैंने आगे बढ़ कर उसका लंड पकड़ लिया और हिलाने लगा. जैसे ही मैंने ऐसा किया, अगले ही पल से वो मस्ती में आह आह करने लगा.

मैंने मौका देख कर अपना लंड उसकी गांड में डालना चाहा… सुपारा एक बार फिर छेद को फाड़ना चाहता था, लेकिन दर्द के कारण उसने मेरे लंड को अन्दर नहीं जाने दिया.

वो कहने लगा- दर्द हो रहा है. मैं- ऐसा क्यों हो रहा है, कम से कम अन्दर तो जाने दो, फिर मजा आएगा. उन्होंने कहा-सूखा अंदर कैसे जायेगा.

मैं एक क्षण के लिए उनके कथन से स्तब्ध रह गया। वह सही कह रहा था. मैं बिना चिकनाई के सूखा लंड उसकी गांड में डाल रहा था। दर्द तो होना ही था.

फिर मैंने लंड बाहर निकाला और उसकी गांड में ढेर सारा थूक लगाया और अपने लंड पर भी लगाया. इस बार मैंने उसके लंड को एक बार जोर से आगे पीछे किया और जैसे ही वो ठंडा हुआ तो मैंने फिर से लंड से धक्का दे दिया.

इस बार मेरे लंड का टोपा उसकी गांड में घुसता चला गया. एक बार तो वो दर्द से छटपटाने लगा और उसने चुदाई से इंकार कर दिया. लेकिन मैंने उसकी एक न सुनी और उसे फिर से टेबल पर झुका कर थोड़ा और जोर लगाया

और अपना एक इंच लंड अन्दर डाल दिया. धीरे-धीरे आधा लंड खींचने के बाद मैंने उसके लंड को हिलाना शुरू कर दिया और उसकी गोटियों को मसलने लगा. इससे उसे दर्द और मजा दोनों मिलने लगा.

फिर थोड़ी-थोड़ी देर में हल्के-हल्के धक्के देकर मैंने अपना आधे से ज्यादा लंड उसकी गांड में डाल दिया और आगे-पीछे करने लगा। कुछ ही देर में मैंने पूरा लंड अन्दर पेल दिया. कुछ ही देर में उसे आराम मिलने लगा

और उसे मजा भी आने लगा. दस मिनट के लिए अपनी गांड को चोदने के बाद, मैंने अपना लंड निकाला और अपने हाथ से मुर्गा के पानी को हिलाते हुए खुद को ठंडा कर दिया। उधर उसने अपने लंड की मुठ भी मार ली थी.

फिर मैंने उसे एक चुम्बन देकर घर भेज दिया। उसके जाने के बाद मैं भी अपने घर आ गया. अगले दिन जब वो आया तो सबके जाने के बाद मैंने उसे फिर से टेबल पर झुकाया और एक ही झटके में आधा लंड अन्दर डाल दिया.

उसकी फिर से चीख निकली और उसने मेरा लंड बाहर निकाल लिया. वो फिर से गांड में लंड लेने से मना करने लगा. मैंने उसे थोड़ा समझाया कि थोड़ी देर में कल जैसा मजा आएगा. कुछ देर बाद वह मान गया.

इस बार मैंने उसे मेज़ पर खड़ा नहीं किया. इस बार मैंने उसे अपनी गोद में बैठा लिया और उसके लंड को जोर जोर से हिलाने लगा. उसने मुझसे छूटने की बहुत कोशिश की, लेकिन मुझसे छूट नहीं पाया.

इस पोजीशन में धीरे-धीरे मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया था. मैं लगातार उसके लंड को अपने हाथ से हिला रही थी और उसकी गोटियों को भी सहला रही थी, जिससे उसे भी मजा आ रहा था. (स्टूडेंट की गांड मारी)

कुछ देर बाद मैंने उसे जमीन पर पेट के बल लिटा दिया और पीछे से उसकी गांड में लंड डाल कर झटके मारने लगा. कुछ मिनट बाद मैंने उसे पलटा दिया और उसकी दोनों टांगें ऊपर उठा दीं और उसकी गांड को पूरी ताकत से मसल दिया.

करीब 15 मिनट तक चली इस चुदाई में हम दोनों थक गये थे और खूब पसीना बहा रहे थे. उसके बाद हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किये और थोड़ी देर में घर चले गये.

अगले दिन मैंने उसे कल की तरह फिर चोदा. इस बार उसे भी मेरे साथ मजा आ रहा था. उस दिन के बाद से रोहन मेरा पक्का चोदू बन गया.

मैं जब भी कंप्यूटर सीखते वक्त उसके पास जाता था तो वो मेरा लंड निकाल कर चूसने लगता था और घर जाने से पहले अगर वो दोनों अकेले होते थे तो वो मुझसे गांड भी मरवाता था.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga