इंस्टाग्राम से पटाई टीचर को चोदा और उसे चुदाई का सुख दिया

इंस्टाग्राम से पटाई टीचर को चोदा और उसे चुदाई का सुख दिया

मेरा नाम अमन हौज खास है, मैं मुंबई का रहने वाला हूँ आज में आपको बताने जा रहा हु कैसे मेने “इंस्टाग्राम से पटाई टीचर को चोदा और उसे चुदाई का सुख दिया”

दोस्तो, कृतिका बहुत हॉट है. उसका रंग गोरा, चूचे बड़े-बड़े और गांड बहुत मस्त है. मैं उनसे ऑनलाइन मिला था. मैं उनसे इंस्टाग्राम पर मिला था. मैं उसकी हर फोटो को लाइक करता.. और अच्छे कमेंट करता.

इस पर वो मुझे थैंक्स लिखती थी. इस तरह हमारी बातें होने लगीं. बातों ही बातों में मैं उससे फ्लर्ट करने लगा. उससे बात हुई तो पता चला कि वह एक स्कूल टीचर है और दिल्ली के हौज खास में अकेली रहती है.

उन्हें घूमने-फिरने का बहुत शौक है. वो मुझे पसंद करने लगी थी. कुछ ही दिनों में हमारी खूब बातें होने लगीं. मैंने भी उसे अपने बारे में सब कुछ बता दिया.

जब उससे खुल कर बातें होने लगीं तो मैंने उसे अपनी सेक्स कहानी के बारे में बताया. उनका मन देखकर मैंने अपनी सारी कहानियाँ उन्हें इंस्टाग्राम पर भेज दीं।

मैंने उनसे कहानी पढ़कर बताने को कहा कि कहानी कैसी है. तो उन्होंने मेरी कहानियाँ पढ़ीं और कहा- सारी कहानियाँ बहुत पसंद आईं। मैंने उससे पूछा- बस पसंद आया या कुछ और कहना चाहोगी?

वो बोली- मुझे तुम्हारी फोटो देखनी है. मैंने अब तक इंस्टाग्राम पर अपनी असली फोटो नहीं डाली थी. उसकी बात सुनकर मैंने उसे अपनी फोटो भेज दी. उसने मेरी तारीफ की और मुझे अपनी एक हॉट फोटो भी भेजी.

मैंने उसे चुम्बन वाली इमोजी भेजकर उसकी गरम जवानी की तारीफ की वह खुश हो गई। अब हम दोनों रोज तस्वीरें शेयर करने लगे. वो भी मुझे हर रोज अपनी एक ताज़ा हॉट फोटो भेजने लगी.

इस तरह हमारी गर्मागर्म बातें शुरू हो गईं. एक दिन उसने मेरा नंबर मांगा.. और मैंने उसे अपना मोबाइल नंबर दे दिया। उसने मुझे अपना नंबर देने के लिए फोन किया. इस तरह मुझे उसका नंबर मिल गया.

मैंने उसका फोन उठाया और उससे बात करने लगा. मैं- हैलो कृतिका जी… आप कैसी हैं? उसने कहा- मैं ठीक हूं, आप कैसे हैं? उसके बाद मैंने कहा- बिल्कुल मस्त.. आपकी आवाज बहुत मधुर है. उन्होंने मुझे थैंक्स कहा.

उसने पूछा- और क्या चल रहा है? मैंने कहा- फोटो भेज कर बताऊं? वो बोली- हाँ बताओ. उसी समय मैंने अपनी न्यूड फोटो व्हाट्सएप पर भेज दी. मेरा खड़ा लंड देख कर कृतिका मुस्कुराई और बोली- वाह, तुम्हारा तो बहुत मस्त हे.

मैंने कहा- पसंद करने के लिए धन्यवाद. मैं भी आपकी इसी तरह तारीफ करना चाहता हूं. यह सुनकर कृतिका ने मुझे अपनी नंगी फोटो भेज दी. इस फोटो में वह पूरी तरह नंगी खड़ी थीं. उसके बड़े बड़े स्तन थे और उसकी चूत साफ़ थी.

उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था. चूत का रंग हल्का भूरा था और बूब्स के निपल्स बहुत प्यारे थे. उसकी गांड बाहर निकली हुई थी. उसे देख कर मेरा मन कर रहा था कि अभी अपना मुँह कृतिका की चूत पर रख दूँ

और उसकी चूत का सारा रस पी जाऊँ। उसने कहा- क्या बात है? मैंने कृतिका से कहा- यार कृतिका, मेरा मन कर रहा है कि तेरे मम्मों को चूस-चूस कर लाल कर दूँ और तेरी चूत में अपनी जीभ डाल कर तुझे खूब चोदूँ।

कृतिका मैं तुम्हारी चूत का सारा रस पीना चाहता हूँ. मैं तुम्हारी चूत की मलाई खाना चाहता हूँ. तुम्हारी गांड भी चूसना चाहता हूँ. इस पर कृतिका बोली- तो आ जाओ.. मना किसने किया है.. आ जाओ और पी लो.. मेरा सब कुछ तुम्हारा है।

तुम मेरे साथ जो चाहो करो. उसकी बात सुनकर मैं मान गया और हम दोनों का मिलने का प्रोग्राम बन गया. मैं तय कार्यक्रम के अनुसार हौज खास आ गया. वहां पहुंच कर मैंने कृतिका को फोन किया- कहां हो स्वीट हार्ट?

उसने कहा- मैं घर पर हूं. मैंने कहा कि मैं हौज खास के मेट्रो स्टेशन पर आया हूं. उसने चिल्लाते हुए कहा- क्या सच मे! मैने हां कह दिया। वो बोली- तुम वहीं रुको.. मैं आती हूँ। मैंने उसका इंतजार किया.

कृतिका मुझे एक्टिवा से लेने आई और मैं उसके साथ एक्टिवा पर बैठ कर उसके घर चला गया। हम दोनों घर आ गये. घर में घुसते ही मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया. उसने भी मुझे गले लगा लिया. मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया.

कृतिका के चूतड़ बहुत सेक्सी थे. मेरा खड़ा लंड उसकी गांड की दरार में घुसने लगा था. मेरा लंड और भी ज्यादा टाइट हो गया था. हम दोनों ने एक लंबा किस किया. इसके बाद मैं उसे गोद में लेकर सोफे पर बैठ गया

और उसके मम्मों से खेलने लगा. जब उसने मुझसे खाने के लिए पूछा तो मैंने हां कह दिया. उसने फोन पर खाना ऑर्डर किया. हम दोनों एक दूसरे में मदहोश हो गये थे.

कृतिका मेरी गोद से उठी और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बिस्तर पर बैठा दिया. जब मैं बैठ गया तो मैंने उसे अपनी ओर खींच लिया और वह मेरी गोद में आकर बैठ गयी. उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये.

उसे चूमते हुए मैंने महसूस किया कि कृतिका की सांसें बहुत गर्म हो गई है. कृतिका मेरे होंठों को चूसने लगी, मैं भी उसके होंठों को चूसने लगा. फिर मैंने उसकी जींस में हाथ डाल दिया और उसके चूतड़ों को मसलने लगा.

वो एकदम से मुझसे चिपक गयी, इससे उसकी गांड और भी खुल गयी. मैंने भी कृतिका को कस कर अपनी बांहों में पकड़ लिया और उसे चूमने लगा. फिर मैंने उसे अपने नीचे लिटाया, उसकी आँखों को चूमा, उसके गालों को चूमा, उसके रसीले होंठों को चूमा।

इसके बाद नीचे आते हुए मैंने उसकी चुचियों को चूमा, उसकी चुचियों को हाथों में पकड़ कर दबाने लगा. वो परेशान हो गई तो उसने अपनी टी-शर्ट उतार दी. मैं उसके मम्मों को चूमने लगा. उसके स्तनों का रंग दूध जैसा था.

मैंने उसके एक स्तन को अपने मुँह में भर लिया और निप्पल को चूसने लगा। वो मजे से अपनी चूची पकड़ कर चुसवाने लगी. मैं आगे बढ़ने ही वाला था कि दरवाजे की घंटी बजी। कृतिका ने खुद को ठीक किया और बाहर देखने चली गयी.

खाना आ गया था. वो खाना लेकर बेडरूम में आ गयी. खाना रख कर वह रसोई में गयी और वहां से बर्तन और पानी ले आयी. हमने साथ में खाना खाया. मैंने कृतिका को अपने हाथों से खाना खिलाया. कृतिका मुझे खाना खिला रही थी.

खाना खाने के बाद कृतिका रसोई में बर्तन रखने चली गयी. मैं कमरे में बिस्तर पर लेट गया. कुछ देर बाद कृतिका कमरे में आयी. उसने अपनी जीन्स टी-शर्ट उतार कर बहुत सेक्सी गाउन पहन लिया था.

इसमें कृतिका बेहद हॉट लग रही थीं. उसे देख कर मैं बिस्तर से उठ खड़ा हुआ और कृतिका के पास आकर उसके हाथों को चूम लिया. उसने मुझे गले लगा लिया. कृतिका बोली- अमन, आज मुझे अपना बना लो… मेरी प्यास बुझा दो।

मैंने कहा- कृतिका, अब तुम मेरी हो.. तुम आगे भी मुझे अपना बनाकर रखोगी। वचन दो उसने वादा किया। मैंने एक एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए. उसके बाद उसने मेरे भी सारे कपड़े उतार दिये.

फिर मैं उसके पूरे शरीर को चूमने लगा. पहले मैंने उसके माथे पर चूमा, फिर उसकी आँखों पर चूमा। उसकी नाक पर चूमा. उसकी सांसें बहुत गर्म थीं और आंखों में बहुत प्यार था.

इसके बाद मैंने उसके गालों पर किस किया और जब मैं उसके होंठों पर आया तो उसने मेरे होंठों को अपने होंठों से पकड़ लिया. वो मुझसे पूरी तरह चिपक गई और मेरे होंठों को अपने होंठों का रस पिलाने लगी.

मैं भी उसके होंठों को चूसने लगा. होंठ आपस में लड़ रहे थे और हमारी बाहें एक दूसरे को जकड़ रही थीं। हम दोनों एक दूसरे में समा जाना चाहते थे. हमारे पैर एक दूसरे के पैरों से लिपटे हुए थे।

मेरा लंड उसकी चूत से टकरा रहा था और अन्दर घुसने की कोशिश कर रहा था. लंड बिल्कुल टाइट था और उसकी चूत में घुसने को बेताब था. कृतिका ने भी अपनी चूत का दरवाज़ा खोला और खड़े-खड़े ही मेरा लंड अपनी चूत में ले लिया।

लंड लेते ही वो अपनी टांगें मेरी कमर में डालकर झूल गई और लंड उसकी चूत में चला गया. इस वक्त हम लोग इस तरह से चिपके हुए थे कि हवा भी अंदर नहीं जा सकती थी. धीरे धीरे कृतिका मेरे लंड पर झूलने लगी.

मैंने उसे गोद में उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया. उसकी चूत से बहुत सारा पानी बह रहा था. मैं अपनी जीभ उसकी चूत के पास ले गया और उसकी चूत को चाटने लगा. पानी का टेस्ट नमकीन था.

फिर मैंने उसकी चूत को अपनी जीभ से चाट कर साफ कर दिया. कृतिका मेरे सिर को अपनी चूत में दबाने लगी और मैं अपनी जीभ उसकी चूत में अन्दर तक ले जाने लगा. कृतिका छटपटाने लगी और दो मिनट में ही झड़ गयी.

उसकी चूत का वेनिला रस मेरे मुँह पर लगा. मेरा मुँह कृतिका के रस से पूरा भीग गया था. ये देख कर कृतिका हंसने लगी. फिर मैं खड़ा हुआ और अपना चेहरा साफ किया और कृतिका की तरफ देखा.

कृतिका के चेहरे पर वासना की लाली और आँखों में चमक थी. वो बिस्तर पर अपनी चूत फैला कर लेटी हुई थी. मुझे देख कर उसने अपनी बांहें फैला दीं और बोलीं- अमन, न जाने कितने दिनों के बाद आज मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ.

मैं उसकी बांहों में चला गया और उसके ऊपर लेट गया. कृतिका ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मुझे चूमते हुए बोली- अमन आई लव यू… मुझे बहुत अच्छा लगा. मैंने कहा- अभी तो शुरुआत है जान.. अभी तो पूरी रात बाकी है.

वह हंसने लगी। फिर हम एक साथ खड़े हुए और बाथरूम में चले गये. कृतिका ने शॉवर चालू कर दिया. हम दोनों साथ में नहाने लगे. मैंने बाथरूम से शॉवर जेल लिया और कृतिका के शरीर पर लगा दिया।

फिर मैं उसके शरीर को अपने शरीर से रगड़ने लगा. मुझे बहुत अच्छा लगता जब कृतिका के मुलायम चूचे मेरी छाती से रगड़ते। कृतिका ने भी मेरे लंड पर जेल लगाया और उसे अपनी चूत से रगड़ने लगी.

मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं उसके बदन को अपने हाथों से मसल रहा था. फिर कृतिका नीचे बैठ गई और मेरे लंड को अपने मम्मों के बीच में लेकर रगड़ने लगी. उसके बाद मैं बाथरूम के फर्श पर लेट गया और कृतिका मेरे ऊपर बैठ गयी.

Visit Us:-

उसने अपने चूतड़ों पर शॉवर जेल लगाया और मेरे मुँह से लेकर मेरे पैरों तक हिप मसाज देने लगी। जब उसकी गर्म गर्म चूत और गांड मेरे शरीर से रगड़ती तो मुझे बहुत आराम मिलता. सोचो मैं स्वर्ग में था.

इस तरह कृतिका ने दस मिनट तक अपने चूतड़ों से मेरे पूरे शरीर की मालिश की. मेरा लंड भी बहुत खुश था.. वो हवा में हिचकोले ले रहा था। जब चूत लंड के ऊपर फिसलती तो मेरा लंड उसकी चूत के अंदर जाने की कोशिश करता.

लेकिन बेचारा फेल हो जाता. उसके बाद कृतिका ने शॉवर चालू कर दिया. पानी की बूंदें हमारे ऊपर गिरने लगीं और कृतिका अपने हाथों से मेरे शरीर को मसलने लगी. मैं उसके शरीर पर हाथ फिराने लगा.

कुछ मिनट तक हम ऐसे ही मजा करते रहे. फिर कृतिका ने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और अपनी चूत मेरे चेहरे पर रगड़ने लगी. उसकी चिकनी चूत से जेल की बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी.

मुझे नशा चढ़ रहा था. इसी मदहोशी में मैं उसकी चूत को चाटने लगा. कृतिका भी मेरे लंड को अपने गले तक लेने लगी. कृतिका मेरे लंड को निगल जाना चाहती थी और मैं भूखे शेर की तरह उसकी चूत को चाट और चूस रहा था।

फिर कृतिका खड़ी हो गयी और मैं लेटा रहा. कृतिका ने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर सेट किया और एक ही झटके में पूरा लंड चूत के अंदर ले लिया. वो लंड पर बैठ गयी और आगे पीछे होने लगी.

उसके मुँह से कामुक सिसकारियाँ निकल रही थीं- ओह ओह अहा अहा … कितना अन्दर तक मजा दे रहा है. मैं भी उसे अपने लंड से ऊपर की ओर उछाल रहा था. जब लंड और चूत आपस में टकराते थे.

तो पच पच की मधुर आवाज आने लगती थी। बाथरूम इस सेक्सी आवाज से गूँज रहा था और मैं अपनी पूरी ताकत से कृतिका को चोद रहा था। दस मिनट बाद कृतिका की स्पीड बढ़ने लगी.

ऐसा लग रहा था कि वो झड़ने वाली है. तभी उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मैंने लंड से चोदने की स्पीड बढ़ा दी. मैं जोर-जोर से लंड को कृतिका की चूत की गहराई तक अन्दर बाहर करने लगा.

कृतिका सिसकारते हुए बोली- आह… आह… और जोर से अमन… और जोर से… मैं गई… आह! कृतिका की चूत ने मेरे लंड को जकड़ लिया और झड़ने लगी. मैंने अपनी गति धीमी नहीं होने दी. मैं जोर-जोर से लंड अन्दर-बाहर करता रहा।

इतनी देर में कृतिका झड़ गयी और खाली हो गयी. उसने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया और हांफने लगी. मैंने भी उसे जोर से गले लगा लिया और मैं भी उसकी चूत में ही पड़ा रहा. मैं तो बस रह गया था.

फिर मैंने कृतिका को लेटाया और उसकी टांगों के बीच आ गया. उसकी टांगों को ऊपर उठाया और अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और अंदर डाल दिया. मैं जोर जोर से कांपने लगा. कृतिका मस्त होने लगी.

मैं उसके ऊपर लेट कर उसके मम्मे मसलने लगा। उसने मुझे भी पकड़ लिया. मैं लंड को चूत में अन्दर-बाहर करने लगा और उसके होंठों को चूस रहा था। वो भी मेरे साथ फिर से गर्म हो गयी. अपनी गांड ऊपर उठा रही थी.

चुदाई के साथ-साथ हम एक दूसरे के होंठ भी चूस रहे थे. पांच मिनट बाद हम दोनों एक साथ झड़ गये और एक दूसरे को कस कर गले लगा लिया. कृतिका संतुष्ट थी. मैं भी मंत्रमुग्ध हो गया. शावर की बूंदें अभी भी हम पर गिर रही थीं।

फिर मैं उठा और शॉवर बंद कर दिया. कृतिका ने अपनी आँखें बंद कर लीं. मैंने उसे गोद में उठाया और कमरे में ले आया. बिस्तर पर गिरते ही हम दोनों को नींद आ गयी.

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga