ड्राइविंग टीचर से चुदी और अपनी चुत की आग बुझाई

ड्राइविंग टीचर से चुदी और अपनी चुत की आग बुझाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम आशिका है आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे में “ड्राइविंग टीचर से चुदी और अपनी चुत की आग बुझाई”

ये कहानी तब की है जब मैं 19 साल की थी. मुझे कार चलाना सीखना था। मैंने मां से पूछा तो उन्होंने कहा, ठीक है, ड्राइविंग स्कूल से अंकल को बुला लेते हैं. वो सिखा देंगे. मैंने भी उनसे सीखा था. मैंने कहा- ठीक है.

शाम को अंकल आए और बोले- मैडम, आप तो जानती हैं कि ड्राइविंग सुबह सीखनी होती है. नहीं तो ट्रैफिक में दुर्घटना होने का डर रहता है तो सिखा नहीं सकते. आपको भी सुबह 4 बजे ही सिखाता था।

मॉम ने कहा- कोई बात नहीं, इसे भी 4 बजे सिखा देना। उन्होंने पूछा – क्या बच्चा 4 बजे उठ जाएगा? माँ ने मुझसे पूछा तो मैंने गाड़ी चलाने की ख़ुशी में हाँ कह दिया।

उसने कहा- मैडम, कल सुबह 4 बजे तक अपने बच्चे को ऑफिस छोड़ देना. मेरा बेटा अमन वहाँ रहेगा, उसे पैसे दे देना। वह इसे सिखा देगा. उसके बाद वो रोजाना शाम 4 बजे बच्चे को घर से ले जाएगा। (ड्राइविंग टीचर से चुदी)

माँ ने कहा ठीक है. अगले दिन मैं साढ़े तीन बजे उठी और तैयार हो गई. मैंने टाइट जींस और टाइट टॉप पहना था. अभी मेरा पेट नहीं भरा था इसलिए यह ठीक लग रहा था।

मॉम नाईट सूट में ही आ गईं. ऑफिस पहुंच कर जब मां ने होरन दिया तो एक 23-24 साल का लड़का आया और मां से बहुत नम्रता से बात की.

माँ ने उसे 2500 रुपये दिये और कहा – इसे ठीक से पढ़ाना! और उन्होंने मुझसे कहा कि जैसे अमन भैया ने मुझे सिखाया है वैसे ही सीखो। मैंने हाँ में सिर हिलाया. माँ चली गयी.

फिर उन्होंने मुझे ऑफिस में बुलाया और ट्रैफिक नियम बताए और पूछा- कैसे सीखें। मैंने पूछा- क्या मतलब? तो उन्होंने कहा- या तो इसे बाकी लोगों की तरह चलाया जाता है या प्रोफेशनल्स की तरह चलाया जाता है? मैंने गुस्सा होकर कहा- प्रोफेशनल.

उन्होंने कहा- अगर कोई तुम्हें उसमें डिस्टर्ब भी करेगा तो भी तुम्हारा एक्सीडेंट नहीं होगा. मैंने कहा- ठीक है. उन्होंने कहा- उसमें तुम्हें 15 दिन तक रोज सीखना होगा. मैंने कहा- ठीक है.

उसने कहा- जैसा मैं कहता हूँ वैसा करो. मैंने ठीक में सिर हिलाया. फिर वो मुझे बाहर लेकर आया और वैगन आर कार में बैठाकर ले आया. उस पर एल बोर्ड लगा हुआ था.

उसने मुझे ड्राइवर की सीट पर बैठाया और खुद बगल वाली सीट पर बैठ गया. फिर उन्होंने कुछ बेसिक बातें बताईं, कार स्टार्ट कराई, गियर डालने को कहा और क्लच दबाने को कहा.

मैंने पहला गियर डाला, उसने क्लच छोड़ने के लिए कहा और मैंने ऐसा किया और कार रुक गई। उन्होंने फिर से शुरुआत की और वैसा ही करने को कहा. लेकिन फिर बंद.

3-4 बार ऐसा होने के बाद वह नीचे उतरा और ड्राइवर की सीट का दरवाजा खोला और बोला- बाहर आ जाओ. मैं नीचे उतर गई और वह सीट पीछे धकेल कर उस पर बैठ गया.

वह ट्रैक पैंट और टी-शर्ट में था। उन्होंने कहा- अब मेरी गोद में बैठो, मैं सिखाता हूं. मैं थोड़ा रुका तो बोला- ऐसे तो सब सीखते हैं. मैंने सोचा कि ठीक है, मैंने सोचा कि ठीक है

जब सब सीखते हैं तो क्या हुआ। मैं उसकी गोद में बैठ गई। उसने मेरा पैर क्लच पर रखा और मेरी जांघ पकड़ ली और धीरे-धीरे मेरा पैर ऊपर उठाया और फिर कार चल पड़ी।

लेकिन कुछ जींस की वजह से मैं कंफर्टेबल नहीं थी. जब गाड़ी चलने लगी तो उसने अपना हाथ मेरे पेट पर चूचों के नीचे रख दिया. मैंने सोचा ठीक है. फिर उसने कार रोकने को कहा.

मैंने जोर से ब्रेक मारा और कार झटके से रुक गई और उसका हाथ मेरी चूची से टकराया। मुझे कोई आपत्ति नहीं थी. उसने कार का दरवाज़ा खोला और मुझे बगल वाली सीट पर बिठाया।

और कार मेरे घर की तरफ ली। फिर बोला- मैं कल 4 बजे आऊंगा. और अगर तुम देर करोगे तो मैं नहीं रुकूंगा. और कहा- कुछ ढीले कपड़े पहन कर आओ, नहीं तो सीख नहीं पाओगी.

मैंने पूछा- किस तरह के कपड़े? तो उसने कहा- स्कर्ट और ढीला टॉप. मैने हां कह दिया। अगले दिन वह ठीक 4 बजे आया और हार्न बजाया। मैं जल्दी से नीचे आई और बगल वाली सीट पर बैठ गई.

मैंने घुटने तक की लंबाई वाली स्कर्ट और ढीला टॉप पहना था। थोड़ी दूर जाने के बाद उसने अपनी सीट पीछे कर ली और बोला- आओ बैठो. मैं ड्राइवर की सीट की तरफ जाकर बैठने लगी.

तो उसने रोका और कहा- स्कर्ट थोड़ी ऊपर उठाकर बैठो, नहीं तो दिक्कत हो जायेगी. मैंने भी यही किया। मैं अमन की गोद में बैठ गयी और अपना पैर क्लच पर रख दिया। उसने मेरी जाँघ पकड़ ली.

लेकिन स्कर्ट की वजह से ठीक से पकड़ नहीं पाई. फिर उसने बिना कुछ कहे स्कर्ट ऊपर की और मेरी नंगी जाँघ पकड़ ली और अपना पैर क्लच से उठा लिया। गाड़ी चलने लगी.

फिर उसने क्लच को पीछे दबाया और दूसरा गियर डाला और जांघ पकड़कर क्लच पर पैर उठा लिया। अब गाड़ी सुचारु रूप से चलने लगी। उसने एक हाथ स्टीयरिंग व्हील पर और दूसरा मेरे पेट पर रखा। (ड्राइविंग टीचर से चुदी)

आज मैंने अपना हाथ थोड़ा ऊपर रखा था जो मेरी चूची के नीचे छू रहा था। मैंने कुछ नहीं कहा. फिर उसने कार रोकी और मुझसे दोबारा गाड़ी चलाने को कहा. अब उसने मेरी जाँघ नहीं पकड़ी.

एक दो बार के बाद मैं चलाने लगी. फिर वो बोली- कल मेरी गोद में आखिरी दिन होगा, फिर तुम खुद चलाओगी. मैं खुश हुई। फिर उसने घर छोड़ दिया और बोला- कल 4 बजे.. देर मत करना।

अगले दिन 4 बजे वह फिर आया. मैं जागी नहीं लेकिन हार्न सुनकर जाग गई। मुझे लगा आज देर हो गयी है. मैं बिना कपड़े बदले दौड़ते हुए नीचे गई और बोली – 5 मिनट दीजिए. तो उसने कहा- नहीं.

उसने कहा- ऐसे ही रहो, जल्दी चलो.. नहीं तो मैं जा रहा हूँ। मैं बिना ब्रा और कच्छी के घुटनों तक लम्बे गाउन में थी। मैंने सोचा कोई बात नहीं, देखा जाएगा. और मैं साइड वाली सीट पर बैठ गई.

कुछ दूर जाने के बाद उसने कार रोकी और मुझे अपनी तरफ बुलाया. मैं उसकी गोद में बैठ गई और उसने कहा – चलाओ. पहली बार में बात नहीं बनी तो उसने मेरी जांघ पकड़ कर गाउन ऊपर कर दिया

और मुझे चलने को कहा. गाड़ी चल पड़ी, उसने दूसरा गियर लगा दिया। अब ठीक चलने लगी। आज उसने स्टीयरिंग व्हील पर हाथ न रखकर सीधा मेरी चूची पर हाथ रख दिया.

मैं थोड़ा घबरा गई तो उसने कहा- ध्यान दो.. नहीं तो एक्सीडेंट हो जाएगा। अब उसने एक हाथ मेरे चूची पर और एक हाथ मेरे गाउन के अंदर मेरी जांघ पर रख दिया.. और सहलाने लगा।

पहले तो मुझे अजीब लगा लेकिन फिर अच्छा लगने लगा. फिर उसने कहा – चलो घर चलते हैं, आज के लिए इतना ही। और कल से ऐसे कपड़े पहन कर आना. मैंने पूछा- क्यों?

उन्होंने कहा- ये कपड़े कार चलाने के लिए आरामदायक हैं। इनमें जल्दी सीख जाओगी. मैंने कहा- ठीक है. फिर कुछ दिन ठीक चले. वो किसी न किसी तरह से मेरे जवान गर्म बदन को छूता रहता था.

मैंने 10 दिन में सीख लिया. फिर उन्होंने पूछा- अब प्रोफेशनली सीखना है या नहीं? मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं! तो उन्होंने कहा- कल मैं प्रोफेशनली पढ़ाऊंगा. लेकिन कपड़े प्रोफेशनल वाले ही पहनने होंगे.

मैंने पूछा- ये क्या हैं? उसने कहा- क्या तुम अंग्रेजी फिल्में नहीं देखती? मैंने कहा- मैं देखती हूं. तो उसने कहा- मूवी में मिनी स्कर्ट और स्लीवलेस टी-शर्ट वो भी बिना ब्रा के.

मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने कहा- रहने दो.. ये तुम्हारे बस की बात नहीं है। मुझे बहुत बुरा लगा। फिर मैंने गुस्से में कहा- मैं कल आऊंगी और जरूर सीखूंगी.

तो उन्होंने कहा- कल 3:30 बजे आ जाना. प्रोफेशनल केवल रात में गाड़ी चलाते हैं। मैंने कहा- ठीक है. वह अगले दिन सुबह 3:30 बजे आये. मैंने एक छोटी स्कर्ट पहनी थी

जो केवल मेरे कूल्हों को ढक रही थी और एक बिना आस्तीन की टी-शर्ट पहनी थी, वह भी बिना ब्रा के। उन्होंने मुझे सीधे ड्राइविंग सीट पर बिठाया और कहा- जब तुम गाड़ी चलाओगी

तो मैं तुम्हें परेशान करूंगा और तुम्हें सावधानी से गाड़ी चलानी होगी और एक्सीडेंट नहीं करना होगा. मैंने कहा- ठीक है. मैं गाड़ी चलाने लगी. वह बगल की सीट पर था.

फिर उसने मुझे बगल में गुदगुदी करना शुरू कर दिया. मैंने स्टीयरिंग घुमाया और वापस लगा दिया। उसने कहा- कमऑन प्रोफेशनल! मुझे गुस्सा आ गया, मैंने कहा- ठीक है

कोई बात नहीं. अभी करो, मैं कण्ट्रोल कर लूँगी. फिर मैंने गाड़ी चलाना शुरू कर दिया. उसने फिर गुदगुदी शुरु की पर अब मैं नियंत्रण में थी। फिर उसने कहा- गाड़ी रोको.

मैं रुकी और वो पीछे जाकर बोला- अब चलाओ. मैं कार चलाने लगी. वो मेरी सीट के पीछे वाली सीट पर आ गया और पीछे से मेरी चूची पकड़ ली. मैंने ब्रेक मारा उसने फिर कहा- लो चल लो प्रोफेशनल!

तुम्हारे बस की नहीं है। तुम बस सिंपल ही चलाओ। मुझे गुस्सा आ गया और मैंने कहा- अब तुम जो भी करोगे, मैं तुम्हें दिखाऊंगी. और फिर मैंने चलाना शुरू कर दिया.

उसने फिर से पीछे से मेरी चूची पकड़ ली लेकिन अब मैं नहीं हिली. उसने मेरी टी-शर्ट ऊपर कर दी लेकिन मैं नहीं हिली. फिर उसने मेरी चूची दबायी लेकिन मैं नहीं हिली.

Visit Us:-

फिर उसने मेरे निपल्स खींचे और चिकोटे काटे. फिर भी मैं नहीं हिली. उसने कहा- एक हाथ ऊपर उठाओ. मैंने पूछा- क्यों? उन्होंने कहा- एक हाथ से गाड़ी चलाना सीखो.

मैंने अपना हाथ उठाया और उसने मेरी टी-शर्ट एक तरफ से उतार दी. फिर भी मैं गाड़ी चलाती रही. उन्होंने कहा- अब दूसरा हाथ उठाओ. मैंने कर दिया और उसने दूसरी साइड भी निकल दी।

मैं गाड़ी चलाती रही फिर उसने मेरी टी-शर्ट मेरे सिर के ऊपर से उतार दी. मैं नंगी थी और सदमे में थी. लेकिन मैं गाड़ी चलाती रही. फिर उसने टी-शर्ट पिछली सीट पर फेंक दी और कहा- गाड़ी रोको.

मैंने कार रोकी और वो आगे आया और बोला- कार चलाओ. मैं कार चलाने लगी तो उसने कहा- अब आखिरी टेस्ट है. मैंने कहा- ठीक है. और उसने कहा- अपनी टांगें खोलो.

मैंने उसे देखा। उसने कहा- क्या हुआ? अब यह नहीं कर सकती? वापिस चलें मैंने कहा नहीं! और पैर खोल दिए. वो मेरी तरफ आया और मेरी चूची पकड़ कर जोर से खींच दी.

मैं जोर से चिल्लाई तो बोला- क्यों हो गई ड्राईवरी? तो मैं चुप हो गई. फिर उसने मेरी स्कर्ट को थोड़ा ऊपर खींच लिया और उसमें अपना हाथ डाल कर मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत पकड़ ली. (ड्राइविंग टीचर से चुदी)

मैं नहीं हिली और चुपचाप गाड़ी चलाती रही। उसकी हिम्मत बढ़ गयी और उसने मेरी चूत में अपनी उंगली डाल दी. मैंने कुछ नहीं कहा और गाड़ी चलाती रही.

उसने अपना हाथ निकाला और मेरी स्कर्ट के साइड बटन खोल दिए और बोला- अगर प्रोफेशनल हो तो गाड़ी चलाते वक्त इसे बाहर निकालो. यह एक चुनौती है. मैंने गुस्सा होकर कहा- ठीक है!

मैंने एक हाथ से अपनी स्कर्ट को साइड में खींच लिया और चूतड़ उठा कर साइड से नीचे कर दि. इसी तरह अब मैंने दूसरी साइड भी हटा दी. लेकिन अब वो हंसने लगा

और बोला- अब आप कैसे बाहर निकलोगे? मैं भी सोचने लगी. फिर मैंने अपना क्लच फुट उठाया और उसे एक तरफ से बाहर निकाला और फिर एक्सीलेटर छोड़ दिया

और दूसरे पैर से भी उसे बाहर निकाला और उसकी तरफ देखकर मुस्कुराई। फिर उसने मेरी चूची पकड़ ली, खींच लिया और अपना हाथ मेरी चूत पर ले आया

और पैंटी फाड़ दी और हंसने लगा और बोला- अब गाड़ी पर ध्यान दो. जब मैं कुछ नहीं बोली तो उसने मेरी पैंटी खींच कर मेरे चूतड़ से उतार दी. अब मैं पूरी नंगी होकर गाड़ी चला रही थी.

फिर उसने अपनी उंगली मेरी चूत में डाल दी और मैं सिसकने लगी. मैंने उसकी पेंट पर नजर डाली तो उसमें तंबू बना हुआ था. उसने मेरी तरफ देखा और अपनी पेंट उतार दी

और उसका लंड सीधा खड़ा हो गया। उसने मेरा उल्टा हाथ स्टीयरिंग से हटा कर लंड पर रख दिया और बोली- इसे रगड़ कर चलाओ, नहीं तो फेल हो जाओगे.

मैं उसके लंड को मसलने लगी और चलाती रही. तब तक 4:30 बज चुके थे तो उसने कहा- चलो ऑफिस चलते हैं। अमन मुझे ऑफिस ले आया और नीचे उतरकर खुद ऑफिस खोला

बोला- अन्दर आ जाओ। मैंने कहा- मैं नंगी हूं, कोई देख लेगा. उसने कहा- कोई नहीं है, जल्दी आओ. मैं जल्दी से नीचे उतरी और ऑफिस में दाखिल हुई।

मेरे कपड़े कार में थे तो अमन ने कहा- जाकर ले आओ। मैंने कहा- प्लीज़ ले आओ. तो उसने कहा- बस ऐसे ही तुम्हें नंगी करके दौड़ाऊंगा. फिर नंगी होकर घर जाओ.

