गर्लफ्रेंड की चुदाई का प्रोग्राम उसके घर पर: वर्जिन गर्ल XXX

गर्लफ्रेंड की चुदाई का प्रोग्राम उसके घर पर: वर्जिन गर्ल XXX

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “गर्लफ्रेंड की चुदाई का प्रोग्राम उसके घर पर: वर्जिन गर्ल XXX”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मेरी नई नवेली गर्लफ्रेंड ने मुझे दिया वर्जिन गर्ल XXX का मजा! वो मेरे घर के पास ही रहती थी और बहुत सेक्सी थी. वो मेरे लंड के नीचे कैसे आई, कहानी में पढ़े!

नमस्कार दोस्तों,
मेरा नाम योगेश है और मैं उदयपुर का रहने वाला हूँ।

मैं बिल्कुल हीरो जैसा दिखता हूं.
मेरी लम्बाई 6 फीट है और मेरे लंड का आकार बहुत अच्छा है, यह सख्त लंड जैसा है, 6 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है।

यह मेरी वर्जिन गर्ल XXX सेक्स कहानी है।

मेरी गर्लफ्रेंड का नाम Ayushi है. उसके शरीर का आकार 32-28-34 है। वह दिखने में बेहद खूबसूरत हैं.

हर कोई उससे दोस्ती करना चाहता था लेकिन वह किसी को भाव नहीं देती थी।
मुझे भी वह बहुत सुंदर और मनमोहक लगी; मैं उसकी चंचल आँखों को देख कर मदहोश हो जाता था.

मैंने कई बार उसे देखकर अपना लंड सहलाया था.
कई बार तो ऐसा होता था कि जब मैं उसे देख रहा होता था तो उसकी नजरें भी मेरी नजरों से टकरा जाती थीं.

मैं झट से अपनी नजरें झुका लेता था कहीं वह मुझे कुछ बुरा न कह दे.

बार-बार मेरा मन करता था कि आगे बढ़ूं और उससे अपनी भावनाएं व्यक्त कर दूं।
लेकिन मैंने कुछ लड़कों के प्रपोजल का नतीजा सुना था कि उसने उन्हें बहुत बुरी तरह से खारिज कर दिया था, इसलिए मुझमें कुछ बोलने की हिम्मत नहीं थी.

फिर एक दिन उसने मुझे हेलो कहा.
मैं थोड़ा चौंक गया और हकलाते हुए उसे हैलो कहा.

वो मेरे हेलो कहने के अंदाज़ पर हंस पड़ी और बोली- क्या तुम मुझसे दोस्ती करोगे?
मैंने आश्चर्य से उसकी ओर देखा, आज इसे क्या हो गया? (वर्जिन गर्ल XXX)

फिर उसने अपना हाथ बढ़ाया और मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया और प्रपोज किया, ‘क्या मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड बन सकती हूं?’
उसकी मीठी आवाज मेरे कानों में शहद की तरह लग रही थी.

मैंने गर्मजोशी से उसकी हथेली दबाते हुए हां कहा.
उसका प्रपोजल देखकर मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी लॉटरी लग गई हो.

हम दोनों बहुत खुश थे.

मैंने उनसे ये भी कहा कि ये प्रपोज मेरी तरफ से आना चाहिए था.
वो हंस कर बोलीं- हां, मैं तो कब से इंतजार कर रही थी कि अब कहोगे, तब कहोगे.. लेकिन जब तुमने नहीं कहा.. तो मैंने कह दिया।

मैंने उसका हाथ पकड़ कर प्रपोज़ल के अंदाज़ में सॉरी कहा और कहा- मुझे डर था कि कहीं तुम मना न कर दो।

अब वो मुझसे प्यार करने लगी थी तो हम दोनों बातें करने लगे.
हम फोन पर भी बातें करने लगे.

मैंने उससे कहीं अकेले में मिलने को कहा.
तो पहले तो उसने मना कर दिया लेकिन मेरे बार-बार कहने पर वो मिलने को तैयार हो गयी.

जब मैंने उससे पूछा कि कहां मिलना है तो उसने मुझे अपने घर आने को कहा.

जब उसने मुझे अपने घर आने के लिए कहा तो मैं एक बार तो डर गया कि अगर उसके घर वाले मुझसे मेरे बारे में पूछेंगे तो मैं उन्हें क्या जवाब दूंगा.

मेरी शंका सुनकर वह हंसते हुए बोली- कुछ नहीं होगा, बस निडर होकर खड़े हो जाना और कह दो कि तुम मुझसे प्यार करते हो और मुझसे अकेले में मिलने आये हो. (वर्जिन गर्ल XXX)

उसे हंसता देख मैं समझ गया कि वो मुझसे मजाक कर रही है.

मैंने कहा- इसका मतलब तुम मुझे पिटवाने की स्कीम समझा रही हो!
वो हंसी और बोली – अरे जब मैं तुम्हें अपने घर बुला रही हूं तो तुम्हें पहले पूरा प्लान सुनना चाहिए था!

मैंने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा तो बोली- रात के अँधेरे में चुपके से छत पर आ जाना.

उसकी बात सुन कर मुझे ख़ुशी हुई कि अब मामला सीधा Chut Chudai का लग रहा है.
मैं तो उससे सिर्फ एक चुम्बन के लिए मिलने को कह रहा था और वो खुद ही चुदवाने के लिए मरी जा रही थी।

प्लान तय हो गया और मैं रात के 11 बजे उसके घर की खिड़की से उसकी छत पर चढ़ गया.
ये मेरी पहली चुदाई होने वाली थी इसलिए मैं भी बहुत उत्साहित था.

छत पर मिलने की बात चल रही थी तो मैं छत पर आ गया और मुंडेर से सिर नीचे करके बैठ गया और उसके आने का इंतज़ार करने लगा।

सर्दी के दिन थे इसलिए ठंड से गांड फट रही थी, लेकिन चूत के लिए मैंने सब कुछ सह लिया था.

दस मिनट बाद वो आई और मुझे देख कर छत के एक कोने की तरफ चली गयी.
मैं भी उसी दिशा में चला गया.

जैसे ही मैं उसके पास पहुंचा, मैंने सबसे पहले उसे गले लगाया और उसकी बांहों की गर्माहट महसूस करने लगा.
उसने भी मुझे अपने सीने से लगा लिया. फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसे चूमने लगा.

पहले तो उसने मेरा साथ नहीं दिया, फिर वो भी मेरे होंठों को चूमने लगी.
अब मैंने धीरे से अपना एक हाथ उसके Big Boobs पर रख दिया और उसने मेरा हाथ हटा दिया।

लेकिन जब मैंने दोबारा उसके स्तनों को सहलाया तो इस बार उसने कुछ नहीं कहा.

अब मैंने उसकी कुर्ती को ऊपर उठाया और उसके स्तनों को ब्रा से बाहर निकाल लिया।
वो कुछ नहीं बोल रही थी तो मैं उसके एक मम्मे को चूसने लगा और दूसरे को दबाने लगा।

इससे वो कुछ ही देर में गर्म हो गयी.
वो बोली- चलो लेट जाओ.
मैंने कहा- कुछ बिछाने के लिए है क्या?

वो बोली- हां, मैंने शाम को दो बोरियां लाकर रख दी थीं.
मैंने बोरी फैलाई और उसे लिटा दिया.

वो बोरी पर लेट गयी और पैर फैला कर मेरी तरफ देखने लगी.
मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसके स्तनों को चूसने लगा।

उसके मम्मों को चूसते हुए मैं उसके पेट पर आ गया और उसकी नाभि को चाटने लगा.

वो भी मेरे लंड को टटोलने लगी, तो मैं समझ गया कि लड़की गर्म हो गयी है.

मैंने अपना हाथ नीचे ले जाकर उसके पजामे का नाड़ा खोल दिया।
वो मुझे रोकने लगी. (वर्जिन गर्ल XXX)

लेकिन मैं जानता था कि वो खुद ही चुदवाने के लिए मरी जा रही थी; बस थोड़ा नाटक कर रही है।

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसे चूमने लगा.
फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी पैंटी के अंदर डाल दिए और उसने मुझसे पैंटी उतारने को कहा.

लेकिन मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी पैंटी को उसके घुटनों तक सरका दिया और अपना मुँह उसकी Tight Chut पर रख दिया। वो अचानक सिहर उठी और मेरा सिर दूर हटाने लगी. मैं नहीं माना और उसकी वर्जिन चूत को चाटने लगा.

इससे वो गर्म होने लगी और मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी.

अब मैंने भी अपनी पैंट और अंडरवियर उतार दिया और खुल कर चूत चाटने लगा.
कुछ मिनट तक उसकी चूत चाटने के बाद मैंने उसकी पैंटी को उसके घुटनों से उतार कर अपनी तरफ रख लिया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

मैं अपना लंड उसकी चूत में डालना चाहता था.
लेकिन यह उसका पहली बार था और मैं भी सेक्स का कच्चा खिलाड़ी था इसलिए घुस नहीं सका.

फिर मैंने अपने लंड पर बहुत सारा थूक लगाया और उसकी चूत के मुहं पर रखकर ज़ोर से धक्का मारा और मेरा टोपा उसकी वर्जिन चूत में घुस गया. (वर्जिन गर्ल XXX)

वो चिल्लाने ही वाली थी लेकिन मैंने उसके मुँह पर अपना मुँह रख दिया और उसकी आवाज़ मेरे मुँह में ही रह गयी.
मैंने और जोर से धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया था.

वो रो रही थी और मुझे हटाने की नाकाम कोशिश कर रही थी.
लेकिन मैं कहाँ हटने वाला था?

मैंने एक और जोरदार झटका मारा और अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया था.

उसकी चूत से खून निकल रहा था और वो बेहोश हो गयी थी.
उसके बेहोश होते ही मानो मेरी गांड फट गई.
घबराहट के मारे मैं कुछ मिनट तक उसे चूमता रहा.

फिर उसे होश आया, तब जाकर मुझे राहत महसूस हुई.

अब मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?
वो कुछ नहीं बोली और जवाब में अपनी Moti Gand हिलाने लगी.
उसकी गांड की हरकत से मैं समझ गया कि अब उसे मजा आ रहा है.

मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा.

लेकिन वो अभी भी मेरा ठीक से साथ नहीं दे रही थी.
उसके हाथ मेरे सीने पर रख कर मुझे रोकने लगे.

मैंने उसे फिर से चूमना शुरू कर दिया और उसके होंठों को अपने होंठों से खाने लगा.
इसी बीच उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी. (वर्जिन गर्ल XXX)

मेरे अंग उसके अंदर एक साथ दो जगह थे.
नीचे चूत में लंड था और ऊपर मुँह में जीभ घुसी हुई थी.

ऐसे ही कुछ मिनटों के बाद मेरा लंड अन्दर ही अन्दर फूलने लगा जिससे उसकी चूत में कसाव भी बढ़ने लगा.

एक-दो मिनट बाद जब मैंने धक्के लगाना शुरू किया तो वो मेरे लंड का मजा लेने लगी और कुछ पल बाद उसने अपने दोनों पैर मेरी कमर पर लपेट लिए.

अब वो अपनी गांड खुद ही आगे-पीछे करने लगी और उसकी कामुक आवाजें भी मुझे गर्म कर रही थीं.

मैं समझ गया कि अब उसे भी बहुत मजा आ रहा है.
मैंने अपने धक्को की स्पीड बढ़ा दी.

हम दोनों की मस्ती बढ़ने लगी.
वो बहुत उत्तेजित हो गई और मेरी गर्दन पर चूमने लगी और काटने लगी.

मुझे वो पल इतने आनंददायक लगे कि मैं उनके बारे में क्या लिखूं?
ठंड का ज़रा भी एहसास नहीं हुआ.

फिर 5 मिनट के बाद वह अपने शरीर को अकड़ कर झड़ गयी।

मेरा काम अभी ख़त्म नहीं हुआ था इसलिए मैं और तेज़ धक्के लगाने लगा.
अगले 20 से 25 धक्कों के बाद मैं भी झड़ने के लिए तैयार था।
मैं उस वक्त अपने पूरे होश में था.

मैंने झट से अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और अपना वीर्य उसके पेट पर छोड़ दिया.

वो मेरी तेज होती सांसों को बहुत प्यार भरी नजरों से देख रही थी और अपने हाथ से मेरी छाती को सहला रही थी.
शायद उसे मेरा उत्तेजना में होश न खोना अच्छा लगा।

अब मैं उसके बगल में लेटा हुआ था. छत पर चल रही ठंडी हवा हम दोनों को बहुत राहत दे रही थी। हम दोनों कुछ मिनट तक वैसे ही लेटे रहे और फिर हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और एक दूसरे को चूमा. (वर्जिन गर्ल XXX)

जब उसने उठने की कोशिश की तो वह खड़ी नहीं हो पा रही थी. मैंने उसे सहारा देकर उठाया और उसके बार-बार मना करने के बावजूद भी मैं उसे उसके कमरे के सामने छोड़कर छत से नीचे उतर कर वापस सड़क पर आ गया।

उसके बाद उसने मुझे मिलने के लिए नहीं बुलाया.
अभी काम हाथ से ही करना पड़ रहा है.

दोस्तो, आपको मेरी वर्जिन गर्ल XXX की कहानी कैसी लगी.. प्लीज़ बताना।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasy.in” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds

Saale Copy Karega to DMCA Maar Dunga