मैं डर गई और बाहर भागी तभी एक भिखारी आया और उसने मुझे नंगा देखा और हंसने लगा। मैंने कार से कपड़े निकाले और तेजी से अंदर भागी।

मैं जैसे ही अन्दर गयी तो देखा कि वो नंगा था. उसने मुझे पकड़ लिया और मेरे चेहरे पर चूमने लगा. मेरे होठ काट लिये और एक हाथ से मेरी चूची दबाने लगा।

मुझे मजा आने लगा और मैंने उसका लंड पकड़ लिया और मसलने लगी. उसने मुझे टेबल पर सीधा लिटा दिया और मेरी चूची मुँह में लेकर चूसने और काटने लगा।

उसने मेरे निपल को बहुत जोर से काटा और दांतों के निशान बना दिये. फिर उसने मुझे नीचे बैठाया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और मेरे मुँह को चोदने लगा.

मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी थी और मेरा पानी मेरी चूत से निकल कर मेरी जाँघों पर आ रहा था। फिर उसने मुझे वापस टेबल पर लिटा दिया और मेरी चूत को चूसने लगा.

उसने एक उंगली मेरी गांड में डाल दी. फिर उसने अपनी जीभ मेरी गांड के छेद पर रख दी और चाटने लगा. मुझे बहुत मजा आ रहा था और मेरे मुँह से उह आह की आवाज आने लगी.

मुझे ऐसा लग रहा था मानो मैं जन्नत में हूं. तभी अमन रुका और उसने मुझे टेबल पर घुमाया और मेरा सिर टेबल से थोड़ा नीचे कर दिया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और आगे-पीछे करने लगा।

कुछ देर बाद उसने लंड मुँह से निकाला और घूम गया और अपनी गांड का छेद मेरे मुँह पर रख दिया और बोला- चाटो इसे. मैं चाटने लगी उसे बहुत अच्छा लग रहा था

और उसने कहा- छेद के अन्दर जीभ डालो. और वह थोड़ा नीचे उतर गया. मैंने अपनी जीभ उसकी गांड में डाल दी और चूसने लगी. अमन मुँह से आवाजें निकालने लगा।

फिर उसने मेरे ऊपर से हट कर मुझे घुमा दिया और अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. मैंने उसके गले में हाथ डाल दिये। मेरी दोनों टांगें पूरी खुल गईं और वो मेरी चूत को चोदने लगा.

फिर उसने मुझे सीधा उठा लिया. मैं तब छोटी थी. उसका लंड मेरी चूत में था और वो मुझे दीवार के सहारे टिका कर ऊपर नीचे करने लगा. उसका लिंग मेरे अंडाशय से टकराने लगा.

मुझे बहुत मजा आ रहा था और मेरा पानी निकल गया. फिर उसने मुझे नीचे उतारा और कहा- टेबल पकड़ो और इधर उधर घूमो. मैंने वैसा ही किया

और उसने मुझे आगे झुका कर अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया. मेरी तो गांड फट गयी. वैसे इससे पहले मैं 2-3 बार गांड मरवा चुकी थी. वो मेरी गांड चोदने लगा

और थोड़ी देर बाद बोला- मेरा निकलने वाला है. फिर उसने लंड गांड से बाहर निकाला और बोला – इसे मुँह में ले लो और चूसो! मैं उसका लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. (ड्राइविंग टीचर से चुदी)

थोड़ी देर में उसने अपना सारा माल मेरे मुँह में निकाल दिया और कुर्सी पर बैठ गया। मैंने उसका सारा माल पी लिया और कहा- तुम्हारा माल तो स्वादिष्ट है. अब मैं थक कर जमीन पर बैठ गई.

तब तक 5 बज चुके थे. अमन बोला – अब तो तुम प्रोफेशनल ड्राइवर बन गई हो। अपने कपड़े पहनो, मैं तुम्हें घर छोड़ दूँगा और कल से ट्रेनिंग बंद है। अब तो तुम रेस में भी जीत जाओगी।

मैंने अपनी स्कर्ट और टॉप पहना और उसने मुझे घर छोड़ दिया। रास्ते में उसने कहा – कभी घोड़े पर चढ़ना हो तो आ जाना। मेरा घोड़ा तुम्हारे लिये सदैव तैयार रहेगा। और उसने मेरी चूची दबा दी.

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga